Khawaja Ahmed Yasawi (رحمتہ اللہ علیہ)

SONY DSC
Mausoleum to Koja Ahmad Yassaui (UNESCO World heritage site), Turkistan, Kazakhstan.

Ahmed Yesevi was born to Ibrahim in Sayram at the end of the 11th century. He lost his father at the age of seven and was then raised by Arslan Baba [tr].By then, Yasawi had already advanced through a series of high spiritual stages and, under the direction of Arslan Baba, the young Ahmad reached a high level of maturity and slowly began to win fame from every quarter. His father Ibrahim had already been renowned in that region for performing countless feats and many legends were told of him. Consequently, it was recognized that, with respect to his lineage as well, this quiet and unassuming young boy, who always listened to his elder sister, held a spiritually important position.

Yesevi later moved to Bukhara and followed his studies with Yusuf Hamadani.[8] Upon the demise of Yusuf Hamdani, first ʻAbdullah Barki and then Hassan-i Andākī became the head of Hamadani’s khanqah.[6] Yasawi became the head murshid of the Naqshbandi order when Hassan-i Andākī died in 1160. He then turned this position to Abdul Khaliq Ghajadwani under Hamadani’s advice and moved to Turkistan City in order to spread Islam in Turkestan.[6]

Influence
Ahmad Yasawi made considerable efforts to spread Islam throughout Central Asia and had numerous students in the region. Yasawi’s poems created a new genre of religious folk poetry in Central Asian Turkic literature and influenced many religious poets in the following countries.[9] Yasawi turned the city of Iasy into the major centre of learning for the Kazakh Steppe, then retired to a life of contemplation at the age of 63. He dug himself an underground cell where he spent the rest of his life.

Turkish scholar Hasan Basri Çantay noted: “It was a Seljuk king who brought Rumi, the great Sufi poet, to Konya; and it was in Seljuq times that Ahmed Yasawi, another great Sufi, lived and taught. The influence of those two remarkable teachers has continued to the present.”[10] Yasawi is also mentioned by Edward Campbell (writing as Ernest Scott)[11] as a member of the Khwajagan. Yasawi also influenced Turkish poet Yahya Kemal Beyatlı, he said: “Who is this Ahmad Yasawi? If you study him, you will find our nationality in Him.”

Legacy
The Mausoleum of Khoja Ahmed Yasawi was later built on the site of his grave by Timur in Turkistan City. The Yesevi order he founded continued to be influential for several centuries afterwards, with the Yesevi Sayyid Ata Sheikhs holding a prominent position at the court of Bukhara into the 19th century.[14] There is the greatest influence of shamanistic elements in the Yasawiyya compared to other Sufi orders.
Yesevi authored the Book of Wisdom (Turkic: ديوان حكمت‎, Dīvān-i Ḥikmet), a collection of poems, in Turkic.[3] The book was published in 1905 and 1895 in Kazan.[4]
The Naqshbandi Idries Shah mentions Yasawi’s lineage in The Book of the Book.[16]
The first Kazakh-Turkish university, Ahmet Yesevi University,[17] was named in his honor.
Legends about Ahmed Yasawi
Date palm
Legend has it that a religious mystic, Arystan-Bab, was the teacher and spiritual mentor of Khoja Ahmad Yasawi. It was Arystan-Bab who transmitted the amanat, which was contained in a pip of date palm. According to a legend, Arystan-Bab was an associate of the Prophet Muhammad. One day, Prophet Muhammad and his companions sat and ate dates. One of the fruits fell out of the dish, and the Prophet heard the revelation: “This date is for the Muslim Ahmad, who will be born 400 years later than You.” The Prophet asked his companions who would pass this persimmon to its future owner. No one volunteered. The Prophet repeated his question, and then Arystan-Bab answered: “If you beg Allah to give me 400 years of life, then I will give the date.”[18]

Timur’s dream
It is believed that one night Timur saw Ahmad Yasawi in his dream, where Yasawi predicted glad tidings of the forthcoming conquest of Bukhara. Taking this as a sign, Timur went on a campaign that would indeed be successful. After his victory, he decided to visit the grave of Yasawi and ordered to build there a majestic mausoleum.

Khawaja Ahmad Yasawi or Ahmed Yesevi
Ahmad Yasawī (1093–1166) was a Turkic poet and Sufi, who exerted a powerful influence on the development of Sufi orders throughout the Turkic-speaking world.
Yasawi is the earliest known Turkic poet who composed poetry in Middle Turkic. He founded the first Turkic Sufi order, the Yasawiyya or Yeseviye, which very quickly spread over Turkic-speaking areas. He was an Hanafi scholar like his murshid (mentor) Yusuf Hamdani.
Ahmad Yasawi made considerable efforts to spread Islam throughout Central Asia and had numerous students in the region. Yasawi’s poems created a new genre of religious folk poetry in Central Asian Turkic literature and influenced many religious poets in the following countries.
Yasawi made the city of Yasi into the major centre of learning for the Kazakh Steppe, then retired to a life of contemplation aged 63.
He dug himself an underground cell where he spent the rest of his life.
Turkish scholar Hasan Basri Çantay noted that “It was a Seljuk king who brought Rumi, the great Sufi poet, to Konya; and it was in Seljuk times that Ahmad #Yesevi, another great Sufi, lived and taught. The influence of those two remarkable teachers has continued to the present.”

 Ahmed Yassawi was born in Sayram, now part of present day Southern Kazakhstan, in 1093 and from the age of three, his momentous and epic life journey took on a draught of experience that would become one of the great stories of mystic journeying ever embarked upon.

During his life ‘above ground’ Yassawi became famed as an insightful and spiritual figurehead. He also partook in trade and was successful in that. Between bouts of material success and community leadership he found time to visit the great sheiks and Imams of the day, in his ongoing search and desire for communion with God. 

He also took on the role of family life, and between at least four of five wives, sired two offspring. His son died early in his teens and his daughter was to be Yassawi’s only remaining offspring. As was the custom then, several wives were the norm. Yassawi, a devoted follower of the Prophet (pbuh), he would have been keen to follow his example.

He took on this same devotion, when at sixty three (the age Muhammad (pbuh) died), he decided he could not live longer than him in the world. He therefore committed himself to ‘dying to live’. This saw him remove himself from all earthly ties and go into an underground cell where he was to pass a further sixty three years till his own passing.

It was during this time spent in prayer, communion and contemplation that he wrote his some ninety nine thousand Hikmet. Diwani Hikmet (Divine Wisdom) is all that remains, to date, of his sacred inheritance….

Ahmad Yasawi was born in 1096 CE in Sayram in Kara-Khanid Khanate (now Kazakhstan). Sayram is a town near Shymkent, Kazakhstan. Ahmad Yasawi’s father, Sheikh Ibrahim died in the early years of his age when he was only 7 years old. After which he was taken care of by Arslan Baba. Along with Arslan Baba, Ahmad Yesevi advanced many spiritual stages and became famous in every quarter even in young stage of his life. Another reason for his fame was his father, Sheikh Ibrahim. Consequently, he started to be admired spiritually an important personality.

Ahmad Yesevi later went to Bukhara and completed his religious education from Yusuf Hamdani. After the death of Yusuf Hamdani in 1141 CE (buried in Merv, Turkmenistan), Abdullah Barki became his successor as the head of Hamdani’s khanqah. After him, Hassan-i Andākī became the next one. After the death of Hassan-i Andākī in 1160 CE, Ahmad Yasawi became the next head of Hamdani’s Khanqah. During his period and throughout his life, Ahmad Yasawi played an important role in spread Islam to Central Asia. He also taught a lot of students through which a continuous system of religious education and preach started.

