What is Sadaqah al-Fitr (Fitrah)?

 

 

 

Image result for fitrana

 

What is sadaqah al-fitr?

Sadaqah al-fitr is a sadaqah that is wajib to be given by every Muslim who is alive at the end of the month of Ramadan and who has at least nisab amount of money or goods apart from his fundamental needs. It is also called fitrah.

Sadaqah al-fitr (fitrah) means sadaqah given by man as gratitude in order to gain rewards.

Fitrah is a means of the acceptance of fasting by Allah and salvation from the agonies of death and torture in the grave. It helps the poor to meet their needs and be happy on the day of eid. From this point of view, fitrah is a humane charity and civilized duty.

Image result for fitrana

For whom is it wajib to pay fitrah?

The necessary conditions for paying fitrah are as follows: to be a Muslim, to be a free person (not a slave), to have nisab amount of money or goods apart from his fundamental needs. It is not necessary to be sane and to have reached the age of puberty for fitrah. The fitrahs of the rich mentally ill people and children need to be given by their guardians.   

If a person’s goods of nisab amount are destroyed after fitrah becomes wajib for him, it is necessary for him to pay fitrah.

When is it necessary to pay fitrah?

Fitrah becomes wajib on the first day of eid al-fitr beginning from the dawn. The mustahab way of giving fitrah is to give it after dawn and before leaving the eid prayer. However, there is no drawback to giving fitrah a few days or even months before eid. Thus, it helps the poor to meet their needs for eid beforehand. It is necessary to pay the fitrahs that have not been paid on time as soon as possible.  

This is the view of Imam Abu Hanifa. According to the other three imams, fitrah becomes wajib on the last day of Ramadan after the sun sets. It is not permissible to pay it after the eid prayer.

It is not wajib for a person who dies or who becomes poor before the dawn on the first day of eid al-fitr to pay fitrah. It is wajib to pay fitrah for a rich person who dies after dawn. It is paid from his inheritance.

If the money or goods of nisab amount are destroyed after fitrah becomes wajib and before fitrah is paid, it is necessary to pay fitrah. 

Sadaqah Al-Fitr, Fidya /Fitrana Amount Fixed in Pakistan

Who needs to give fitrah?

A Muslim who has nisab amount needs to give fitrah for himself, his children who are poor and his servant. According to Abu Hanifa, the fitrahs of rich children are paid from the children’s money. According to Imam Muhammad, it is given by their father.

The fitrah of a child who has reached the age of puberty but who is not sane is given by his father. Fitrah is not paid for a child who has not been born yet.

A person does not have to pay fitrah for his father, mother, grandfather and grandmother even if they live together with him. The same thing is valid for the relatives. A grandfather does not have to pay fitrah for the poor children of his son whether their father is alive or not. 

A person does not have to pay fitrah for his wife and his child who has reached the age of puberty and who is sane. For, such people are responsible people and can manage their own affairs. However, it is permissible for the husband or father to pay their fitrah by taking permission from them. However, what is essential for everybody is to pay their own fitrah. 

According to Imam Shafii, even if a woman is rich, her fitrah is paid by her husband. It is necessary for a person to have niyyah (intention) for fitrah just like zakah. It has to be given to the poor and become the property of the poor. It is not necessary to say that what you give is fitrah.  

A person cannot give fitrah to his wife/her husband or to his/her child or father/mother. For instance, a woman cannot give fitrah to her husband, father or son who is poor.

How is fitrah paid?

A person can give his fitrah to a poor person but a fitrah cannot be divided in order to be given to more than one person. A few people can gather their fitrahs and give them to one poor person.

A few people can gather their fitrahs and give them to a few poor in a mixed way. They do not have to give each fitrah separately. However, it is regarded better to give them separately.

A person should give his fitrah to one of the poor people of the area where he lives. It is makruh to send fitrah to other places.  

What is the amount of fitrah?

Fitrah is given based on 4 food items mainly:  

1 – Wheat or wheat flour. The amount of wheat that is wajib to give is half sa’ (520 dirhams: 1667 gr.)

2 – Barley or barley flour. The amount of barley that is wajib to give is one sa’ (1040 dirhams: 3333 gr.)

3 – All kinds of raisin. The amount of raisin that is wajib to give is one sa’ (3333 gr.)

4 – Dry dates. The amount of dates that is wajib to give is 1 sa’ (3333 gr.)

Fitrah can be given based on one of these four food items. Fitrah can be given in kind as dates, wheat, grapes or their equivalent as money. It is better to pay their equivalent as money.

When a person pays fitrah, he can pay it based on one of these four items considering his wealth. For instance, a person who is very rich needs to pay his fitrah based on dates because the one with the highest price among the four items is dates. What is appropriate for his wealth is to pay fitrah based on dates. The item on which fitrah to be paid is based varies in accordance with the degree of wealth. The religious authorities declare the equivalent of these 4 items every year in the month of Ramadan. It is possible to pay fitrah based on those amounts.

Is there a difference between the amount of wealth that necessitates fitrah and zakah?

Yes, there is. The rich person who is to pay zakah needs to own the nisab amount of money or property for one year but there is no such condition for fitrah. If a person has the nisab amount of money or property on the last day when fitrah can be given, it becomes wajib for him to pay fitrah. 

Today, the amount of zakah is usually based on gold for zakah. It is better for the amount of fitrah to be based on silver. This is the reason why fitrah is paid for more people than zakah.

A person who cannot perform fasting due to old age or an illness in Ramadan is not exempted from paying fitrah. He has to fulfill this wajib deed. 

Fitrah can be given to the non-Muslims living in the Islamic countries but it cannot be given to the non-Muslims living in the non-Muslim countries.

The decree of fitrah is owning it. Fitrah is not regarded to have been paid before the poor obtains it.

Hadees:
Bandah Kehta hai Mera Maal Mera Maal,
Magar Use To Us Maal Se 3 Hi Qisam ke
Fayede Hain.
Jo Kha Kar Fana Kiya, Jo Pahen Kar Purana Kiya,
Aur Jo Ataa (Garibo ko De kar) Kar Ke Akhirat Ke Liye Jama kiya
 ﺻﺤﻴﺢ ﻣﺴﻠﻢ، ﻛﺘﺎﺏ ﺍﻟﺰﻫﺪ ﻭﺍﻟﺮﻗﺎﺋﻖ، ﺑﺎﺏ
ﺍﻟﺪﻧﻴﺎﺳﺠﻦ ﻟﻠﻤﺆﻣﻦ ﻭﺟﻨﺔﺍﻟﻜﺎﻓﺮ، ﺻﻔﺤﮧ 1582- ، ﺍﻟﺮﻗﻢ
ﺍﻟﺤﺪﻳﺚ ,2959-
Hadees:
Mere Pas Uhad Pahad Ke Barabar Sona Ho To
Mujhe Pasand Nahi Ki Usme Ka Kuch 3 Raat
Tak Mere Pas Rahe.
Haan Agar Dain (Qarz)
Ho To Kuch Rakh Lun (Taki Jiska Qarza Ho Use De Sakun)
 ﺻﺤﻴﺢ ﺍﻟﺒﺨﺎﺭﻱ، ﻛﺘﺎﺏ ﺍﻟﺮﻗﺎﺋﻖ، ﺑﺎﺏ ﻗﻮﻝ ﺍﻟﻨﺒﻲ
ﺻﻠﻰ ﺍﻟﻠﻪ ﺗﻌﺎﻟﻰ ﻋﻠﻴﻪ ﻭﺳﻠﻢ ﻣﺎ ﻳﺴﺮﻧﻰ ﺃﻥ ﻋﻨﺪﻯ ﻣﺜﻞ
ﺍﺣﺪ ﻫﺬﺍ ﺫﻫﺒﺎ، ﺟﻠﺪ 4- ، ﺻﻔﺤﮧ 232- ، ﺍﻟﺮﻗﻢ
ﺍﻟﺤﺪﻳﺚ 4645- ،
Hadees:
Saqdah Karna Allah Ke Gazab (Jalal) Ko
Bujhata hai aur Buri Maut Se Bachata hai,
{Tizmiri, Volume-2, Page-146, Hadees No-664}
Hadees:
ALLAH Farmata hai,
Aye Ibne Adam (Hazrat Adam Ki Awlado) Apna
Maal Mere Pas Jama Kar Wo Na Jalega Na Dubega,
Na Chori Hoga,
Mai Tujhe Pura Dunga
Jab Tujhe Uski Sakht Zarurat Hogi
{Shahbul iman, jild-3, Page-211, Hadees No-3342}
Hadees:
Sadqah Burai Ke 70 Darwazon Ko Band Karta Hai
{Al Mojamul kabeer, Jild-4, Page-273, Hadees No-4402}
Hadees:
Sakhi (Sadqa Karnewala) Admi Allah Se
Qareeb Hai,
Jannat Se Qareeb Hai,
Logo Se Qareeb Hai 
Aur
Jahnnam Se Door Hai,
Bakheel (Kanjoos) Allah Se Jannat Se Logo Se Door hai
Aur
Jahannam Se Nazdeek Hai
{Jame Tirmizi, Jild-3, page-387, Hadees No-1968}
HADEES:
Abdullah Bin Umar ﺭﺿﯽ ﺍﻟﻠﮧ ﺗﻌﺎﻟٰﯽ ﻋﻨﮧ Se
Riwayat Hai Huzoor E Pak ﺻﻠﻰ ﺍﻟﻠﻪ ﺗﻌﺎﻟﻰ ﻋﻠﻴﻪ
ﻭﺳﻠﻢ Ne Zakate Fitr 1 Saa (Arab Ka Wazan)
Khurma Ya Jao Gulam O Azad Mardo Aurat
Chote Aur Bade Musalmano Par Muqarrar Ki..
Aur Ye Hukm Farmaya Ki Namaz Se Phele Ada Kar De
 ﺻﺤﯿﺢ ﺍﻟﺒﺨﺎﺭﯼ، ﺃﺑﻮﺍﺏ ﺍﻟﺼﺪﻗﺔ ﺍﻟﻔﻄﺮ، ﺟﻠﺪ1- ،
ﺻﻔﺤﮧ 507- ، ﺍﻟﺮﻗﻢ ﺍﻟﺤﺪﻳﺚ 1503- ،
Hadees:
Bande Ka Roza Aasman O Zameen Ke Beech Mu’allaq (Latka) Rehta Hai Jab Tak Sadqae Fitr Ada Na Kare.
{Bahar-E-Shariat, Hissa-5, Page-935}
Mas’ala:
Sadqae Fitr Wajib Hai, Iska WAQT Umr Bhar
Hai,
Agar Pehle Nahi Diya Tha To Ab De.
Na Dene Se Uska Hukm Saqit Nahi Hoga, Aur
Takheer Se Dega To Qaza Bhi Nahi Kehlayega,
Magar Sunnat Ye Hai Ki Namaze Eid Se Qabal Ada Kare
(Bahar-E-Shariat, Hissa-5, Sadqae Fitr Ka Bayan, Page-935).
Mas’ala:
Eid Ke Din Subhe Sadiq Hote Hi Sadqae Fitr
Wajib Hota Hai,
Lihaza Jo Shakhs Subah Hone Se Pehle Mar Gaya Ya Gani (Sahebe Nisab) Tha
Ab Faqeer Ho Gaya,
Ya Subah Tuloo Hone Ke Bad Kafir Musalman Hua,
Ya Bachcha Paida
Hua,
Ya Faqeer Tha To Gani Ho Gaya,
To Wajib Na Hua,
Aur Agar Koi Subah Tuloo Hone Ke
Bad Mara To uska Sadqae Fitr Wajib Hai, 
Aur
Subah Tuloo Hone Se Pehle Kafir Musalman
Hua Ya Bachcha Paida Hua,
Ya Faqeer Gani Hua
To in sab pe sadqae Fitr Wajib Hai
{Alamgeeri Volume-1, Page-192}
Mas’ala:
Sadqae Fitr Har Musalman Azad Malike Nisab
Par Jiska Nisab Hajate Asliya Ke ILAWA Ho
Uspe Wajib Hai.
Sadqae Fitr Ke Liye AQIL (AQAL WALA) Balig
Aur
Maal Ka Naami Hona Shart Nahi
Na Maal Par Eik Saal Guzarna Bhi Zaroori Nahi,
{Durr-E-ukhtar, Volume-3, Page-362}.
Mas’ala:
Sadqae Fitr Ke Liye MAAL Ka Baqi Rehna Bhi Shart Nahi.
Maal Hilak Hua Tab Bhi Sadqa Dena wajib
Rahega
{Durr-E-Mukhtar, Volume-3, Page-366}.
Mas’ala:
Sadqae Fitr Ke Liye Roza rakhna Shart Nahi.
Kisi Uzr (Majburi)
Ya Safar
Ya Marz
Ya Budhape Ki Wajah Se Ya Maz’allah Bila Wajah Roza Chhod Diya Tab Bhi Wajib hai
{Bahar-E-Shariat, Hissa-5, Page-936}.
Mas’ala:
Sadqae Fitr Unhi Ko Diya Jaye Jinhe Zakat Dee Jati Hai.
Jinhe Zakat Dena Jayez Nahi Unhe Sadqae Fitr Bhi Nahi De Sakte.
Aamil (Jise Badshahe islam Ne Zakat Wasool
Karne Ka Kaam Diya Hai) Ko Sadqae Fitr Lena Jayez Nahi Haan Zakat Le Sakta Hai.
{Durr-E-Mukhtar, Volume-3, Page-379}.
NABI-E-PAK NE EK SHAKHS KO HUKM FARMAYA:
MAKKAH KI GALIYO ME JAAKAR YE ELAAN KARDO
KE SADQA-E-FITR WAJIB HAI
(TIRMIZI) 
Jab Tak Sadqa-E-Fitra
Ada Nahi Kiya Jata
Bande Ka Roza Zamino Aasman Ke Drmiyan Muallak (Latka) Rehta He
(Kanzul Ummal,Jild-8) 
JAB TAK BANDA SADQA-E-FITRA ADA NAHI KARTA TABTAK USKA ROZA QUBUL NAHI HOTA HAI
(SUNNI BAHISHTI ZEWAR) 
QUR’AN:
AYE IMAANWALO!
HUM NE JO TUMHE RIZQ DIYA HAI
US ME SE KHARCH KARO.
(PARA-2 SURAH-BAQRAH AAYAT-254)
ROZA AASMAN & ZAMEEN KE BICH LATAKTA RAHTA HAI
JAB TAK SADQAE FITR ADA NA KIYA JAAYE
(MISHKAT) 
SADQA IS TARAH GUNAHO KO BUJA DETA HAI
JIS TARAH PAANI AAG KO BUJA DETA HAI.
(MISHKAT JILD-1, SAFA-14) 
SADQA ALLAH Taala Ke Gusse Ko Thanda Karta Hai
Aur Buri Maut Se Bachata Hai.
(Tirmizi)
*Sadaqa-E-Fitr*
BIWI Ne Bagair Hukme SHAUHAR
Agar
SHAUHAR Ka FITRA Ada Kar Diya To Ada Na Huwa.
(RADDUL MUKHTAR)
Jab Tak SADQAE-FITR Ada Na Kiya Jaye Bande Ka Roza Zameen-o-Aasmaan Me Muallaq(LATKATA) Raheta He
(Kanzul Ummal) 
Sadqa-E-Fitr: 2.045 Kg. Ghehu Ya Uski Qimat 
Mas’ala:
Sadqae Fitr Ka WAQT Umr Bhar He Yani Ada Na Kiya Tha To Ab Ada Kare
Magar Sunnat Eid Ki Namaz Se Pehle Hai
(DURRE MUKHAR Vol:3,Page:362) 
1ADMI KA FITR
1HI MOHTAJ KO DENA BEHTAR HE
1SE ZIYADA KO BHI DENA JAIZ HE
FITRA KE MUSTAHIQ WO LOG HE JO ZAKAT KE MUSTAHIQ HE
(Sunni Bahesti Zewar) 
Sarwar-E-Qaynat Janabe Mohommad Mustfa Swallalaho Alayhi Wasallam ne irshad farmaya ki
“Bande ka roza Aasman wa Zamin ke darmiyan  muallak rehta he jab tak sadqae fitr ada na kare.
{Ibne asakar,Sunni Bahishti Zewar}
Mard malike nisab par apni tarafse aur apne chote bachche ki tarafse sadqae fitr wazib he jabke bachcha khud sahibe nisab na ho aur maa par khud apna sadqa wazib he jabki malike nisab ho. Chote bachcho ki tarafse sadqa dena Maa par wazib nahi.
{Raddulmuhtar,Sunni Bahishti zewar}
Aaqil Balig hona sadqae fitr me shart nahi. To nabalig ya pagal agar malike nisab he to un par sadqae fitra wazib he unka wali unke mal se ada kare.
{Raddulmuhtar,Sunni Bahishti Zewar}
Eid ke din subah sadiq hote hi Sadqa-E-Fitr har Musalman malike nisab mard wa aurat par jiski nisab hazate asliya se farig ho, wazib hota he aur sunnat yah he ke Eid ki namaz se pehle ada kar diya jaye.
{Durre Mukhtar,Sunni Bahishti Zewar}
Jo subah sadiq shuru hone ke bad mara uska sadqae fitr wazib he
{Qanoon-E-Shariat}
Advertisements

