Hayat e Waris Pak: DASTAR BADHI

download

Meanwhile  Hazrat  Haji  Syed  Khadim  Ali  Sahib  fell  ill  and  in  spite  of  treatment  by  expert 
hakims, his soul flew to Heaven. His mortal remains were consigned to the earth. On the third 
day  of  his  death  the  ceremony  of  Fateha‐  Khani  (praying  for  the  dead  soul) was  performed. 
After  the ceremony  the selection of his successor and  the  function of Dastar‐Bandhi came up 
for  discussion  (function  of  tying  the  turban  for  confirming  a  successor.)  Maulvi  Manna  Jan 
Sahib, manager ‘langar’ (the public kitchen) brought a turban on a silver tray and offered it to 
the assembly of learned persons of becoming the successor. 
There  are  different  versions  about  the  tying  of  the  turban  on  our  Saint’s  head.  The  learned 
compiler of “Jalwae‐Waris” has mentioned two versions of Dastar Bandhi: 
1. The one was that, on the third day of the sacred death ceremony, spiritual leaders tied 
the turban on the head of our young Saint. 
2. The other is that Sheikh Hussein Sahib a village resident of Bara Banki district says that 
two collarless patched shirts (Kharqa Posh, as Saints dress, one of Qadri mystics and the 
other of Chishti Sect.) were given to our Saint. While going towards the market he sold 
one to eat Kababs and the other to eat sweetmeats. 
Janab Shah Hussein Sahib a venerable person and devotee of our Saint, has given his version 
about  the  ceremony  of  Dastar  Bandhi.  He  says  that  Sheikh  Ghulam  Ali  Sahib  alias  Ghasitay 
Mian, a close companion and playmate of our Saint accompanied his  father at the time of the 
third day ceremony of Khadim Ali Shah Sahib when  the Dastar Bandhi ceremony was  taking 
place. Being very intimate with our Saint, he told Sarkar Waris that he had a great desire to eat 
Kababs.  Our  Saint  purchased  it  from  the  Kabab  vendor  for  four  paise.  When  the  vendor 
demanded money, he said that he had nothing. Our Saint gave him the priceless turban which 
the  vendor  accepted  with  happiness  and  regarded  it  as  a  priceless  possession.  Our  Saint 
further  states  that  when  he  returned  home  and  his  sister  learnt  how  he  parted  with  the 
priceless  turban,  she  commented.  “Now  I  know,  you  have  further illuminated  the  nobility  of 
Syeds!” 
The  grandson  of  Hazrat  Ghouse  of  Gwalior,  Akbar  Shah  and  other  luminaries  unanimously 
selected  our  Saint  to  be  the  deserving  successor.  The  turban  was  tied  by  august  and  noble 
persons on his head. Thus at a very young age he was elevated as a spiritual leader and guide. Just as he gave away such a valuable  turban with a view  to help a poor vendor of Kababs, in 
like manner,  he  helped  the  common  people which was  his  special habit,  rendered monetary 
help to the needy and to seekers of eternal truth and fostered the habit of Divine Love. Within a 
short  period  he  had  a  following  of  hundred  the  habit  of  devotees  and  initiated  them  in  the 
circle of high station. In this how his father related to him, the incident that led to his becoming 
a devotee of our Saint. 
“Hazrat  Haji  Syed  Qadim  Ali  Shah  Sahib,  a  spiritual  personality  was  held  in  high  esteem.  I 
participated  in  the  religious  ceremony  of  his  death  anniversary.  In  this  gathering  after  the 
‘Fateha‐Khani’ I noticed a youth of dignified bearing and engaging personality on whose head, 
men  of  religious  learning  and  Saints  tied  the  turban  of  honour.  My  heart  was  struck  with 
wonder at his dignified and commanding personality.  I desired  to shake hands with him but 
was afraid  to do so and went home. A  few days later,  I saw him in my dream and heard him 
saying “Come to me”. 
Early in the morning I stated to pay a visit and offer my respects to him. Before I reached the 
mosque,  on  the  way  he  came  out  returned my  greetings  in  a  cordial  manner  and  said  ‘wait 
here, I am coming’. Within a few seconds he came Running from the female quarters with a kite 
and a small spinning wheel.” 
He  gave  the  kite  and  asked me  to  fly it. Hardly  had  I lift  the thread  for  a  distance  of  ten  or 
fifteen pace when he smilingly said  “Don’t leave  the  thread.” This small sentence had a deep 
effect  on my  heart. Weeping  bitterly He  fell  on  his  feet and  said,  “For God’s  sake  help me  to 
hold the thread firmly.” 
He sat down and holding my hand ordered me to repeat, “I am holding the hand of my spiritual 
guide.”  
When  I repeated  this sentence he loosened his grip on my hand and instructed me not  to be 
worldly minded and  for the sake of love of God render service as possible  to his creatures  to 
guard the soul and curb sensual pleasures. 
According  to his advice,  I  returned and desired  to  remain at home,  but his pleasant  features 
and  embodiment  of  Divine  likeness  made  me  restless  to  see  him  often  and  so  repeatedly  I 
visited his house. After a week to my surprise, he came to my house and admitted your mother 
to join his fold. He advised me to by content be holding one face and the same will be with me 
here in the grave as well as in the Hereafter.” 
Thus the chain of instruction to lead a life of moral uprightness and righteousness continued to 
be  given  and  many  became  his  disciples  to  render  Divine  service.  Sarkar Waris  returned  to 
Deva Shareef, distributed his elder’s obsolete things and household furniture amongst the poor 
persons  of  the  neighbouring  arrear  and  the  remaining  valuable  landed  property  and  costly 
books  he  distributed  amongst  his  kith  and  kin,  Finally  he  consigned  the  documents  of  his property  to  a  watery  grave  in  the  lake.  He  thus  broke  off  all  worldly  ties.  In  1838  A.D.  he 
decided to visit holy places to perform Hajj. 
His devotees and disciples insisted to take someone as his companion but refusing all worldly 
arrangements for his journey, started on foot towards the Holy Shrine. It is also narrated that 
he saw Haji Qadeem Ali Shah Sahib in a dream gesticulating his to proceed to Mecca. Thus an 
impetus was given to the passionate longing of his heart and casting aside all worldly shackles 
proceeded on foot, refusing any companions. 
When he started on his journey bidding adieu to sister and paying a farewell visit to the tomb 
of Hazrat Haji Syed Qadeem Ali Shah, he wended his steps towards Kanpur. He was seen going 
alone  with  a  black  rug  on  his  shoulder  the  only  luggage  he  carried  on  this  arduous  on  this 
arduous Journey

