Hayat‐e‐Waris: INCIDENT THAT PROVED SARKAR WARIS WAS A SCHOLAR AND A LINGUIST 

download

Once it so happened that while our Saint was the guest of Justice Maulvi Syed Sharaf‐ud‐Din at 
BANKIPUR, Maulvi Lutfullah Hussein Sahib, resident of Sheikhpura MANGHYR district, a well 
known literary expert of literature and philosophy recited to our Saint Waris‐e‐Pak a lengthy 
encomium  Ode  couched  in  high  flown  Arabic  language  decked  with  metaphors  and  similes.Hardly  had  he  finished  reciting  two  or  three  couplets  when  our  Saint  took it  from  his  hand 
read it  fluently, explained the difficult words and  figures of language saying, “You have taken 
great pains which shows your competence and ability otherwise such idioms are used by those 
who are experts of the mother tongue.” From this one can estimate our Saint’s literary, ability 
of Arabic language, as such eloquent style to Arabic language. 
Whenever a reference was made about various verses of  the Quran he would  translate  them 
into  idiomatic  language  along  with  their  circumstances  of  revelation  and  explain  their 
symbolic  utterances and  subtle  points. There are many instances  of  his  knowledge  of Quran 
and  God  inspired  ability  to  throw  light  on  enigmatic  passages  in  verses  of  Quran.  He  had 
perfect knowledge of recitation of Quran and its verses exegesis. The power of his memory was 
so sharp  that what was  taught  to him at  the age of 12 or 14 he would recollect at  the age of 
eighty. Regarding discussion on Hadhis, without any reference he would compare and contrast 
with other Hadhis; convincing all assembled. 
It has also been noticed that Our Saint conversed fluently with the Arabs and Persians in their 
respective  languages.  From  his  scholarly  and  pithy,  sayings  one  dan  estimate  depth  of  his 
learning.  Hence,  he  was  a  graduate  of  external  knowledge,  a  seeker  of  truth  and  a  broad 
minded instructor as well as profound research scholar. 
Any  how  there is  no  use  discussing  deeply  how  far  he  studied.  It is  the  universal  opinion  of 
great mystics and eminent Saints that favourites and trusted devotees of Almighty acquired of 
mundane knowledge of mind and heart which in Sufic terms is called Divine favour and eternal 
exaltation.  Such  people  do  not  need  acquisition  of  worldly  knowledge,  neither  teaching  nor 
instruction but without it acquire  knowledge  of art and  sciences. They are  fit  to answer any 
question about  then and appear as if  they are experts  of art and  sciences.  They also  receive 
knowledge of mind and soul. Learned men of external knowledge are like the human body and 
experts of inner knowledge of heart and soul resemble their bountiful Beloved. 
Thus Maulana Rumi declares:‐ 
INTUITIVE KNOWLEDGE GAINS THE LOVER OUTWARD KNOWLEDGE IS A BURDEN ON THE
BODY PEOPLE OF INTUITIVE KNOWLEDGE CARRY THE BURDEN OF THE LOVER
The eminent mystics of exalted stature have clearly clarified different kinds of knowledge and
their stages.
Knowledge is of three kinds.
1. Knowledge of Divine Lawrules and regulations of which are recorded.  Its attainment 
depends  on  practice  and  effort.  By  its  completion  religious  affairs  and  worldly 
necessities become obvious. The difference between instruction and deviation from the 
path  of  rectitude is  emphasised.  Its  beauty  and  perfection  can be  deduced  from  their  sayings and activities. Its beauty and perfection can be deduced from their sayings and 
activities. 
2. Knowledge of Mysticism; which is concerned with  the elimination of sensual qualities 
and cultivation of spiritual attributes. Its teacher is a learned mentor. It is taught neither 
by writing  or  verbal instruction. Such  people learn  to understand without  the  help  of 
eye and ear. 
3. Knowledge of facts and truth of God; through this the beginner learns of God and sees 
glimpses of God. These are achieved in two ways:‐  
a) Without  arguing  or  proof  but  by  observation  and  eyesight.  It  is  called  the 
knowledge of taste or revelation. 
b) The other way is acquiring without hesitation and informalities and without any 
intermediary from Omnipotent Lord. This is called the Divine knowledge.

