Hadith:Shabe Qadr


Hazrat Ubaadah Bin Saamit RadiyAllahu Ta’ala ‘Anhu Se Marwi Hai Ki Unhone Arz Kiya :
Ya RasoolAllah ﷺ !
Hamein Shabe Qadr Ke Baare Me Bataaye To Aap SallAllahu Ta’ala ‘Alayhi Wa-Aalihi Wa-Sallam Ne Farmaya :
Yah (Raat) Mahe Ramadaan Ke Aakhri Ashre Me Ikkisawi-21, Teiswi-23, Pachchiswi-25, Sattaiswi-27, Untisawi-29 Ya Ramadaan Kee Aakhiri Raat Hoti Hai.
Jo Banda Is Me Imano Sawaab Ke Iraade Se Qiyaam Kare Us Ke Agle Pichhle (Tamaam) Gunaah Bakhsh Diye Jaate Hain.”
رواه أحمد و الطبراني.

[Ahmad Bin Hanbal Fi Al-Musnad, 05/318, 321, 324, Raqam-22765, 22793, 22815,

Tabarani Fi Al-Mu’jam-ul-Awsat, 02/71, Raqam-1284,

Mundhiri Fi At-Targhib Wa At-Tarhib Mina Al-Hadith Ash-Sharif, 02/65, Raqam-1507,

Haythami Fi Majma’-uz-Zawa’id, 03/175, 176,

At-Tasrihu Fi Salat-it-Tarawih, Safha-12, 13, Raqam-05.]

Hadith:The leader of the women of all the worlds.

سَيِّدَةُ نِسَاءِ أَهْلِ الْجَنَّةِ
Sayyidat’un Nisa’a Ah’lil Jannah

#Hadith01) . Masruq (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates from Umm’ul Mominin Ayeshah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) that the Holy Prophet (ﷺ) said,
“Fatimah, are you not happy that you are the leader of the women of all the believers or (the leader of the women of this Ummah).”

References:
1. Bukhari, as-Sahih (5:2317#5928)
2. Muslim, as-Sahih (4:1905#2450)
3. Nasai, Fadail-us-sahabah (p. 77#263)
4. Ahmad bin Hambal, Fadail-us-sahabah (2:762#1342)
5. Tayalisi, al-Musnad (p. 196#1373)
6. Ibn Sad, at-Tabaqat-ul-kubra (2:247)
7. Dawlabi, az-Zurriyah at-tahirah (p.101, 102#188)
8. Abu Nauym, Hil yat-ul-awli ya wa tabaqat-ul-asfiya
(2:39, 40)
9. Dhahabi, Siyar alam an-nubala (2:130)

#Hadith02). Abu Hurairah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said,
“An angel in the skies who had not seen Me requested permission from Allah to see Me (which he was granted); he told Me the good news (or brought Me the news) that Fatimah is the leader of all women in My nation.”

References:
1. Tabarani, al-Mujam-ul-kabir (22:403#1006)
2. Bukhari, at-Tarikh-ul-kabir (1:232#728)
3. Haythami said in Majma-uz-zawaid (9:201)

#Hadith03). Umm’ul Mominin Ayeshah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said during the illness in which He passed away,

“Oh Fatimah ! Are you not pleased with the fact that you are the leader of the women of all the worlds, the leader of the women of this ummah (nation) and the leader of the women of all the believers.”

References:
1. Hakim has declared it sahih (sound) in al-Mustadrak
(3:170# 4740) while Dhahabi has supported it.
2. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (4:251#7078)
3. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (5:146#8517)
4. Ibn Sa‘d, at-Tabaqat-ul-kubra (2:247,248)
5. Ibn Sad, at-Tabaqat-ul-kubra (8:26,27)
6. Ibn Athir, Usad-ul-ghabah fi-marifah as-sahabah (7:218)

#Hadith04). Hudhaifah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said,

“There is an angel who before tonight had never come down to earth, asked permission from his Lord to offer salam (salutations) to Me and to deliver the good news to Me that, Fatimah is the leader of all women of
Paradise and Hasan & Husain are the leaders of all the youngsters in Paradise.”

References:
1. Tirmidhi, al-Jami-us-sahih (5:660#3781)
2. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (5:80, 95#8298,8365)
3. Nasai, Fadhail-us-sahabah (p.58,72#193,260)
4. Ahmad bin Hambal, al-Musnad (5:391)
5. Ahmad bin Hambal, Fadail-us-sahabah (2:788#1406)
6. Ibn Abi Shaybah, al-Musannaf (6:388#32271)
7. Hakim, al-Mustadrak (3:164#4721,4722)
8. Tabarani, al-Mujam-ul-kabir (22:402#1005)
9. Bayhaqi, al-Itiqad (p.328)
10. Muhibb Tabari, Dhakhair-ul-uqba fi-manaqib dhaw-il-qurba (p.224)

Hadith:Ba’d Az Mustafa صَلَّى اللهُ تَعَالىٰ عَلَيْهِ وَآلِهِ وَسَلَّم Mehboob Tareen Hasti Sayyidah Zahra’ سَلاَمُ اللهِ عَلَيْهَا Hain.