Maula Ali AlaihisSalam ka Zikr e Jameel 6


Hazrat Jumai ibne Umar at-Tamimi Radiallahu anhoo se marvi hai ke mai apni khala ke saath Hazart Aisha SalamUllahAlaiha ki khidmat me haazir hua to maine unse pucha:

Logon me Huzoor Nabi Akram ﷺ ko sabse zyada mehboob kaun tha?’Aapne farmaya: “Hazrat Fatima AlahisSalam’. Fir kaha gaya: ‘Aur mardon me se (Kaun sabse zyada mehboob tha)?’ Aapne farmaya: ‘Unke Shohar, agarche mujhe unka zyada roze rakhna aur zyada qiyam karna malum
nahi’.

Is Hadees ko Imam Tirmizi, Hakim aur Tabrani ne riwayat kiya hai. Imam Tirmizi ne farmaya: Ye Hadees Hasan Gareeb hai. Imam Hakim ne farmaya: Is Hadees ki sanad Saheeh hai.

Hazrat Buraidah Radiallahu anhoo se riwayat hai ke Huzoor Nabi Akram ﷺ ko auraton me sabse zyada mehboob Apni Sahibzaadi Hazrat Fatima AlahisSalam thin aur mardon me se sabse zyada mehboob Hazrat Ali AlaihisSalams they.”

Is Hadees ko Imam Tirmizi, Nasai aur Hakim ne riwayat kiya hai. Imam Tirmizi ne farmaya: Ye Hadees Hasan Gareeb hai. Imam Hakim ne farmaya: Is Hadees ki sanad Saheeh hai.

Hazrat Ali AlaihisSalam se marvi hai ke Huzoor Nabi Akram ﷺ ne farmaya: ‘ Mai Hikmat ka ghar hun aur Ali uska darwaza hai’.”