भारतीय इतिहास में बादशाह औरंगजे़ब को बदनाम करने के लिए सब से ज़यादा दुष्प्रचार किया हैं

“जो है नाम वाला, वही तो बदनाम है” -ये अल्फाज़ मुग़ल बादशाह औरंगजेब के ऊपर सबसे ज्यादा फिट बैठते हैं. जिस शख्स की कभी ‘तहज्जुद’ की नमाज़ क़ज़ा नहीं होती थी. जिसके शासनकाल में हिन्दू मनसबदारों की संख्या सभी मुग़ल बादशाहों की तुलना में सबसे ज्यादा थी. जिसने कट्टर मुसलमान होते हुए भी कई मंदिरों के लिए दान और जागीरें दीं. जिसने शिवाजी को क़ैद में रखने के बावजूद मौत के घाट नहीं उतारा, जबकि ऐसा करना उनके लिए मुश्किल नहीं था. जो खुद को हुकूमत के खजाने का सिर्फ ‘चौकीदार ‘समझता था (मगर वह आजकल के चौकीदारों की तरह नहीं था) और अपनी जीविकोपार्जन के लिए वह टोपियाँ सिलता और कुरान शरीफ के अनुवाद करता था.

औरंगजेब ऐसा बादशाह है जिसके साथ इतिहास और तास्सुबी इतिहासकारों ने कभी न्याय नहीं किया. एक ऐसा बादशाह, जिसे भारतीय इतिहास में सब से ज्यादा बदनाम किया गया है, मगर जो अपने खानदान के तमाम बादशाहों में सबसे ज्यादा मुत्तकी, परहेज़गार, इंसाफपसंद, खुदा से डरने वाला, हलाल रिजक खाने वाला और तहज्जुदगूज़ार बन्दा था. उस बादशाह का नाम है – हजरत औरंगजेब (रहमतुल्लाह अलैह), जिनका मजारे पाक औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में है.

क्या यह आश्चर्य की बात नहीं है कि हिन्दू धर्म के सिद्धांतों, कर्मकांडों का यथाविधि पालन करने वाले व्यक्ति को ‘समर्पित हिन्दू‘ कहा जाता है, कार्ल मार्क्स के सिद्धांतों पर मजबूती से चलने वाले इंसान को ‘समर्पित कामरेड’ कहा जाता है, बुद्ध के आदर्शों पर चलने वाले भंते जी या बौद्ध को ‘समर्पित बौद्ध’ कहा जाता है. मगर इस्लाम के सिद्धांतों पर चलने वाले आदमी को ‘समर्पित मुसलमान‘ नहीं कहा जाता, बल्कि उसे ‘कट्टर मुसलमान‘ की उपाधि दी जाती है ? इसी भेदभाव का शिकार औरंगजेब जैसे बादशाह को भी होना पड़ा और आज तक उनके साथ ये लक़ब जुड़ा है कि वह एक कट्टर मुसलमान था, जो एक मन जनेऊ प्रतिदिन उतरवा कर ही खाना खाता था. जबकी इस बात के खंडन के लिए अँगरेज़ इतिहासकार प्रोफेसर अर्नाल्ड ने अपनी किताब ‘प्रीचिंग ऑफ़ इस्लाम‘ में लिखा है –“औरंगजेब के दौर के इतिहास में जहाँ तक मैंने तफ्तीश और पड़ताल की है, मुझको पता चला है कि कहीं भी, किसी भी हिन्दू को ज़बरदस्ती मुसलमान बनाए जाने का कोई प्रमाण नहीं है.”

मुंशी इश्वरी प्रसाद अपनी मशहूर किताब ‘तारीखे हिन्द’ में लिखते हैं – परमात्मा की शान है कि औरंगजेब जितना रिआया का खैर ख्वाह था, इतिहास में उसे उतना ही ज्यादा बदनाम किया गया है. कोई उसे ज़ालिम कहता है, कोई खुनी, मगर हकीक़त में वह ‘आलमगीर’ का ही लकब पाने का अधिकारी है.

भारत में मुसलमानों की हुकुमत करीब 600 साल तक रही. दिल्ली मुसलमानों की राजधानी थी. वहां हर तरह की ताकत मुसलमानों के हाथ में थी. अगर मुस्लिम बादशाह हिन्दुओं को तलवार केबल पर मुसलमान बनाना चाहते तो वे सबसे पहले दिल्ली और आसपास के हिदुओ को ही मुसलमान बनाते, क्युकी ऐसा करने से उनकी हुकुमत को भी एक तरह से सुरक्षा मिल जाती क्युकी आसपास कोई दुश्मन आबादी ही नहीं रह जाती जो हुकुमत के खिलाफ विद्रोह कर सके. मगर यह एक आश्चर्यजनक तथ्य हमें नज़र आता है कि दिल्ली और उसके आसपास 50 मील की आबादी हमेशा बहुसंख्यक हिन्दुओं की ही रही और वे भी खुशहाल और इज्ज़त के साथ रहते आये थे. यह बात पंडित सुन्दर लाला शर्मा ने ‘गाँधी की क़ुरबानी’ से सबक’ नामक लेख में व्यक्त किया है-

औरंगजेब यदि किसी को ज़बरदस्ती मुसलमान बनाना चाहते तो इसके लिए उनके सबसे बड़े दुश्मन शिवाजी का पोता शाहू जी सब से आसान शिकार था जो 7 साल की उम्र में क़ैद हो कर आया था. मगर औरंगजेब ने शाहू जी की परवरिश एक मराठा राजकुमार की तरह की और कभी भी उनके धर्मांतरण का कोई प्रयास नहीं किया. बल्कि उन्होंने खुद व्यक्तिगत रूचि ले कर शाहू जी की शादी बहादुर जी मराठा की बेटी के साथ धूमधाम से की, जैसे कोई बाप अपने बेटे की शादी कराता है.

नीचे की पंक्तियों में मैं औरंगजेब के वे तारीखी शब्द उद्धृत कर रहा हूँ, जो उनके ऊपर लगे कट्टरता और धर्मान्तरण के आरोपों को पूरी तरह गलत साबित करते हैं और औरंगजेब की एक ऐसी छवि प्रस्तुत करते हैं, जिसे इतिहास लिखने वाले अपराधियों ने हमेशा दुनिया वालों से छुपाने का गुनाह किया है:-

जरत औरंगज़ेब आलमगीर (रहमतुल्लाह अलैह) के शब्दों में:

संभाजी के इस बेटे शाहू जी की शिक्षा-दीक्षा का प्रबंध किया जाये. इसके लिए दक्षिण से अच्छे पंडित बुलावा लिए जाएँ. उनकी शिक्षा-दीक्षा मराठा रीती-रिवाजों के अनुसार की जाए. और हाँ, शिवाजी की बेगम हमारी क़ैद में हैं. वे चाहें तो दक्षिण से अपने ख़ास दास-दासियों को अपने पास बुलावा सकती है जो एक राजा की बीवी के साथ रहा करते हैं. उनको यह महसूस नहीं होना चाहिए कि वे एक मुसलमान की क़ैद में हैं.‘

“शिवाजी ने हमसे ताजिंदगी दुश्मनी निभाई, शायद यही अल्लाह की मर्ज़ी थी, मगर उनके बाद उनकी बेगमों और बच्चों को यह एहसास नहीं होना चाहिए की हम उनसे भी दुश्मनी रखते हैं. यह बात सारी दुनिया को बता दी जाये कि हमारी दुश्मनी भी सिर्फ शिवाजी से थी, मगर उनके बाद उनकी बेगमों और बच्चों से हमारी कोई दुश्मनी नहीं है”

इसके बाद भी अगर कोई व्यक्ति या संगठन औरंगजेब को धार्मिक रूप से कट्टर और धर्मान्तरण का जुनूनी कहता है यही कहा जा सकता है कि वह पूर्वाग्रह से युक्त है. और मैं सोचता हूँ कि शक की तरह पूर्वाग्रह भी एक ऐसा मर्ज़ है, जिसका इलाज हकीम लुकमान के पास नहीं रहा होगा. किसी सड़क पर से औरंगजेब के नाम की तख्ती को हटा लेने से इतिहास में उनके नाम की तख्ती पर पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. कलम जब निष्पक्ष हो कर इस देश का इतिहास लिखेगी तो वह लिखेगी कि औरंगजेब कट्टर नहीं था बल्कि जिन्होंने उनके नाम की तख्ती को हटाने का काम किया है, वे सबसे बड़े कट्टर, धर्मांध, असहिष्णु और पूर्वाग्रही प्राणी थे.