The mystics  are  the learned  people  and  through  the  blessings  and efforts  of  this  knowledge 
acquire  a  command  and  control  over  arts  and  sciences.  Therefore,  it  is  seen  that  our  Saint 
Sarkar Waris in addition to having knowledge of Divine Law which was learnt apparently, was 
also  an  adept  of  other  arts  and  sciences. Whenever  a  reference is made  about  these  arts  he 
used  to  describe  clearly  their  principles  and  regulations  and  experts  of  these  arts 
acknowledged  his  ability  and  experience.  He  imbibed  this  knowledge  from  Divine  medium 
which  is  the  basis  of  all  arts  and  sciences.  From  this  point  of  view  there  is  no  need  to 
investigate whether our Saint received external knowledge or not. 
For six years Our Saint’s relatives tried to impart external education to him but as much as he 
learnt this knowledge at this period so much time he spent in meditation, thinking about God 
and His love for Him increased so much that he was subject to fits of religious frenzy. He was 
inclined to lead a life of loneliness, frequenting uninhabited places, repeatedly invoking God’s 
name day and night. When Hazrat Haji Khadim Ali Shah noticed Our Saint’s inclination towards 
love  for  mendicant  way  of  life,  according  to  tradition  of  exalted  Saints,  initiated  him  in  the 
Saintly line of Qadriya and Chishtiya. 
Our  Saint’s  heart  from  the  outset  was  a  treasure  of  truth  and  field  of  knowledge,  by  the 
bounties of Saints of mysticism was still more clarified and became bright and burnished. The 
effects of separation from the Beloved of Truth became unbearable and gained momentum; as 
such he become restless day night.

Kaun Hai Hazrat Hasan Muthanna AlahisSalam??



17 Rajjab Yaume Wisal Hazrat Imam Hasan Musanna Radiallahu anhoo..


IMAM HASAN MUSANNA KY WALID IMAM HASAN MUJTABA R.Z HAI.. APKI WALEDA KA NAME HAZRAT KHAWLA BINTMANZUR HAI..APKI WILADAT RAMZAN ME HOIJAB IMAM HASAN R.Z SHAHED HO GAE TO IMAM HASAN

MUSANNA KI PARWARISH IMAM HUSSAIN A.S KY GHARANE ME HOI… IMAM HUSSAIN APKO APNE SENE PE LITAYA KRTE OR IZHARE MOHABBAT FARMATE..APKA ASL NAME HASAN HAI,MUSANNA K MANI SANI, INK JAISA HAZRAT HASAN MUSANNA IMAM HASAN A.SK SORAT WO SERAT ME BILKUL MUSHABA THE IS LIYE APKA LAQAB MUSANNA HOA.. IMAM HUSSAIN R.Z NE APNI BETI HAZRAT FATIMA SUGRA R.Z KA NIKAH IMAM HASAN MUSANNA R.Z SE KIYA..AP BHI APNE BHAIO KY SATH KARBALA ME IMAM HUSSAIN R.ZK KAFILE ME SHARIK THE JINK NAME YE THE HAZRAT ABUBAKAR IBN HASAN, HAZRAT TALHA IBN HASAN, HAZRAT ZAID BIN HASAN, HAZRAT QASIM IBN HASAN R.Z.A…MAIDANE KARBALA ME AAP YAZIDIO SE MUQABLA KRTE HOE

SHADEED ZAKHMI HO KY BEHOSH HO GAE.. TAB APKO AHLE BAIT A.S KY SHOHDA KY SATH RAKHA GAYA…SHAHADATE IMAM HUSSAIN R.Z KY BAAD JAB APKO KO HOSH AYA TO YAZIDI FOJ APKO BHI QAIDI BANA KY LE JA RAHE

THE… TAB KUCH YAZIDI LOG NE YE CHAHA KAPKO BHI SHAHED KR DEN MAGAR UN ME APKI WALEDA KY KABILE KA EK SHAKS HASSAN IBN ASMA IBN KHARJA FAZARI NE ROK DIYA OR APKO KUFA LE GAYA WAHA APKI KHIDMAT KI JAB AAP SEHATYAAB HO GAE TAB APKO US NE MADINA RAWANA KIYA.. JAB KY KUCH TARIKH LIKHNE WALO NE YE BHI LIKHA HAI KY AP KARBALA ME MAUJOD NAI THE IMAM HUSSAIN APKO APNE SATH NAI LE GAEQ KAAP

SHADEED BIMAR THE IMAM HUSSAIN R.Z NE APNI BETI SAYYEDA FATIMA SUGRA KO APKI KHIDMAT K LIYEWAHI RAHNE KA HUKM DIYA THA.. UMMUVI

KHALIFA WALEED BIN ABDUL MALIK KY KAHNE PE APKO 2 BAR ZAHER DIYA GAYA PAHLI DAFA WO NAQAM RAHE MAGAR DUSRI DAFA AP SHAHED HO GAE. IMAM HASAN KI NASAL AAP SE CHALI HAI SARKAR GAUSE AZAM BHI APKI NASL ME PAIDA HOE.. APKA MAZAR IRAQ ME HAI..