Ahmad Yasawi also played an important role in the field of poetry and literature. His poems brought a new religious folk culture in the Central-Asian Turkish and inspired a lot of poets. Ahmad Yasawi also founded a center for learning in the Kazakh steppe where he himself served until his retirement at the age of 63. After retirement, Ahmad Yasawi spent his remaining life in reclusion. Hasan Basri Cantay states that the famous poet Rumi was brought to Konya by a Seljuk king and also Ahmad Yasawi served Islam during the same Seljuk period. The influence of their service is yet continued. Edward Campbell (writing as Ernest Scott) also wrote Ahmad Yasawi as a considerable member of Khwajagan.

Ahmad Yasawi died in 1166 CE and buried in Turkistan, Kazakhstan. First, there wasn’t any mausoleum constructed there. After almost 200 years during the period of Timurlane (Timur), a masterpiece of architecture was built on his grave by Timur in between 1389 and 1405 CE. UNESCO accepted this as a work of history in 2000 CE. Later Ahmad Yasawi mausoleum was repaired by the Republic of Turkey by TIKA ingenuity. Also, the order founded by Ahmad Yasawi is still followed and Yasawi Sayyid Ata Sheikhs was holding a prominent position in Bukhara court.

It has also been reported that the book of wisdom “Divan-i-Hikmat” is of Ahmad Yasawi as it contains a lot of Turkish poems written by him as well as the dervish of his era. Ahmet Yesevi University, the first-ever Kazakh-Turkish university was established in Turkistan in 1993 after the great Sufi mystic and poet Ahmad Yesevi.

Peer-e-Turkistan
HAZRAT KHWAJA AHMAD YASAVI (quddus sirrahu al-aziz) ( Nanajaan of Hazrat Syed Makhdoom Ashraf Semnani Rahmatullah Alaih)

Khwaja Ahmad Yasavi was one of the most influential spiritual leaders in Central Asia. A Sufi poet, philosopher and a mystic who contributed tremendously to the development of mystical orders throughout the Turkic speaking world.

The people of Turkestan used to call him Ata Yasavi. ‘Ata’ means ‘Father’, and the Turks have used this word to designate their greatest Shaykhs.

many of the eminent Sufis of Turkestan are affiliated to him. many saints have arisen from his noble line.

Khwaja Ahmad Yasavi received spiritual training from one of the greatest Turkic shaykhs, Shaykh Arslan Baba (quddus sirrahu) and later Khwaja Shaykh Yusuf al Hamdani (quddus sirrahu).

When he reached the age of 63, he lived the remainder of his life secluded away, He explained: I have reached the age of the Prophet (ﷺ), sixty-three years, for me this is enough, no need to live beyond the time allotted to the prophet ﷺ. This saw him remove himself from all earthly ties and go into an underground cell until the end of his time on earth. It was during this time spent in prayer, communion and contemplation that he wrote his some ninety nine thousand Diwani Hikmet (Divine Wisdom)

His mausoleum in the city of Turkestan, present day Kazakhstan was built in 1389 by Turko-Mongol conqueror Amir Timur. It continues to draw pilgrims from all over the planet and has become a symbol of the Timurid dynasty.

Al Fatiha for his blessed soul

SERMON 170

ومن كلام له (عليه السلام)
لما عزم على لقاء القوم بصفين
[الدعاء]

اللَّهُمَّ رَبَّ السَّقْفِ الْمَرْفُوعِ ، وَالْجَوِّ المَكْفُوفِ ، الَّذِي جَعَلْتَهُ مَغِيضاً  لِلَّيْلِ وَالنَّهَارِ، وَمَجْرىً لِلشَّمْسِ وَالْقَمَرِ، وَمُخْتَلَفاً لِلنُّجُومِ السَّيَّارَةِ، وَجَعَلْتَ سُكَّانَهُ سِبْطاً  مِنْ مَلاَئِكَتِكَ، لاَ يَسْأَمُونَ مِنْ عِبَادَتِكَ.

وَرَبَّ هذِهِ الاَْرْضِ الَّتي جَعَلْتَهَا قَرَاراً لِلاَْنَامِ، وَمَدْرَجاً لِلْهَوَامِّ والاَْنْعَامِ، وَمَا لاَ يُحْصَى مِمَّا يُرَى وَمَا لاَ يُرَى.

وَرَبَّ الجِبَالِ الرَّوَاسِي الَّتي جَعَلْتَهَا لِلاَْرْضِ أَوْتَاداً، وَلِلْخَلْقِ

اعْتَِماداً .

إِنْ أَظْهَرْتَنَا عَلَى عَدُوِّنَا فَجَنِّبْنَا الْبَغْيَ وَسَدِّدْنَا لِلْحَقِّ، وَإِنْ أَظْهَرْتَهُمْ عَلَيْنَا فَارْزُقْنَا الشهَادَةَ وَاعْصِمْنَا مِنَ الْفِتْنَةِ.

[ الدعوة للقتال ]

أَيْنَ الْمَانِعُ لِلذِّمَارِ ، وَالْغَائِرُ  عِنْدَ نُزُولِ الْحَقَائِقِ  مِنْ أَهْلِ)الحِفَاظِ ؟! العَارُ وَرَاءَكُمْ، وَالْجَنَّةُ أَمَامَكُمْ!

 

SERMON 170

When Amir al-mu’minin decided to fight the enemy face to face at Siffin he said:

O’ my Allah! Sustainer of the high sky and the suspended firmament which Thou hast made a shelter for the night and the day, an orbit for the sun and the moon and a path for the rotating stars, and for populating it Thou hast created a group of Thy angels who do not get weary of worshipping Thee.

O’ Sustainer of this earth which Thou hast made an abode for people and a place for the movement of insects and beasts and countless other creatures seen and unseen. O’ Sustainer of strong mountains which Thou hast made as pegs for the earth and (a means of) support for people.

 

If Thou givest us victory over our enemy, save us from excesses and keep us on the straight path of truth. But if Thou givest them victory over us, then grant us martyrdom and save us from mischief.

Where are those who protect honour, and those self-respecting persons who defend respectable persons in the time of hardship? Shame is behind you while Paradise is in front of you.

Chishti Sufis and the idea of coexistence

The Sufis, the people of love, peace and harmony were the examples of coexistence. In this essay, I am intending to quote some instances of the lives of the Chishti Sufis which reflect upon the practices they carried out to

materialize the idea of co-existence.

When Khwaja Moinuddin Chishti, a renowned Sufi, reached Ajmer, the region was inhabited by the local creed of polytheism. He started here living and preaching. He did not initiate it with violence and cleansing of the local inhabitants, rather his first message was of ‘love all and hate none’. Thereby he taught his followers not to hate and abhor others on the basis of the false idea of superiority, but live peacefully, loving and caring them.

There is a practice in Chishti Sufis of serving and feeding of people who visit their shrine in separate place called Jamat Khana. In this Jamat Khana, we observe that people of every faith, race and culture come from every nook and corners. They eat in Langer (public kitchen) together. In addition to serving with food to needy people, these Jamat Khana sends the message of love, co-existence and harmony to our multicultural society. That is why both Muslims and non-Muslims still pay reverence to the shrines of these great Chishti Sufi saints and seek blessings.