*Farmaane Farooqe A’zam رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهُ …….  Ba’d Az Mustafa صَلَّى اللهُ تَعَالىٰ عَلَيْهِ وَآلِهِ وَسَلَّم Mehboob Tareen Hasti Sayyidah Zahra’ سَلاَمُ اللهِ عَلَيْهَا Hain*
 

“Hazrat Umar Bin Khattab رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهُ Bayan Karte Hain Ki Woh Sayyidah Fatimah رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهَا Ke Haa’n Gaye Aur Kaha : Aye Fatimah! Khuda Kee Qasam! Mein Ne Aap Ke Siwa Kisi Shakhs Ko Rasool Allah صَلَّى اللهُ تَعَالىٰ عَلَيْهِ وَآلِهِ وَسَلَّم Ke Nazdeek Mehboobtar Nahin Dekha. Aur Khuda Kee Qasam! Logo’n Me Se Mujhe Bhi Koi Aur Aap Se Ziyaada Mehboob Nahin Siwaa’e Aap Ke Baab صَلَّى اللهُ تَعَالىٰ عَلَيْهِ وَآلِهِ وَسَلَّم Ke.”

[1_Hakim Fi Al-Mustadrak ‘Ala Sahihayn, 03/168, Raqam-4736,

2_Ibn Abi Shaybah Fi Al-Musannaf, 07/432, Raqam-37045,

3_Shaybani Fi Al-Ahad Wa’l-Mathani, 05/360, Raqam-2952,

4_Ahmad Bin Hanbal Fi Fada’il As-Sahabah, 01/364, Raqam-532,

5_Khatib Baghdadi Fi Tarikh Baghdad, 04/401,

Yaum e Wisal e Syedah Fatima AlahisSalam 3 Ramzan.

*3 Ramzan ul Mubarak*

*Yaume Wisaal*

*Dukhat e Imaam ul Ambiya ﷺ Jigar Gosha e Ummul Momineen Syyeda Khadija Zoja e Mola e Kaynat Madar e Syyed Al Shabab Al Aahlil Janna Maadar e Zainab o Kulsoom Ummul Aaimma Sayyada Nisaail Aalameen Syyeda e Kaynat Shahzadi e Konain Khatoon e Jannat Tayyaba Tahira Aabida Zahida Hazrat Syyeda Fatima Zehra (Salamun Aleha)*

*Aapki Wiladat 20 Jamadi us Saani Elaan e Nabuwat Se 4 Baras Pehle 605 Esvi Me Makka Sharif Me Hui, Aapka Wisaal 3 Ramzan ul Mubarak 11 Hijri 632 Esvi Ko Hua, Aap Imaam ul Ambiya Shehansha e Qull Aalam Hazrat Ahmad e Mujtuba Muhammad Mustafa (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Aur Malka e Arab Mohsina e Islaam Ummul Momineen Hazrat Syyeda Khadija Tul Kubra (Salamun Aleha) Ki Shahzadi Thi, Aap Mola e Kaynat Ameer ul Momineen Mola Imaam Ali (Alaihis Salam) Ki Zoja Mohtarma Aur Ameer ul Momineen Rakib e Doshe Mustufa Mola Imaam Hasan Mujtuba Alaihis Salam) Aur Imaam e Aalimaqaam Imaam e Arsh Maqaam Hazrat Syedna Mola Imaam Hussain Badshah (Alaihis Salam) Ki Walida Majida Thi, Huzoor (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Ne Aapki Shaan e Aqdas Me Farmaya:- Fatima Meri Jaan Ka Hissa Hain, Fatima Tamaam Jahano Ki Aurato Ki Sardar Hain, Fatima Ahle Jannat Ki Tamaam Aurato Ki Sardar Hain, Fatima Tujh Par Mere Maa – Baap Qurban, Jannat Me Sabse Pehle Dakhil Hone Wali Hasti Fatima Hogi, Meri Beti Ka Naam Fatima Islye Rakha Gaya Hai Ke Allah Tala Ne Use Aur Usse Muhabbat Rakhne Walo Ko Dozakh Se Juda Kar Diya Hain, Ummul Momineen Syyeda Ayesha Siddiqa (Salam un Aleha) Se Poucha Gaya:- Rasool Allah (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Ko Logo Me Kaun Sabse Zada Mehboob Hain ? Aapne Farmaya:- Syyeda Fatima, Syyeda Ayesha Siddiqa (Salamun Aleha) Farmati Hai:- Ba’adaz Mustufa (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Afzal Tareen Hasti Syyeda Fatima tuz Zehra Hain, Syyeda Ayesha Siddiqa Farmati Hain:- Aap (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Ke Siwa Mene Fatima Se Zada Saccha Kaynat Me Koi Nahi Dekha, Huzoor (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Ko Aurato Me Sabse Zada Mehboob Apni Shahzadi Syyeda Fatima (Salam un Aleha) Thi, Aur Mardo Me Se Sabse Zada Mehboob Mola Ali (Alaihis Salam) The, Ameer ul Momineen Hazrat Umar Farooq (Razi Allahu Tala Anhu) Ne Farmaya:- Ya Fatima! Khuda Ki Qasam Maine Aapke Siwa Kisi Shaks Ko Huzoor Nabi e Kareem (Sallallahu Alaihi wa Aala Aalehi wa Sallam) Ke Nazdik Mehboobtar Nahi Dekha, Huzoor Farooq e Azam Hazrat Umar (Razi Allahu Tala Anhu) Farmate Hai:- Ya Fatima Khuda Ki Qasam Logo Me Se Mujhe Bhi Aapke Walid e Mohtaram Ke Baad Koi Aapse Zada Mehboob Nahi, Aapka Mazar Mubarak Jannatul Baqi Sharif, Madina Pak, Saudia Arabia Me Marjai Khaliak Hain…*


