Maula Ali ki shan mein gustakhi

अब्दुल्लाह इब्ने अब्बास ने फ़रमाया की

“मौला अली अलैहिसलाम को गाली देना अल्लाह और उसके रसूल सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम को गाली देना है।”

– तारीख ऐ मसूदी जिल्द 1, हिस्सा 2, सफा न. 359

80872435_2537786586319221_1571662180103749632_n81063522_2537786596319220_3584581972984332288_n

उम्मुल मोमिनीन बीबी उम्मे सल्मा सलामुल्ला अलैहा से रिवायत है, फरमाती है की
“मौला अली अलैहिसलाम को गाली देना दर असल रसूलल्लाह सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम को गाली देना है।”

– कंज़ुल उम्माल जिल्द 7, हदीस न 36460, सफा न. 74

याद रहे की ये वाक़िया मुआविया लानतुल्लाह की दौर ए हुकूमत का है और उस दौर में लोग मुआविया की तक़लीद में इतने अंधे हो चुके थे की उन्हें ये भी नहीं पता था की वो मौला को गाली दे कर कितना बड़ा गुनाह कर रहे थे।

मुआविया और बनु उमैया के हुक्मरानो को कब तक बचाते रहोगे, खुद उम्मुल मोमिनीन गवाही दे रही है की मौला अली पर शब्बो सितम हुवे है।

80345701_2537779726319907_7620107444437385216_n80769982_2537779759653237_152462658879094784_n81190176_2537779729653240_4949016679750303744_n

मुआविया ने अपने दौर ए हुकूमत में खुद भी मौला अली अलैहिसलाम को गालिया दी है और अपने हुक्मरानो से भी मौला अली अलैहिसलाम को गालिया दिलवाई है।

– तारीख इ तबरी जिल्द 4, हिस्सा 1, सफा 82
– खिलाफत व मुलुकियत सफा 174
– फ़तहुल बारी जिल्द 7, सफा 88
– अल मफ़हीम जिल्द 1, सफा 231

ये एक हकीकत है और इसका एक नहीं सुन्नी मोतबर किताब और सियासित्ता के अनेक हवाले मौजूद है फिर भी इस हकीकत से मुँह फेर लेना आलीमो की  मक्कारी और अपनी दुकान चलाने के लिए आदत बन चुकी है।

मौलवी कहता है की हुज़ूर की हदीस है की मेरे सहाबा को बुरा मत कहो, क्या मौला अली अलैहिसलाम सहाबी इ रसूल नहीं है? उनको गालिया देने वाला और कई सहाबा का कातिल मुआविया सहाबी कैसे जब वो खुद हुज़ूर की नाफरमानी करता था।

78101539_2527617094002837_8637733776958423040_n80226135_2527617364002810_4576749032159838208_n80461945_2527617730669440_1783445058964422656_n80891603_2527617747336105_3431330216943812608_n

जाबिर बिन अब्दुल हमीद जो की सियासित्ता की हदीस के रिजाल लिखने वालो में से है मुआविया को ऐलानिया तौर पर गालिया देते थे।

– तहज़ीब अल तहज़ीब जिल्द 1, सफा 297-298

जब हम कुछ कहते है तो फ़ौरन राफ्ज़ी और काफिर के फतवे ठोक देते है, अब इन मोलविओ से पूछना चाहता हु, जाबिर बिन अब्दुल हामिद साहब के बारे में क्या कहेंगे???

79851598_2527549034009643_5745883458488500224_n80220599_2527549030676310_6280679214089764864_n

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s