बहलोल लोदी

शासक
==========
लोदी वंश में निम्नलिखित महत्त्वपूर्ण शासक हुए-

– बहलोल लोदी (1451-1489 ई.)
– सिकन्दर शाह लोदी (1489-1517 ई.)
– इब्राहीम लोदी (1517-1526 ई.)
– इब्राहीम लोदी 1526 ई. में पानीपत की पहली लड़ाई में बाबर के हाथों मारा गया और उसी के साथ ही लोदी वंश भी समाप्त हो गया।

बहलोल लोदी (1451-1489 ई.)
===============
पूरा नाम – बहलोल शाह गाजी
अन्य नाम- बहलोल लोदी
जन्म भूमि – शाहूखेल, गिलजाई कबीले, अफ़ग़ानिस्तान
मृत्यु तिथि -1489 ई.
संतान -सिकन्दर लोदी
उपाधि -19 अप्रैल, 1451 को ‘बहलोल शाह गाजी’ की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा।
धार्मिक मान्यता- धार्मिक रूप से सहिष्णु था
राज्याभिषेक -19 अप्रैल, 1451
वंश – लोदी

सिक्के का प्रचलन 
===========
बहलोल लोदी ने ‘बहलोली सिक्के’ का प्रचलन करवाया, जो अकबर के समय तक उत्तर भारत में विनिमय का प्रमुख साधन बना रहा।
अन्य जानकारी बहलोल लोदी दिल्ली का पहला अफ़ग़ान सुल्तान था, जिसने लोदी वंश की शुरुआत की। बहलोल के सुल्तान बनने के समय दिल्ली सल्तनत नाम मात्र की थी। ये शूरवीर, युद्धप्रिय और महत्त्वाकांक्षी व्यक्ति था।

बहलोल लोदी (1451-1489 ई.) दिल्ली में प्रथम अफ़ग़ान राज्य का संस्थापक था। वह अफ़ग़ानिस्तान के ‘गिलजाई कबीले’ की महत्त्वपूर्ण शाखा ‘शाहूखेल’ में पैदा हुआ था। 19 अप्रैल, 1451 को बहलोल ‘बहलोल शाह गाजी’ की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा। चूंकि वह लोदी कबीले का अग्रगामी था, इसलिए उसके द्वारा स्थापित वंश को ‘लोदी वंश’ कहा जाता है। 1451 ई. में जब सैयद वंश के अलाउद्दीन आलमशाह ने दिल्ली का तख़्त छोड़ा, उस समय बहलोल लाहौर और सरहिन्द का सूबेदार था। उसने अपने वज़ीर हमीद ख़ाँ की मदद से दिल्ली के तख़्त पर क़ब्ज़ा कर लिया।

पहला अफ़ग़ान सुल्तान
===========
बहलोल लोदी दिल्ली का पहला अफ़ग़ान सुल्तान था, जिसने लोदी वंश की शुरुआत की। बहलोल के सुल्तान बनने के समय दिल्ली सल्तनत नाम मात्र की थी। बहलोल शूरवीर, युद्धप्रिय और महत्त्वाकांक्षी व्यक्ति था। उसकी अधिकांश शक्ति शर्की शासकों से लड़ने में ही लगी रही। अपनी स्थिति मज़बूत करने के लिए उसने रोह के अफ़ग़ानों को भारत आमंत्रित किया। अपनी स्थिति कमज़ोर देखकर बहलोल ने रोह के अफ़ग़ानों को यह सोचते हुए बुलाया कि वे अपनी ग़रीबी के कलंक से छूट जायेंगे और मैं आगे बढ़ सकूँगा। अफ़ग़ान इतिहासकार अब्बास ख़ाँ सरवानी लिखता है कि “इन फ़रमानों को पाकर रोह के अफ़ग़ान सुल्तान बहलोल की ख़िदमत में हाज़िर होने के लिए टिड्डियों के दल की तरह आ गए।”

हो सकता है कि इस बात को बढ़ा-चढ़ा कर कहा गया हो। लेकिन यह सत्य है कि अफ़ग़ानों के आगमन से बहलोल न केवल शर्कियों को हराने में सफल हुआ, बल्कि भारत में मुस्लिम समाज की संरचना में भी अन्तर आया। उत्तर और दक्षिण दोनों ओर अफ़ग़ान बहुसंख्यक और महत्त्वपूर्ण हो गए थे। बहलोल लोदी ने रोह के अफ़ग़ानों को योग्यता के अनुसार जागीरें प्रदान कीं। उसने जौनपुर, मेवाड़, सम्भल तथा रेवाड़ी पर अपनी सत्ता फिर से स्थापित की और दोआब के सरदारों का दमन किया। उसने ग्वालियर पर भी क़ब्ज़ा कर लिया। इस प्रकार उसने दिल्ली सल्तनत का पुराना दरबार एक प्रकार से फिर से क़ायम किया। वह ग़रीबों से हमदर्दी रखता था और विद्वानों का आश्रयदाता था। दरबार में शालीनता और शिष्टाचार के पालन पर ज़ोर देकर तथा अमीरों को अनुशासन में बाँध कर उसने सुल्तान की प्रतिष्ठा को बहुत ऊपर उठा दिया। उसने दोआब के विद्रोही हिन्दुओं का कठोरता के साथ दमन किया, बंगाल के सूबेदार तुगरिल ख़ाँ को हराकर मार डाला और उसके प्रमुख समर्थकों को बंगाल की राजधानी ‘लखनौती’ के मुख्य बाज़ार में फ़ाँसी पर लटकवा दिया। इसके उपरान्त अपने पुत्र ‘बुग़रा ख़ाँ’ को बंगाल का सूबेदार नियुक्त करके यह चेतावनी दे दी कि, उसने भी यदि विद्रोह करने का प्रयास किया तो उसका भी हश्र वही होगा, जो तुगरिल ख़ाँ का हो चुका है।


दूरदर्शी व्यक्ति
===========
बहलोल ने अपना ध्यान सुरक्षा पर केन्द्रित किया, जिसके लिए उस समय पश्चिमोत्तर सीमा पर मंगोलों से ख़तरा था। वे किसी भी समय भारत पर आक्रमण कर सकते थे। अत: बहलोल ने अपने बड़े लड़के ‘मुहम्मद ख़ाँ’ को सुल्तान का हाक़िम नियुक्त किया और स्वयं भी सीमा के आसपास ही पड़ाव डालकर रहने लगा। उसका डर बेबुनियाद नहीं था। मंगोलों ने 1278 ई. में भारत पर आक्रमण करने का प्रयास किया, किन्तु ‘शाहआलम मुहम्मद ख़ाँ’ ने उन्हें पीछे खदेड़ दिया। 1485 ई. में पुन: आक्रमण कर वे मुल्तान तक बढ़ आये, और शाहज़ादे पर हमला करके उसे मार डाला। सुल्तान के लिए, जो कि अपने बड़े बेटे से बहुत प्यार करता था और यह उम्मीद लगाये बैठा था कि, वह उसका उत्तराधिकारी होगा, यह भीषण आघात था। बहलोल की अवस्था उस समय अस्सी वर्ष हो चुकी थी और पुत्र शोक में उसकी मृत्यु हो गई। उसकी गणना दिल्ली के सबसे शक्तिशाली सुल्तानों में होती है।

सहृदय
===========
बहलोल अपने सरदारों को ‘मसनद-ए-अली’ कहकर पुकारता था। बहलोल लोदी का राजत्व सिद्धान्त समानता पर आधारित था। वह अफ़ग़ान सरदारों को अपने समकक्ष मानता था। वह अपने सरदारों के खड़े रहने पर खुद भी खड़ा रहता था। बहलोल लोदी ने ‘बहलोली सिक्के’ का प्रचलन करवाया, जो अकबर के समय तक उत्तर भारत में विनिमय का प्रमुख साधन बना रहा। बहलोल लोदी धार्मिक रूप से सहिष्णु था। उसके सरदारों में कई प्रतिष्ठित सरदार हिन्दू थे। इनमें रायप्रताप सिंह, रायकरन सिंह, रायनर सिंह, राय त्रिलोकचकचन्द्र और राय दांदू प्रमुख हैं।

Bahlul Lodi (1451-1489 AD) – founder of Lodi Dynasty
==========

Bahlul Lodi founded the Lodi Dynasty in 1451 AD and ruled the Delhi Sultanate till 1489 AD. Alam Shah, the last ruler of Sayyid Dynasty voluntarily abandoned the throne of Delhi Sultanate in favour of Bahlul Lodi. He was of Afghan origin. He was born to a Pashtun family. During the reign of Muhammad Shah of Sayyid Dynasty, he was the Governor of Sirhind, present days Fatehgarh Sahib of Punjab. Bahlol Lodhi was one of the Afghan sardars who established himself in Punjab afer invasion of Timur

He was very trusted to Muhammad Shah. At the time of Malwa invasion, Bahul Lodi helped the Delhi Sultan with a large army and saved Delhi from Malwa. Sultan Muhammad Shah awarded him the title Khan-i-Khanan.

Successor of Bahlul Lodi: Bahlul Lodi died in 1489 AD. After his death, his son Sikandar Lodi succeeded him and ascended the throne of Delhi Sultanate.

सुल्तान सिकन्दर शाह लोदी

सिकन्दर शाह लोदी (1489-1517 ई.)
=============

पूरा नाम- सुल्तान सिकन्दर शाह
अन्य नाम- निजाम ख़ाँ, सिकन्दर लोदी
मृत्यु तिथि- 21 नवम्बर, 1517
पिता/माता- बहलोल लोदी
उपाधि -17 जुलाई, 1489 को ‘सुल्तान सिकन्दर शाह’ की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा।
राज्याभिषेक- 17 जुलाई, 1489
युद्ध -1494 ई. में बनारस के समीप हुए एक युद्ध में हुसैनशाह शर्की को परास्त कर बिहार को दिल्ली में मिला लिया।
सुधार-परिवर्तन- अनाज पर से चुंगी हटाना, व्यापारिक कर हटा दिये, जिससे अनाज, कपड़ा एवं आवश्यकता की अन्य वस्तुएँ सस्ती हो गयीं, निर्धनों के लिए मुफ़्त भोजन की व्यवस्था की
वंश -लोदी

अन्य जानकारी : सिकन्दर शाह लोदी स्वयं भी शिक्षित और विद्वान था। विद्वानों को संरक्षण देने के कारण उसका दरबार विद्वानों का केन्द्र स्थल बन गया था। प्रत्येक रात्रि को 70 विद्वान उसके पलंग के नीचे बैठकर विभिन्न प्रकार की चर्चा किया करते थे।

सिकन्दर लोदी बहलोल लोदी का पुत्र एवं उत्तराधिकारी था। इसका मूल नाम ‘निजाम ख़ाँ’ था और यह 17 जुलाई, 1489 को ‘सुल्तान सिकन्दर शाह’ की उपाधि से दिल्ली के सिंहासन पर बैठा। वह स्वर्णकार हिन्दू माँ की संतान था। धार्मिक दृष्टि से सिकन्दर लोदी सहिष्णु था। वह विद्या का पोषक व प्रेमी था। गले की बीमारी के कारण 21 नवम्बर, 1517 को उसकी मृत्यु हो गई।

विजय अभियान
सिंहासन पर बैठने के उपरान्त सुल्तान ने सर्वप्रथम अपने विरोधियों में चाचा आलम ख़ाँ, ईसा ख़ाँ, आजम हुमायूं (सुल्तान का भतीजा) तथा जालरा के सरदार तातार ख़ाँ को परास्त किया। सिकन्दर लोदी ने जौनपुर को अपने अधीन करने के लिए अपने बड़े भाई ‘बारबक शाह’ के ख़िलाफ़ अभियान किया, जिसमें उसे पूर्ण सफलता मिली। जौनपुर के बाद सुल्तान सिकन्दर लोदी ने 1494 ई. में बनारस के समीप हुए एक युद्ध में हुसैनशाह शर्की को परास्त कर बिहार को दिल्ली में मिला लिया। इसके बाद उसने तिरहुत के शासक को अपने अधीन किया। राजपूत राज्यों में सिकन्दर लोदी ने धौलपुर, मन्दरेल, उतागिरि, नरवर एवं नागौर को जीता, परन्तु ग्वालियर पर अधिकार नहीं कर सका। राजस्थान के शासकों पर प्रभावी नियंत्रण रखने के लिए तथा व्यापारिक शहर की नींव डाली।

शासन प्रबन्ध
सिकन्दर शाह लोदी गुजरात के महमूद बेगड़ा और मेवाड़ के राणा सांगा का समकालीन था। उसने दिल्ली को इन दोनों से मुक़ाबले के योग्य बनाया। उसने उन अफ़ग़ान सरदारों का दबाने की कोशिश भी की, जो जातिय स्वतंत्रता के आदी थे और सुल्तान को अपने बराबर समझते थे। सिकन्दर ने जब सरदारों को अपने सामने खड़े होने का हुक्म दिया, ताकि उनके ऊपर अपनी महत्ता प्रदर्शित कर सके। जब शाही फ़रमान भेजा जाता था तो सब सरदारों को शहर से बाहर आकर आदर के साथ उसका स्वागत करना पड़ता था। जिनके पास जागीरें थीं, उन्हें नियमित रूप से उनका लेखा देना होता था और हिसाब में गड़बड़ करने वाले और भ्रष्टाचारी ज़ागीरदारों को कड़ी सजाएँ दी जाती थीं। लेकिन सिकन्दर लोदी को इन सरदारों को क़ाबू में रखने में अधिक सफलता प्राप्त नहीं हुई। अपनी मृत्यु के समय बहलोल लोदी ने अपने पुत्रों और रिश्तेदारों में राज्य बांट दिया था। यद्यपि सिकन्दर एक बड़े संघर्ष के बाद उसे फिर से एकत्र करने में सफल हुआ था, लेकिन सुल्तान के पुत्रों में राज्य के बंटवारे का विचार अफ़ग़ानों के दिमाग़ में बना रहता था।

