Kaun hai Syedah Zainab SalamUllahAlaiha..



15 Rajjab Yaume Wisal Nawasie Rasool, Waizae Ahle Bait Hazrat Sayyeda Zainab SalamUllahAlaiha

APKY MUQAMKA ANDAZA IS BAAT SE HOTA HAI KY AAP RASOOL ALLAH KY GHAR KI RAHMAT (hazrat fatima) K GHAR RAHMAT HAI.. Hazrat Sayyeda Zainab r.z maula ali a.s ki shahzadi, hai rasool allah s.a.w.m ki nawasi hai. hasnain r.z ki hamshera hai… sayyeda zainab jab paida hoi to rasool allah s.a.w.m ne apko bosa diya or apko gutti k taur pe apna loabe dahen diya.. apk kai alqabat hai jayse,zahida,abida,.. ap bahoot fasih wo ballig zuban k hamil thi…ap ky husband abdullah bin jafar tayyar r.z hai.. ap ky 5 aulade

hoi jin me se 2 hazrat aun or hazrat mohammed karbala me shahed hoe.. apki tarbiyat un paak nufos ne farmai hai jinki andaz tarbiyat saare alam k liye rahnuma osul dete hai.. ek dafa aap tilaware quran me is qadar gum ho gai ky apky sar se rida hat gai..sayyeda fatima s.a ne farmaya aye beti zindagi ky har mord pe parda lazim hai.. ap is qadar ibadat guzar thi ky ink ghar k afraad in se kahte k hame apni rato ki ibadat me yaad rakhna means hamare liye bhi dua krna.. jis tarah imam hasan wo hussain ko kandhe pe rasool allah lete the usi tarah sayyeda zainab ko bhi liya krte the.. apky iman ka andaza is wakea se hota hai ky ek dafa imam ali r.z apko apne seene pe bitha ky gintiya sikha rahe the or farmae ky aye meri ankho ki noor kaho 1 tab aap me 1 kaha fir farmaya 2 bolo tab sayyeda zainab masoom si umar me farmati hai abba jaan jis zuban se 1 ada ho gaya us se mai 2 kayse kaho.. yani jab bhi aap 1 kahte hoe mujhe quran ki ayat ky allah ek hai yaad ati hai… to mujhe 2 kahne me

be adbi mahsos hoti hai k sekhne k liye hi sahi magar kahi allah naraz na ho jae..imam ali a.s apni beti sayyeda zaina ko chumte or unky liye khade ho jate thik isi tarah hazrat hussain ne bhi ye silsila jari rakha… q k ye sunnat hai. ek dafa imam ali ksi shaks ko apne sath lae or

sayyeda zahra ko farmaya ky ghar me jo hai le ao tab sayyeda ne kaha ky sirf itna hai sare ghar me.. tab sayyeda zainab bhagte hoe aai or farmaya ky ye sara aap mahman ko de dijiye tab hazrat ali ne faramay be shak tu zainab hai yani ghar ki zenat khayal rahe ky us wakat apki umar sirf 4 saal ki thi… har sayyeda zainab jab namaz padne jati to pahle imam hussain a.s k chahre ko dekhti…hazrat sayyeda zainab imam hussain a.s ki shahadat k baad bahoot ahem qirdar tha.. ap ne poore kummbe ko sahara diya ap ne yazeed k darbar me wo alishan khutba diya ky zamana usko kayamat tak yaad rakhe ga… sayyeda zainab ky taqwe ka alam

ye tha ky jab imam hussain a.s shaheed ho gae.. or imam hussain imam ali akbar imam kasim yani sayyeda zainab k bete bhatije bhai k sar ko neze pe karbala se sham le jaya gaya tab ayse mahol me imam zainul abdeen farmate hai ky inki tahjjud ki namaz bhi na choti… ap jab madina me thi to ba qaida ek madarsa qaim farmaya tha uloom nabvi ko aam krne k liye… ek dafa ap apne ghar me aram farma rahi suraj ki tapish aap k chahre pe pard ri thi to imam hussain se raha na gaya to imam hussain aysa khade ho gae k apka saya sayyeda zainab pe padta tak suraj ki tapish se apko pareshani na ho.. apka wisal sham me hoa us wakat apki umar 57 year thi..