*3 रमज़ान*

*यौम ए शहादत*

*मल्लिका ए दो जहाँ , जिगर गोशा ए सय्यदा ख़दीजा सलामुल्लाह अलैहा , आक़ा ओ मौला मोहम्मद के जिगर का टुकड़ा , जौज़ा ए मौला ए क़ायनात मौला अली इब्ने अबु तालिब , मौला इमाम हसन व हुसैन की वालिदा , उम्मुल आइम्मा , दादीजान सय्यदा ज़ाहिदा सिद्दिका , ताहिरा , फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा*

*आपके हर छुपे और ज़ाहिर दुश्मन पर अल्लाह की लानत हो*

*आक़ा रसूलल्लाह मौला मोहम्मद अपनी बेटी सय्यदा फ़ातिमा ज़हरा के लिए फरमाते है :–*

*जिसने मेरी फ़ातिमा को नाराज़ किया (गौर करे सिर्फ नाराज़ करने पर ये हुक़्म है) , उसने मुझे नाराज़ किया , और जिसने मुझे नाराज़ किया उसने अल्लाह को नाराज़ किया ।*


*बिलखुशुश आपके बाबा आक़ा ओ मौला मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैही व आलीही वसल्लम की बारगाह में , तमाम आले रसूल सादात के किराम व मुहिब्बाने आले मोहम्मद को आपका पुरसा पेश करते हैं*


*खाक पाय ग़ुलाम ए दादीजान सय्यदा फ़ातिमा सलामुल्लाह अलैहा*

*हज़रत-ए-बीबी सय्यिदह फ़ातिमा सलाम उल्लाह अलैहा*



*हज़रत अली कार्रमल्लाहु तआला वजह-उल-करीम से रिवायत है कि हुज़ूर नबी-ए-करीम सल्लाहों अलैह व सल्लम ने सय्यिदह फ़ातिमा से फरमाया :*

*बेशक़ अल्लाह तआला तेरी नाराज़गी पर नाराज़ होता है और तेरी रज़ा पर राज़ी होता है*

इस हदीस को इमाम हाकिम और तबरानी ने रिवायत किया है

*[Hakim Fi Al-Mustadrak, 03/167, Raqam-4730,*

*Shaybani Fi Al-Ahad Wa’l-Mathani, 05/366, Raqam-2959,*

*Tabarani Fi Al-Mu’jam-ul-Kabir, 01/108, Raqam-182,*
*22/401, Raqam-1001,*

Rasoolullah (ﷺ) Sayyeda Fatima (ع) Se Farmate Aye Fatima! Mere Maa Baap Tujh Par Qurban Hon 🥀

(Sahih Ibn Hibban,494)

*🌹यौमे विसाल*

वारिसे तत्हीर,
उम्मुल हस्नैन,
दुख़्तरे आक़ा व मौला मुहम्मद मुस्ताफ़ा सल्लाहो अलैहि वसल्लम
सैय्यादा,
ताहिरा,
आबिदा,
आरिफ़ा,
राज़िया,
आलिमा,
उम्मे अबिहा,
ख़ातूने जन्नत
सैय्यदुन्निसा आलमीन
सैय्यदा फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्ला अलैहा



*🌹क्या तुम्हें मालूम नहीं🌹*

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जिनसे बुग्ज़ो हसद रखने वाला काफिर मरेगा

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं कि सय्यदा ज़हरा नबी ए अकरम सल्लाहो अलैहि वसल्लम के जिगर का टुकडा हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जिनके लिए नबी ए अकरम सल्लाहो अलैहि वसल्लम फरमाते हैं फातिमा तुम पर मेरे माँ बाप कुरबान

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं नबी ए अकरम सल्लाहो अलैहि वसल्लम सय्यदा ज़हरा के इस्तकबाल के लिए खड़े हो जाया करते हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जिनकी रूह खुद अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने कब्ज़ फरमाई

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा उन बच्चों की माँ हैं जो जन्नत के सरदार है

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं की बरोज़ ए कयामत एक आवाज़ आएगी सब अपनी निगाहें झुका लो फातिमा ज़हरा तशरीफ़ र
लारही हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा फातिमा ज़हरा वो हैं जिनकी पाकी का ऐलान रब्बुल आलमीन कर रहा है

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा तमाम जहाँ की औरतों की सरदार हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जिनके घर की चक्की फरिश्ते चलाते हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जिनके बच्चों को झूला फरिश्ते झुलाते हैं

👉🏻क्या तुम्हें मालूम नहीं सय्यदा ज़हरा वो हैं जो अपने बाबा की दावत करें तो खाना फरिश्ते लेकर उनके आएं

*🙏🏻🌹सलाम उल्लाह अलैहा🌹🙏🏻*


अपने ईमान की सलामती और जन्नत का परवाना अगर चाहते हो तो अहले बैत ए अत्हार अलैहिस्सलाम की गुलामी का पट्टा अपने अपने गलों में डाल लो तुम दुनियां और आख़िरत में कामयाब रहोगे
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹


*3rd Ramadan Youme Wisaal Khatoon e Jannat Sayyidah Fatimah Salaamullah Alaiha* 🥺💔