सुधार कार्य
सिकन्दर शाह ने भूमि के लिए एक प्रमाणिक पैमाना ‘गज-ए-सिकन्दरी’ का प्रचलन करवाया, जो 30 इंच का था। उसने अनाज पर से चुंगी हटा दी और अन्य व्यापारिक कर हटा दिये, जिससे अनाज, कपड़ा एवं आवश्यकता की अन्य वस्तुएँ सस्ती हो गयीं। सिकन्दर लोदी ने खाद्यान्न पर से जकात कर हटा लिया तथा भूमि में गढ़े हुए खज़ाने से कोई हिस्सा नहीं लिया। अपने व्यक्तित्व की सुन्दरता बनाये रखने के लिए वह दाढ़ी नहीं रखता था। सिकन्दर लोदी ने अफ़ग़ान सरदारों से समानता की नीति का परित्याग करके श्रेष्ठता की नीति का अनुसरण किया। सिकन्दर लोदी सल्तनत काल का एक मात्र सुल्तान हुआ, जिसमें खुम्स से कोई हिस्सा नहीं लिया। उसने निर्धनों के लिए मुफ़्त भोजन की व्यवस्था करायी। उसने आन्तरिक व्यापार कर को समाप्त कर दिया तथा गुप्तचर विभाग का पुनर्गठन किया।

सहिष्णु व्यक्ति
धार्मिक दृष्टि से सिकन्दर लोदी अत्यंत सहिष्णु साशक था। उसने हिन्दू मंदिरों को ज़मीनें दान दीं, पुजारी पुरोहितों को बड़े धन दिए, सरकारी खर्चे से मस्जिद का निर्माण कभी नहीं करवाया। एक इतिहासकार के अनुसार, मुसलमानों को ‘ताजिया’ निकालने एवं मुसलमान स्त्रियों को पीरों एवं सन्तों के मजार पर जाने पर सुल्तान ने प्रतिबंध लगाया। क्रोध में उसने शर्की शासकों द्वारा जौनपुर में बनवायी गयी एक मस्जिद तोड़ने का आदेश दिया, यद्यपि उलेमाओं की सलाह पर आदेश वापस ले लिया गया।

मृत्यु
जीवन के अन्तिम समय में सुल्तान सिकन्दर शाह के गले में बीमारी होने से 21 नवम्बर, 1517 को उसकी मृत्यु हो गई। आधुनिक इतिहासकार सिकन्दर लोदी को लोदी वंश का सबसे सफल शासक मानते है। सिकन्दर लोदी कहता था कि, “यदि मै अपने एक ग़ुलाम को भी पालकी में बैठा दूँ तो, मेरे आदेश पर मेरे सभी सरदार उसे अपने कन्धों पर उठाकर ले जायेगें।” सिकन्दर लोदी प्रथम सुल्तान था, जिसने आगरा को अपनी राजधानी बनाया। निष्पक्ष न्याय के लिए मियां भुआं को नियुक्त किया। सुल्तान शहनाई सुनने का शौक़ीन था।

विद्वानों का संरक्षणदाता
सिकन्दर शाह लोदी विद्या का पोषक था। वह विद्वानों और दार्शनिकों को बड़े-बड़े अनुदान देता था। इसलिए उसके दरबार में अरब और ईरान सहित विभिन्न जातियों और देशों के सुसंस्कृत विद्वान पहुँचते थे। सुल्तान के प्रयत्नों से कई संस्कृत ग्रंथ फ़ारसी भाषा में अनुवादित हुए। उसके आदेश पर संस्कृत के एक आयुर्वेद ग्रंथ का फ़ारसी में ‘फरहंगे सिकन्दरी’ के नाम से अनुवाद हुआ। उसका उपनाम ‘गुलरुखी’ था। इसी उपनाम से वह कविताएँ लिखा करता था। उसने संगीत के एक ग्रन्थ ‘लज्जत-ए-सिकन्दरशाही’ की रचना की।

सिकन्दर शाह लोदी स्वयं भी शिक्षित और विद्वान था। विद्वानों को संरक्षण देने के कारण उसका दरबार विद्वानों का केन्द्र स्थल बन गया था। प्रत्येक रात्रि को 70 विद्वान उसके पलंग के नीचे बैठकर विभिन्न प्रकार की चर्चा किया करते थे। उसने मस्जिदों को सरकारी संस्थाओं का स्वरूप प्रदान करके उन्हें शिक्षा का केन्द्र बनाने का प्रयत्न किया था। मुस्लिम शिक्षा में सुधार करने के लिए उसने तुलम्बा के विद्वान शेख़ अब्दुल्लाह और शेख़ अजीजुल्लाह को बुलाया था। उसके शासनकाल में हिन्दू भी बड़ी संख्या में फ़ारसी सीखने लगे थे और उन्हें उच्च पदों पर रखा गया था।

==========


Lodhi Dynasty (Sultan Sikandar Khan Lodhi):

Sikandar Lodhi, whose original name was Nizam Khan, ascended the throne of Delhi in 1489 A.D. and ruled up to 1517 A.D. He has been generally regarded as the greatest Sultan of the Lodhi dynasty.
Sikandar Lodhi was the son of Bahlul Lodhi and his mother was a Hindu goldsmith women. After the death of Sultan Bahlul Lodhi, he became the Sultan of Delhi Sultanate.

(His Conquests):

Sikandar Lodhi was a brave soldier who, soon after his accession to the throne, set himself to the task of preserving and extending the authority of the Delhi Empire.
1. First of all he set his hands on those chiefs from whom he feared disorder and rebellion.
2. Then he marched against his elder brother Barbak, who had assumed the title of an independent king. He was defeated and taken prisoner but was later on released.
3. Then setting his house in order he paid his attention towards Hussain Sharqi of Jaunpur who was once again busy making preparation for the recovery of his ancestral dominions. Husain Sharqi was defeated near Banaras and his army was put to an utter rout. Thus the whole of Jaunpur passed into his hands.
4. In 1495 Bihar was easily conquered and the Sultan appointed his own officers to carry on the work of administration.
5. As the Sultan wanted to carry on the work of consolidation side by side with his conquests he, instead of fighting with the ruler of Bengal, concluded a treaty with him and thus saved much of his resources.
6. The princes of Dholpur, Chanderi and Gwalior were also subdued.
7. With a view to exercising an effective control over his governors and fief-holders of Etawah, Biyana, Koil, Gwalior and Dholpur, Sikandar Lodhi laid the foundation of a new city of Agra in 1503 A.D. and made it as the headquarters of his army.
8. All those Afgan jagirdars who were inciting Fateh Khan, Sultan’s brother, to rise in revolt against the king were severely punished.

(Administration):

Sikandar Lodhi was not only a brave soldier but also a great administrator. Though mainly engaged in waging wars against the hostile neighbours and rebellious governors, he tried to organize the state machinery on efficient lines.
1. First of all he took various steps against the Afghan nobles and suppressed their individualistic tendencies very firmly. The accounts of various fief-holders were thoroughly checked and cases of embezzlement were severely punished.
2. A strict eye was kept on the provisional governors so much so that they began to receive the royal firmans well in advance by meeting the royal messenger on the way.
3. An efficient system of espionage was maintained to keep a strict watch over the provincial governors, nobles and other lawless elements of the state.
4. Like Balban he always maintained the dignity of his office and did not mix so freely with the people. He never assigned any high post to a man of low birth.
5. The interest of the poor was thoroughly looked after. Every year a list of the poor was presented to him and he gave them six months provisions according to their requirement.
6. Every attempt was made to encourage agriculture. Several corn duties were abolished to give impetus to agriculture.
7. For the promotion of trade various new roads were constructed and every attempt was made to render them free from thieves and robbers. In this way Sultan Sikandar Lodhi organized and regulated the whole machinery of his administration.

(Religious Policy):

Sultan Sikandar Lodhi encouraged Hindus to embrace Islam and for this purpose he employed both sword and money.

(Character and Achievements):

He had been generally acclaimed as the greatest of the Lodhi Sultans:
1. He was a great conqueror who tried to revive the greatness of the Delhi Sultanate. He greatly extended the boundaries of his empire by annexing Jaunpur, Chanderi, Dholpur and Gwalior. He successfully kept the turbulent chiefs and the rebellious governors under his control.
2. He was also a good administrator. He devised various ways and means to crush the individualistic tendencies of the various fief-holders and governors with a heavy hand. Their accounts were specially checked and cases of embezzlement were severely dealt with. Every step was taken for the encouragement of agriculture and trade and commerce. Nothing was spared for the welfare of the people.
3. Sultan Sikandar Lodhi was also a great lover of justice. He himself heard the complaints of even the poorest of his subjects and gave judgment with complete impartiality.
4. He was also a great patron of art and literature. He founded the new city of Agra and decorated it with many splendid buildings and great edifices. He himself was a great scholar who could compose verses in elegant Persian. He possessed a retentive memory and could store a good deal of useful knowledge. He extended his patronage to the learned and caused many great works of Sanskrit to be translated into Persian,
5. Sultan Sikandar Lodhi is considered a fanatic ruler by hindus but still most of the historians regard Sultan Sikandar Lodhi as the ablest of all the rulers of his dynasty.
Sultan Sikandar Lodhi died in 1517 and was succeeded by his son, Ibrahim Lodhi.
============
Lodhi Dynasty (Military Organization of Lodhi Empire):

The Lodhi Army consisted mainly of cavalry, elephant and infantry. The Lodhi horsemen were excellent riders and fine archers. They also had learnt some of the Mongol tactics viz.lying in ambush, luring away the enemy far from its strong base sending out scouts before engaging the enemy and avoiding a pitched battle when conscious of their own weakness. They also knew about the famous flanking movements, the tulughma. The army consisted of regular recruits maintained by the Sultan at state expense and with jagirs, and irregulars supplied by the governors and jagirdars and nobles and equipped and paid by them.

Regulars:
The regular army mostly consisted of the Afghans of the various tribes but also had Rajputs, Miwatis, with a contingent of Mughals in the personal service of the Sultan and the princes. The army was raised by the ‘Chief Bakhshi ( Bakhshi-i Mamalik ) , whose position was like that of the Minister of War, assisted by his Deputy. He also played a double role as the pay-master of the forces, in which capacity he was a civil officer of the crown. Sultan Sikandar Lodhi followed the practice of granting jagirs to soldiers and asked them to have their horses and arms from their
jagirs. The regular army consisted of elephants, cavalry, foot, matchlock-bearers, archers and artillery men, and in times of war served under a commander-in-chief, who was the principal war Councillor when the Sultan was personally present in the field. Thus Qutb Khan Lodhi was Bahlul’s Commander-in-chief; Mian Maruf bore that office for 30 years during the reign of Sultan Sikandar Lodhi and Ibrahim, and ‘Azam Humayun Khan Sherwani that of Sultan Ibrahim Lodhi. The holder of this office was known as the Amir-ul-umara.
The officer over ten ‘soldiers was known as Mir-i-Daha or Mir Daha, of 100 a Sadah, of 1,000 a Hazari. It is difficult to give in figure the idea of the Sultan’s standing army. Islam Khan Lodhi, the uncle of Bahlul and governor of Sirhind had 12 thousand Afghan and Mughal soldiers. Sultan Ibrahim Lodhi commanded about 100,000 soldiers at Panipat, consisting of regulars and feudal militia.The standing army of the Sultan does not seem to have been very much above 50 thousand. We do not know if branding was re-introduced by the Lodhi Sultans to prevent fraudulent musters. Sultan Sikandar Lodhi himself inspected recruits for determining their status and pay. A low born man had no chance of entering his service.

The Feudal Army:
The major portion of the Lodhi army consisted of feudal militia. Each local governor and jagirdar (which included many of the court-nobles) was expected to keep a contingent of cavalry according to his rank or ‘ mansab’ which determined his pay. Darya Khan Lohani, governor of Bihar Sarkar, Nasir Khan Lohani, governor of Ghazipur (Sarkar) and Shaikhzada Muhammad Qurban Farmali, The feudal governor of Oudh (Sarkar) held mansabs of 30/40 thousand; ‘Azam Humayun Sherwani governor of Kalpi Sarkar of 12 thousand,! Bhikhan Khan of 7 thousand. The provincial governors were paid salary out of the Sarkar exchequer, according to their military rank. The entire army received a share of the war-booty and was dissolved as soon as the campaign was over, or so soon as the Sultan permitted them to go The concentration of military strength in the hands’ of jagirdars and governors was a source of weakness rather than of strength to the state and brought into existence a constant tug-of-war between the centrifugal and centripetal forces, which bore its worst fruit during the reign of Sultan Ibrahim Lodhi.
The mobilization order was given by the pitching of red tents and beating of drums. On the march, an advance party led the way and after halt at night-fall, the army camps assumed the proportions of a city. The baggage and stores and tent and the female members of the Sultan’s family remained in the rear and provisions of grain were supplied through the itinerant grain merchants the banjaras’.


The battle formation consisted of the traditional five-fold divisions the vanguard, the right, left, the , center and the rear. Some times different Afghan tribes took their position and battle in the right, left or center and the entire formation. The army was commanded by the commander-in-chief, The main instrument of attack and defense consisted of the cavalry and elephant bearing archers, artillery being poor and slow in those days. The commander-in-chief or the Sultan took his position in the center, seated on an elephant which very often became the target of attack and whose flight, disability or death decided the chances of war. In a siege, the catapult’, the ballista were used for throwing stones and rockets; match-locks, mortars, artillery and gunpowder for battering walls.
The corps of elephants was prized more as a symbol of one’s dignity than as an efficient and properly integrated unit in the army as a whole. Elephants were mainly used in siege operations and in dispersing an army , disorganized by heavy cavalry charge. Infantry served mainly as a recruiting bade for the cavalry.
The war was generally begun with a skirmish, the parties retiring for rest and recuperation during nights, but night attack was always conceived of as a very effective method of probing the enemy strength. The practice of taking hostages was very common and prisoners of war especially the higher commands were well-treated. The Qutb Khan Lodhi a prisoner in Jaunpur was looked after by Bibi Raji, the mother of Husain Shah SharqI. The Sultan Bahlul Lodhi once conveyed to her husband Bibi Malka Jahan, the wife of Husain Shah taken captive in war.