In medieval India the language Sufis adopted for conversation was Hindavi. They used the language so that people feel comfortable while joining their meetings. Baba Farid (a Sufi of Punjabi origin) used Punjabi language to convey the message of divine love, the oneness of God and peace etc. Because of his place people spoke Punjabi, the very reason Baba Farid chose to adopt this language.

Sufi Hamiduddin Nagauri stopped eating meat when he went to Nagaur.

There is a practice in Chishti Sufis of serving and feeding of people who visit their shrine in separate place called Jamat Khana. In this Jamat Khana, we observe that people of every faith, race and culture come from every nook and corners. They eat in Langer (public kitchen) together. In addition to serving with food to needy people, these Jamat Khana sends the message of love, co-existence and harmony to our multicultural society. That is why both Muslims and non-Muslims still pay reverence to the shrines of these great Chishti Sufi saints and seek blessings.

In medieval India the language Sufis adopted for conversation was Hindavi. They used the language so that people feel comfortable while joining their meetings. Baba Farid (a Sufi of Punjabi origin) used Punjabi language to convey the message of divine love, the oneness of God and peace etc. Because of his place people spoke Punjabi, the very reason Baba Farid chose to adopt this language.

Sufi Hamiduddin Nagauri stopped eating meat when he went to Nagaur. Because that time Nagaur was a town of Jains who did not eat any nonvegetarian food. So, Sufi Hamiduddin Nagauri also left having non-vegetarian food that he could adjust himself to the society.

Chishti Sufis practically supported the idea of co-existence with the concept of love, peace and equality. These selfless services for humanity which the Chishti Sufis taught to every man enshrined in their practices and literature.

सलाम या मौला अबूतालिब

मेरे ईमान की पहचान है अबूतालिब ع ❣️

सलामयामौलाअबूतालिब ع🌹

दीन ए अहमद के निगहबान है अबूतालिब ع
मोहसिन ओ साहिब ए ईमान है अबूतालिब ع
जिनकी गोदी में पले नूर ए नबी ओर अली
नूर के ऐसे वो इंसान हैं अबूतालिब ع
चल रहा जो जमाने में इलाही का निज़ाम
आपके ही घर का फ़ैजान है अबूतालिब ع
दीन ए इस्लाम ये कहता है बुलंदी पाकर
सब तेरे बच्चौ का अहसान है अबूतालिब ع
ता- उमर मिदहत ए सरकार में गुजरी जिनकी
ऐसे आशिक है सना ख्वान है अबूतालिब ع
घर में जिनके हे पिशर नातिक ए कुरआन सभी
ऐसे कुरआन के जुजदान है अबूतालिब ع
जिस जमाने में मुसलमान नज़र नहीं आया
उस जमाने से मुसलमान है अबूतालिब ع
तु जिसे कहता है काफिर ए मुनाफीक सुनले
पिनहा कुरआन में इमरान हे अबूतालिब ع
दिल में मेरे है ज़ुबैर उल्फत ए कुल्ले ए ईमान
मेरे ईमान की पहचान है अबूतालिब ع

Elan e Nabuwat se phele ke waqia

जंगे फुज्जार

इस्लाम से पहले अरबों में लड़ाईयों का एक तवील सिलसिला जारी था। उन ही लड़ाईयों में से एक मशहूर लड़ाई “जंगे फुज्जार’ के नाम से मशहूर है। अरब के लोग जुल कदा, जुल हिज्जा, मुहर्रम और रजब इन चार महीनों का बे हद एहतराम करते थे। और इन महीनों में लड़ाई करने को गुनाह जानते थे। यहाँ तक कि आम तौर पर इन महीनों में लोग तलवारों को नियाम में रख देते थे। और नेजों की बरछियाँ उतार लेते थे। मगर इस के बा वुजूद कभी कभी कुछ ऐसे हंगामी हालात दर पेश हो गए कि मजबूरन इन महीनों में भी लड़ाईयाँ करनी पड़ी। तो इन लड़ाईयों को अले अरब “हुरूबे फुज्जार’ (गुनाह की लड़ाईयाँ) कहते थे। सब से आख़िरी जंग फुज्जार जो क़ुरैश और कैस’ के कबीलों के दर्मियान हुई उस वक्त हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की उम्र शरीफ बीस बरस की थी। चूँकि कुरैश, इस जंग में हक पर थे। इस लिए अबू तालिब वगैरा चचाओं के साथ आप ने भी इस जंग में शिरकत फ़रमाई। मगर किसी पर हथियार नहीं उठाया। सिर्फ इतना ही किया कि अपने चचओं को तीर उठा उठा कर देते रहे इस लड़ाई में पहले “कैस’ फिर कुरैश गालिब आएं

और आख़िरकार सुलह पर इस लड़ाई का खात्मा हो गया

(सीरत इले हश्शाम जि.२ स. १८६)

हिल्फुल फुजूल

रोज़ रोज़ की लड़ाईयों से अरब के सैकड़ों घराने बरबाद हो गए थे। हर तरफ बद अमनी और आए दिन की लूट मार से मुल्क का अमन-ो अमान गारत हो चुका था। कोई शख्स अपनी जानमाल को महफूज़ नहीं समझता था। न दिन को चैन न रात को आराम इस वहशत नाक सूरते हाल से तंग आकर कुछ सुलह पसन्द लोगों ने जंगे फुज्जार के खात्मे के बाद एक इस्लाही तहरीक चलाई। चुनान्चे बनू हाशिम, बनू जहरा, बनू असद वगैरा कबाएले कुरैश के बड़े बड़े सरदारान अबदुल्लाह

बिन जुदआ

के मकान पर जमा हुए। और हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के चचा जुबैर बिन अब्दुल मुत्तलिब ने ये तजवीज़ पेश की कि मौजूदा हालात को सुधारने के लिए कोई मुआहदा होना चाहिए। चुनान्चे ख़ानदाने कुरैश के सरदारों ने “बकाए बाहम” के उसूल पर “जियो और जीने दो” के किस्म का एक मुआहदा किया। और हलफ़ उठाकर अहद किया कि हम लोग :(१) मुल्क से बे अमनी दूर करेंगे! (२) मुसाफिरों की हिफाज़त करेंगे! (३) गरीबों की इमदाद करते रहेंगे! (४) मज़लूम की हिमायत करेंगे। (५) किसी जालिम या गासिब को मक्का में नहीं रहने देंगे!