Is Hadees ko Imam Tirmizi, Ahmed, Abu Nuaim ne riwayat kiya hai.

Hazrat Abdullah ibne Abbas Radiallahu anhoo bayan karte hain ke Huzoor Nabi Akram ﷺ ne farmaya: ‘Mai ilm ka shehar hun aur Ali AlahisSalam uska darwaza hai. Lihaza jo is shehar me daakhil hona chahta hai usey chahiye ke wo is
darwaze se aaye’.” Is Hadees ko Imam Hakim ne riwayat kiya aur farmaya: Ye Hadees
Saheeh ul-Isnaad hai.

Ek riwayat me Hazrat Ali AlaihisSalam ne farmaya:’ Mai Quran ki har aayat ke baareme janta hun ke wo kiske bare, kis jagah aur kis par naazil hui.Beshak Mere Rab ne mujhe bahot zyada samjh wala dil aur faseeh zuban
ata farmayi hai.”

Isey Imam Abu Nuaim aur ibne Saad ne riwayat kiya hai.

सुलतान टीपू शहीद पार्ट 2



सुलह और वादा खिलाफी

टीपू और हैदर अली की जीतों ने अंग्रेजों को मजबूर कर दिया कि वे हैदर अली से सुलह कर लें वर्ना वे उन्हें मार-मार कर उनका भुरकस निकाल देंगे। चुनांचे उन्होंने हैदर अली से सुलह की दरख्वास्त की। हैदर अली ने इस शर्त पर उनसे सुलह कर ली कि अंग्रेज़ आइन्दा उसके ख़िलाफ़ मरहटों की मदद नहीं करेंगे और अगर हैदर अली के इलाके पर मरहटों ने हमला किया तो अंग्रेज़ हैदर अली की मदद करेंगे।

मरहटे हैदर अली से अपनी हार का बदला लेने के लिए बेताब थे। उन्होंने अंग्रेजों से पूछा कि क्या वे हैदर अली से किए गए सुलह के समझौते के मुताबिक हैदर अली का साथ देंगे? अंग्रेज़ खुद चाहते थे कि मरहटों और हैदर अली में जंग हो ताकि हैदर अली की फौजी ताकत कमजोर हो जाए और बाद में वे हैदर अली से अपनी शर्मनाक हार का बदला ले सकें। उन्होंने हैदर अली से सुलह का जो समझौता किया था वह सिर्फ मदरास को बचाने और अपनी ताकत को बढ़ाने के लिए किया था। उनके नज़दीक इस समझौते की कोई अहमियत न थी। चुनांचे उन्होंने मरहटों को यकीन दिलाया कि वह समझौते को तोड़ देंगे और हैदर अली की मदद नहीं करेंगे। ।

अंग्रेजों की तरफ़ से संतुष्ट होकर 1769 ई० में मरहटों ने मैसूर पर चढ़ाई कर दी। हैदर अली ने अंग्रेज़ों से मदद मांगी लेकिन अंग्रेज़ों ने उनकी मदद करने से साफ़ इन्कार कर दिया। हैदर अली को अंग्रेज़ों पर बहुत गुस्सा आया क्योंकि उन्होंने वादा ख़िलाफ़ी की थी। उन्होंने फैसला कर लिया कि वह अंग्रेज़ों को इस वादा ख़िलाफ़ी की इबरतनाक सज़ा देंगे और आइन्दा कभी भी उनके वादे पर भरोसा करने की गलती नहीं करेंगे।

सुलतान टीपू शहीद मरहटों की हार

फ़तेह अली टीपू को हैदर अली ने फ़ौज देकर रवाना किया और हिदायत की कि वह मरहटों को मैसूर की सरहदों से हट जाने पर मजबूर कर दे। चुनांचे बहादुर टीपू अपनी फ़ौज के साथ तेजी से आगे बढ़ा और सैयद नूर के करीब जा पहुंचा। मरहटा रियासत की राजधानी पूना से मरहटा फ़ौज का हर अव्वल लश्कर आ रहा था। टीपू ने सैयद नूर से बाहर रहकर रास्ते में ही मरहटा लश्कर को रोकने की कोशिश की, लेकिन मरहटे मैसूर की सरहदों से हटने पर तैयार नहीं थे। उन्हें अपनी ताकत पर घमण्ड था और यह भी यकीन था कि अंग्रेज़ हैदर अली की मदद नहीं करेंगे। इसलिए वे मैसूर को आसानी के साथ जीत लेंगे।