Intelligence Network of Lodhi Empire :
Sultan Sikandar Khan Lodhi established an extremely efficient intelligence setup and created a strong governance framework. One story concerning his justice says that once, he was annoyed with a long, pending case that was going on for months, and one day he asked his ministers not to leave the palace unless the case was settled. Additionally, he used to send two farmans every day to his army no matter how far they are camped, one in morning and one in night and so strong was his intelligence network and so updated was he on the army’s news and happenings in his parganas that it was believed he possessed a secret lamp of Allaudin with two guardian jinns.

#LodhiSultanateHisto
==========


Lodhi Dynasty (The Tactics):

The Lodhi Army consisted mainly of cavalry, elephant and infantry. The Lodhi horsemen were excellent riders and fine archers. They also had learnt some of the Mongol tactics viz.lying in ambush, luring away the enemy far from its strong base sending out scouts before engaging the enemy and avoiding a pitched battle when conscious of their own weakness. The army consisted of regular recruits maintained by the Sultan at state expense and with jagirs, and irregulars supplied by the governors and jagirdars and nobles and equipped and paid by them.

ज़हिर उद-दिन मुहम्मद बाबर

बाबर 
===============
पूरा नाम – ज़हिर उद-दिन मुहम्मद बाबर
अन्य नाम- मुग़ल शाह, अल-सुल्तानु इ आज़म वा इ हकाम, पादशाह-ए-ग़ाज़ी
जन्म – 14 फ़रवरी, सन् 1483 ई.
जन्म भूमि- अन्दीना (फ़रग़ना राज्य की राजधानी)
मृत्यु तिथि – 26 दिसम्बर, सन् 1530 ई.
मृत्यु स्थान- आगरा
पिता/माता -उमर शेख़ मिर्ज़ा, क़ुतलुगनिग़ार ख़ानम (यूनुस की पुत्री)
संतान- पुत्र- हुमायूँ, कामरान, अस्करी, हिन्दाल, पुत्री- गुलबदन बेगम
उपाधि -ग़ाज़ी (खानवा के युद्ध में विजय के बाद)
शासन काल- सन 1526 से 1530 ई.
शा. अवधि -4 वर्ष
राज्याभिषेक- 8 जून, सन् 494 ई. 
युद्ध -पानीपत का प्रथम युद्ध, खानवा का युद्ध, चंदेरी का युद्ध, घाघरा का युद्ध
निर्माण- क़ाबुली बाग़ मस्जिद,, जामी मस्जिद , आगरा की मस्जिद , नूर अफ़ग़ान, बाबरी मस्जिद
उत्तराधिकारी- हुमायूँ
राजघराना- चग़ताई वंश
वंश -तैमूर और चंग़ेज़ ख़ाँ का वंश 
मक़बरा -क़ाबुल
भारत पर आक्रमण- बाजौर एवं भीरा आक्रमण 1518 से 1519 ई., पेशावर आक्रमण 1519 ई., स्यालकोट, भीरा आक्रमण 1520 ई., सुल्तानपुर, लाहौर, दीपालपुर आक्रमण 1524 ई.
रचनाऐं – बाबरनामा या तुज़ुक़-ए-बाबरी, दीवान , रिसाल-ए-उसज , मुबइयान

ज़हिर उद-दिन मुहम्मद बाबर (अंग्रेज़ी: Babur, जन्म- 14 फ़रवरी, 1483 ई., फ़रग़ना; मृत्यु- 26 दिसम्बर, 1530 ई., आगरा) जो कि भारतीय इतिहास में बाबर के नाम से प्रसिद्ध है, मुग़ल शासक था। वह भारत में मुग़ल वंश का संस्थापक था। बाबर तैमूर लंग के परपोता था और विश्वास रखता था कि चंगेज़ ख़ान उसके वंश का पूर्वज था। 1526 ई. में पानीपत के प्रथम युद्ध में दिल्ली सल्तनत के अंतिम वंश (लोदी वंश) के सुल्तान इब्राहीम लोदी की पराजय के साथ ही भारत में मुग़ल वंश की स्थापना हो गई थी। इस वंश का संस्थापक ज़हिर उद-दिन मुहम्मद बाबर था। बाबर का पिता उमर शेख़ मिर्ज़ा, फ़रग़ना का शासक था, जिसकी मृत्यु के बाद बाबर राज्य का वास्तविक अधिकारी बना। पारिवारिक कठिनाईयों के कारण वह मध्य एशिया के अपने पैतृक राज्य पर शासन नहीं कर सका। उसने केवल 22 वर्ष की आयु में क़ाबुल पर अधिकार कर अफ़ग़ानिस्तान में राज्य क़ायम किया था। वह 22 वर्ष तक क़ाबुल का शासक रहा। उस काल में उसने अपने पूर्वजों के राज्य को वापिस पाने की कई बार कोशिश की, पर सफल नहीं हो सका।

जन्म एवं अभिषेक
===========
14 फ़रवरी, 1483 ई. को फ़रग़ना में ‘ज़हीरुद्दीन मुहम्मद बाबर’ का जन्म हुआ। बाबर अपने पिता की ओर से तैमूर का पाँचवा एवं माता की ओर से चंगेज़ ख़ाँ (मंगोल नेता) का चौदहवाँ वंशज था। उसका परिवार तुर्की जाति के ‘चग़ताई वंश’ के अन्तर्गत आता था। बाबर अपने पिता ‘उमर शेख़ मिर्ज़ा’ की मृत्यु के बाद 11 वर्ष की आयु में शासक बना। उसने अपना राज्याभिषेक अपनी दादी ‘ऐसान दौलत बेगम’ के सहयोग से करवाया। बाबर ने अपने फ़रग़ना के शासन काल में 1501 ई. में समरकन्द पर अधिकार किया, जो मात्र आठ महीने तक ही उसके क़ब्ज़े में रहा। 1504 ई. में क़ाबुल विजय के उपरांत बाबर ने अपने पूर्वजों द्वारा धारण की गई उपाधि ‘मिर्ज़ा’ का त्याग कर नई उपाधि ‘पादशाह’ धारण की।

बाबर की भारत विजय
===========
बाबर का भारत के विरुद्व किया गया प्रथम अभियान 1519 ई. में ‘युसूफजाई’ जाति के विरुद्ध था। इस अभियान में बाबर ने ‘बाजौर’ और ‘भेरा’ को अपने अधिकार में किया। यह बाबर का प्रथम भारतीय अभियान था, जिसमें उसने तोपखाने का प्रयोग किया था। 1519 ई. के अपने दूसरे अभियान में बाबर ने ‘बाजौर’ और ‘भेरा’ को पुनः जीता साथ ही ‘स्यालकोट’ एवं ‘सैय्यदपुर’ को भी अपने अधिकार में कर लिया। 1524 ई. के चौथे अभियान के अन्तर्गत इब्राहीम लोदी एवं दौलत ख़ाँ लोदी के मध्य मतभेद हो जाने के कारण दौलत ख़ाँ, जो उस समय लाहौर का गवर्नर था, ने पुत्र दिलावर ख़ाँ एवं आलम ख़ाँ (बहलोल ख़ाँ का पुत्र) को बाबर को भारत पर आक्रमण करने के लिए आमंत्रित करने के लिए भेजा। सम्भवतः इसी समय राणा सांगा ने भी बाबर को भारत पर आक्रमण करने के लिए निमत्रंण भेजा था।

बाबर को भारत आमंत्रण के कारण
===========
– बाबर को भारत पर आक्रमण के लिए आमंत्रित करने के पीछे सम्भवतः कुछ कारण इस प्रकार थे-
– दौलत ख़ाँ पंजाब में अपना स्वतन्त्र अस्तित्व बनाये रखना चाहता था।
– आलम ख़ाँ किसी भी तरह से दिल्ली के सिंहासन पर अपना अधिकार करना चाहता था।
– राणा सांगा सम्भवतः बाबर के द्वारा अफ़ग़ानों की शक्ति को नष्ट करवा कर स्वयं दिल्ली के सिंहासन को प्राप्त करना चाहता था।

अपने चौथे अभियान 1524 ई. में बाबर ने लाहौर एवं दीपालपुर पर अधिकार कर लिया। नवम्बर 1526 ई. में बाबर द्वारा किये गये पाँचवे अभियान में, जिसमें बदख्शाँ की सैनिक टुकड़ी के साथ बाबर का पुत्र हुमायूँ भी आ गया था, उसने सर्वप्रथम दौलत ख़ाँ को समर्पण के लिए विवश किया और बाद में उसे बन्दी बना लिया गया। शीघ्र ही आलम ख़ाँ ने भी आत्समर्पण कर दिया। इस तरह पूरा पंजाब बाबर के क़ब्ज़े में आ गया।

पानीपत का प्रथम युद्ध (21 अप्रैल, 1526 ई.)
===========
इस समय इब्राहीम लोदी दिल्ली का सुल्तान था और दौलत ख़ाँ लोदी पंजाब का राज्यपाल। दौलत ख़ाँ लोदी, इब्राहीम लोदी से नाराज़ था। उसने दिल्ली सल्तनत से विद्रोह कर बाबर को अपनी मदद के लिये क़ाबुल से बुलाया। बाबर ख़ुद भी भारत पर हमला करना चाह रहा था। वह दौलत ख़ाँ लोदी के निमन्त्रण पर भारत पर आक्रमण करने की तैयारी करने लगा। उस समय तुर्क-अफ़ग़ान भारत पर आक्रमण लूट से मालामाल होने के लिये करते रहते थे। बाबर एक बहुत बड़ी सेना लेकर पंजाब की ओर चल दिया।

यह युद्ध सम्भत: बाबर की महत्वाकांक्षी योजनाओं की अभिव्यक्ति थी। यह युद्ध दिल्ली के सुल्तान इब्राहीम लोदी (अफ़ग़ान) एवं बाबर के मध्य लड़ा गया। 12 अप्रैल, 1526 ई. को दोनों ओर की सेनाएँ पानीपत के मैदान में आमने-सामने आ गईं और युद्ध का आरम्भ 21 अप्रैल को हुआ। ऐसा माना जाता है कि इस युद्ध का निर्णय दोपहर तक ही हो गया। युद्ध में इब्राहीम लोदी बुरी तरह से परास्त हुआ और मार दिया गया। बाबर ने अपनी कृति ‘बाबरनामा’ में इस युद्ध को जीतने में मात्र 12000 सैनिकों के उपयोग किए जाने का उल्लेख किया है। किन्तु इस विषय पर इतिहासकारों में बहुत मतभेद है। इस युद्ध में बाबर ने पहली बार प्रसिद्ध ‘तुलगमा युद्ध नीति’ का प्रयोग किया। इसी युद्ध में बाबर ने तोपों को सजाने में ‘उस्मानी विधि’ (रूमी विधि) का प्रयोग किया था। बाबर ने तुलगमा युद्ध पद्धति उजबेकों से ग्रहण की थी। पानीपत के ही युद्ध में बाबर ने अपने प्रसिद्ध निशानेबाज़ ‘उस्ताद अली’ और ‘मुस्तफा’ की सेवाएँ लीं।

इस युद्ध में लूटे गए धन को बाबर ने अपने सैनिक अधिकारियों, नौकरों एवं सगे सम्बन्धियों में बाँट दिया। सम्भवत: इस बँटवारे में हुमायूँ को वह कोहिनूर हीरा प्राप्त हुआ, जिसे ग्वालियर नरेश ‘राजा विक्रमजीत’ से छीना गया था। इस हीरे की क़ीमत के बारे में यह माना जाता है कि इसके मूल्य द्वारा पूरे संसार का आधे दिन का ख़र्च पूरा किया जा सकता था। भारत विजय के ही उपलक्ष्य में बाबर ने प्रत्येक क़ाबुल निवासी को एक-एक चाँदी का सिक्का उपहार स्वरूप प्रदान किया था। अपनी इसी उदारता के कारण उसे ‘कलन्दर’ की उपाधि दी गई थी। पानीपत विजय के बाद बाबर ने कहा, ‘काबुल की ग़रीबी अब फिर हमारे लिए नहीं’। पानीपत के युद्ध ने भारत के भाग्य का तो नहीं, किन्तु लोदी वंश के भाग्य का निर्णय अवश्य कर दिया। अफ़ग़ानों की शक्ति समाप्त नहीं हुई, लेकिन दुर्बल अवश्य हो गई। युद्ध के पश्चात् दिल्ली तथा आगरा पर ही नहीं, बल्कि धीरे-धीरे लोदी साम्राज्य के समस्त भागों पर भी बाबर ने अधिकार कर लिया।