17 Rajjab 97 hijri YAUME SHAHADAT
_*HAZRAT SAYYEDNA IMAM HASAN MUSANNA ALAHISSALAM

👉🏻aap imam hasan a.s ky shahzade hai… hazrat ali a.s apk dada hai..

👉🏻imam hussain a.s ki beti hazrat fatima sugra s.a ka nikah imam hasan musanna se hoa is tarah ap imam hussain r.z k damad hai..

👉🏻imam hassan a.s ki shahadat k baad imam hussain a.s ne imam hassan musanna r.z ki parwarish farmai

👉🏻maidan karbala me aap maujod the or bahot zada zakhmi ho k behosh ho gae to apko shohdae karbala ky sath hi rakha gaya magar jab imam hussain a.s shaheed ho gae or yazidi lanatio ne ahle bait k kafele ko aseer bana liya to apko hosh aya to apko bhi girftar kr liya gaya or apko shaheed krne hi wale the k apki ammi ky chacha k bete hassan bin asma ibn kharja fazari ne rok diya or apne sath kufa le gaya waha apky sehat yab hone k baad apko madina rawana kr diya gaya..

👉🏻jis tarah imam hussain ki nasle paak imam zainul abdeen se chali usi tarah imam hasan a.s ki nasl imam hasan musanna or imam zaid bin hasan se chali SARKAR GAUSE AZAM R.Z KY JADD HAI IMAM HASAN MUSANNA r.z

👉🏻 umvi badshah abdul malik bin marwan ne apko zaher de kar shaheed kr diya… apki mazar jannatul baqi me hai… or kuch qaul ky mutabiq iraq me hai.

Life of Hazrat Syedah Fatima Zahara AlahisSalam.. part 1

Name, pen-name and lineage: Her name is Fatima, Zahara and Sayyidatun Nisa are her titles. She was the youngest and the most loved daughter of Huzur-i-Anwarﷺ . It is given in Istia’ab that she was born on the first year of the Prophethood in the holy family of Huzur ﷺ Her blessed mother is respected Ummul Mominin Hazrat Khadija Siddique-i Uzma Radiallahu anhoo

Innocent Childhood: Huzur ﷺ unique process of bringing up and the training of life made her so perfect and competent that she was a glaring example of an ideal and exemplary personality. Right from childhood, she used to be involved in the devotion of Almighty and recitation of the Holy Quran. Her prayers and the words had acquired very strong effects.

Once Huzur ﷺ was offering the prayer in the Haram-e-Ka’aba and people of Quraish, Abu Jahal and Umayya-bin-Khalaf etc. were present there. Uqba-bin-Abi Mui’t came with camel’s liver and threw it on Huzur ﷺ neck while he was praying. The Quraish were very happy about this. Someone went and informed Hazrat Fatema AlahisSalam about this. At that time, she was only five years old. But she came running furiously, removed the liver from the holy neck, fired Uqba-bin-Abu Mui’t in very harsh words and cursed him which had a very bad effect, and he died an atheist.

Marriage in Zilhijjah Hijri 02

According to Sahih exemplum, Hazrat Saiyeda AlahisSalam born during the 1″ year of the Prophethood. Hence, in Hijri 02, she was fifteen years old. The matrimonial proposals started coming, Sunan-i-Nasai (Vol-2, Cha. 69, ‘Nikah-ul-Abka’ar) states that Hazrat Abu Bakr Radiallahu anhoo and Hazrat Umar Radiallahu anhoo put up their proposals to Huzur ﷺ Huzur ﷺ said, “She is very young.” Then, Hazrat Ali AlaihisSalam proposed and he married her to Hazrat Ali AlaihisSalam. It is given in Kanzul Umma’al Vol-2, Cha. 293 that when Huzur ﷺ replied to Hazrat Abu Bakr and Hazrat Umar Hazrat Umar suggested Hazrat Ali to send a proposal and added that Hazrat Ali AlaihisSalam was very much suitable for that. Hazrat Ali AlaihisSalam proposed, and the proposal was accepted.
In this connection, Huzur ﷺ told Hazrat Ali AlaihisSalam, “What do you have to offer as Meher?” He said, “I have a camel and armour.” Huzur ﷺ said, “The armour is enough.” It was sold for 480 Dirham, 10 out of which were brought before Huzur ﷺ . He ordered Hazrat Bilal Radiallahu anhoo to bring some perfume. Thus Hazrat Fatima AlahisSalam was married to Hazrat Ali AlaihisSalam. 480 Dirham were accepted as Maher. This is the Maher-iFatima. It is given in Musnad-i-Ahmad and Tabran-i-Kabir that when Huzur ﷺ told Hazrat Fatima AlahisSalam, “Are you not pleased with the fact, that I have given you in marriage to a man who is the first Muslim in the community of my followers, has a great patience and is more mature than anybody else in the community?”