जब हैदर अली को वहां की सूरतेहाल का पता चला तो उन्होंने टीपू को हुकुम भेजा कि मरहटों की पेशकदमी रोक कर उन्हें शिकस्त दी जाए। लेकिन उस वक्त तक हालात टीपू के बस से बाहर हो चुके थे। मरहटे आगे बढ़ते रहे और हैदर अली की फ़ौज पीछे हटती चली गई। मरहटे श्रीरंगापटनम की तरफ बढ़ रहे थे। हैदर अली की फौज को नुकसान पहुंच रहा था। मरहटा फौजें श्रीरंगापटनम के बिल्कुल करीब पहुंच गई। उन्हें यकीन था कि श्रीरंगापटनम को जीतना उनके लिए ज़रा भी मुश्किल नहीं, चुनांचे वे मैसूर की फ़ौज के छोड़े हुए माले गनीमत और जंगी साजोसामान को तकसीम करने में लग गए। हैदर अली और टीपू के लिए यह अच्छा मौका था जिससे वे फायदा उठा सकते थे। चुनांचे जब मरहटा माले गनीमत की तकसीम में उलझी हुई थी, उस वक्त हैदर अली ने तेजी के साथ श्रीरंगापटनम की सुरक्षा व्यवस्था को बेहतर और मजबूत बना लिया। मरहटों को हैदर अली के
इन इक़दामात की खबर न हो सकी। वे श्रीरंगापटनम के आस-पास के इलाकों को लूटने और माले गनीमत की तकसीम से फ़ारिग होकर श्रीरंगापटनम के किले के सामने पहुंचे तो अचानक ही हैदर अली ने अपनी फ़ौज के साथ किले से निकल कर मरहटों पर भरपूर हमला कर दिया।

मरहटों के लिए यह हमला इतना उम्मीद के ख़िलाफ़ था कि उनके कदम उखड़ गए और वे बेशुमार लाशें छोड़कर श्रीरंगापटनम से पीछे हटने लगे। वे हारकर भागने लगे तो टीपू ने उनका पीछा किया। मरहटे बिजनौर की तरफ़ भाग रह थे और बहादुर टीपू मौत का फ़रिश्ता बनकर अपनी फ़ौज के साथ उनका पीछा कर रहा था। आखिर उन्होंने घबराकर हैदर अली से सुलह की दरख्वास्त कर दी। हैदर अली की फ़ौज को इस जंग में काफी नुकसान पहुंच चुका था। इसलिए उन्होंने मरहटों से सुलह करना बेहतर समझा।

इस जंग में मरहटों ने हैदर अली के कई इलाकों पर कब्जा कर लिया था। वे जानते थे कि अगर उन्होंने मुकाबला जारी रखा तो हैदर अली और उनका शेर दिल बेटा टीपू उन्हें हर जंग में शिकस्त देकर अपने इलाके वापस ले लेंगे। इसलिए उन्होंने हैदर अली से सुलह की थी। हैदर अली भी चाहते थे कि मरहटों के साथ बेहतर सम्बंध कायम करने की कोशिश की जाए ताकि दोनों ताकतें मिल कर अंग्रेजों को हिन्दुस्तान से निकाल दें। दूसरा वे यह भी देख चुके थे कि उनकी फ़ौज कमजोर हो चुकी है और वे मरहटों से अपने इलाके वापस नहीं ले सकते, चुनांचे उन्होंने मरहटों से सुलह कर ली कि अपनी फ़ौजी ताकत बढाने के बाद उन इलाकों को आजाद कराया जाएगा जिनपर मरहट कब्जा कर चुके थे।

टीपू और मरहटे

फ़तेह अली टीपू भी हैदर अली की तरह मरहटों और अंग्रेजों के नापाक इरादों के रास्ते में एक बड़ी रुकावट था। हैदर अली को उसकी सिपाहियाना सलाहियतों और बसीरत व जहानत का खूब पता था। बड़ा बेटा होने की वजह से टीपू उनका जानशीन भी था। हैदर अली के बाद उसी ने मैसूर के तख्त पर राज करना था। इसलिए हैदर अली ने उसे हर फ़ौजी मुहिम में अपने साथ रखा और कई जंगों पर उसे अकेले भेजा जहां टीपू ने काबिले फखर कारनामे अन्जाम दिए।