इस मुआहदा में हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम भी शरीक हुए और आप को ये मुआहदा इस कदर अजीज़ था कि एअलाने नुबूव्वत के बाद आप फरमाया करते थे कि इस मुआहदा से मुझे इतनी खुशी हुई कि अगर इस मुआहदा के बदले में कोई मुझे सुर्ख रंग के ऊँट भी देता तो मुझे इतनी

सीरतुल मुस्तफा अलौह वसा खुशी नहीं होती। और आज इस्लाम में भी अगर कोई मजलूम ।  “या आले हिलफुल फुजूल” कहकर मुझे मदद के लिए पुकारे तो मैं उस की मदद के लिए तय्यार हूँ। इस तारीख़ी मुआहदा को “हलफुल फुजूल” इस लिए कहते हैं कि कुरैश के इस मुआहदे से बहुत पहले मक्का कबीलए जुरहम के सरदारों के दर्मियान भी बिल्कुल ऐसा ही एक मुआहदा हुआ था। और चूँकि कबीलए जुरहम के वो लोग जो मुआहदे के मुहरिंक थे उन सब लोगों का नाम “फज्ल” था यानी फज्ल बिन हारिस और फज्ल बिन वदाआ, और फज्ल बिन फ़जाला इस लिए इस मुआहदे का नाम “हिलफुल फुजूल’ रख दिया गया। यानी उन चन्द आदमियों का मुआहदा जिन के नाम “फज्ल” थे। (सीरत इने हश्शाम जि.१ स.१३४)

मुल्के शाम का दूसरा सफ़र

जब आप की उम्र शरीफ़ तक़रीबन पच्चीस साल की हुई तो आप की आमनत व सदाकत का चरचा दूर दूर तक पहुँच चुका था। हज़रते ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा मक्का की एक बहुत ही मालदार औरत थीं। को ज़रूरत थी कि कोई अमानतदार आदमी मिल जाए तो उस के साथ अपनी तिजारत का माल व सामान मुल्के शाम भेजें। चुनान्चे उन की नज़रे इन्तिखाब ने इस काम के लिए हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम को मुन्तख़ब किया। और कहला भेजा कि आप मेरा माले तिजारत ले कर मुलके शाम जाएँ। जो मुआवजा मैं दूसरों को देती हूँ। आपकी अमानत व दियानत दारी की बिना पर मैं आपको दुगना दूंगी हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने उनकी दरख्वासत मंजूर फ़माली। और तिजारत का माल व सामान ले कर मुल्के शाम को रवाना हो गए। इस सफ़र में हज़रत ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा ने अपने मुअतमिद गुलाम

“मैसरा” को भी आप के साथ रवाना कर दिया ताकि वो आप की खिदमत करता रहे। जब आप मुल्के शाम के मशहूर शहर “बुसरा” के बाज़ार में पहुंचे तो वहाँ “नसतूरा’ राहिब की खानकाह के करीब में ठहरे। “नसतूरा” मैसरा को बहुत पहले से जानता पहचानता था। हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की सूरत देखते ही ‘नसतूरा” मैसरा के पास आया। और दर्याफ्त किया कि ऐ मैसरा! ये कौन शख्स हैं जो इस दरख्त के नीचे उतर पड़े हैं। मैसरा ने जवाब दिया कि ये मक्का के रहने वाले हैं और खानदाने बनू हाशिम के चश्म- चिराग हैं। इन का नामे नामी “मुहम्मद’ और लकब अमीन है। नसतूरा ने कहा कि सिवाए नबी के इस दरख्त के नीचे आज तक कभी कोई नहीं उतरा। इस लिए मुझे यकीने कामिल है कि “नबी “आखिरुज-जमाँ यही हैं। क्योंकि आखिरी नबी की तमाम निशानियाँ जो मैं ने तौरेत व इन्जील में पढ़ी हैं। वो सब मैं इन में देख रहा हूँ। काश मैं उस वक्त ज़िन्दा रहता जब ये अपनी नुबूव्वत का एअलान करेंगे तो मैं इनकी भरपूर मदद करता। और पूरी जाँ निसारी के साथ इन की ख़िदमत गुजारी में अपनी तमाम उम्र गुज़ार देता। ऐ मैसरा! मैं तुम को नसीहत और वसीय्यत करता हूँ कि खबरदार! एक लम्हा के लिए तुम इन से जुदा न होना। और इन्तिहाई खुलूस व अकीदत के साथ इन की खिदमत करते रहना क्योंकि अल्लाह तआला ने इन को ख़ातिमुन नबीय्यीन होने का शरफ अता फरमाया है। हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम बुसरा के बाजार में बहुत जल्द तिजारत का माल फरोख्त करके मक्का मुकर्रमा वापस आ गए वापसी में जब आप का काफिला शहरे मक्का में दाखिल होने लगा। तो हज़रते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा एक बाला खाना पर बैठी हुई काफिला की आमद का मंजर देख रही थीं। जब उन की नज़र हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम पर पड़ी तो उन्हें ऐसा नजर आया कि दो फिरिश्ते आप
के सर पर धूप से साया किए हुए हैं। हजरते ख़दीजा रदियल्लाहु हसीन जलवा देखती रहीं। फिर अपने गुलाम मैसरा से उन्होंने कई अन्हा के कल्ब पर इस नूरानी मंज़र का एक खास असर हुआ। और वो फर्ते अकीदत से इन्तिहाई वालिहाना महब्बत के साथ ये
दिन के बाद इस का जिक्र किया। तो मैसरा ने बताया कि मैं तो पूरे सफर में यही मंज़र देखता रहा हूँ और इस के इलावा मैं ने बहुत सी अजीब व गरीब बातों का मुशाहदा किया है। फिर मैसरा ने नसतूरा राहिब की गुफ्तुगू और उसकी अकीदत व महब्बत का तकिरा भी किया। ये सुन कर हज़रत बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा को आप से बे पनाह कल्बी तअल्लुक और बे हद अकीदत व महब्बत हो गई। और यहाँ तक कि उन का दिल झुक गया। कि उन्हें आप से निकाह की रगबत हो गई ।(मदारिजुन नुबूब्वा जि. २ स.२७)
निकाह हज़रते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा माल व दौलत के साथ इंन्तिहाई शरीफ़ और इफ्फ़त मआब ख़ातून थीं। अहले मक्का उन की पाक दामनी और पारसाई की वजह से उन को ताहिरा (पाकबाज) कहा करते थे बड़े बड़े सरदाराने कुरैश उन के साथ अक्दे निकाह के ख्वाहिशमंद थे। लेकिन उन्होंने सब के पैग़ामों को ठुकरा दिया। मगर हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के पैगम्बराना अख्लाक- आदात को देखकर, और आप के हैरत अंगेज हालात को सुनकर

यहाँ तक कि उनका दिल आप की तरफ माएल हो गया। कि खुद ब खुद उनके कल्ब में आप से निकाह की रगबत पैदा हो गई। कहाँ तो बड़े बड़े मालदारों, और शहरे मक्का के सरदारों के पैगामों को रद्द कर चुकी थीं। की अपील

की समय और कहाँ खुद ही हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की फूफी हज़रते सफीय्या को बुलाया। जो उन के भाई अव्वाम बिन खुवैलद की बीवी थीं। उन से अहुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के कुछ ज़ाती हालात के बारे में मजीद मालूमात हासिल की। फिर “नफीसा बिन्ते उमय्या के ज़रीओ खुद ही हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के पास निकाह का पैगाम भेजा। मशहूर इमामे सीरत मुहम्मद बिन इसहाक ने लिखा है कि इस रिश्ते को पसन्द करने की जो वजह हज़रत ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा ने खुद हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम से बयान की है वो खुद उनके अल्फाज़ में ये है

“इन्नी कद रगिब्तु फीका लि-हुस्नि खुल-किका व सिदकि हदीसिका” यानी मैं ने आप के अच्छे अख्लाक और आप की सच्चाई की वजह से आप को पसन्द

(जुरकानी अलल मवाहिब जि. १ स. २००)

हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने इस रिश्ते को अपने चचा.