As a dowry, the king of this and the other world (Shahenshah-i-Konain), gave a coired-cot, leather-matress, which was filled with the date-leaves, leather water-container, two grinding stones and two earthen pots to the lady of the heaven (Khatun-i-Jannat). The wonderful thing about these articles is that those were her friends throughout her life. And, Hazrat Ali AlaihisSalam whose contentment was extra-ordinary, could not add anything more in these assets. (Ma’akhuz-Az-Sirat-un-Nabi)

It is written in Sahih-ibn-e-Habban that, immediately after the holy daughter’s marriage, Huzur ﷺ uttered the following prayer:

“O Allah, 1 beg for your shelter for the protection of my daughter and her children from the Shaitan-i-Rajim.”

Then for Hazrat Ali AlaihisSalam also, he prayed in the same way. Due to this prayer, all of them were beyond any wrong deed (gunah).

सुलतान टीपू शहीद पार्ट 1





वह अज़ीम मुजाहिदे इस्लाम जिसने गुलामी की ज़िन्दगी पर शहादत की मौत को गवारा किया और साबित कर दिया कि गीदड़ की सौ साल की जिन्दगी से शेर की एक दिन की ज़िन्दगी बेहतर है

टीपू का ख़ानदान

टीपू के पूर्वज कुरैशी नस्ल के अरब थे। उनके ख़ानदान के लोग शेख वली मुहम्मद मक्का से रोजी-रोटी की तलाश में पहले बग़दाद और फिर हिन्दुस्तान आए। दिल्ली में आकर उन्होंने गुलबर्गा की शोहरत सुनी जहां हज़रत शाह नवाज़ (रह०) का मज़ार था। वह दिल्ली से गुलबर्गा आए और यहां उनके एक बेटे शेख मुहम्मद अली की शादी मज़ार के मुतवल्ली (देख-रेख करने वाला) की बेटी से हुई।

शेख मुहम्मद अली गुलबर्गा से बीजापुर चले गए। उनके चार बेटे थे। उनमें शख़ फ़तेह मुहम्मद सबसे छोटे थे। शेख़ फ़तेह मुहम्मद की बीवी का नाम मजीदा बेगम था, जबकि दो बेटे शहबाज़ और वली मुहम्मद थे। बड़ा शहबाज़ था और छोटा वली मुहम्मद, तीसरे बेटे की पैदाइश से पहले फ़तेह मुहम्मद ने अपनी बीवी मजीदा बेगम को उस जमाने के एक मशहूर बुजुर्ग के पास भेजा कि वह बच्चे के लिए दुआ करें। बुजुर्ग ने दुआ की और यह खुशखबरी भी सुनाई कि जो बेटा पैदा होगा वह तारीख़ में बहुत शोहरत और मरतबा पाएगा और उसका नाम हैदर अली रखा जाए। चुनांचे शेख फ़तेह मुहम्मद ने बच्चे की पैदाईश पर उसका नाम हैदर अली रखा। फिर शेख फ़तेह मुहम्मद
गुलबर्गा के सूबेदार आबिद ख़ान की फ़ौज में मुलाज़िम हो गए। उन्होंने हैदर अली की तरबियत के दौरान तरक्की की और अपनी बहादुरी और जंगी महारत के ऐसे जोहर दिखाए कि जल्द ही फ़ौज में अहम पद हासिल कर लिया।

1137 ई० में एक जंग के दौरान फ़तेह मुहम्मद शहीद हो गए। उस वक्त हैदर अली सिर्फ पांच साल के थे। हैदर अली पिता की मौत के बाद अपने बड़े भाई शहबाज़ के साथ मैसूर चले आए जहां उनके चचा का लड़का राजा की फौज में मुलाज़िम था। उसने दोनों भाइयों की देख-भाल की और उन्हें फौजी तरबियत दी। जब हैदर अली 17 साल की उम्र को पहुंचे तो चचा के लड़के ने उन्हें मैसूर के राजा की फ़ौज में भरती करा दिया। राजा और ख़ास तौरपर वहां के वज़ीरे आजम नन्दराज ने हैदर अली की काबिलियत और सलाहियतें देखकर उन्हें शुरू में पचास सवारों का अफ़सर नियुक्त कर दिया। फिर जब हैदर अली 19 साल के हुए तो नन्दराज ने उनकी शादी करा दी।

हैदर अली ने दो सालों में अपनी जंगी कामयाबियों की बदौलत काफ़ी तरक्की की, लेकिन उनकी बीवी को शादी के कुछ समय बाद लकवा (फ़ालिज) हो गया और उससे कोई औलाद न हो सकी। तब हैदर अली ने दूसरी शादी गर्मकुण्डा के किलेदार की बहन फ़ातिमा बेगम से की। यही हैदर अली, सुलतान टीपू के वालिद थे और फ़ातिमा बेगम टीपू की मां थीं।