⚜️15 Rajjab 62 hijri YAUME WISAL ⚜️
*HAZRAT SAYYEDA ZAINAB SalamUllahAlaiha

👉🏻Rasool Allah ﷺ ki nawasi… Imam Ali r.z ki beti, Or Imam Hasan Wo Hussain Ki Bahen… hai sayyeda Zainab s.a

🌸 *TAWHID*
👉🏻sayyeda zainab s.a ky bachpan me jab hazrat ali a.s apko gintti sikha rahe the to ap ne kaha zainab kaho 1 ap ne ek kaha fir farmaya kaho 2 to sayyeda zainab masom si umar me farmati hai abba jaan jis zuban se 1 Allah ki gawahi de di Ab us se 2 kayse kaho? ? Imam ali a.s ne farmaya aye zainab ye gintti sikh rahi ho…

👉🏻imam hussain a.s ki shahadat k baad poore ahle bait ko sanbhala dene wali aap hai.. jab k apk khud 2 shahzade karbala me shahid hoe…

👉🏻jab yazidi lanatio ne kaflae ahle bait ko girftar kr liya or sab ko zanjeer se band diya gaya us wakat bhi aap se namaz tahajjud nai chutti thi…

👉🏻apky khutbe ne awane shaam wo kufa me tufan barpa kar diya… ap ne yazid lanati k mahel me ahle bait ki shan me ayate padi…

*Lanat bar dushmanane ahle bait*

जानवरों की बोलियां

जानवरों की बोलियां

हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास एक शख्स हाज़िर हुआ और कहने लगाः हुजूर! मुझे जानवरों की बोलियां सिखा दीजिये। मुझे इस बात का बड़ा शौक़ है। आपने फ़रमायाः तुम्हारा यह शौक़ अच्छा नहीं। तुम इस बात को रहने दो। उसने कहाः हुजूर आपका इसमें क्या नुक्सान है? मेरा एक शौक़ है, उसे पूरा कर ही दीजिये । हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने अल्लाह से अर्ज किया कि मौला! यह बंदा मुझसे इस बात का इसरार कर रहा है। मैं क्या करूं? हुक्मे इलाही हुआ कि जब ये शख़्स बाज़ नहीं आता तो तुम उसे जानवरों की बोलियां सिखा दो। चुनांचे हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने उसे जानवरों की बोलियां सिखा दीं।

टुकड़ा भी न छोड़ा। मुर्गा बोला: घबराओ नहीं कल हमारे मालिक का बैल मर जायेगा। तुम कल जितना चाहो उसका गोश्त खा लेना। उस शख्स ने उनकी यह गुफ्तगू गनी और बैल को फौरन बेच डाला। वह बैल दूसरे दिन मर गया। लेकिन नुक्सान खरीदार का हुआ। यह शख्स नुक्सान से बच गया। दूसरे दिन कुत्ते ने मुर्गे से कहा कि तुम बड़े झूठे हो तुमने ख्वाह-मख्वाह मुझे आज की उम्मीद में रखा । बताओ कहां है वह बैल? जिसका गोश्त मैं खा सकू । मुर्गे ने कहाः मैं झूठा नहीं हूं हमारे मालिक ने नुक्सान से बचने के लिए बैल बेच डाला है। अपनी बला दूसरे के सिर पर डाल दी है। मगर लो, सुनो! कल हमारे मालिक का घोड़ा मर जायेगा तो कल घोड़े का गोश्त जी भरकर खाना । उस शख्स ने यह बात भी सुनी तो घोड़ा भी बेच डाला । दूसरे दिन कुत्ते ने मुर्गे से शिकायत की तो मुर्गा बोला भाई क्या बताऊं मालिक बड़ा बेवकूफ है जो अपनी आई औरों के सर डाल रहा है। उसने घोड़ा भी बेच डाला । वह घोड़ा खरीदार के घर जाकर मर गया। बैल. और घोड़ा इसी घर में मरते तो हमारे मालिक का सदका बन जाते । मगर उसने उन्हें बेचकर अपनी जान पर आफत मोल ले ली है। लो, सुन लो! और यकीन करो कि कल हमारा मालिक खुद मर जोयगा। उसके मरने पर जो खाने दाने पकेंगे उसमें से बहुत कुछ तुम्हें भी मिल जायेगा।

उस शख्स ने जब यह बात सुनी तो उसके होश उड़ गये कि अब मैं क्या करूं? कुछ समझ में न आया और दौड़ता हुआ हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम के पास आया। बोलाः हुजूर! मेरी ग़लती माफ़ फ़रमायें और मौत से मुझे बचा लीजिये । हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम ने फ़रमायाः नादान! अब यह बात मुश्किल है। आई कज़ा टल न सकेगी। तुम्हें अब जो बात सामने नज़र आई है। मुझे उसी दिन नज़र आ रही थी। जब तुम जानवरों की बोलियां सीखने का इसरार कर रहे थे। अब मरने को तैयार हो जाओ चुनांचे दूसरे दिन (मसनवी शरीफ) वह मर गया।

सबक़ : माल व दौलत पर अगर कोई आफ़त नाज़िल हो और किसी किस्म का कोई नुकसान हो जाये तो इंसान को गम और शिकवा न करना चाहिये बल्कि अपनी जान का सदका समझ कर अल्लाह का शुक्र ही अदा करना चाहिये। यह समझना चाहिये कि जो हुआ। बेहतर हुआ अगर माल पर यह आफ़त नाज़िल न होती तो मुमकिन है जान हलाकत में पड़ जाती। में