*Sayyidah سَلاَمُ اللهِ عَلَيْهَا Ka Apne Wisaal Se Baakahabar Hona
*

“Hazrat Ummi Salma رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهَا Bayaan Karti Hain : Jab Sayyidah Fatimah سَلاَمُ اللهِ عَلَيْهَا Apni Maraze Maut Me Mubtala Huwi’n To Mein Un Kee Timaardaari Karti Thi. Maraz Ke Is Poore Arsa Ke Dauraan Jaha’n Tak Mein Ne Dekha Aik Sub’h Un Kee Haalat Qadrre Behtar Thi. Hazrat Ali رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهُ Kisi Kaam Se Baahar Gaye. Sayyidah Ne Kaha : Amma’n! Mere Ghusl Kar Ne Ke Liye Paani Laaein. Mein Paani Laa’i, Aap Ne, Jaha’n Tak Mein Ne Dekha, Behtarin Ghusl Kiya. Phir Boli’n : Amma’n Ji! Mujhe Naya Libaas De’n. Mein Ne Aisa Hee Kiya. Aap Qibla Rukh Ho Kar Let Gayin. Haath Mubaarak Rukhsaar Ke Neeche Kar Liya. Phir Farmaya : Amma’n Ji! Ab Meri Wafaat Hogi, Mein Paak Ho Chuki Hoo’n, Lehaaza Koi Mujhe Urya’n Na Kare. Pas Usi Jagah Aap رَضِىَ اللهُ تَعَالىٰ عَنْهَا Kee Wafaat Ho Gayi.



“Ummi Salma Kehti Hain : Phir Hazrat Ali كَرَّمَ للهُ تَعَالىٰ وَجْهَهُ الْكَرِيْم Tashrif Laa’e To Mein Ne Unhein Sayyidah Ke Wisaal Kee Ittela’ Dee.”

[1_Ahmad Bin Hanbal Fi Al-Musnad, 06/461, 462,

2_Ahmad Bin Hanbal Fi Fada’il As-Sahabah, 02/629, 725, Raqam-1074, 1243,

3_Doolabi Fi Adh-Dhurriyah At-Tahirah,/113,

4_Haythami Fi Majma’-uz-Zawa’id Wa Manba’-ul-Fawa’id, 09/211,

5_Zayla’iy Fi Nasb-ur-Rayah Takhrij Ahadith Al-Hidayah, 02/250,

6_Muhibb Tabari Fi Dhakha’ir-ul-‘Uqba Fi Manaqibi Dhawi-‘l-Qurba,/103,

7_Ibn Athir Fi Usd-ul-Ghabah Fi Ma’rifat-is-Sahabah, 07/221,

سَيِّدَةُ نِسَاءِ أَهْلِ الْجَنَّةِ
Sayyidat’un Nisa’a Ah’lil Jannah

#Hadith01) . Masruq (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates from Umm’ul Mominin Ayeshah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) that the Holy Prophet (ﷺ) said,

“Fatimah, are you not happy that you are the leader of the women of all the believers or (the leader of the women of this Ummah).”

References:
1. Bukhari, as-Sahih (5:2317#5928)
2. Muslim, as-Sahih (4:1905#2450)
3. Nasai, Fadail-us-sahabah (p. 77#263)
4. Ahmad bin Hambal, Fadail-us-sahabah (2:762#1342)
5. Tayalisi, al-Musnad (p. 196#1373)
6. Ibn Sad, at-Tabaqat-ul-kubra (2:247)
7. Dawlabi, az-Zurriyah at-tahirah (p.101, 102#188)
8. Abu Nauym, Hil yat-ul-awli ya wa tabaqat-ul-asfiya
(2:39, 40)
9. Dhahabi, Siyar alam an-nubala (2:130)

#Hadith02). Abu Hurairah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said,

“An angel in the skies who had not seen Me requested permission from Allah to see Me (which he was granted); he told Me the good news (or brought Me the news) that Fatimah is the leader of all women in My nation.”

References:
1. Tabarani, al-Mujam-ul-kabir (22:403#1006)
2. Bukhari, at-Tarikh-ul-kabir (1:232#728)
3. Haythami said in Majma-uz-zawaid (9:201)

#Hadith03). Umm’ul Mominin Ayeshah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said during the illness in which He passed away,

“Oh Fatimah ! Are you not pleased with the fact that you are the leader of the women of all the worlds, the leader of the women of this ummah (nation) and the leader of the women of all the believers.”

References:
1. Hakim has declared it sahih (sound) in al-Mustadrak
(3:170# 4740) while Dhahabi has supported it.
2. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (4:251#7078)
3. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (5:146#8517)
4. Ibn Sa‘d, at-Tabaqat-ul-kubra (2:247,248)
5. Ibn Sad, at-Tabaqat-ul-kubra (8:26,27)
6. Ibn Athir, Usad-ul-ghabah fi-marifah as-sahabah (7:218)

#Hadith04). Hudhaifah (رضی اللہ تعالیٰ عنہ) narrates that the Holy Prophet (ﷺ) said,

“There is an angel who before tonight had never come down to earth, asked permission from his Lord to offer salam (salutations) to Me and to deliver the good news to Me that, Fatimah is the leader of all women of
Paradise and Hasan & Husain are the leaders of all the youngsters in Paradise.”