हजरत

अबू तालिब और ख़ानदान के दूसरे बड़े बूढ़ों के सामने पेश फरमाया। भला हज़रते ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा जैसी पाकदामन, शरीफ, अकलमंद और मालदार औरत से शादी करने को कौन न कहता? सारे खानदान वालों ने निहायत खुशी के साथ इस रिश्ते को मंजूर कर लिया। और निकाह की तारीख मुकर्रर हुई। और हुजूर सल्लल्लाह तआला अलैहि वसल्लम हजरते हम्जा रदियल्लाहु अन्हा और

हजरत

अबू तालिब वगैरा अपने चचाओं और
खानदान के दूसरे log और शुरफाए बनी हाशिम, व सरदाराने मुजर को अपनी बरात में ले कर हज़रते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा के मकान पर तशरीफ ले गए और निकाह हुआ। इस निकाह के वक्त

हजरत

अबू तालिब ने निहायत ही फसीह व बलीग खुत्बा पढ़ा। इस खुत्बे से बहुत अच्छी तरह इस बात का अन्दाजा हो जाता है कि एअलाने नुबूब्बत से पहले आपके खानदानी बड़े बूढों का आपके मुतअल्लिक कैसा खयाल था। और आप के अख्लाक व आदात ने उन लोगों पर कैसा असर डाला था।
तमाम Tarref उस खुदा के लिए हैं जिस ने हम लोगों को हज़रते इब्राहीम अलैहिस्सलाम की नस्ल और हज़रते इस्माईल अलैहिस्सलाम की औलाद में बनाया और हम को मअद्द और

मुज़र के खानदान में पैदा फ़रमाया। और अपने घर (कबा) का निगेहबान और अपने हरम का मुन्तज़िम बनाया। और हम को इल्म व हिकमत वाला घर, और अमन वाला हरम अता फरमाया। और हम को लोगों पर हाकिम बनाया।

ये मेरे भाई का फ़रज़न्द मुहम्मद बिन अब्दुल्लाह है। ये एक ऐसा जवान है कि कुरैश के जिस शख्स का भी इस के साथ मवाज़ना किया जाए। ये उस से हर शान में बढ़ा हुआ ही रहेगा। हाँ माल इसके पास कम है। लेकिन माल तो एक ढलती हुई छाँव और अदल बदल होने वाली चीज़ है। अम्मा बअद। मेरा भतीजा मुहम्मद (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) वो शख्स है जिस के साथ मेरी कराबत और कुरबत व महब्बत को तुम

लोग अच्छी तरह जानते हो वो ख़दीजा बिन्ते खुवैल्द से निकाह करता है। और मेरे माल में से बीस ऊँट महर मुकर्रर करता है। और इस का मुस्तकबिल बहुत ही ताबनाक, अज़ीमुश्शान और जलीलुल कद्र है।

(जुरकानी अलल मवाहिब जि. १ स.२०१)
जब  Hazrat अबू तालिब अपना ये वलवला अंगेज़ खुत्बा ख़त्म कर एनात
चुके तो हजरते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा के चचा जाद भाई वरका बिन नौफल ने भी खड़े हो कर एक शानदार खुत्बा पढा। जिस का मजमून ये है। खुदा ही के लिए हम्द है जिस ने हम को ऐसा ही बनाया जैसा कि Hazrat अबू तालिब! आप ने जिक्र किया। और हमें वो तमाम फजीलतें अता फरमाईं जिन को आप ने शुमार किया। बिला शुब्हा हम लोग अरब के पेश्वा और सरदार हैं। और आप लोग भी तमाम फजाएल के अहल हैं। कोई कबीला आप लोगों के फजाएल का इन्कार नहीं कर सकता। और कोई शख्स आप लोगों के फख व शर्फ को रद्द नहीं कर सकता। और बे कशक हम लोगों ने निहायत रगबत के साथ आप लोगों के साथ मिलने और रिश्ते में शामिल होने को पसन्द किया। लिहाजा ऐ कुरैश! तुम गवाह रहो कि ख़दीजा बिन्ते खुवैल्द को मैं ने मुहम्मद बिन अब्दुल्लाह (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) की जौजियत में दिया चार सौ मिस्काल महर के बदले। गरज़ हज़रते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा के साथ हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का निकाह हो गया और हुजूर महबूबे खुदा सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का खानए मअशियत अज़दवाजी ज़िन्दगी के साथ आबाद हो गया। हज़रते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा तकरीबन २५ बरस तक हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की खिदमत में रहीं। और उन की ज़िन्दगी में हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने कोई दूसरा निकाह नहीं फरमाया । और हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के एक फरजन्द हज़रते इब्राहीम के सिवा बाकी आप की तमाम औलाद हजरते बीबी ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा ही के बतन से पैदा हुईं। जिन का तफ्सीली बयान आगे आएगा। हज़रते बीबी खदीजा रदियल्लाहु अन्हा ने अपनी सारी दौलत
हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के कदमों पर कुर्बान कर दी और अपनी तमाम तर उम्र हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की गमगुसारी और खिदमत गुज़ारी में निसार कर दी। जिन की तफ्सील आइन्दा सफहात में तहरीर की जाएगी। कबा की तश्मीर आप की रास्तबाजी, और अमानत व दियानत की बदौलत खुदावंदे आलम ने आप को इस कदर मकबूले खलाएक बना दिया। और अक्ले सलीम और बे मिसाल दानाई का ऐसा अजीम जौहर अता फरमा दिया कि कम उम्री ही में आप ने अरब के बड़े बड़े सरदारों के झगड़ों का ऐसा ला जवाब फैसला फरमा दिया कि बड़े बड़े दानिशवरों और सरदारों ने इस फैसले की अज़मत के आगे सर झुका दिया । और सब ने बिल इत्तिफाक आप को अपना हकम और सरदारे अअज़म तस्लीम कर लिया। चुनान्चे इस किस्म का एक वाकिआ तअमीरे कबा के वक्त पेश आया। जिस की तफ्सील ये है कि जब आप की उम्र पैंतीस बरस की हुई तो जोर दार बारिश से हरमे कबा में ऐसा अज़ीम सैलाब आ गया। कि कअबा की दीवार बिल्कुल मुनहदम हो गई। हज़रते इब्राहीम व हजरते इस्माईल अलैहिमुस्सलाम का बनाया हुआ कबा बहुत ही पुराना हो चुका था। अमालका कबीलए जुरहम और कुसय्यी वगैरा अपने अपने वक्तों में इस कञ्बे की तअमीर व मरम्मत करते रहे। मगर चूँकि इमारत नशेब में थी। इस लिए पहाड़ियों से बरसाती पानी का बहाव का जोरदार धारा वादीए मक्का में हो कर गुजरता था और अकसर हरम कबा में सैलाब आ जाता था। कबा की हिफाजत के लिए बालाई हिस्से में कुरैश ने कई बन्द भी बनाए थे मगर वो बन्द बार बार टूट जाते थे इस लिए कुरैश ने ये तय किया कि इमारत को ढाकर फिर से कबा की एक मजबूत इमारत बनाई जाए। जिस का बरवाजा बुलन्द हो। और छत भी हो। चुनान्चे कुरैश ने मिल जुल कर तअमीर का काम शुरू कर दिया। इस तअमीर में हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम भी शरीक हुए। और सरदाराने कुरैश के दोश बदोश पत्थर उठा उठा कर लाते रहे मुख्तलिफ कबीलों ने तअमीर के लिए मुख्तलिफ हिस्से आपस में तक्सीम कर लिए। जब इमारत “हजरे असवद” तक पहुंच गई। तो कबाएल में सख्त झगड़ा खड़ा हो गया। हर कबीला यही चाहता था कि हम ही “हजरे असबद” को उठाकर दीवार में नसब करें। ताकि हमरे कबीले के लिए ये फख व एअज़ाज़ का बाइस बन जाए। इसी कशमकश में चार दिन

