Hadith About Fazail-o-Manaqib AhlulBayt

हजरत अब्दुल्लाह इब्न उमर रजियल्लाहु अन्हुमा से मर्वी है कि रसूले करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया : मेरी उम्मत में सबसे पहले मेरी शफाअत अपने अहले – बैत के लिये होगी।.

📗 (सवाइके मुहर्रका सफा : 778)

हुजूर नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया : क्यामत के रोज चार किस्म के आदमियों की शफाअत करूंगा।
१, जो मेरी आल व औलाद की इज्जत करेगा,
२, जो उनकी जरुरियात को पूरा करेगा,
३, जब वह किसी काम में परेशान हो जायें तो उनके उमूर को पाए तकमील तक पहुंचाने के लिए सरगरमे अमल हो जाएय और
४ जो अपने दिल और जुबान से उनका चाहने वाला हो।

📗 (मनाकिबे अहले – बैत सफा : 70 , सवाइके मुहर्रका सफा : 692 व 589)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s