दमिश्क से मदीना को रवानगी

असीराने हरम का यह नूरानी काफिला दमिश्क से मदीना की तरफ रवाना हुआ। सहराओं, दरियाओं, पहाड़ों से गुज़रता हुआ यह काफ़िला चलता रहा।

कुछ दिनों के बाद जब मदीने के बागात नज़र आने लगे और मदीने की दीवारें नज़र आईं तो जनाब उम्मे कुल्सूम ने एक निहायत बलीग और दर्द आमेज़ अश्आर हज़रत इमाम हुसैन रज़ि अल्लाहु अन्हु की शहादत पर पढ़ा। हम यहां सिर्फ दो अश्आर पर इक्तिफा करते हैं :

1. ऐ नाना के मदीना तो हम को कबूल न कर क्यों कि हम हसरतों और रंज व आलाम के साथ आए हैं।

2. जब तुमसे हम निकले थे तू घर भरा था और अब वापस आए हैं तो न मर्द साथ हैं और न ही बच्चे।

शाह अब्दुल-अज़ीज़ मुहद्दिस देहलवी रहमतुल्लाह अलैह अपनी किताब ‘सिरुश्शहादतैन’ में यूं रकम्तराज हैं कि इमाम हुसैन रज़ि अल्लाहु अन्हु की शहादत और शहादत के मक्सद की तक्मील जनाब जैनब व उम्मे कुल्सूम से हुई। क्योंकि उन दोनों बहनों का सब्र व इस्तिक्लाल दरज-ए-कमाल को पहुंचा हुआ था। (सिरुश्शहादतैन)

Hadith on Hazrat Abu Talib

Sayyedna Abbas RadiAllahu Anhu Ne Nabi Sallallahu Alaihi Wa Aalihi Wa Sallam Ki Khidmat Mein Arz Kiya Aap Abu Talib Ke Liye Pur Ummeed Hein? Nabi Sallallahu Alaihi Wa Aalihi Wa Sallam Ne Irshad Farmaya Ke Hum Apne Parwardigar Se Unke Liye Har Khair Aur Bhalayi Ke Ummeedwar Hein.

(Al-Khasais ul-Kubra, Jild-1, Safah-175)

Nabi Sallallahu Alaihi Wa Aalihi Wa Sallam Sayyedna Abu Talib Alaihisalam Ke Janaze Ke Saath Tashreef Le Gaye Aur Farmaya Aye Mere Chacha Jaan Aapne Sulah Rehmi Ka Haq Ada Kardiya Aur Mere Haq Mein Aapne Koi Kami Aur Kotayi Na Ki Allah Tabarakwata’ala Aapko Jazae Khair Ata Farmaye.

(Madarij Un Nabuwwat, Shah Abdul Haq Muhaddise Dehlvi, Jild-2, Safah-73)

(Sayyedna Abu Talib Alayhissalam Ke Imaan Wale Hone Ki Daleel Ye Hai Ke Nabi Sallallahu Alaihi Wa Aalihi Wa Sallam Ne Unke Liye Jazae Khair Ke Jumle Irshad Farmaye, Khair Momineen Ke Saath Khas Hai Kafir Ke Liye Koi Khair Nahi)