गुज़र गए। यहाँ तक नौबत पहुँची कि तलवारें निकल आईं। बनू

अदी के कबीलों ने तो इस पर जान की बाजी लगा दी। और ज़मानए जाहिलीयत के दस्तूर के मुताबिक अपनी कसमों को मजबूत करने के लिए एक पियाला में खून भर कर अपनी उंगलियाँ उस में डिबोकर चाट लीं। पाँचवें दिन हरमे कबा में तमाम कबाएले अरब जमअ हुए। और इस झगड़े को तय करने के लिए एक बूढ़े शख्स ने ये तजवीज़ पेश की। कि कल जो शख्स सुबह सवेरे सब से पहले हरमे कबा में दाखिल हो उस को पन्च मान लिया जाए वो जो फैसला कर दे सब उस को तस्लीम कर लें। चुनान्चे सब ने ये बात मान ली। खुदा की शान कि सुबह को जो शख्स हरमे कबा में दाखिल हुआ वो हुजूर रहमते आलम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ही थे। आप को देखते ही सब पुकार उठे कि वल्लाह ये “अमीन” हैं। लिहाजा हम सब इन के फैसले पर राज़ी हैं। आप ने इस झगड़े का इस तरह तसफिया फरमाया कि पहले आप ने ये हुक्म दिया कि जिस जिस कबीले के लोग हजरे असवद को उस के मकाम पर रखने के मुद्दई हैं उन का एक एक सरदार चुन लिया जाए। चुनान्चे हर कबीले वालों ने अपना अपना सरदार चुन लिया। फिर हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने अपनी चादर मुबारक को बिछाकर हजरे
सीरतुल मुस्तफा अलैहि वसल्लम असवद को उस पर रखा। और सरदारों को हुक्म दिया कि सब लोग इस चादर को थाम कर मुकद्दस पत्थर को उठाएँ । चुनान्चे सब सरदारों ने चादर को उठाया और जब हरे असवद अपने मकाम तक पहुँच गया तो हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने अपने मुतबर्रक हाथों से उस मुकद्दस पत्थर को उठाकर उस की जगह पर रख दिया इस तरह एक ऐसी खून रेज लडाई टल गई जिस के नतीजे में न मालूम कितना खून खराबा होता। (सीरते इने हश्शाम जि. १ स. १९६ ता १९७) खानए कबा की इमारत बन गई। लेकिन तअमीर के लिए जो सामान जमअ किया गया था वो कम पड़ गया इस लिए एक तरफ का कुछ हिस्सा बाहर छोड़कर नई बुनियाद काएम करके छोटा सा कबा बना लिया गया। कबा मुअज्जमा का यही हिस्सा जिस को कुरैश ने इमारत से बाहर छोड़ दिया। “हतीम’ कहलाता है। जिस में कबा मुअज्जमा की छत का परनाला गिरता है।

कबा कितनी बार तअमीर किया गया? हजरते अल्लामा जलालुद्दीन सियूती रहमतुल्लाह अलैहि ने “तारीखे मक्का में तहरीर फ़रमाया है कि “खानए कबा दस बार तअमीर किया गया। (१) सबसे पहले फिरिश्तों ने ठीक “बैतुल मअमूर के सामने जमीन पर खानए कबा को बनाया। (२) फिर हजरते आदम अलैहिस्सलाम ने इस की तअमीर फ़रमाई। (३) इस के बाद हज़रते आदम अलैहिस्सलाम के फरज़न्दों ने इस इमारत को बनाया। (४) इस के बाद हज़रते इब्राहीम ख़लीलुल्लाह और उनके फ़रज़न्दे अरजुमंद हजरते इस्माईल अलैहिमुस्सलाम ने इस मुकद्दस घर को तअमीर किया। जिस का तज़्किरा कुरआन में है।
(५) कौमे अमालका की इमारत। (६) इस के बाद कबीलए जुरहम ने इस की इमारत बनाई। (७) कुरैश के मूरिसे अअला “कुसय्यी बिन कल्लाब” (८) कुरैश की तअमीर जिस में खुद हुजूर सल्लल्लाहु तआला
अलैहि वसल्लम ने भी शिरकत फरमाई और कुरैश के साथ खुद भी अपने दोशे मुबारक पर पत्थर उठा उठाकर लाते
रहे।
(९) हज़रते अब्दुल्लाह बिन जुबैर रदियल्लाहु अन्हु ने अपने दौरे
खिलाफ़त में हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के तजवीज़ का नक्शे के मुताबिक तअमीर किया। यानी हतीम की जमीन को कबा में दाखिल कर दिया। और दरवाज़ा सतहे ज़मीन के बराबर नीचे रखा। और एक दरवाज़ा मशरिक
की जानिब और एक दरवाज़ा मगरिब की सम्त बना दिया। (१०) अब्दुल मलिक बिन मरवान उमवी के ज़ालिम गवरनर हज्जाज
बिन यूसुफ़ सकफ़ी ने हज़रते अब्दुल्लाह बिन जुबैर को शहीद कर दिया। और उन के बनाए हुए कबा को ढा दिया। और फिर ज़मानए जाहिलीय्यत के नक्शे के मुताबिक कबा बना दिया। जो आज जक मौजूद है
लेकिन हज़रते अल्लामा हलबी रहमतुल्लाह अलैहि ने अपनी सीरत में लिखा है कि नए सिरे से कबा की तअमीरे जदीद सिर्फ तीन ही मरतबा हुई। (१) हज़रते इब्राहीम अलैहिस्सलाम की तअमीर। (२) ज़मानए जाहिलीय्यत में कुरैश की इमारत । और इन दोनों
तअमीरों में दो हजार सात सौ पैंतीस (२७६५) बरस का
फासला है। (३) हज़रते अब्दुल्लाह बिन जुबैर रदियल्लाहु अन्हु की तअमीर
जो कुरैश की तअमीर के बयासी साल बाद हुई। हज़राते मलाएका और हज़रते आदम अलैहिस्सलाम और उन
के फरजन्दों की तअमीरात के बारे में अल्लामा हलबी ने फ़रमाया कि ये सही रिवायतों से साबित नहीं है। बाकी तअमीरों के बारी में उन्हों ने लिखा है कि ये इमारत में मामूली तरमीम, या टूट फूट की मरम्मत थी। तअमीरे जदीद नहीं थी। वल्लाहु तआला अअलम।

(हाशिया बुख़ारी जि. १ स.२१५ बाब फज्ले मक्का)