References:
1. Tirmidhi, al-Jami-us-sahih (5:660#3781)
2. Nasai, as-Sunan-ul-kubra (5:80, 95#8298,8365)
3. Nasai, Fadhail-us-sahabah (p.58,72#193,260)
4. Ahmad bin Hambal, al-Musnad (5:391)
5. Ahmad bin Hambal, Fadail-us-sahabah (2:788#1406)
6. Ibn Abi Shaybah, al-Musannaf (6:388#32271)
7. Hakim, al-Mustadrak (3:164#4721,4722)
8. Tabarani, al-Mujam-ul-kabir (22:402#1005)
9. Bayhaqi, al-Itiqad (p.328)
10. Muhibb Tabari, Dhakhair-ul-uqba fi-manaqib dhaw-il-qurba (p.224)

अमीर यूसुफ बिन ताशफीन पार्ट 3

पर खूश था कि उसे अपने पड़ाव में आग के शोले दिखाई देने लगे और उसके बाद अमीर यूसुफ़ के तूफानी दस्ते उसके मैमना की सफों को चीरते हुए कलब तक जा पहुंचे, तो उसने महसूस किया कि फ़तह इतनी आसान नहीं जितनी वह समझ रहा था। अचानक सयर बिन अबूबकर अपनी फ़ौज के कलब से बरबरों के चन्द दस्ते लेकर निकला और दुश्मन के मैसरा पर हमला कर दिया। मैसरा की सफ़ों में फ्रान्स के नाइट एक आहनी दीवार की तरह खड़े थे, लेकिन बर्क रफ़्तार बरबरियों के सामने उनकी एक न चली। सयर बिन अबूबकर उनकी मुज़ाहमत को कुचलता हुआ अमीर यूसुफ़ से आ मिला। इतनी देर में एक और बरबर जरनेल पीछे के दस्तों को दो हिस्सों में तक़सीम करके आगे बढ़ा और उसने दुश्मन को दाएं और बाएं बाजू से घेर लिया। ईसाइयों ने जंग का नकशा बदलता देखकर जवाबी हमला किया और मुराबितीन फिर एक बार मुदाफ़िआना जंग लड़ते हुए पीछे हटने पर मजबूर हो गए। लेकिन अचानक अलफ़ान्सू की फ़ौजों को एक और परेशानी का सामना करना पड़ा। पहाड़ी की दूसरी तरफ़ से अननवार की फ़ौज उन्दुलसियों के हाथ शिकस्त खाकर भाग निकली और साद ने इस महाज़ से फ़ारिग होते ही असवदी सवारों के साथ सरक़स्ता के लशकर के अक़ब (पीछे के हिस्से) पर हमला कर दिया। अब अलफ़ान्सू की फौज चारों तरफ से घेरे में आ चुकी थी और उन्दुलस की बाकायदा फ़ौज और रज़ाकार भी मुराबितीन के साथ शामिल हो चुके थे।

गुरूबे आफ़ताब के करीब ईसाइयों के लशकर में अफरा-तफ़री फैल चुकी थी। मुराबितीन के लशकर में नक्कारों की सदा (आवाज) गूंजने लगी और नक्कारों की आवाज़ सुनते ही अफ्रीकी फ़ौज ने एक
नए जोश व ख़रोश के साथ चारों तरफ़ से हमला कर दिया। ईसाई लशकर पीछे से असवदी सवारों का घेरा तोड़कर पीछे हटने लगा। कोई आधा मील पसपा होने के बाद ईसाइयों ने दोबारा जमकर लड़ने की कोशिश की, लेकिन अफ्रीका के तेज़ रफ़्तार सवारों ने उन्हें सफें दुरुस्त करने का मौका ही न दिया।
अमीर मुराबितीन चिल्लाया, “आख़िरी ज़र्ब लगाने का वक्त आ गया है।”
और आन की आन में फ़ौज के अफ़सरों ने उसकी यह आवाज़ हर सिपाही तक पहुंचा दी। नक्कारे पर दोबारा चोट पड़ी और मुराबितीन एक आंधी की तरह दुश्मन पर टूट पड़े, दुश्मन भाग निकला। अलफ़ान्सू की आधे के करीब फ़ौजें अब भी उसके साथ थीं, लेकिन यह सेहरा नशीनों के तरीका-ए-जंग से वाकिफ़ न थे। अमीर यूसुफ़ ने नए सिरे से अपनी फ़ौज को मुनज़्ज़म किया। पयादा सिपाही एक तरफ़ हट गए और सवार तीन हिस्सों में तक़सीम होकर दुश्मन का पीछा करने लगे। दाएं तरफ़ पीछा करने वाले सवारों की क़ियादत सयर बिन अबूबकर के हाथ में थी, बाएं तरफ़ एक बरबर जरनेल था और उन दोनों के दरमियान अमीर यूसुफ़ अपने तूफ़ानी दस्तों की रहनुमाई कर रहा था। यह फ़ौज आधे दाइरे (गोलाई) में फैलकर दुश्मन का तआकुब कर रही थी। दाएं और बाएं बाजुओं के सवार दुश्मन को घेर रहे थे और पीछे आने वाले उन्हें मौत के घाट उतार रहे थे। अलफ़ान्सू यह महसूस कर रहा था कि सेहरा नशीनों की असली जंग शुरू हो गई है। उसकी पयादा फौजें पीछे रह गई थीं और उसे उसके अन्जाम के मुतअल्लिक़ कोई गलतफ़हमी न थी। उसके सवारों का तआकुब ऐसे लोग कर रहे थे जिनके घोड़े उसके
घोड़ों के मुकाबले में कहीं ज्यादा तेज़ रफ़्तार थे। ईसाइयों ने कई बार उनके घेरे से निकल कर इधर-उधर मुन्तशिर होने की कोशिश की, लेकिन उन्हें कामयाबी न हुई। बरबर और अस्वदी सवार उन्हें हर बार घेरकर सीधा आगे चलने पर मजबूर कर देते।

