Jashn e Maulood e Kaaba

हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन (321 – 334)

हज़रत अली (अलैहिस्सलाम) के कथन (321 – 334)

321

अब्दुल्ला इबने अब्बास ने किसी विषय में आप (अ.स.) को राय दी तो आप (अ.स.) ने फ़रमायाः तुम्हारा काम है कि मुझ को राय दो और अगर तुम्हारी राय न मानूँ तब भी मेरी आज्ञा का पालन करो।

322

आप (अ.स.) सिफ़्फ़ीन के युद्ध से पलटते हुए कूफ़े पहुँचे तो शबाम क़बीले की आबादी से होकर गुज़रे तो आपने सिफ़्फ़ीन के युद्ध में मारे जाने वालों पर रोने वाली महिलाओं की आवाज़ें सुनीं। इतने में हर्ब इबने शरजीले शबामी जो इस क़बीले के सरदार थे आप (अ.स.) के पास आए तो आप (अ.स.) ने उन से फ़रमायाः जैसा कि मैं सुन रहा हूँ तुम्हारी औरतें तुम पर हावी आ गई हैं, तुम इन को रोने से मना क्यूँ नहीं करते।

हर्ब आप (अ.स.) के साथ पैदल चलने लगे जब कि आप (अ.स.) घोड़े पर सवार थे। आप (अ.स.) ने फ़रमायाः

पलट जाओ तुम जैसे इंसान का मेरे साथ पैदल चलना हाकिम में बुराई पैदा करता है और मोमिन के अपमान का कारण बनता है।

323

नहरवान के युद्ध के दिन ख़ारजियों की लाशों की ओर से गुज़रते हुए फ़रमायाः

तुम्हारा बुरा हो, जिस ने तुम को धोका दिया उस ने तुम को हानि पहुँचाई।

आप (अ.स.) से पूछा गया कि या अमीरुल मोमिनीन (अ.स.) किस ने उन को उकसाया था। तो आप (अ.स.) ने फ़रमायाः

पथभ्रष्ट करने वाले शैतान और बुराई के लिए उकसाने वाले मन ने उन को आशाओं के धोके में डाला और पापों का मार्ग उन के लिए खोल दिया, उस ने उन से विजय व सफ़लता के वादे किए और इस तरह उन को नरक में झोंक दिया।

324

आप (अ.स.) ने फ़रमाया कि एकान्त में अल्लाह की अवज्ञा करने से डरो क्यूँकि जो गवाह है वही मुसिंफ़ (न्यायधीश) है।

325

जब आप (अ.स.) को मौहम्मद बिन अबू बकर के शहीद होने की ख़बर मिली तो फ़रमायाः

हमें उन के मरने का उतना ही दुख है जितनी उन के दुश्मनों को इस की ख़ुशी है। बेशक उन का एक शत्रु कम हुआ और हम ने एक दोस्त खो दिया।

326

आप (अ.स.) ने फ़रमाया कि वह आयु जिस के बाद अल्लाह क्षमा याचना स्वीकार नहीं करता साठ साल है।

327

जिस पर पाप ने क़ाबू पा लिया वो सफ़ल न हो सका और जिस पर बुराई ने अधिकार जमा लिया वो पराजित हो गया।

328

पाक परवरदिगार ने मालदारों के माल में ग़रीबों की रोज़ी क़रार दी है। अतः अगर कोई ग़रीब भूखा रहता है तो इस लिए कि मालदार ने माल समेट लिया है और पाक परवरदिगार इस पर उस मालदार से जवाब तलब करे गा।

329

सच्चे दिल से माफ़ी माँगने से अच्छा है कि माफ़ी माँगने की ज़रुरत ही न पड़े।

330

अल्लाह का तुम पर कम से कम हक़ यह है कि उस की दी हुई नेमतों का अल्लाह की अवज्ञा के रास्तों में उपयोग मत करो।

331

जब कमज़ोर व्यक्ति कर्म में कोताही करते हैं तो अल्लाह की तरफ़ से बुद्धिमानों के लिए कर्तव्य पालन का बेहतरीन अवसर है।