खानवा का युद्ध (17 मार्च, 1527 ई.)
===========
उत्तरी भारत में दिल्ली के सुल्तान के बाद सबसे अधिक शक्तिशाली शासक चित्तौड़ का राजपूत राणा साँगा (संग्राम सिंह) था। उसने दो मुसलमानों, इब्राहीम लोदी और बाबर के युद्ध में तटस्थता की नीति अपनायी। वह सोचता था कि बाबर लूट-मारकर वापिस चला जायेगा, तब लोदी शासन को हटा दिल्ली पर कब्ज़ा किया जायेगा । जब उसने देखा कि बाबर मुग़ल राज्य की स्थापना का आयोजन कर रहा है, तब वह उससे युद्ध करने के लिए तैयार हुआ। राणा सांगा वीर और कुशल सेनानी था। वह अनेक युद्ध कर चुका था, उसे सदैव विजय प्राप्त हुई थी। उधर बाबर ने भी समझ लिया था कि राणा सांगा के रहते हुए भारत में मुग़ल राज्य की स्थापना करना सम्भव नहीं हैं; अत: उसने भी अपनी सेना के साथ राणा से युद्ध करने का निश्चय किया।

17 मार्च, 1527 ई. में खानवा का युद्ध बाबर और राणा सांगा के बीच लड़ा गया। इस युद्ध के कारणों के विषय में इतिहासकारों के अनेक मत हैं। पहला, चूँकि पानीपत के युद्ध के पूर्व बाबर एवं राणा सांगा में हुए समझौतें के तहत इब्राहिम लोदी के ख़िलाफ़ सांगा को बाबर के सैन्य अभियान में सहायता करनी थी, जिससे राणा सांगा बाद में मुकर गया था । दूसरा, सांगा बाबर को दिल्ली का बादशाह नहीं मानता था। इन दोनों कारणों से अलग कुछ इतिहासकारों का मानना है कि, यह युद्ध बाबर एवं राणा सांगा की महत्वाकांक्षी योजनाओं का परिणाम था, परिणामस्वरूप दोनों सेनाओं के मध्य 17 मार्च, 1527 ई. को युद्ध आरम्भ हुआ। इस युद्ध में राणा सांगा का साथ मारवाड़, अम्बर, ग्वालियर, अजमेर, हसन ख़ाँ मेवाती, बसीन चंदेरी एवं इब्रहिम लोदी का भाई महमूद लोदी दे रहे थे।

इस युद्ध में राणा सांगा के संयुक्त मोर्चे की ख़बर से बाबर के सैनिकों का मनोबल गिरने लगा। बाबर ने अपने सैनिकों के उत्साह को बढ़ाने के लिए शराब पीने और बेचने पर प्रतिबन्ध की घोषणा कर शराब के सभी पात्रों को तुड़वा कर शराब न पीने की कसम ली, उसने ‘तमगा कर’ न लेने की घोषणा की। तमगा एक प्रकार का व्यापारिक कर था, जिसे राज्य द्वार लगाया जाता था। इस तरह खानवा के युद्ध में भी पानीपत युद्ध की रणनीति का उपयोग करते हुए बाबर ने राणा सांगा के विरुद्ध एक सफल युद्ध की रणनीति तय की।

बाबर की विजय
===========
राजस्थान के ऐतिहासिक काव्य ‘वीर विनोद’ में सांगा और बाबर के इस युद्ध का विस्तारपूर्वक वर्णन किया गया है कि, बाबर बीस हज़ार मुग़ल सैनिकों को लेकर सांगा से युद्ध करने आया था। उसने सांगा की सेना के लोदी सेनापति को प्रलोभन दिया, जिससे वह सांगा को धोखा देकर सेना सहित बाबर से जा मिला। बाबर और सांगा की पहली मुठभेड़ बयाना में और दूसरी उसके पास खानवा नामक स्थान पर हुई थी। राजपूतों ने वीरतापूर्वक युद्ध किया। अंत में सांगा की हार हुई और बाबर की विजय। इस विजय कारण बाबर उनका आधुनिक तोपख़ाना था। राजपूतों से युद्ध करते हुए तुर्कों के पैर उखड़ गये, जिससे राजपूतों की विजय और तुर्कों की पराजय दिखाई देने लगी, किंतु जब बाबर के तोपख़ाने ने आग बरसायी, तब सांगा की जीती बाज़ी हार में बदल गई। बाबर ने राजपूतों के बारे में लिखा है,− ‘वे मरना−मारना तो जानते है; किंतु युद्ध करना नहीं जानते।’ सांगा और बाबर का यह निर्णायक युद्ध फ़तेहपुर सीकरी के पास खानवा नामक स्थान में 16 अप्रैल, सन् 1527 में हुआ था। इस तरह उस समय के ब्रजमंडल में जयचंद्र के बाद राणा सांगा की भी हार हुई।

इस युद्ध में राणा सांगा घायल हुआ, पर किसी तरह अपने सहयोगियों द्वारा बचा लिया गया। कालान्तर में अपने किसी सामन्त द्वारा ज़हर दिये जाने के कारण राणा सांगा की मृत्यु हो गई। खानवा के युद्ध को जीतने के बाद बाबर ने ‘ग़ाज़ी’ की उपाधि धारण की।

बाबर के जीवन में स्थिरता
===========
खानवा के युद्ध के उपरान्त बाबर के जीवन में स्थिरता आई। 29 जनवरी, 1528 ई. को बाबर ने ‘चंदेरी के युद्ध’ में वहाँ के सूबेदार ‘मेदिनी राय’ को परास्त किया। मेदिनी राय की दो पुत्रियों का विवाह ‘कामरान’ एवं ‘हुमायूँ’ से हुआ । 6 मई, 1529 ई. को बाबर ने ‘घाघरा के युद्ध’ में बंगाल एवं बिहार की संयुक्त सेना को परास्त किया। घाघरा युद्ध जल एवं थल पर लड़ा गया। परिणामस्वरूप बाबर का साम्राज्य ऑक्सस से घाघरा एवं हिमालय से ग्वालियर तक पहुँच गया। घाघरा युद्ध के बाद बाबर ने बंगाल के शासक नुसरत शाह से संधि कर उसके साम्राज्य की संप्रभुता को स्वीकार किया। नुसरत शाह ने बाबर को आश्वासन दिया कि वह बाबर के शत्रुओं को अपने साम्राज्य में शरण नहीं देगा।

मुग़ल राज्य की स्थापना
===========
इब्राहीम लोदी और राणा साँगा की हार के बाद बाबर ने भारत में मुग़ल राज्य की स्थापना की और आगरा को अपनी राजधानी बनाया। उससे पहले सुल्तानों की राजधानी दिल्ली थी; किंतु बाबर ने उसे राजधानी नहीं बनाया, क्योंकि वहाँ पठान थे, जो तुर्कों की शासन−सत्ता पंसद नहीं करते थे। प्रशासन और रक्षा दोनों नज़रियों से बाबर को दिल्ली के मुक़ाबले आगरा सही लगा। मुग़ल राज्य की राजधानी आगरा होने से शुरू से ही ब्रज से घनिष्ट संबंध रहा। मध्य एशिया में शासकों का सबसे बड़ा पद ‘ख़ान’ था, जो मंगोल वंशियों को ही दिया जाता था। दूसरे बड़े शासक ‘अमीर’ कहलाते थे। बाबर का पूर्वज तैमूर भी ‘अमीर’ ही कहलाता था। भारत में दिल्ली के मुस्लिम शासक ‘सुल्तान’ कहलाते थे। बाबर ने अपना पद ‘बादशाह’ घोषित किया था। बाबर के बाद सभी मुग़ल सम्राट ‘बादशाह’ कहलाये गये।

मृत्यु
===========
बाबर केवल 4 वर्ष तक भारत पर राज्य कर सका। लगभग 48 वर्ष की आयु में 26 दिसम्बर, 1530 ई. को बाबर की आगरा में मृत्यु हो गई। प्रारम्भ में उसके शव को आगरा के ‘आराम बाग़’ में रखा गया, पर अंतिम रूप से बाबर की अंतिम इच्छानुसार उसका शव क़ाबुल ले जाकर दफ़नाया गया, जहाँ उसका मक़बरा बना हुआ है। उसके बाद उसका ज्येष्ठ पुत्र हुमायूँ मुग़ल बादशाह बना।

बाबर की उपलब्धियाँ
===========
सम्भवतः बाबर कुषाणों के बाद ऐसा पहला शासक था, जिसने काबुल एवं कंधार को अपने पूर्ण नियंत्रण में रखा। उसने भारत में अफ़ग़ान एवं राजपूत शक्ति को समाप्त कर ‘मुग़ल साम्राज्य’ की स्थापना की, जो लगभग पौने दो सौ वर्षों तक जीवित रहा। बाबर ने भारत पर आक्रमण कर एक नई युद्ध नीति का प्रचलन किया। बाबर ने सड़कों की माप के लिए ‘गज़-ए-बाबरी’ का प्रयोग का शुभारम्भ किया।

विद्वान् व्यक्ति
===========
बाबर योग्य शासक होने के साथ ही तुर्की भाषा का विद्वान् भी था। उसने तुर्की भाषा में अपनी आत्मकथा ‘बाबरनामा’ की रचना की, जिसका फ़ारसी भाषा में अनुवाद बाद में अब्दुल रहीम ख़ानख़ाना ने किया। लीडेन एवं अर्सकिन ने 1826 ई. में ‘बाबरनामा’ का अंग्रेज़ी भाषा में अनुवाद किया। बेवरिज ने इसका एक संशोधित अंग्रेज़ी संस्करण निकाला। इसके अतिरिक्त बाबर को ‘मुबइयान’ नामक पद्य शैली का जन्मदाता भी माना जाता है। इसके अतिरिक्त बाबर ने ‘खत-ए-बाबरी’ नामक एक लिपि का भी अविष्कार किया। बाबर ने अपनी आत्मकथा ‘बाबरनामा’ में केवल पाँच मुस्लिम शासकों- बंगाल, दिल्ली, मालवा, गुजरात एवं बहमनी राज्यों तथा दो हिन्दू शासकों मेवाड़ एवं विजयनगर का उल्लेख किया है।

प्रमुख इतिहासकारों के मत
स्मिथ ने बाबर को अपने युग के एशियाई शासकों में सबसे अधिक प्रतिभाशाली एवं किसी देश तथा काल के सम्राटों में उच्च पद पानें योग्य बताया।
रशब्रुक ने तो एक व्यक्ति एवं शासक के रूप में बाबर की भूरि-भूरि प्रशंसा की है।
इलियट ने कहा कि, ‘प्रसन्न चित्त’, वीर, महान, विचारशील तथा निष्पक्ष व्यक्तित्व के कारण यदि बाबर का पालन-पोषण एवं प्रशिक्षण इंग्लैण्ड में होता तो अवश्य ही वह ‘हेनरी चतुर्थ’ होता।

===============

अगर “बाबर” न आता तो भारत कैसा होता?

14 फरवरी 1483 को एक ऐतिहासिक व्यक्ति और शायद विवादास्पद भी, का जन्म हुआ था. विवादास्पद इसलिए कि भारत में कुछ लोग उन्हें आक्रमणकारी कहते हैं और अयोध्या में बाबरी मस्जिद-रामजन्मभूमि विवाद के लिए उन्हें ज़िम्मेदार ठहराया जाता है ।

लेकिन उनकी शख़्सियत विभिन्न रंगों से भरी थी. वे कोई और नहीं भारत में मुग़ल साम्राज्य के संस्थापक बाबर थे ।

ज़हीरुद्दीन मोहम्मद बाबर 14 फ़रवरी 1483 को अन्दिजान में पैदा हुए थे, जो फ़िलहाल उज़्बेकिस्तान का हिस्सा है. आक्रमणकारी हों या विजेता, लेकिन ऐसा लगता है कि बाबर के बारे में आम तौर से लोगों को न तो अधिक जानकारी है और न ही दिलचस्पी ।

मुग़ल सम्राटों में अकबर और ताज महल बनवाने वाले शाहजहाँ के नाम सब से ऊपर हैं. लेकिन जैसा कि इतिहासकार हरबंस मुखिया कहते हैं, ”बाबर का व्यक्तित्व संस्कृति, साहसिक उतार-चढ़ाव और सैन्य प्रतिभा जैसी ख़ूबियों से भरा हुआ था.” ।

अगर बाबर भारत न आता तो भारतीय संस्कृति के इंद्रधनुष के रंग फीके रहते. उनके अनुसार भाषा, संगीत, चित्रकला, वास्तुकला, कपड़े और भोजन के मामलों में मुग़ल योगदान को नकारा नहीं जा सकता.