टीपू की पैदाईश

दो-तीन साल गुज़र गए और फ़ातिमा बेगम से कोई औलाद न सुलतान टीपू शहीद

हुई। उन दिनों दक्कन में एक बुजुर्ग हज़रत टीपू मुस्तान वली (रह० ) बहुत मशहूर थे। लोग दूर-दूर से उनकी ख़िदमत में हाज़िर होते और अपने लिए दुआ कराते थे। चुनांचे हैदर अली भी उनकी ख़िदमत में हाज़िर हुए और उनसे औलाद के लिए दुआ की दरख्वास्त की। हज़रत टीपू मुस्तान वली (रह०) ने दुआ की और यह खुशखबरी भी दी कि जल्द ही उनके घर बेटा पैदा होगा जिसका नाम तारीख में हमेशा जिन्दा रहेगा।

बुजुर्ग की दुआ कबूल हुई और 10 नवम्बर 1749 या 1750 ई० को हैदर अली के घर में एक चांद-सा बेटा पैदा हुआ। बेटे की पैदाइश पर हैदर अली ने खुदा का शुक्र अदा किया और ख़ज़ाने का मुंह खोल दिया। बहुत खैरात की, सदका दिया और चालीस दिन तक खूब जश्न मनाया। चूंकि यह बेटा बुजुर्ग हज़रत टीपू मुस्तान (रह०) की दुआ से पैदा से पैदा हुआ था, इस लिए हैदर अली ने बेटे का नाम फ़तेह अली टीपू रखा। टीपू ऐसा खुशनसीब था कि हैदर अली के दिन फिर गए और वह तेज़ी से तरक्की हासिल करता गया। वह जिस मुहिम पर भी गया, वहां से जीत हासिल करके लोटा। सफ़लताएं उसके कदम चूमती रहीं। नन्दराज ने उसे फ़ौज देकर डंडेकल भेजा जहां बगावत हो गई थी। हैदर अली ने अपनी जहानत और बहादुरी से बागियों को कुचल कर बगावत पर काबू पाया और राजा ने खुश हो कर उसे डंडेकल का गर्वनर नियुक्त कर दिया ताकि वह उस इलाके के बिगड़े हुए हालात ठीक करे। > >

टीपू की तरबियत

फ़तेह अली टीपू भी अपने बाप के साथ वहां परवरिश पाता रहा। हैदर अली ने डंडेकल का इन्तिज़ाम दुरुस्त किया और मैसूर के
राजा ने खुश होकर उसके मरतबा में इज़ाफ़ा कर दिया। हैदर अली इस मुहिम से फ़ारिग होकर मैसूर की राजधानी श्रीरंगापटनम वापस आ गया। 1754 ई० में मरहटों ने मैसूर पर हमला कर दिया। मैसूर का राजा कमज़ोर था। उसने पहले तो मरहटों को तावाने जंग (हरजाना) अदा करने का वादा करके सुलह कर ली और कुछ इलाके मरहटों के पास रहन रख दिए। इस तरह जंग का ख़तरा टल गया। लेकिन 1755 ई० में मरहटों के सरदार गोपालराव ने दोबारा मैसूर के राजा से एक करोड़ रूपये की मांग कर दी तो राजा ने उनसे मुकाबला करने का फैसला किया और हैदर अली को फ़ौज का सिपहसालार बनाकर मरहटों के साथ जंग के लिए भेज दिया।

हैदर अली ने इस जंग में मरहटों को इबरतनाक शिकस्त दी और मरहटों का सरदार गोपालराव जान बचाकर भाग गया। इस जीत की खुशी में राजा और वज़ीरे आजम ने हैदर अली को मैसूर की तमाम फौजों का सिपहसालार नियुक्त कर दिया।

टीपू की उम्र पांच साल हुई तो उसकी तालीम व तरबियत का सिलसिला शुरू हो गया। उसे पढ़ाने के लिए उस दौर के बेहतरीन उस्ताद नियुक्त किए गए। यह आलिम फ़ाज़िल उस्ताद टीपू को दूसरे उलूम के अलावा ज़बानें यानी अंग्रेजी, फ्रांसीसी, अरबी और फारसी सिखाते थे। अगरचे हैदर अली खुद अंग्रेज़ी और फ्रांसीसी नहीं जानता था लेकिन उसने टीपू को यह गैर-मुल्की ज़बानें इस लिए सिखाई कि वह अंग्रेजों और फ्रांसीसियों से आसानी के साथ बातचीत कर सके। –