अफ्रीका के मुजाहिदों की तरह उनके घोड़े भी अनथक और सख्त जान थे। उनकी तेज़ रफ़्तारी की एक वजह यह भी थी कि बरबरी सवार जिरहें और बक्तर पहनने के आदी न थे। इसके बरअक्स अलफ़ान्सू के अक्सर सवार सर से लेकर पांव तक लोहे में गर्क थे और घोड़े उनके साज़ व सामान के बोझ और दिन भर की थकावट की वजह से क़दम-क़दम पर दम तोड़ रहे थे।

सूरज गुरूब हो गया। मुजाहिदों ने अपने थैलियों से खजूरें निकाली और भागते हुए घोड़ों की पीठ पर बैठे-बैठे रोजा इफ्तार किया और दुश्मन का तआकुब जारी रखा।

जंग से पहले अलफ़ान्सू ने अपने जरनेल और हलीफ़ों से कहा था कि दुश्मन को शिकस्त देने के बाद हम सारी रात चांद की रौशनी में उसका तआकुब (पीछा करना) जारी रख सकेंगे। लेकिन अब वह और उसके बचे-खुचे साथी चांद को कायनात की सबसे काबिले नफ़रत चीज़ समझ रहे थे।

ईसाइयों के दाएं और बाएं बाजू से बरबर सवार भागते हुए घोड़ों से तीर बरसा रहे थे और पीछे आने वाले उन्हें अपने नेजों से मौत के घाट उतार रहे थे। मीलों तक कोई खेत, कोई टीला और कोई घाटी ऐसी न थी जहां ईसाइयों की लाशें दिखाई नहीं देती हों। लम्बी दौड़ के बाद मुराबितीन के घोड़ों की हिम्मत भी जवाब दे रही थी, लेकिन

इस अरसे में अलफ़ान्सू के हज़ारों सवार पीछे रह गए थे और अमीर यूसुफ़ उनका सफाया करने के लिए अपने सवारों के दस्ते छोड़ता

हुआ आगे बढ़ रहा था। अलफ़ान्सू अपने बेहतरीन जरनेलों और सिपाहियों से महरूम हो चुका था। रात के दूसरे पहर 50 या 80 हज़ार में से सिर्फ 40 हज़ार उसका साथ दे रहे थे और हर कदम पर उनकी तादाद कम हो रही थी। उसकी आखिरी उम्मीद दरिया वादी-ए-आना था जिसे पार करने के बाद वह इस बड़ी मुसीबत से पीछा छुड़ा सकता था। दरिया ज़्यादा दूर न था, लेकिन अफ्रीकी सवार अब दाएं और बाएं बाजू से आगे बढ़कर उनके गिर्द घेरा डालने की कोशिश कर रहे थे। अचानक अफ्रीकी सवारों के पीछे तक़रीबन 200 सवारों का एक गिरोह नमूदार हुआ और बाएं बाजू से चक्कर काटता हुआ आगे निकल गया। इन सवारों की रफ्तार से जाहिर होता था कि उनके घोड़े ताज़ा दम हैं। बाएं बाजू के रहनुमा सयर बिन अबूबकर ने पहले उन्हें किसी आस पास की चौकी के मुहाफ़िज़ समझकर उनका रास्ता रोकने की कोशिश की, लेकिन जब वे ऊपर से कतराकर निकल गए तो उसने अपने साथियों से कहा कि उनका तआकुब करने का कोई फायदा नहीं। उनके घोड़े ताज़ा दम हैं। थोड़ी देर में ये सवार अलफ़ान्सू की फ़ौज के आगे पहुंच गए और कोई 30 गज़ आगे निकलने के बाद उन्होंने अचानक पलट कर नारा-ए-तकबीर बुलन्द किया और हमला कर दिया। इतनी देर में दाएं और बाएं बाजू से दायरे की शकल में आगे बढ़ने वाले बरबर उनके साथ आ मिले। एक लम्हे के अन्दर अन्दर अलफ़ान्सू के 2 हज़ार सवार ढेर हो चुके थे उसके बचे-खुचे सिपाही एक तरफ़ से मुसलमानों का घेरा तोड़कर निकले। दरिया यहां

से आधा मील दूर था, लेकिन किनारे तक पहुंचते-पहुंचते ताज़ा दम सवारों ने एक बार फिर उनका रास्ता रोक लिया और बरबरों ने तीन तरफ़ से उनका क़त्ल-ए-आम शुरू कर दिया। कस्तला के नाइट अपने बादशाह के गिर्द घेरा डालकर बहादुरी से लड़ते हुए दरिया की तरफ़ बढ़ रहे थे। अमीर यूसुफ़ की फ़ौज के सियाह फ़ाम सिपाहियों का एक दस्ता अलफ़ान्सू के मुहाफ़िज़ों पर टूट पड़ा। एक अस्वदी सवार ने अलफ़ान्सू की रान पर नेज़ा मारा लेकिन वह घोड़े से गिरते गिरते बच गया।

कस्तला के बाकी सिपाहियों ने ज़िन्दगी और मौत से बेपरवा हो कर आख़िरी हमला किया और लड़ते-भिड़ते दरिया के किनारे पहुंच कर पानी में कूद पड़े। मुजाहिदीन यहां भी उनका पीछा करने के लिए तैयार थे, लेकिन अमीर यूसुफ़ आगे बढ़कर बुलन्द आवाज़ में चिल्लाया, “नहीं तुम लोग अपना फ़र्ज़ अदा कर चुके हो, अब आगे जाने का ख़तरा मोल नहीं लेना चाहिए, मुमकिन है दूसरे किनारे दुश्मन मौजूद हो!” .