मख्सूस अहबाब एअलाने नुबूवत से कब्ल जो लोग हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के मख्सूस अहबाब व रुफका थे वो सब निहायत ही बुलन्द अख़्लाक, आली मर्तबा, होशमंद और बा वकार लोग थे। इन में सब से ज़्यादा मुकर्रब हज़रते अबू बकर रदियल्लाहु अन्हु थे। जो बरसों आप के साथ वतन और सफर में रहे और तिजारत नीज़ कारोबारी मुआमलात में हमेशा आप के शरीक कार व राजदार रहे। इसी तरह हज़रते ख़दीजा रदियल्लाहु अन्हा के चचा ज़ाद भाई हज़रते हकीम बिन हज़ाम दियल्लाहु अन्हु जो कुरैश के निहायत ही मुअज्ज रईस थे। ये भी हूजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के मख्सूस अहबाब में खुसूसी इम्तियाज़ रखते थे। हजरते ज़िमाद बिन सअल्बा रदियल्लाहु अन्हु जो ज़मानए जाहिलीय्यत में तबाबत और जर्राही का पेशा करते थे। ये भी अहबाबे खास में से थे। हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के एअलाने नुबूव्वत के बाद ये अपने गाँव से मक्का आए। तो कुफ्फारे कुरैश की जबानी ये प्रोपागन्डा सुना कि मुहम्मद (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) मजनून हो गए हैं। फिर ये देखा कि हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम रास्ते में तशरीफ ले जा रहे हैं। और आप के पीछे लड़कों का एक गौल है जो शोर मचा रहा है। ये देखकर हज़रते जम्माद बिन सअल्बा रदियल्लाहु अन्हु को कुछ शुब्हा पैदा हुआ। और पुरानी दोस्ती की बिना पर उनको इन्तिहाई रंज व कलक हुआ । चुनान्चे ये हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के पास आए। और कहने लगे कि ऐ मुहम्मद! (सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम) मैं तबीब हूँ और जुनून का इलाज कर सकता हूँ ये सुनकर हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने खुदा की हम्द- सना के बाद चन्द जुम्ले इर्शाद फरमाए। जिन का हज़रते जम्माद बिन सअल्बा रदियल्लाहु अन्हु के कल्ब पर इतना गहरा असर पड़ा कि वो फौरन ही मुशर्रफ ब इस्लाम हो गए। (मिश्कात बाबे अलामतुन नुबूब्वा स. २२५ व मुस्लिम जि.१ स.२८५ किताबुल जुमआ)

हज़रते कैस बिन साएब महजूमी रदियल्लाहु अन्हु के कारोबार में आप के शरीक कार रहा करते थे। और आप के गहरे दोस्तों में से थे। ये कहा करते थे कि हुजूरे अकरम सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का मुआमला अपने तिजारती शुरका के साथ हमेशा निहायत ही साफ़ सुथरा रहता था। और कभी कोई झगड़ा पेश नहीं आता था। (इस्तीआब जि. २ स. ५३७)


मुवहद्दीने अरब से तअल्लुकातअरब में अगरचे हर तरफ शिर्क फैल गया था। और घर घर में
बुत परस्ती का चर्चा था। मगर इस माहौल में भी कुछ ऐसे लोग थे जो तौहीद के परस्तार और शिर्क व बुत परस्ती से बेज़ार थे। इन्ही खुश नसीबों में जैद बिन अमर बिन नुफैल हैं। ये अलल एअलान शिर्क व बुत परस्ती से इन्कार, और जाहिलीय्यत की मुशरिकाना रस्मों से नफ़रत का इज़हार करते थे। ये हज़रते उमर रदियल्लाहु अन्हु के चचा जाद भाई हैं। शिर्क व बुत परस्ती के खिलाफ एअलाने मज़म्मत की बिना पर इन का चचा “ख़त्ताब बिन नुफैल इन को बहुत ज़्यादा तकलीफें दिया करता था। यहाँ तक कि इन को मक्का से शहर बदर कर दिया था। और इन को मक्का में दाखिल नहीं होने देता था। मगर ये हजारों ईजाओं के बा वुजूद अकीदए तौहीद पर पहाड़ की तरह डटे हुए थे।
ये मुशरिकीन के दीन से मुतनफ़िफ़र हो कर दीने बरहक की तलाश में मुलके शाम चले गए थे। वहाँ एक यहूदी आलिम से मिले। फिर एक नसरानी पादरी से मुलाकात की। और जब आपने यहूदी व नसरानी दीन को कब्ल नहीं किया तो इन दोनों ने “दीने हनीफ की तरफ आप की रहनुमाई की जो हज़रते इब्राहीम खलीलुल्लाह अलैहिस्सलाम का दीन था। और इन दोनों ने ये भी बताया कि हज़रते इब्राहीम अलैहिस्सलाम न यहूदी थे न नसरानी और वो एक खुदाए वाहिद के सिवा किसी की इबादत नहीं करते थे। ये सुनकर जैद, बिन अमर बिन नुफैल मुल्के शाम से मक्का वापस आ गए। और हाथ उठा उठा कर मक्का में ब-आवाज़ ये कहा करते थे कि ऐ लोगो! गवाह रहो कि मैं हज़रते इब्राहीम अलैहिस्सलाम के दीन पर हूँ। (सीरते इने हश्शाम जि.१ स.२२५)

एअलाने नुबूब्बत से पहले हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के साथ जैद बिन अमर दिन नुफैल को बड़ा ख़ास. तअल्लुक था। और कभी कभी मुलाकातें भी होती रहती थीं। चुनान्चे हज़रते अब्दुल्लाह बिन उमर रदियल्लाहु अन्हु रावी हैं कि एक मर्तबा वही नाज़िल होने से पहले हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की मकामे “बलदह” की तराई में जैद बिन अमर बिन नुफैल से मुलाकात हुई। तो उन्होंने हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के सामने दस्तरख्वान पर खाना पेश किया। जब हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने खाने से इन्कार फमा दिया। तो जैद बिन अमर बिन नुफैल कहने लगे कि मैं बुतों के नाम पर ज़िब्ह किए हुए जानवरों का गोश्त नहीं खाता । मैं सिर्फ वही ज़बीहा खाता हूँ जो अल्लाह तआला के नाम पर जिब्ह किया गया हो। फिर कुरैश के ज़बीहों की बुराई बयान करने लगे। और कुरैश को मुखातिब करके कहने लगे कि बकरी को अल्लाह तआला ने पैदा फ़रमाया। और अल्लाह तआला ने उस के लिए आस्मान से बरसाया। और ज़मीन से घास उगाई। फिर ऐ कुरैश! तुम बकरी को अल्लाह के गेर (बुतों) के नाम पर जिब्ह करते हो।

हज़रते अस्मा बिन्ते अबू बकर रदियल्लाहु अन्हा कहती हैं कि मैं ने जैद बिन अमर बिन नुफैल को देखा कि वो ख़ानए कबा से टेक लगाए हुए कहते कि ऐ जमाअते कुरैश! खुदा की कसम! मेरे सिवा तुम में से कोई भी हज़रते इब्राहीम अलैहिस्सलाम के दीन पर नहीं है। बुख़ारी जि.१ बाब हदीस जैद बिन अमर नुफैल स. ५४०)

कारोबारी मशागिल हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम काअसल खानदानी पेशा तिजारत था। चूँकि आप बचपन ही में अबू तालिब के साथ कई बार तिजारती सफ़र फ़रमा चुके थे जिस से आप को तिजरती लेन देन का काफी तजरुबा भी हासिल हो चुका था। इस लिए ज़रीअए मआश के लिए आप ने तिजारत का पेशा इख्तियार फरमाया। और तिजारत की गरज़ से शाम व बुसरा और यमन का सफर फरमाया। और ऐसी रास्त बाज़ी और अमानत व दियानत
के साथ आप ने तिजारती कारोबार किया कि आप के शुरकाए

सीरतुल मुस्तफा सल्लल्लाहु ताला कार और तमाम अहले बाज़ार आप को “अमीन” के लकब से पुकारने लगे।