■ बाबर के बारे में कुछ दिलचस्प बातों पर एक नज़र:

1. बाबर ने 1526 में पानीपत की लड़ाई में जीत की ख़ुशी में पानीपत में ही एक मस्जिद बनवाई थी, जो आज भी वहीँ खड़ी है ।

2. बाबर दुनिया के पहले शासक थे, जिन्होंने अपनी आत्मकथा लिखी. बाबरनामा उनके जीवन की नाकामियों और कामयाबियों से भरी पड़ी है ।

3. हरबंस मुखिया के अनुसार बाबर की सोच थी कि कभी हार मत मानो. उन्हें समरक़ंद (उज़्बेकिस्तान) हासिल करने का जुनून सवार था ।

4. उन्होंने समरक़ंद पर तीन बार क़ब्ज़ा किया, लेकिन तीनों बार उन्हें शहर से हाथ धोना पड़ा. अगर वे समरक़ंद का राजा बने रहते तो शायद काबुल और भारत पर राज करने की कभी नहीं सोचते ।

5. भारत में भले बाबर को वो सम्मान नहीं मिला, जो उनके पोते अकबर को मिला था, लेकिन उज़्बेकिस्तान में बाबर को वही दर्जा हासिल है जो भारत में अकबर को ।

6. उनकी किताब के कई शब्द भारत में आम तौर से प्रचलित हैं. ‘मैदान’ शब्द का भारत में पहली बार इस्तेमाल बाबरनामा में देखने को मिला. प्रोफ़ेसर हरबंस मुखिया कहते हैं कि आज भी भारत में बोली जाने वाली भाषाओँ में तुर्की और फ़ारसी शदों का प्रयोग आम है ।

उन्होंने 1930-40 में राज करने वाले एक मराठी हाकिम का उदाहरण देते हुए कहा कि उसने अपनी भाषा में उर्दू और फ़ारसी शब्दों से पाक करने के लिए एक फ़रमान जारी किया , उनके एक सलाहकार ने कहा कि हुज़ूर ‘फ़रमान’ समेत आपके फ़रमान में इस्तेमाल किए गए 40 प्रतिशद शब्द फ़ारसी और उर्दू के हैं 😆

7. प्रोफ़ेसर मुखिया के अनुसार तुर्क भाषा में कविता लिखने वाली दो बड़ी हस्तियां गुज़रीं, उनमें से एक बाबर थे ।

8. बाबर की कठोरता की मिसालें मिलती हैं, लेकिन उनकी मृदुलता के भी कई उदाहरण हैं. एक बार वे जंग की तैयारी में लगे थे कि किसी ने उन्हें ख़रबूज़ पेश किया. बाबर ख़ुशी के मारे रो पड़े. सालों से उन्होंने ख़रबूज़े की शकल नहीं देखी थी ।

9. बाबर 12 वर्ष की उम्र में राजा बने, लेकिन 47 साल की उम्र में मरते दम तक वे युद्ध में जुटे रहे । इसके बावजूद बाबर ने पारिवारिक ज़िम्मेदारियां निभाईं. उनकी ज़िन्दगी पर माँ और नानी का गहरा असर था जिन्हें वे बेइंतहा प्यार करते थे. वे अपनी बड़ी बहन के लिए एक आदर्श भाई थे ।

10. मुग़ल बादशाह हुमांयूं बाबर के सबसे बड़े बेटे थे. उनके लिए बाबर एक समर्पित पिता थे. हुमांयूं एक बार बहुत बीमार पड़ गए. बाबर ने बीमार हुमांयू के जिस्म के तीन गर्दिश किए और ख़ुदा से दुआ मांगी कि उनके बेटे को स्वस्थ कर दे और उसकी जगह पर उनकी जान ले ले ।

हुमांयू तो ठीक हो गए. लेकिन कुछ महीनों में बाबर बीमार हुए और उनकी मौत हो गई ।

source : BBC Hindi

==============

मुग़ल साम्राज्य का इतिहास 
================
मुग़ल साम्राज्य की शुरुवात 1526 में हुयी, जिसने 18 शताब्दी के शुरुवात तक भारतीय उप महाद्वीप में राज्य किया था। जो 19 वी शताब्दी के मध्य तक लगभग समाप्त हो गया था। मुग़ल साम्राज्य तुर्क-मंगोल पीढी के तैनुर वंशी थे। मुग़ल साम्राज्य – Mughal Empire ने 1700 के आसपास अपनी ताकत को बढ़ाते हुए भारतीय महाद्वीपों के लगभग सभी भागो को अपने साम्राज्य के नीचे कर लिया था।

तब तक उस समय इस साम्राज्य के निचे लगभग 12 करोड़ लोग थे। जिसका पहला बादशाह बाबर और अंतिम बादशाह बहादुर शाह द्वितीय था। तो आईये इन दोनों बादशाह के बिच का मुग़ल साम्राज्य का इतिहास जानते हैं।

मुग़ल साम्राज्य के बादशाहों के नामों की सूची 
================

1. बाबर– 1526 – 1530
बाबर भारत में मुगल वंश का संस्थापक था। जिसका पूरा नाम ज़हिर उद-दिन मुहम्मद बाबर था। बाबर का जन्म फ़रगना घाटी के अन्दीझ़ान नामक शहर में हुआ था। भारत में मुग़ल साम्राज्य की नीव बाबर ने ही रखी थी। भारत में मुग़ल साम्राज्य की नीव बाबर ने ही रखी थी। जहां बाबर के पूर्वजों ने भारत में आकर लुट पाट, मार काट कर के चले गये वही बाबर भारत आकर यही के हो गये।

2. नसीरुद्दीन मोहम्मद हुमायूँ – 1530-1540
मुगल शासक हुमायूँ मुग़ल साम्राज्य के दुसरे बादशाह थे। जिन्होंने अपने पिता बाबर के बाद 1556 तक राज किया। हुमायूँ के मृत्यु तक मुग़ल साम्राज्य बहुत ज्यादा बढ़ गया था।

3. शेर शाह सूरी – 1540-1545
शेर शाह सूरी सूरी साम्राज्य के संस्थापक था। जिसने मुग़ल साम्राज्य के एक छोटेसे सेनापति के रूप में काम किया था। और एक सैनिक के रूप में काम करते करते बढ़त पाकर सेनापति बन गया। जब मुग़ल शासक हुमायूँ किसी अभियान पर था तभी शेर शाह सूरी ने मुग़ल शासक के विरोध में जाकर बंगाल पर अपना कब्ज़ा जमाकर सूरी साम्राज्य की स्थापना की।

4. इस्लाम शाह सूरी – 1545-1554
इस्लाम शाह सूरी ने अपने पिता शेर शाह सूरी के साम्राज्य को आगे बढाया। जिसे उसने 1545 से लेकर 1554 तक चलाया। लेकिन बादमें मुग़ल शासक हुमायूँ ने वापिस जीत लिया।

5. नसीरुद्दीन मोहम्मद हुमायूँ – 1555-1556
हुमायूँ ने 1555 में अपने हारे हुए साम्राज्य को ईरान साम्राज्य की मदत लेकर इस्लाम शाह सूरी को हराकर मुग़ल साम्राज्य को वापिस से प्रस्थापित किया। लेकिन उसके एक साल बाद 1556 में हुमायूँ की मृत्यु हो गयी।

6. जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर – 1556-1605
अकबर अपने पिता के मृत्यु के बाद 14 वर्ष की आयु में ही मुग़ल साम्राज्य के अगले शासक बने जो एक नए ढंग से मुग़ल साम्राज्य को चलाने के लिए जाने और माने जाते हैं। अकबर ने 1605 मृत्यु तक मुग़ल साम्राज्य पर राज किया।

7. नुरुद्दीन मोहम्मद जहाँगीर – 1605-1627
अपने पिता अकबर के मृत्यु के बाद जहाँगीर ने सत्ता संभाली। जहाँगीर ने 1605 से अपनी मृत्यु 1627 तक मुग़ल साम्राज्य पर राज्य किया।

8. शहाबुद्दीन मोहम्मद शाहजहाँ – 1627-1658
शाहजहाँ अपनी पिता जहाँगीर के मृत्यु के बाद मुग़ल साम्राज्य के बादशाह बने जो मुग़ल साम्राज्य के सबसे बड़े लोकप्रिय और चर्चित रहने वाले बादशाह थे, जो खास तौर पर अपनी बेग़म मुमताज महल के लिए दुनिया का सबसे खुबसूरत ताजमहल बनाने के लिए याद किए जाये हैं।

9. मोइनुद्दीन मोहम्मद औरंगजेब आलमगीर – 1658-1707
औरंगजेब मुगल साम्राज्य के सबसे शक्तिशाली और धनि बादशाह थे। जिनके कार्यकाल में मुगल साम्राज्य ने सबसे ज्यादा विस्तार किया। अपने जीवनकाल में औरंगजेब ने लाल किले में मोती मज्जिद, लाहोर की बादशाही मज्जिद, और बीबी का मकबरा जैसे निर्माण कियें।

10. बहादुरशाह जफर I उर्फ शाह आलम I – 1707-1712
बहादुरशाह जफर I उर्फ शाह आलम I मुग़ल साम्राज्य पर 1707 से लेकर 1712 तक पांच साल राज्य किया।

11. जहान्दर शाह – 1712-1713
जहान्दर शाह बहुत छोटी सी अवधी के लिए मुग़ल साम्राज्य के शासक बने। जिन्होंने 1712 से 1713 तक एक साल मुग़ल साम्राज्य पर राज्य किया।

12. फुर्रूखसियर – 1713-1719
फुर्रूखसियर का जन्म 20 अगस्त 1685 में हुआ। वे 1713 से लेकर 1719 तक मुग़ल साम्राज्य के शासक बने।

13. रफी उल-दर्जात – 1719
रफी उल-दर्जात छोटीसी अवधी के लिए मुग़ल साम्राज्य के शासक बने।

14. रफी उद-दौलत उर्फ शाहजहाँ II – 1719
रफी उद-दौलत उर्फ शाहजहाँ II बहुत कम समय मुग़ल साम्राज्य के शासक बनकर बिताया।

15. निकुसियर – 1719
निकुसियर बहुत छोटी सी अवधी के लिए मुग़ल साम्राज्य के शासक बने।

16. मोहम्मद इब्राहिम – 1720
मोहम्मद इब्राहिम छोटीसी अवधी के लिए मुग़ल साम्राज्य के शासक बने।

17. मोहम्मद शाह – 1719-1720, 1720-1748 
मुहम्मद शाह मुगल सम्राट था, जिन्हें रोशन अख्तर भी कहते थे। उनकी मृत्यु 1748 में हुयी और वो उनकी मृत्यु तक मुग़ल शासक बने रहे।

18. अहमद शाह बहादुर – 1748-54
अहमद शाह बहादुर अपने पिता के बाद 15 वर्ष की उम्र में मुग़ल शासक बने।

19. आलमगीर II – 1754-1759
आलमगीर II 1754 से लेकर 1759 तक मुग़ल साम्राज्य के शासक बने वे बादशाह जहांदार शाह के पुत्र थे।

20. शाहजहाँ III – 1759
शाहजहाँ III औरंगज़ेब का कनिष्ठ पुत्र थे। जिनका कार्यकाल बहुत काम अवधी का रहा।

21. शाह आलम II – 1759-1806, 1806-1837
शाह आलम II को मुग़ल साम्राज्य की गद्दी अपने पिता, आलमगीर II से मिली।

22. बहादुर ज़फ़र शाह II – 1837-1857

बहादुर ज़फ़र शाह II मुग़ल साम्राज्य के आखिरी बादशाह थे। 1857 के स्वतंत्रता संग्राम में अंग्रजो के खिलाफ़ लढ़े जिसमे उन्हें हार प्राप्त हुयी। हार के बाद अंग्रजों ने उन्हें अभी के म्यांमार में भेज दिया जह वो उनके मृत्यु तक रहे। और इस तरह उनके मृत्यु के साथ मुग़ल साम्राज्य का अंत हो गया।सूरी वंश के साशक थे|
============

उजबेक साहित्यकार पिरिमकुल कादिरोव ने इस उपन्यास में जहीरुद्दीन मुहम्मद बाबर के बारे में लिखा है , जो मावराउन्नहर और हिंदुस्तान जैसे महान राज्यों का शासक होने के साथ -साथ अपने समय के विज्ञ व्यक्तियों में भी गिना जाता था । समरकन्द से लेकर हिंदुस्तान तक के बीच मौजूद जनसाधारण की तत्कालीन सोच-समझ के साथ बाबर के बहुआयामी व्यक्तित्व को जानने -समझने का मौका मिलेगा । एक शायर ,इतिहासकार और बादशाह के रूप में असाधारण व्यक्तित्व के धनी बाबर को केन्द्र में रखकर लिखा गया यह उपन्यास आज किस रूप में फिर से प्रभावित करता है ।

=======

·
मुगल साम्राज्य सन् 1526 से 1857 अर्थात 331 साल का था।

अर्थात बाबर सन् 1526 में भारत के बादशाह के रूप में गद्दी पर बैठे, अकबर, बाबर के पोते थे जो 1556 में हिन्दुस्तान के शहंशाह बने, अर्थात बाबर के 30 साल बाद। बीच में 1540 से 1554 अर्थात 14 साल देश में शेरशाह सूरी का शासन था।

1556 से अकबर के बादशाह का दौर सन् 1605 तक अर्थात 49 साल चला और इसी दौर में गोस्वामी तुलसीदास का जन्म 1511 को राजापुर चित्रकूट में हुआ और उनकी मृत्यु 1623 में वाराणसी के असीघाट पर हुई, अर्थात उनका कुल जीवन 112 वर्ष का रहा। रामचरित मानस लिखने वाले गोस्वामी तुलसीदास जब 16 साल के रहे होंगे तब बाबर गद्दी पर बैठे और 17-18 साल के तुलसीदास के सामने ही रामजन्मभूमि मंदिर तोड़ कर बाबरी मस्जिद बनी।

गोस्वामी तुलसीदास बादशाह अकबर के समकालीन रहे और केवल एक “राम चरित मानस” ही नहीं बल्कि 23 पुस्तकें लिखीं।

1- रामचरितमानस
2- रामललानहछू
3- वैराग्य-संदीपनी
4- बरवै रामायण
5- पार्वती-मंगल
6- जानकी-मंगल
7- रामाज्ञाप्रश्न
8- दोहावली
9- कवितावली
10-:गीतावली
11- श्रीकृष्ण-गीतावली
12-विनयपत्रिका
13-सतसई
14-छंदावली रामायण
15-कुंडलिया रामायण
16- राम शलाका
17-संकट मोचन
18-करखा रामायण
19-रोला रामायण
20- झूलना
21- छप्पय रामायण
22- कवित्त रामायण
23-कलिधर्माधर्म निरुपण

पर मंदिर तोड़कर मस्जिद बनाने के बारे में कहीं एक लाईन ना लिख सके।

जब ऐसा कुछ होता तब तो लिखते।

सोर्स : Muhammad Zahid

=======


क्या मुगलों ने लूट लिया था भारत ?