अलफ़ान्सू की रही-सही फ़ौज के कई सिपाही किनारे से मुजाहिदीने इस्लाम के तीरों का शिकार हुए और कई अपने भारी हथियार की वजह से दरिया की मौजों की नज़र हो गए। जब अलफ़ान्सू ने दूसरे किनारे पहुंच कर अपने गिर्द व पेश का जायजा लिया तो वह यह देखकर शशदर रह गया कि उसके साथियों की तादाद सिर्फ पांच सौ रह गई थी। इस्लामी लशकर के शहीदों की तादाद तीन हज़ार के लग भग रही। एक रिवायत के मुताबिक़ अलफ़ान्सू के साथ सिर्फ पांच आदमी बचे थे।

जुलाक़ा के शहीद अपने खून से उन्दुलस की तारीख के बाब में फ़तह का उनवान (शीर्षक) लिए चुके थे।

इस अज़ीमुश-शान फ़तह की खबर से मुल्क के हर कोने में खूशी की लहर दौड़ गई। अमीर यूसुफ़ का नाम हर बच्चे और बूढ़े की ज़बान पर था। हर मस्जिद के मिंबर से उसकी लम्बी उम्र के लिए ख़ास दुआएं हो रही थीं। जिन अमीरों ने जंग में हिस्सा नहीं लिया था वे फ़तह की खुशी में हिस्सा लेने के लिए अमीर यूसुफ़ के पास जमा हो रहे थे जिसने उन्हें तारीकी व जुलमत की अताह गहराइयों से निजात दिलाई थी।

चन्द दिन जुलाक़ा के मैदान में कियाम के बाद यूसुफ़ बिन ताशफ़ीन ने इश्बीला का रुख किया। उन्दुलस के हुकुमरान और उलमा उसके साथ थे। रास्ते की हर बस्ती और शहर के लोग घरों से निकल कर अपने मुहसिन का इस्तिकबाल कर रहे थे।

जब अमीर यूसुफ़ का जुलूस इशबीला के दरवाज़े पर पहुंचा तो अहले शहर के एक बेपनाह हुजूम ने उसके गिर्द घेरा डाल लिया। हर शख्स दूसरे को पीछे हटाकर आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा था। उन्दुलस के हुकुमरान हरीर व अतलस की क़बाएं पहने हुए थे। लेकिन यूसुफ़ बिन ताशफ़ीन अपने सादा और खुरदरे लिबास के बावजूद हर एक की निगाह का मर्कज़ था। कोई आगे बढ़कर उसपर फूल फेंकने और कोई रकाब छूने के लिए बेचैन था। अवाम की बेपनाह अकीदत और मुहब्बत देखकर तीरों की बारिश में तनकर चलने वाले मुजाहिद की गर्दन झुकी जा रही थी।

अमीर यूसुफ़ इशबीला की बड़ी मस्जिद के दरवाजे पर रुका

और सीढ़ियों पर चढ़कर खड़ा हो गया। थोड़ी देर बाद मस्जिद के सामने कुशादा मैदान लोगों से भर चुका था। अमीर यूसुफ़ ने हाथ बुलन्द किया और वे लोग जिन्होंने अज़ीम इस्तिकबाल के लिए आसमान सरपर उठा रखा था, अचानक ख़ामोश हो गए। अमीर यूसुफ़ ने चन्द लम्हे तवक्कुफ़ के बाद कहा।

“अज़ीजान-ए-मिल्लत और बुजुरगान-ए-क़ौम! में इस इज्जत अफ़ज़ाई का मुस्तहिक़ न था। जुलाक़ा की फ़तह का सोहरा उन शेरों के सर है जो इस वक्त हममें मौजूद नहीं। मैं इशबीला की उन मांओं को सलाम कहने आया हूं जिनके बेटे हमारे कंधे से कंधा मिलाकर लड़ते हुए शहीद हुए हैं। उनकी शहादत एक मक़सद के लिए थी और उस मक़सद को पाया-ए-तकमील तक पहुंचाना आप सब का फ़र्ज़ है। अफ्रीका के हालात और मेरी ज़िम्मेदारियां शायद ज़्यादा देर मुझे आपके मुल्क में ठहरने की इजाज़त न दें। इसलिए मैं आपसे एक ज़रूरी बात कहना चाहता हूं!

जुलाक़ा के मैदान में हम आपके दुश्मन को फैसलाकुन शिकस्त दे चुके हैं और आप यह खूशखबरी भी सुन चुके होंगे कि दुश्मन की फ़ौज एक तरफ़ सरकस्ता का मुहासिरा उठाकर वापस जा चुकी है और दूसरी तरफ़ बलनिया का इलाका ख़ाली कर रही है। अब इस मुल्क की हिफ़ाज़त आप लोगों का काम है। अगर आप फिर आपस के झगड़ों में उलझ गए तो मुझे अन्देशा है कि जुलाक़ा के शहीदों की कुरबानी बेकार जाएगी। दुश्मन आपपर कुव्वत और शिद्दत के साथ हमला करेगा और उस वक्त तक हमले करता रहेगा जब तक आपअमीर यूसुफ़ बिन ताशफ़ीन