एक कामयाब ताजिर के लिए अमानत, सच्चाई वअदा की पाबन्दी, खुश अख़्लाकी तिजारत की जान हैं। इन खुसूसियात में मक्का के ताजिर अमीन ने जो तारीख़ी शाहकार पेश किया है उस की मिसाल तारीखे आलम में नादिरे रोज़गार है। हज़रते अब्दुल्लाह बिन अबिल हमसा सहाबी रदियल्लाहु अन्हु का बयान है कि नुजूले वही और एअलाने नुबूव्वत से पहले मैं ने आप से कुछ ख़रीदने फरोख्त का मुआअमला किया। कुछ रकम अदा कर दी, कुछ बाकी रह गई थी। मैं ने वअदा किया कि मैं अभी अभी आ कर बाकी रकम भी अदा कर दूंगा। इत्तिफ़ाक़ से तीन दिन तक मुझे अपना वअदा याद ही नहीं आया। तीसरे दिन जब मैं उस जगह पहुँचा जहाँ मैं ने आने का वअदा किया था तो हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम को उसी जगह मुन्तज़िर पाया। मगर मेरी इस वदा ख़िलाफ़ से हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के माथे पर इक जरा बल नहीं आया। बस सिर्फ इतना ही फ़रमाया कि तुम कहाँ थे? मैं तीन दिन से तुम्हारा इन्तिज़ार कर रहा हूँ। (सुनन अबू दाऊद जि. २ स.३३४ बाब फ़िल इद्दतुल मुजतबाई)

इसी तरह एक सहाबी हज़रते साएब रदियल्लाहु अन्हु जब मुसलमान होकर बारगाहे रिसालत में हाज़िर हुए और लोगों ने उन से हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम के “खुल्के अज़ीम’ का तजकिरा करना शुरू किया तो उन्होंने फ़रमाया कि मैं हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम को तुम लोगों से ज्यादा जानता हूँ। एअलाने नुबूब्वत से पहले आप मेरे शरीके तिजारत थे। लेकिन हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम ने हमेशा मुआमला इतना साफ और सुथरा रखा। कि कभी भी कोई तकरार, या तू तू, मैं मैं की नौबत ही नहीं आई।

(सुनन अबू दाऊद जि.२ स.३१७ बाब करहियतुलमरा मुजकतबाई)

गैर मअमूली किरदार

हुजूरे अकदस सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का जमानए तुफूलीय्यत खत्म हुआ। जवानी का ज़माना आया तो बचपन की तरह आप की जवानी भी आम लोगों से निराली थी। आप का शबाब मुजस्सम हया और चाल चलन असमत व वकार का कामिल नुमूना था। एअलाने नुबूव्वत से कब्ल हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की तमाम जिन्दगी बेहतरीन अख्लाक व आदात का ख़ज़ाना थी। सच्चाई, दियानत दारी, वफादारी, अहद की पाबंदी, बुजुर्गों की अज़मत, छोटों पर शफ़क़त, रिश्तेदारों से महब्बत रहम व सखावत, कौम की खिदमत, दोस्तों से हमदर्दी, अज़ीज़ों की गमख्वारी, गरीबों और मुफ़लिसों की ख़बरगीरी, दुश्मनों के साथ नेक बरताव, मख्लूके खुदा की खैर ख़्वाही, गरज कि तमाम ख़सलतों और अच्छी अच्छी बातों में आप इतनी बुलन्द मंज़िल पर पहुँचे हुए थे कि दुनिया के बड़े से बड़े इन्सानों के लिए वहाँ तक रिसाई तो क्या? इस का तसव्वुर भी मुमकिन नहीं है।

कम बोलना फजूल बातों से नफरत करना, खन्दा पेशानी और खुशरुई के साथ दोस्तों और दुश्मनों से मिलना, हर मुआमले में सादगी और सफ़ाई के साथ बात करना हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का ख़ास शेवा था। हिर्स, तमझ, दगा, फ़रेब, झूट, शराब ख़ोरी, बदकारी, नाच गाना, लूट मार, फहश गोई, इश्क बाज़ी, ये तमाम बुरी आदतें और मज़मूम ख़सलतें जो ज़मानए जाहिलीय्यत में गोया हर बच्चे के खमीर में होती थीं। हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम की जाते गिरामी इन तमाम उयूब व नकाएस से पाक रही। आप की रास्तबाज़ी और अमानत व दियानत का पूरे अरब में शोहरा था। और मक्का के हर छोटे बड़े के दिलों में आप के बरगुज़ीदा अख़्लाक का एअतिबार और सब की नज़रों में आप का एक ख़ास वकार था।

बचपन से तकरीबन चालीस बरस की उम्र शरीफ हो गई।
लेकिन जमानए जाहिलीय्यत के माहौल में रहने के बा वुजूद तमाम मुशरिकाना रुसूम और जाहिलाना अतवार से हमेशा आप का दामने असमत पाक ही रहा। मक्का शिर्क व बुत परस्ती का सब से बड़ा मरकज़ था। खुद ख़ानए कबा में तीन सौ साठ बुतों की पूजा होती थी। आप के ख़ानदान वाले ही कबा के मुतवल्ली और सज्जादा नशीन थे लेकिन इस के बा वुजूद आप ने कभी बुतों के आगे सर नहीं झुकाया।

गरज नुजूले वही और एअलाने नुबूव्वत से पहले भी आप की मुकद्दस ज़िन्दगी अख्लाके हसना और महासिने अफ़आल का मुजस्समा और तमाम उयूब व नकाएस से पाक व साफ़ रही। चुनान्चे एअलाने नुबूब्बत के बाद आप के दुश्मनों ने इन्तिहाई कोशिश की कि कोई अदना सा झैब या ज़रा सी ख़िलाफे तहज़ीब कोई बात आप की ज़िन्दगी के किसी दौर में भी मिल जाए तो उस को उछाल कर आप के वकार पर हमला करके लोगों की निगाहों में आप को जलील- वार कर दें। मगर तारीख गवाह है कि हज़ारों दुश्मन सोचते सोचते थक गए। लेकिन कोई एक वाकिआ भी ऐसा नहीं मिल सका जिस से वो आप पर अंगुश्त नुमाई कर सकें। लिहाज़ा हर इन्सान इस हकीकत के एअतिराफ़ पर मजबूर हैं कि बिला शुब्हा हुजूर सल्लल्लाहु तआला अलैहि वसल्लम का किरदार इन्सानियत का एक ऐसा मुहय्येरुल उकूल और गैर मअमूली किरदार है जो नबी के सिवा किसी दूसरे के लिए मुमकिन । ही नहीं है। यही वजह है कि एअलाने नुबूब्बत के बाद सईद रूहें आप का कलिमा पढ़कर तन मन धन के साथ इस तरह आप पर कुरबान होने लगी कि इन की जाँ निसारियों को देखकर शमा के परवानों ने जाँ निसारी का सबक सीखा। और हकीकत शनास लोग फर्ते अकीदत से आप के हुस्ने सदाक़त पर अपनी अक्लों को कुर्बान करके आप के बताए हुए इस्लामी रास्ते पर आशिकाना अदाओं के साथ ज़बाने हाल से ये कहते हुए चल पड़े कि – चलो वादीए इश्क में पा बरहना
ये जंगल वो है जिस में काँटा नहीं है