332

हाकिम लोग अल्लाह की ज़मीन पर उस के रक्षक हैं।

333

मोमिन का हर्ष उस के चेहरे पर और उस का दुख उस के दिल के अन्दर होता है। उस का दिल जितना बड़ा होता है वो अपने अन्तःकरण को उतना ही अपमानित करता है। वो अपने आप को दूसरों से ब़ड़ा दिखाने को बुरा समझता है और दूसरों को अपनी नेकियाँ सुनाने को दुश्मन समझता है। उस का दुख अथाह है और उस की हिम्मत बहुत बड़ी है। वो अधिकतर मौन रहता है, हर समय व्यस्त रहता है, वो सदैव कृतज्ञ रहता है और धैर्य उस की आदत होती है। वो हमेशा सोच विचार में खोया रहता है और अपनी आवश्यकताओं को किसी को नहीं बताता। वो विनम्र प्रवृत्ति का होता है और सुकून से चलता है। उस का अन्तःकरण पत्थर से अधिक कठोर और वो ग़ुलाम से अधिक सुशील होता है।

334

अगर कोई इंसान जीवन और उस के परिणाम को देखे तो उस की आशा और धोके से घृणा करने लगे।

Ziyarat e Mazaar ka bayaan

31437433_1263100243824497_4765524475590475776_n

Hadeeṡ e Nabawi :

(1) Hazrat Burida radiy-Allāhu ta’ala anhu se riwaayat hai ki
Huzoor Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam ne irshaad farmaaya ki
‘Maine tum logo ko qabro ki ziyarat se mana kiya tha. Ab main tumhe ijaazat deta hu ke un ki ziyarat karo.’

(Muslim;
Mishkaat, Safa -154)

 Hazrat Shaikh Abdul Haq Mohaddeeṡ Dehalwi rahmatullāhi alaihi is Hadees shareef ki Sharah me farmaate hain ki :

‘Zamaana e jaahiliyat se qareeb hone ke sabab Huzoor sallallāhu alaihi wa sallam ne pehle is andeshe se qabro ki ziyarat se mana kar diya tha ki log un ke saath phir se kahi jaahiliyat wala rawaiya ikhtiyar na kar len.
Phir jab Islaam ke qaanoon se log khoob aagaah ho gaye to Aap sallallāhu alaihi wa sallam ne qabro ki ziyarat ke liye ijaazat de di.’

(Ash’at ul Amlaat, Jild -1, Safa -717)

(2) Hazrat Ibne Mas’ood radiy-Allāhu ta’ala anhu se riwaayat hai ki
Huzoor Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam ne irshaad farmaya ki
‘Maine logo ko qabro ki ziyarat se roka tha, to ab tum un ki ziyarat karo.’

(Ibne Maajah;
Mishkaat, Safa -154)

(3) Huzoor Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam ne irshaad farmaya ki
‘Tum Qabro ki ziyarat kiya karo, Kyun ki wo tumhe Maut ki yaad dilaati hai.’

(Sahih Muslim, Jild -2, Hadeeṡ -2259)

(4) Hazrat Mohammad bin Nomaan radiy-Allāhu ta’ala anhu se riwaayat hai ki
Huzoor Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam ne irshaad farmaaya ki
‘Jo apne maa-baap ki qabron ki ziyarat kare ya un me se kisi ek ki qabr ki har Jum’aa ke din ziyarat kare, to use bakhsh diya jaayega aur use neki karne wala likha jaayega.’

(Mishkaat, Safa -154)

*********************
(4) Hazrat Aa’isha Siddeeqa radiy-Allāhu ta’ala anha se riwaayat hai ki
‘Jis raat ko Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam mere yaha qayaam farmate to raat ke aakhri hisse me uthkar Madeena ke qabrastan me tashreef le jaate.’

(Muslim,
Mishkaat, Safa -154)

(5) Hazrat Abu Huraira, Sa’ad bin Abi Waqqaas, Mohammad bin Ibrāheem aur Uqaba bin Umar radiy-Allāhu ta’ala anhuma se riwaayat hai ki
‘Huzoor Rasool-Allāh sallallāhu alaihi wa sallam har saal Shohada e Uhad ki mazaar par tashreef le jaate aur waha farmate ‘Tum par salaam ho kyun ki tum ne sabr kiya. Tumhara akhirat ka ghar kaisa achha hai.’
Isi tarah Hazrat Abu Baqr Siddeeq, Hazrat Umar Faarooq, Hazrat Uṡmaan Ghani aur Hazrat Ali radiy-Allāhu ta’ala anhuma bhi har saal Shohada e Uhad ke mazaar e mubarak ki ziyarat karte the.’