अपनी अन्दरूनी कमजोरियों का इलाज नहीं करते। आपकी सबसे बड़ी कमज़ोरी यह है कि आप इस्लाम से दूर हो चुके हैं। अगर आप अपना दिफ़ाई हिसार (किला) इस्लाम की बुनियादों पर तामीर करें तो मैं दावे के साथ कह सकता हूं कि दुनिया की तमाम गैर मुस्लिम कौमें मुत्तहिदा होकर भी आपको शिकस्त नहीं दे सकतीं। अगर आपने इस्लाम से मुनहरिफ़ होकर कोई और राह-ए-नजात तलाश की तो याद रखिए कि आपकी मिसाल उन लोगों से मुख्तलिफ़ न होगी जो सैलाब से बचने के लिए पहाड़ से उतरकर रेत के तूदों पर पनाह लेते हैं। आपका हर क़दम जो अल्लाह की राह में उठेगा कामयाबियों और कामरानियों से हमकिनार होगा और आपकी हर वह हरकत जो इस्लाम के ख़िलाफ़ होगी आपको तबाही और बरबादी की तरफ़ ले जाएगी।

उन्दुलस के अवाम और हुकुमरानों के नाम मेरा पहला और आख़िरी पैगाम यही है कि अगर आप दुनिया में सर बुलन्द रहना चाहते हैं तो अल्लाह और अल्लाह के रसूल (सल्ल.) की इताअत में अपनी गरदनें झुका दीजिए। अगर आप कुरआन करीम के अहकाम पर चलते हैं, अगर आप दुनिया में अल्लाह और उसके रसूल (सल्ल.) के ताबे हैं तो मैं आपको यह खुश खबरी सुनाता हूं कि रूए ज़मीन की तमाम नेमतें आपके लिए हैं और आप हर मैदान में जुलाका की तारीख़ दोहरा सकते हैं।”

इस तक़रीर के बाद अमीर यूसुफ़ अहले उन्दुलस की चन्द दावतों में शिरकत के बाद अफ्रीका का रखत-ए-सफ़र बांधता है।
अमीर यूसुफ़ की वापसी के बाद उन्दुलस में इक्तिदार की जंग नई शिद्दत के साथ शुरू हुई और उन्दुलस वालों के तकलीफ़ व मसाइब में दिन बदिन इज़ाफ़ा होने लगा। मुलूकुत-तवाइफ़ ने दोबारा पुरानी रविश इख्तियार कर ली। हर एक अपने-आपको उन्दुलस का बादशाह देखने का ख़ाहिशमन्द था। अलगर्ज वे तमाम हरकतें दोबारा होने लगी जिनकी वजह से ईसाइयों को जुर्मत हुई थी कि वह एक इस्लामी सलतनत की तरफ़ आंख उठाकर देखें।

ऐसे में अहले उन्दुलस के रज़ाकारों और इस्लामी इहया (दोबारा जिन्दा करना) के ख़ाहिशमन्दों का वफ़्द एक बार फिर अमीर यूसुफ़ की ख़िदमत में पेश हुआ। मगर जल्दी अमीर यूसुफ़ उनको कोई ख़ातिर ख़ाह जवाब न दे सके, क्योंकि अफ्रीका के अपने हालात ठीक न थे। मगर वपद के बेइन्तिहा इसरार (ज़िद) पर अमीर यूसुफ ने वादा किया कि अनक़रीब समुन्दर पार करके उनकी मदद के लिए पहुंच जाएंगे।

बिलआख़िर उन्होंने अपना वादा पूरा किया और एक बार फिर उन्दुलस के परेशान हाल मुसलमानों को सहारा देने समुन्दर पार करके उन्दुलस तशरीफ़ लाए और आते ही हिसनुल-यत का मुहासिरा कर लिया। इस मौके पर भी मुलूकुत-तवाइफ़ ने एक बार फिर गद्दारियों के रिकार्ड कायम किए। मगर अब पानी सर से गुज़र चुका था। इस दफ़ा बहुत सी जानी मानी कुरबानियां देकर अमीर यूसुफ़ ने नस्रानियों को शिकस्ते फ़ाश दी और मुलूकुत-तवाइफ़ को माजूल करके उनकी जगह अपने नुमाइन्दे मुन्तख़ब किए और मुल्क उनके हवाले करके वापस अफ्रीका रवाना हो गए।
सयर बिन अबूबकर को अमीर यूसुफ़ ने उन्दुलस में अपना नाइब ने मुकर्रर किया जिसने अलफ़ान्सू की रही-सही ताक़त के भी परखचे उड़ा दिए जिससे अलफ़ान्सू का दम-खम जवाब दे गया। अब उन्दुलस के अवाम सुख का सांस ले रहे थे और खुशहाली का ऐसा दौर-दौरा हुआ कि मुसाफ़िर को पानी मांगने पर दूध मिलता था। हुकूमत ने तमाम गैर शरई टैक्सों को खत्म कर दिया और मुल्क में मुकम्मल इस्लामी निज़ाम नाफ़िज़ हो चुका था।

अमीर यूसुफ़ बिन ताशफ़ीन की फ़तह एक उसूल की फ़तह थी और मोतमिद और उसके हमअसर (समकालीन) हुकुमरानों का ज़वाल एक ऐसे गिरोह की शिकस्त थी जिसने ज़िन्दगी को दीवाने का ख्वाब समझ लिया था।

यूसुफ़ बिन ताशफ़ीन एक आफ़ताब था जो उन्दुलस के मुसलमानों के लिए आज़ादी और मसर्रत (खूशी) की सुबह का पैगाम लेकर आया, लेकिन उसकी नुमूद उन गुमनाम मुजाहिदीन की कुरबानियों का सिला थी जिन्होंने तकलीफ़ व मसाइब की तारीक रातों में उम्मीद की किन्दीलें रौशन की थीं।