टीपू के दादा शेख़ फ़तेह मुहम्मद एक सिपाही थे और उन्होंने मैदान-ए-जंग में बेहतरीन कारनामे अन्जाम दिए थे। इसी तरह टीपू के वालिद हैदर अली भी निहायत जंगजू और फुनूने जंग में माहिर थे।

उन्होंने अपनी बहादुरी और हिम्मत व मर्दानगी से हर मुहिम में सफलता में हासिल की और मरहटों को शर्मनाक शिकस्त देकर खुद को एक बेहतरीन सिपहसालार साबित किया। टीपू की रगों में इन्ही बाप-दादा का खून दौड़ रहा था। लिहाज़ा कुदरती तौरपर उसका मैलान जंगी तालीम व तरबियत की तरफ़ रहा। हैदर अली ने भी उसे जंगजू और पुरजोश सिपाही बनाने के लिए घुड़सवारी, तीरअंदाज़ी, तलवारबाज़ी और नेज़ाबाज़ी के अलावा जंग के दूसरे दावपेच भी सिखाए।

टीपू 15 साल की उम्र में तमाम उलूम व फुनून और जंगी तरबियत हासिल कर चुका था। चुनांचे वह हैदर अली के साथ मुख़्तलिफ़ जंगों में हिस्सा लेने और जंग के मैदान में कारनामे अंजाम देने लगा।

हैदर अली पर मुसीबत

टीपू अभी 11 साल का था कि उसके पिता हैदर अली पर एक मुसीबत आ पड़ी। हुआ यह कि मैसूर की फ़ौज के सिपहसालार की हैसियत से हैदर अली ने मैसूर के दुश्मनों यानी मरहटों को दोबारा इबरतनाक शिकस्त देकर उनके कब्ज़ा से मैसूर के न सिर्फ वे इलाके आज़ाद करा लिए थे जिनपर मरहटों ने. चन्द साल पहले कब्जा कर लिया था बल्कि उनके कुछ इलाके भी छीन कर मैसूर की सलतनत में शामिल कर लिए थे। उसके इन कारनामों के सबब मैसूर के आम लोग उसे राजा से ज़्यादा पसन्द करते थे। हैदर अली आम लोगों में इतने मशहूर और मकबूल हुए कि राजा को अपनी हुकूमत ख़तरे में नज़र आने लगी। उसने सोचा कि हैदर अली इसी तरह जनता के दिलों में घर करता रहा तो किसी दिन वह तख्त पर कब्जा न कर ले। मैसूर की रानी भी हैदर अली को पसन्द नहीं करती थी। उन दोनों ने

हैदर अली के एक ख़ास आदमी या प्राइवेट सैक्रेट्री खण्डेराव को भरोसे में लेकर उसे प्रधान मंत्री बनाने का लालच देकर हैदर अली के ख़िलाफ़ एक साज़िश तैयार की। इस साज़िश के मुताबिक पहले तो उन्होंने हैदर अली को मजबूर किया कि वह नन्दराज को मंत्रालय से अलग कर दे, क्योंकि नन्दराज से भी उन्हें ख़तरा था। जब नन्दराज हैदर अली के कहने पर मंत्रालय से अलग हो गया तो उन्होंने हैदर अली को अपने रास्ते से हटाने की कोशिश शुरू कर दी।

1759 ई० में फ्रांसिसियों ने अंग्रेजों के ख़िलाफ़ हैदर अली से मदद की दरख्वास्त की और हैदर अली ने उनकी मदद के लिए अपनी फौजें पॉन्डीचैरी भेज दी जहां वाला जाह मुहम्मद अली ने अंग्रेजों की हिमायत से फ्रांसीसियों के तिजारती ठिकानों पर हमला कर दिया था। हैदर अली फ़ौज भेजने के बाद खुद मैसूर की राजधानी श्रीरंगापटनम में ही रहे। साज़िशियों को इसी मौके का इंतिज़ार था। चुनांचे खण्डेराव ने पूना के हाकिम और मरहटा सरदार माधवराव को खुफ़िया ख़त लिख कर श्रीरंगापटनम का मुहासिरा करने और हैदर अली को गिरफ्तार करने की दावत दी। मरहटे हैदर अली से अपनी हार का बदला लेने के लिए बेताब थे। चुनांचे उन्होंने मैसूर पर चढ़ाई की और श्रीरंगापटनम का मुहासिरा कर लिया।