1773 ई० में मरहटों का सरदार माधवराव मर गया तो मरहटों की मुत्तहिदा ताकत बिखर गई और उनमें इन्तिशार पैदा हो गया। हैदर अली को ऐसे ही मौका का इन्तिज़ार था ताकि वह मरहटों से अपने वे इलाके वापस छीन सकें जिनपर मरहटों ने कब्जा कर रखा था। उनका इरादा था कि पहले मरहटों से अपने इलाके वापस लेकर अपनी सलतनत को मजबूत बनाएं और फिर वादा ख़िलाफ़ और दगाबाज़ अंग्रेजों से निमटें। चुनांचे माधवराव के मरने के बाद उन्होंने अपने बहादुर बेटे टीपू के साथ मरहटों पर हमला कर दिया।

मरहटा फ़ौजों ने हर जंग पर हैदर अली और टीपू की फ़ौजों का मुकाबला करने की कोशिश की, लेकिन नाकाम रहे। वे हैदर अली और टीपू के तूफ़ानी हमले के सामने न ठहर सके और मैसूर के इलाके उनके हाथ से निकलते चले गए। हैदर अली ने मरहटों से अपने इलाके वापस लेने के बाद 1775 ई० में चिनार यादगार पर हमला किया और वह इलाका भी मरहटों से छीन लिया। इसी साल उन्होंने हिलारी के मरहटा से अपनी वह जागीर भी वापस छीन ली जो मरहटों से सुलह के वक्त हैदर अली ने मसलहत के तहत हिलारी के हवाले कर दी थी।

हैदर अली और टीपू ने मरहटों की कमजोरी और नाइत्तिफ़ाकी से फायदा उठाते हुए मरहटों के कुछ नए इलाके भी फ़तह करके अपनी सलतनत में शामिल कर लिए। 1774 ई० से 1778 ई० तक हैदर अली की सलतनत दरिया-ए-तंग भद्रा तक फैल गई और उससे आगे कृष्णा तक का मरहटा इलाका भी जीत लिया गया।

अंग्रेज़ और मैसूर

अंग्रेज़ हिन्दुस्तान पर कब्जा करके अपनी हुकूमत कायम करना चाहते थे। लेकिन जब “सलतनते खुदादाद मैसूर” इस्लामी रियासत बनने के बाद मरहटों को एक के बाद एक शिकस्त देकर और अपने इलाके वापस लेकर दोबारा इलाके की एक ताकतवर सलतनत बन रही थी तो वे हैदर अली और उसके नौजवान बेटे टीपू को अपने मकासिद और इरादों के रास्ते में सबसे बड़ी रुकावट समझने लगे।

हैदर अली अंग्रेजों के नापाक इरादों की राह में एक नाकाबिले तसखीर चट्टान बन चुके थे जिसे ताकत के ज़रिए हटाना तनहा अंग्रेजों के बस की बात न थी। इस लिए उन्होंने इस चट्टान को गिराने के लिए हैदर अली और उनकी रियासत के ख़िलाफ़ नई साज़िशें और जोड़-तोड़ शुरू कर दी। इस साज़िश में उन्होंने निज़ाम हैदराबाद और मरहटों को भी शामिल किया जो पहले ही अंग्रेजों के मददगार और हैदर अली के मुखालिफ़ थे। –

अंग्रेजों से जंग

मैसूर की सलतनत में एक बन्दरगाह थी। उसका नाम माही था और हैदर अली ने यह बन्दरगाह फ्रांसीसियों को दे रखी थी जहां
फ्रांसीसी कारोबार करते थे और उनकी तिजारती कम्पनियां थीं। अंग्रेजों ने हैदर अली से जंग करने की योजना बनाई। इस योजना के तहत उन्होंने माही बन्दरगाह पर कब्जा करने के लिए 1780 ई० में हैदर अली के इलाके से अपनी फ़ौज गुज़ारी। अंग्रेजों की योजना थी कि हैदर अली को मुख्तलिफ जंगों में उलझा कर उसकी फौजी ताकत को कमज़ोर किया जाए और फिर मैसूर पर हमला करके उसपर कब्जा कर लिया जाए। इसी लिए उन्होंने हैदर अली के इलाके से फौज गुज़ारने की इजाजत हासिल न की ताकि वह भड़क जाए। उनकी यह चाल कामयाब रही और उनकी इस हिम्मत पर हैदर अली गज़बनाक हो गए।