(Sharah al Sudoor, Safa -210;
Tafseer Jaamia al bayaan 13/ 96;
Ibne Kaṡeer 2/ 791;
Tafseer e Kabeer 19/ 45;
Qurtabi, Jild -5, Safa -313)

********************
 In ahadeeṡ se saabit hota hai ke Auliya Allāh ke mazaar aur Qabrastan ki ziyarat karna jaaṡiz hai.

*****************
Qur’an :
10 Surah al-Younus, Aayat 62, 63, 65 :

Khabardaar sun lo beshak jo ALLĀH ke dost hote hain un ko na to koi khauf hota hai na koi gam hota hai.
Wo log jo eimaan laaye aur (hamesha) taqwa par rahe.
Un ke liye duniya ki zindagi me (izzat wa kaamyaabi ki) khush-khabari hai aur aakhirat me bhi (maghfirat wa shafa’at ki).

*****************
Auliya Allāh ke foyuz o barkaat haasil karne ke 8 tareeqe hain :

(1) Bai’at (2) Ta’azeem (3) Sohbat wa khidmat (4) Ita’at (5) Itteba (Pairwi) (6) Tawassul wa Istigaaṡah (7) Madah wa Zikr (8) Isaal e ṡawaab (9) Ziyarat.

*****************
 Auliya Allāh ke mazaar par jaana (Khaas kar Urs ke mauqe par) aur un ke waseele se dua karna jaa’iz hai.

Auliya Allāh ke mazaar par ALLĀH ta’ala ki rahmat o noor ki tajalliyaat ki baarish zyada hoti hai. Is liye un ke foyuz o barkaat ka faaida hame bhi milta hai.

Jis tarah electricity ki line me sab jagah electric current hota hi hai
Lekin jis point pe holder me ya plug me lamp, tube ya pankha (fan) wagairah laga hai waha hame is ka faa’ida milta hai.

*****************
Ziyarat ka Tareeqa :
‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾
Jab qabrastan jaayen ya Auliya Allāh ke mazaar par jaayen to pehle salaam karen ke wo salaam sunkar us ka jawaab dete hain. Jo hum nahi sun sakte, sirf dusre Auliya Allāh hi sun sakte hain.

Salaam is tarah karen :
Assalamu alaikum Ya Ahlal quboor yagfirullāhu lana walakum antum salafuna wa nahnu bil asr.

Jab qabrastan ya mazaar par pahunche to agar yaad ho to Durood e Hazaari (Roohi) padhen ke is ka bahot ṡawaab aur fazeelat hai.
Agar yaad na ho to koi bhi Durood shareef padhen.

Durood e Hazaari :
‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾‾
Allāhumma Salli Ala Muhammadim Maa Daamatis Salawaatu Wa Salli Ala Muhammadim Madaamatir Rahmati Wa Salli Ala Muhammadim Madaamatil Barakaatu Wa Salli Ala Roohi Muhammadin Fil Arwaahi Wa Salli Ala Surati Muhammadin Fis Suwari Wa Salli Ala Ismi Muhammadin Fil Asmaa’i Wa Salli Ala Nafsi Muhammadin Fil Nufoosi Wa Salli Ala Qalbi Muhammadin Fil Quloobi Wa Salli Ala Qabri Muhammadin Fil Quboori Wa Salli Ala Rawdati Muhammadin Fir Riyaadi Wa Salli Ala Jasadi Muhammadin Fil Ajsaadi Wa Salli Ala Turbati Muhammadin Fit Turabi Wa Salli Ala Khayri Khalqihi Sayyidina Muhammadiw Wa Ala Aalihi Wa Ashaabihi Wa Azwaajihi Wa Zuriyaatihi Wa Ahli Baytihi Wa Ahbaabihi Ajma’ina Birahmatika Yaa Arhamar Raahimeen.

Phir agar phool saath laayen ho to wo qabr par rakhen.

Phir qabr ke paayanti ki taraf khade rahen.
Agar jagah na ho to kisi bhi taraf khade ho sakte hain.
Qabr ke bilkul qareeb na khade rahen ya baithen, thoda door baithen.

Phir Durood shareef ke baad Surah Faatiha, Surah Kaafiroon, Surah Ikhlaas, Surah Falaq, Surah Naas aur Aayat ul Kursi aur jo bhi dusri surah yaad ho wo padhkar ya Qur’an shareef dastyaab ho to tilaawat karke isaal e ṡawaab karen.
Ya phir Kalma ya Tasbeeh ya Durood padhte rahen.

Is ke baad un ke liye dua e maghfirat karen.
Phir ALLĀH ta’ala se Huzoor Pyare Aaqa sallallāhu alaihi wa sallam aur Auliya Allāh ke waseele se apne liye aur sab musalmano ke liye deen aur dunya ki bhalai ke liye dua karen.
In shaa Allāh ALLĀH ta’ala apne muqarrab bando ke sadqe me hamari dua qubool farmaega.

Waha se nikalte waqt bhi salaam karen.