हैदर अली को दुश्मनों की साजिश का पता चल गया। लेकिन उस वक्त उनकी फ़ौज बंगलोर में थी और दुश्मन का मुकाबला करने के लिए अपनी फ़ौज के पास पहुंचना ज़रूरी था। चुनांचे उन्होंने टीपू समेत अपने ख़ानदान वालों को महल में छोड़ा और चन्द बहादुर सिपाहियों के साथ वहां से निकल जाने का फैसला कर लिया। दुश्मनों ने श्रीरंगापटनम के तमाम रास्ते बन्द कर दिये थे। हैदर अली महल के
खुफ़िया रास्ते से निकले और दरिया-ए-कावेरी के किनारे पहुंच कर दरिया में कूद पड़े। दरिया में पानी का बहाव तेज़ था लेकिन हैदर अली ने परवाह न की और अल्लाह के भरोसे पर तैरने लगे।

टीपू महल में अपने भाई और मां के साथ दुश्मनों में घिरा हुआ था। डर था कि हैदर अली के भाग जाने के बाद दुश्मन उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश करेंगे। लेकिन हैदर अली ने उन्हें अल्लाह के भरोसे पर छोड़ा था। दुश्मन को हैदर अली के निकल जाने का पता चला तो वे बहुत पछताए। मरहटा फ़ौजें उनका पीछा करते हुए तेज़ी से बंगलौर पहुंची। लेकिन हैदर अली उनसे पहले वहां पहुंचकर अपनी फ़ौज की कमान संभाल चुके थे। चुनांचे जब मरहटा फ़ौज बंगलौर पहुंची तो हैदर अली ने उनपर ऐसा भरपूर हमला किया कि मरहटा फ़ौज में भगदड़ मच गई और उन्हें शर्मनाक हार हुई।

मरहटों के भाग जाने के बाद हैदर अली ने पॉन्डीचैरी में मौजूद अपनी फौजों को वापस बुला लिया और फिर सारी फ़ौज के साथ वापस आकर श्रीरंगापटनम का मुहासिरा कर लिया। राजा और रानी ने घबराकर सुलह की दरख्वास्त की और हैदर अली ने इस शर्तपर सुलह कर ली कि नमकहराम खण्डेराव को उसके हवाले किया जाए। चुनांचे खण्डेराव को हैदर अली के हवाले कर दिया गया और हैदर अली ने उसे लोहे के बहुत बड़े पिंजरे में कैद कर दिया। फिर हैदर अली ने यही मुनासिब समझा कि मैसूर का तख्त संभाल ले और रियासत की हिफ़ाज़त का इंतिज़ाम बेहतर बनाए। चुनांचे उसने राजा से मुतालबा किया कि वह हुकूमत हैदर अली के हवाले कर दे और खुद अलाहिदगी इख़्तियार कर ले। राजा बेबस था। हैदर अली का मुकाबला करने की उसमें ताकत नहीं थी। चुनांचे उसने हुकूमत हैदर अली के हवाले कर दी
$ हैदर अली 1761 ई० में तख्त पर बैठा और रियासत की बागडोर अपने हाथ में ले ली और मैसूर का नाम “सलतनते खुदादाद मैसूर” रखकर उसे इस्लामी रियासत बना दिया। फिर उन्होंने जनता की भलाई और बेहतरी के लिए बहुत ज्यादा काम किया और मुल्क की सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत से मजबूततर बनाने की कोशिशें शुरू कर दी।

मैसूर के दुश्मन

टीपू की उम्र सौलह-सत्रह साल हो चुकी थी। उस ज़माने में मैसूर के उत्तर की तरफ़ मरहटों और निज़ामे हैदराबाद के इलाके थे जबकि दक्षिण की तरफ़ अंग्रेज़ थे। उनके कब्जे में मद्रास का इलाका था। हैदर अली ने अपनी सलतनत की सीमाओं को बढ़ाना शुरू किया तो अंग्रेजों को ख़तरा महसूस हो गया। अंग्रेज़ हिन्दुस्तान पर कब्जा करने का इरादा रखते थे। उन्होंने सोचा कि अगर हैदर अली यूंही अपनी ताकत बढ़ाता रहा तो एक दिन मद्रास पर भी कब्जा कर लेगा। फिर हो सकता है कि उन्हें हिन्दुस्तान से भी निकाल दे।

मरहटे तो पहले ही मैसूर के दुश्मन थे और मैसूर को हड़प करके मरहटा सलतनत में शामिल करना चाहते थे। हैदर अली को वह अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझते थे जिसने उन्हें दो-तीन बार इबरतनाक शिकस्त दी थी। मैसूर का तीसरा दुश्मन निज़ाम हैदराबाद था।