हैदर अली समझते थे कि अगर उन्होंने अंग्रेजों की इस हिम्मत को नज़रअन्दाज़ कर दिया और उन्हें सज़ा न दी तो उनके हौसले बढ़ जाएंगे। अगर उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ कार्यवाई न की तो यह इस्लाम और इस्लामी सलतनत मैसूर से गद्दारी होगी। चुनांचे उन्होंने अपनी फ़ौज के साथ इस तेजी से हमला किया कि अंग्रेज़ सोच भी न सकते थे। वे बोखला गए। उनके लिए इस तूफ़ान को रोकना बहुत मुश्किल था जो हैदर अली की शक्ल में उनकी तरफ बढ़ा चला आ रहा था।

अंग्रेज़ी फ़ौज का सालार जनरल हैक्टर बेबस हो गया। वह हैदर अली के मुकाबले में अपनी हार महसूस करने लगा तो उसकी बेबसी देख कर अंग्रेजों ने करनल बैली के नेतृत्व में मजीद फ़ौज जनरल हैक्टर की मदद के लिए रवाना कर दी।

टीपू और करनल बैली
टीपू हैदर अली के साथ था। हैदर अली को पता चला कि
करनल बैली को जनरल हैक्टर की मदद के लिए भेजा जा रहा है तो उन्होंने फ़ौरन टीपू को फ़ौज देकर रवाना कर दिया ताकि वह रास्ते में ही करनल बैली को रोक दे और जनरल हैक्टर तक सहायक फौज न पहुंच सके। बाप का हुक्म मिलते ही बहादुर टीपू आंधी तूफ़ान की तरह आगे बढ़ा और उसने रास्ते में ही करनल बैली की फौज को रोक लिया।

करनल बैली की फ़ौज के दो हिस्से हो गए। एक हिस्सा टीपू सुलतान की फ़ौज के घेरे में आ गया जबकि दूसरा हिस्सा अपने बचाव के लिए जंग करने लगा। लेकिन जल्द ही अंग्रेज़ी फ़ौज को शिकस्त हो गई। करनल बैली बचे-खुचे सिपाहियों के साथ मैदाने जंग से भाग गया। इस जंग में अंग्रेज़ी फ़ौज के पचास अफ़सर और डेढ़ सौ सिपाही गिरफ्तार कर लिए गए।

जनरल हैक्टर के लिए करनल बैली की मदद बहुत ज्यादा अहमियत रखती थी। लेकिन टीपू ने उस सहायक फौज का रास्ते में ही सफ़ाया कर दिया था। चुनांचे हैदर अली के मुकाबले में हार कर जनरल हैक्टर अर्काट की तरफ़ भाग गया। हैदर अली ने आगे बढ़ कर अर्काट का मुहासिरा कर लिया जबकि टीपू को छोटी-सी फ़ौज देकर भागे हुए अंग्रेजों पर छापे मारने और उन्हें परेशान करते रहने की हिदायत की ताकि भागे हुए अंग्रेज़ मद्रास तक न पहुंच सकें।

टीपू जंगल में

फ़तेह अली टीपू अपने बाप हैदर अली के हुक्मों को पूरा करने के लिए रवाना हुआ। हारी हुई अंग्रेज़ी फ़ौजी छुप कर मद्रास का रुख कर रहे थे। हैदर अली चाहते थे कि उनको मद्रास पहुंचने से पहलेरास्ते में ही खत्म कर दिया जाए ताकि अंग्रेजों की ताकत टूट जाए। टीपू ने भागे हुए अंग्रेज़ दस्तों का पीछा किया और जंगल बट के इलाके में भागती और बिखरती हुई अंग्रेज़ी फ़ौज के कई दस्तों पर छापा मार हमले करके उन्हें भारी नुकसान पहुंचाया।

उधर हैदर अली ने अर्काट का मुहासिरा कर रखा था, लेकिन अर्काट को फ़तह करना मुश्किल नज़र आ रहा था। चुनांचे हैदर अली ने टीपू को अर्काट पहुंचने का हुक्म भेजा। वह हर कीमत पर अंग्रेजों के इस ख़ास शहर को जीतने का इरादा कर चुके थे। अर्काट अंग्रेज़ों की बहुत बड़ी छावनी थी और यहां अंग्रेज़ी फ़ौज की तादाद भी बहुत ज्यादा थी। अंग्रेज़ इस खुश फ़हमी में मुबतला थे कि हैदर अली अर्काट जीत न सकेगा।

लेकिन जब टीपू अपनी फ़ौज के साथ अर्काट पहुंचा तो हैदर अली और टीपू की फ़ौजों ने ताबड़-तोड़ हमले करके अंग्रेजों के हौसले पस्त कर दिए। अंग्रेजों को शिकस्त हुई और हैदर अली ने अर्काट पर कब्जा करके जीत का झण्डा लहरा दिया। अर्काट की जीत अंग्रेजों के लिए बहुत बेइज़्ज़ती थी। उन्हें डर हुआ कि अब हैदर अली को मद्रास जीतने से रोकना उनके बस की बात नहीं रही। हैदर अली और उनका बेटा टीपू सुलतान बड़ी बहादुरी से उनके ख़ास शहरों और किलों को जीतते जा रहे थे। उनके हमले को रोकने की ख़ातिर अंग्रेज़ों ने सुलह के लिए एक वफ़्द (प्रतिनिधि मंडल) हैदर अली के ने पास भेजा।

Life of Hazrat Syedah Fatima Zahara AlahisSalam..part 2

Hazrat Ali AlaihisSalam used to stay with Huzur ﷺ After marriage, a house was needed. Hazrat Harisa-bin-Noman Ansari Radiallahu anhoo gifted one of his houses. After send-off, when Hazrat Saiyeda AlahisSalam came to that house, Huzur ﷺ also arrived there. They halted at the gate, sought permission and then entered into the house. He asked for water, prayed on it and sprayed over Hazrat Ali AlaihisSalam chest and arms then called Hazrat Fatimah AlaihisSalam. She came abashed. He sprayed the water over her and said, “I have given you in marriage to the best man from my family. “As Hafiz Khatib Baghdadi writes, Huzur ﷺ told Hazrat Fatima AlahisSalam, “I have given you in marriage to a man who is the first Muslim in the community of my followers, has great patience and is more mature than anybody else in the community.”

In the Battle of Uhud

Nabi Pakﷺ holy teeth were damaged during this battle. Due to Abdullahbin-Kamima’s attack, two tips of a weapon pierced his holy face, which was removed with great difficulty. When Ibn-i-Kamima killed Hazrat Abdullah-bin-Jubair Radiallahu anhoo who resembled very greatly to Huzur ﷺ, rumour was spread that Huzur ﷺ was martyred. When this news reached Medina, the people who were there, came running impatiently. Hazrat Fatima AlahisSalam saw that, blood was flowing from his holy face. As Hazrat Ali AlaihisSalam brought wáter, Hazrat Fatima AlahisSalam went on washing, but the blood did not stop. Lastly, a piece of the carpet was burnt and kept on the wound, and the flow of blood finally stopped.

The birth of Hasanain Karimain

During the third year of Hijri in the month of Ramadan, Saiyedna Imam Hasan AlahisSalam was born, and Saiyeduna Imam Husain AlaihisSalam was born during Sha’aban of the fourth year of Hijri.

The final departure of Huzur

On the basis of the description that Hazrat Fatima AlahisSalam was born in the first year of the Prophethood. A day before his sad demise, he called Hazrat Fatima AlahisSalam said something, and she started weeping. Again he called her, told her something in the ear, and she started laughing. First, when he called her, he told her that during that disease, he would die which caused weeping whereas, on the second time when she was called, she was told that out of all his children, she would be the first to meet him. On this, she laughed. This description has been taken from Sahih Bukhari Vol / Chp. 527-533. (It has been described to Hazrat Ayesha SalamUllahAlaiha, and in Chp. 512, it has been described to Masruk by Hazrat Ayesha SalamUllahAlaiha There are some additions in the description to Masruk. Hafiz Ibn-i-Hajar etc. have supported the description by Masruk only. The addition in that is, that, when Hazrat Fatima AlahisSalam was called for the second time, in her ears, Huzur ﷺ said, “Will you not be happy to know that you will be leading all the ladies in heaven or all the women of Momins?”