हैदर अली हैदराबाद के निज़ाम से अच्छे सम्बंध कायम करने की इच्छा रखते थे। वह चाहते थे कि इस मुसलमान रियासत के साथ मिलकर गैर मुल्की दुश्मनों को हिन्दुस्तान की सीमाओं से निकाल दें। लेकिन अंग्रेज़ नहीं चाहते थे कि दोनों मुसलमान रियासतों में इत्तिहाद व इत्तिफ़ाक हो। चुनांचे उन्होंने हैदर अली को अपने इरादों के रास्तेकी सबसे बड़ी रुकावट समझते हुए उन्हें रास्ते से हटाने का फैसला किया और उनकी ताकत को पारा-पारा करने के लिए साजिशों में मसरूफ़ हो गए।

मैसूर पर हमला

अंग्रेजों ने साज़िश करके मरहटों और निज़ाम हैदराबाद को हैदर अली के ख़िलाफ़ जंग करने पर आमादा किया। फिर तीनों यानी निज़ाम हैदराबाद, मरहटों और अंग्रेजों ने मिलकर मैसूर पर हमला कर दिया। हैदर अली मैसूर के हुकुमरान ही नहीं फ़ौज के सिपहसालार भी थे। वह दुश्मनों की मुत्तहिदा ताकत से ज़रा भी खौफ़ज़दा न हुए। उनका बेटा फ़तेह अली टीपू भी बहुत बहादुर नौजवान था। चुनांचे हैदर अली और टीपू ने बड़े हौसले और हिम्मत के साथ दुश्मनों के हमले को रोका और उनका डटकर मुकाबला किया। दुश्मन को शर्मनाक हार हुई और वे मैदाने जंग से भागने पर मजबूर हो गया।

बहादुर टीपू

– इस जंग में नौजवान टीपू ने अंग्रेज़ों पर ताबड़-तोड़ हमले किए। अंग्रेज़ हार कर मद्रास की तरफ़ भागे जहां उनकी फ़ौजी छावनी थी। मैसूर की फ़ौजों ने उनका पीछा किया। दक्षिण अर्काट के इलाके में मैसूर की फ़ौज का मुकाबला अंग्रेज़ करनल जोज़फ़ स्मिथ की फौज से हुआ। वहां भी हैदर अली और उनके बहादुर बेटे टीपू ने अंग्रेजों को बुरी तरह हराया और अंग्रेज़ उनकी पेशकदमी रोकने में नाकाम रहे।

अंग्रेज़ मेजर जीराल्ड और कर्नल टाड ने हैदर अली की फौज का रास्ता रोकने की बहुत कोशिश की लेकिन हैदर अली की फौज
ने अंग्रेजों की फौजों को काट कर रास्ता बनाया और आगे बढ़ती चली गई। रास्ते में तिरपतपूरा का किला था। उसमें अंग्रेज़ फ़ौज मौजूद थी। इस किले को जीते बगैर आगे बढ़ना हैदर अली के लिए खतरनाक था, क्योंकि यहां की फ़ौज पीछे से हैदर अली की फ़ौज पर हमला करके उन्हें नुकसान पहुंचा सकती थी। चुनांचे हैदर अली ने जबरदस्त जंग करके तिरपतपूरा का किला जीत लिया।

रास्ते में अंग्रेज़ फ़ौज कर्नल अम्बर के कियादत में हैदर अली का रास्ता रोकने आई मगर हैदर अली ने कर्नल अम्बर को ऐसी शिकस्त दी कि वह काफी समय तक किसी बड़ी जंग में हिस्सा न ले सका।

मालाबार के साहिली इलाके में हैदर अली का एक जरनेल लुत्फ़ अली बैग अंग्रेज़ फ़ौज का मुकाबला कर रहा था, लेकिन उसके पास हथियार और फ़ौज की कमी थी। उसने हैदर अली को मदद के लिए पैगाम भेजा। उस वक्त टीपू बंगलौर में अंग्रेजों से जंग कर रहा था जहां मेजर गार्डन और कैपटेन वाइन के नेतृत्व में अंग्रेज़ी फ़ौज ने कब्जा कर रखा था।

लुत्फ़ अली बैग का पैगाम मिलते ही हैदर अली ने तुरन्त टीपू को हुक्म भेज दिया कि वह लुत्फ़ अली बैग की मदद के लिए मालाबार पहुंचे। हैदर अली का हुक्म मिलते ही नौजवान टीपू अपनी फ़ौज के साथ मालाबार जा पहुंचा। वहां टीपू ने बड़ी बहादुरी से अंग्रेज़ फ़ौज को शिकस्त दी। दूसरी तरफ़ हैदर अली तूफ़ान की तरह बंगलौर के मैदाने जंग पर पहुंचे और मैजर गार्डन और कैपटेन वाइन को हरा कर बंगलौर से अंग्रेज़ फ़ौज को निकाल दिया।

इस शर्मनाक शिकस्त के बाद अंग्रेज़ों को यकीन हो गया कि अब वह हैदर अली को मद्रास पहुंचने से नहीं रोक सकेंगे।