The effect of Huzur ﷺ the final departure on
Hazrat Saiyeda AlahisSalam

Huzur Nabi Pakﷺ sad demise caused such a great sorrow to all the Muslims that the whole world was, for them, gripped in the darkness (As it has been given in Mishkat Chap.547), but Hazrat Saiyeda AlahisSalam , more of that than all. At that time, the words that came out of her mouth were so powerful and effective that even the stone-hearted person also would weep. She said,

Translation: “O my father! Allah summoned you, and you left leaving us. You now reside in the heaven of Firdous, and we are left here. What a pity it is! We are giving this news to Hazrat Gabriels and are also weeping in his front.” (Sahih Bukhari Vol-2)

Her sorrow and pity were so deep that when after the final bath and ablution, his personal servant Hazrat Anas Radiallahu anhoo came, she said, “O Anas, do your hearts accept to put dust on holy body of Rasulallahﷺ ” In this state of mind, a stanza of an elegy came out of her mouth.

Translation: “I have passed through such hardships, that had they fallen on a bright day, it would have been converted into darkness,” What heartblowing words! They speak upon the nerves. It can be imagined from her sorrowful words how unhappy she must have been due to this sad demise. It was so greatly effective that, after this unfortunate blow, she never smiled till the last breath of her life. The strike was so fatal on her heart that she became ill and died during that illness.
(Asad-ul-Ghaba Vol-5, cha. 524)

ठंडा चश्मा

ठंडा चश्मा

हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम को अल्लाह तआला ने हर तरह की नेमत अता फरमाई थी। हुस्ने सूरत भी, कसरते औलाद भी और कसरते माल भी। अल्लाह तआला ने आपको आज़माइश में डाला । आपके फ्रजंद मकान के गिरने से दबकर मर गये। तमाम जानवर, जिसमें हज़ारों ऊंट और हजारों बकरियां थी सब मर गई। तमाम खेतियां और बागात बर्बाद घर खबर मिली तो आप हम्दे इलाही बजा लाए। फरमाते थे कि मेरा क्या है? जिसका था उसने ले लिया। जब तक मुझे दिया, मेरे पास रहा । मैं उसका शुक्र अदा नहीं कर सकता। मैं उसकी मर्जी पर राज़ी हूं। फिर आप बीमार हो गये। बदने मुबारक पर आबले पड़ गये। जिस्म शरीफ सब ज़ख्मों से भर गया। सब लोगों ने छोड़ दिया, सिवाए आपकी बीवी साहिबा के। वह आपकी खिदमत करती रहीं। यह हालत बहुत मुद्दत तक रही। आखिर एक रोज़ हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम ने अल्लाह से दुआ की तो अल्लाह ने फ्रमायाः ऐ अय्यूब! तू अपना पांव ज़मीन पर मार तेरे पैर मारने से एक ठंडा चश्मा निकल आयेगा । उसका पानी पीना और उससे नहाना । चुनांचे हज़रत अय्यूब अलैहिस्सलाम ने अपना पांव ज़मीन पर मारा तो एक ठंडा चश्मा निकल आया जिससे आप नहाये और पानी पिया तो आपका तमाम मर्ज़ जाता रहा।
(कुरआन करीम पारा २३, रुकू १२, ख़ज़ाइनुल इरफ़ान सफा ४६४)

सबक : अल्लाह वाले परेशानी और मुसीबत और बीमारियों में घिरकर भी अल्लाह का शुक्र ही अदा करते हैं | उसका शिकवा नहीं करते। अल्लाह के मकबूलों के पांव में यह भी बर्कत है कि वह पांव मारे तो ऐसा चश्मा निकल आये जिसका पानी मुसीबतों को दूर करने वाला होता है। फिर जो उन मकबूलाने हक के फैज़ व बर्कात का इंकार करता है, वह किस क़द्र जाहिल व बदबख्त है।