भगत सिंह जब पेशी पर अदालत मे हाज़िर हुए तो भरी कोर्ट मे अंग्रेज़ जज ने उनसे सवाल किया कि, भगत सिंह तुमने हमारे लोगों पर बम मारा जबकि हमें आये हुए सिर्फ़ 150 साल हुए हैं और ये मुसलमान तुम पर 800 साल से हुकूमत कर रहे थे तुमने कभी इन पर बम क्यों नहीं मारा ?”

भगत सिंह मुस्कुराये और कहा, “मुसलमानों ने हम पर हुकूमत की, और ऐसी हुकूमत की कि हमारे देश को सोने की चिड़िया बना दिया, और ऐसा सोने की चिड़िया बनाया कि इस चिड़िया की चहचहाहट आप को सात समंदर पार से यहां खींच लायी, और जज साहब आपने 150 साल यहाँ कैसे राज किया।

उसको एक लाइन मे कहना चाहूं तो आपने एक स्पंज की तरह राज किया, ये स्पंज गंगा के किनारे से हीरे मोती चूस कर ले जाता और इसे जब थेम्स (लंदन की नदी) के किनारे निचोड़ा जाता तो दौलत बरसने लगती, ये जो दौलत आप यहां से भिगो-भिगो कर ले गये हैं आज (आपके यहां) सारी औधोगिक क्रांति और कारखाने उसी से आये हैं और इन मुग़लों ने हमारे देश पर ऐसा राज किया कि इसे अपना घर बना लिया और इसी की धूल मिट्टी मे अपने आपको मिला दिया। जो पैसा यहां से लिया यहीं पर खर्च कर दिया और इस देश को सोने की चिड़िया बना दिया।

जिसको भी भगत सिंह के इस कथन पर संदेह है वह जाकर उस किताब को पढ़ ले -Avaidance In Book (ग्रोवर एंड ग्रोवर पेज 169)
=========

 

First Battle of Panipat

Battles Which Changed Course Of Indian History And Established Mughal Empire .This war took place between the invader Babur from Fargana, and Delhi’s Sultan Ibrahim Lodhi in 1526. Many books, including Babur’s biography, claim Babur was invited to attack India by Lodhi’s brother, Sikander Lodhi, and Mewar’s King Rana Sanga, who thought that war with Babur would weaken the Sultan enough to defeat him. But like Ghori, Babur was mesmerized with the riches of the beautiful India, and didn’t leave after defeating the Sultan. Instead, he laid the foundation of the Mughal Empire.

Babur, later in 1527, defeated Rana Sanga in the Battle of Khanwa. But the Mughal rule was cemented in the Second Battle of Panipat in 1556, when his grandson Akbar defeated Hemu.

===========


A Mughal invasion on the Rakhine people in 1660

Bengal was absorbed within the Mughal Empire during the reign of Akbar after the Battle of Tukaroi between the Mughals and the Karrani Sultanate of Bengal and Bihar.The History of India: The Hindú and Mahometan Periods By Mountstuart Elphinstone, Edward Byles Cowell, Published by J. Murray, Calcutta 1889, Public Domain From that time Dhaka became the capital of the Mughal province of Bengal. But due to its geographical remoteness the Mughals found it difficult to govern the region. In particular, the area east of the Brahmaputra River remained outside mainstream Mughal influence. The Bengali ethnic and linguistic identity further crystallised during this period, since the whole of Bengal was united under an able and long-lasting administration. Furthermore, its inhabitants were given sufficient autonomy to develop their own customs and literature.

In 1612, during Emperor Jahangir’s reign, the defeat of Sylhet completed the Mughal conquest of Bengal, except for Chittagong. During this time Dhaka rose in prominence by becoming the provincial capital of Bengal. Chittagong was later annexed to stop Arakanese raids from the east. A well-known Dhaka landmark, Lalbagh Fort, was built during Aurangzeb’s reign.
Under the Mughal Empire which had 25% of the world’s GDP, Bengal Subah generated 50% of the empire’s GDP and 12% of the world’s GDP. Bengal, the empire’s wealthiest province, was an affluent region with a Bengali Muslim majority and Bengali Hindu minority, and was globally dominant in industries such as textile manufacturing and shipbuilding.Junie T. Tong (2016), Finance and Society in 21st Century China: Chinese Culture Versus Western Markets, page 151, CRC PressJohn L. Esposito (2004), The Islamic World: Past and Present 3-Volume Set, page 190, Oxford University PressRay, Indrajit (2011). Bengal Industries and the British Industrial Revolution (1757-1857), Routledge, The capital Dhaka had a population exceeding a million people, and with an estimated 80,000 skilled textile weavers. It was an exporter of silk and cotton textiles, steel, saltpeter, and agricultural and industrial produce.

============


♛ Officers of the Mughal Empire ♛

The Mughal Empire was one of the greatest empires ever. The Mughal Empire ruled hundreds of millions of people. Hindustan became united under one rule, and had very prosperous cultural and political years during the Mughal rule.

✿ Departments under the Mughal Empire ✿

Important Departments Functions

1. Diwan-i-Wazarat :- Department of revenue & finances
2. Diwan-i-Arz :- Military department
3. Diwan-i-Rasalatmuhtasib :- Foreign affairs department
4. Diwan-i-insha :- Custodian of govt. papers
5. Diwan-i-quza :- Justice department
6. Diwan-i-Barid :- Intelligence department
7. Diwan-i-Saman :- Dep. in charge of royal household

✿ Officers of the Mughal Empire (Centre) ✿

Central Officers :- Functions

1. Wazir :- Head of revenue department; but reduced power as 
compared to Sultanate
2. Diwan :- Responsible for all income and expenditure; control over 
Khalisa & Jagir
3. Mir Bakshi :- Headed military department, nobility, information 
and intelligence agencies
4. Mir Saman :- Incharge of imperial households (Karkhanas)
5. Diwan-i-Bayutat :- Maintained roads, govt. buildings
6. Mir Manshi :- Royal correspondence
7. Sadr-us-Sadr :- Incharge of charitable & religious endowments
8. Qazi-ul-Quzat :- Head of judicial department
9. Muhtasib :- Censor of public morals
10. Mushrif-i-Mumalik :- Accountant general
11. Mustauf-i-Mumalik :- Auditor general
12. Daroga-i-dak-chauki :- Officer in charge of imperial post
13. Mir-i-arz :- Officer in charge of petition
14. Waqia Navis :- News reporters

✿ Officers of the Mughal Empire (Province) ✿

Officer:Provincial Level Functions

1. Sipahsalar :- The Head executive
2. Diwan :- Incharge of revenue department
3. Bakshi :- Incharge of military department
4. Sadr :- Incharge of judicial department

✿ Officers of the Mughal Empire (District) ✿

Officer: District level Functions

1. Fauzdar :- Administrative Head
2. Amal/Amalguzar :- Revenue collection
3. Kotwal :- Maintenance of law & order; trial of criminal 
cases; price regulation

✿ Officers of the Mughal Empire (Pargana) ✿

Officer: Pargana Functions

1. Shiqdar :- Administrative head; combined fauzdar & 
kotwal
2. Amin, Quanungo :- Revenue officials

✿ Officers of the Mughal Empire (Village) ✿

Officer: Village Functions

1. Muqaddam :- Headman
2. Patwari :- Accountant
3. CHowkidar :- Watchman

=============


Mughal Coinage and Economy.
Coinage:-
Technically, the Mughal period in India commenced in 1526 AD when Babur defeated Ibrahim Lodhi, the Sultan of Delhi and ended in 1857 AD when the British deposed and exiled Bahadur Shah Zafar, the last Mughal Emperor after the great uprising. The later emperors after Shah Alam II were little more than figureheads.

The most significant monetary contribution of the Mughals was to bring about uniformity and consolidation of the system of coinage throughout the Empire. The system lasted long after the Mughal Empire was effectively no more. The system of tri-metalism which came to characterise Mughal coinage was largely the creation, not of the Mughals but of Sher Shah Suri (1540 to 1545 AD), an Afghan, who ruled for a brief time in Delhi. Sher Shah issued a coin of silver which was termed the Rupiya. This weighed 11.53 gms (178 grains) and was the precursor of the modern rupee. It remained largely unchanged till the early 20th Century.
Where coin designs and minting techniques were concerned, Mughal Coinage reflected originality and innovative skills. Mughal coin designs came to maturity during the reign of the Grand Mughal, Akbar. Innovations like ornamentation of the background of the die with floral scrollwork were introduced. Jahangir took a personal interest in his coinage. The surviving
gigantic coins, are amongst the largest issued in the world. The Zodiacal signs, portraits and literary verses and the excellent calligraphy that came to characterise his coins took Mughal Coinage to new heights.

The Mughal Indian coinage consisted of coins of three metals – the gold muhr , the silver rupee, and the copper dam or paisa . The basic coin constituting the main unit of account was the silver rupee. The gold muhr was used mainly either for ceremonial purposes or for hoarding. The copper dam or paisa constituted a major medium of handling small value transactions and was used extensively. A distinguishing feature of Mughal coinage was the extraordinarily high content of the relevant metal of a very high degree of purity in the coin. Thus the gold muhr which weighted 10.95 gms (169 grains troy) was practrically of unalloyed metal of high purity. The alloy content in the silver rupee, which weighted 11.53 gms (178 grains) until
Aurangzeb raised the weight to 11.66 gms (180 grains), was also never more than about 4 percent. The copper dam weighted 20.93 gms (323 grains) till 1663-4 when its weight was reduced to about two-thirds of its former value. The coins were manufactured in imperial mints spread all over the empire. The procedure followed was that of ‘free’ mintage under which anyone could bring bullion, old coins or foreign coins to a mint and obtain after a lapse of time new coins in exchange. The number of coins delivered against a given quantity of metal depended upon the purity level of the metal surrendered. This was determined at the mint. A charge was made at the mint to cover the seigniorage, the loss of metal in the process of coining, and the cost of coining which consisted partly of the cost of the necessary ingredients other than the metal and partly of the labour involved. As far as the question of the relative valuation of the coin of one metal in terms of each of the other two was concerned, this was left entirely to the market and depended upon the relative market supply and demand of each of the three metals. In the case of the silver rupee, the new coin delivered by the mint was known as the sikka rupee. The value of this coin corresponded broadly to the value of the metal contained in it, plus the minting charges including seigniorage. The problem of wear and tear of a coin through use was tackled ingeniously by a complex system of equivalence based on a varying degree of premium being enjoyed by a new coin over older issues. The sikka rupee, defined as a coin minted during the current or the previous year, enjoyed such a premium over all older issues which routinely carried the year of issue on them. The rate of this premium was controlled for all practical purposes by a class of highly experienced and influential money-dealers known as sarrafs. Once the premium enjoyed by a new over an earlier issue exceeded a threshold level, defined by the wear and tear and the cost of reminting, the old coin would simply be brought to the mint for recoinage. This would be encouraged by the government insofar as its income from seigniorage would go up. Since the coins were intrinsic and not token coins, the problem of debasement of coins did not plague Mughal coinage. It also seems that forgery of coins was generally not a major problem.

Economy :-
Economy in Mughal Empire was dependent on agriculture, trade and other industries. According to historians, since time immemorial agriculture has always been the backbone of economy of the country. Thus, in the Mughal era also agriculture was actually the biggest source of income. Moreover, it was also one of the main sources of livelihood of majority of the people in the country. The major crops that were grown during the Mughal era included millets, oilseeds, cereals, hemp, chilli, sugarcane, cotton, indigo, betel and other cash crops. Indigo cultivation was popular at that time in places various places like Agra and Gujarat. On the other hand, Ajmer was well known for the production of best quality sugarcane. Improved transport and communication facilities also helped the development of economy during the reign of Mughal emperors. There was tremendous demand for cash crops like silk and cotton as because the textile industry was flourishing during the Mughal period.

Further, during the reign of Mughal emperor Jahangir, Portuguese introduced the cultivation of tobacco and potato in India. Mughal emperor Babur introduced the cultivation of several other central Asian fruits in the country. Moreover, during the reign of Akbar Firoz Shah’s Yamuna canal was repaired for irrigation purposes. The Mughal Emperors preferred to settle in cities and towns. The artistic lifestyle of the Mughal rulers also encouraged art and architecture, handicrafts and trade in the country. During that era, the merchants and the trader class were divided into large business powers. During the Mughal era, trade both inside the country and outside grew tremendously. One of the main reasons cited by the historians for such development is the economic and political merger of India. Further, constitution of law and order over broad areas also created
favourable environs for trade and commerce.

Rapid development of trade and commerce was also supported by the improved transport and communications systems. The Mughal rulers also encouraged the monetisation of the economy. Another factor that helped in the tremendous growth of business in that period was the arrival of European traders and growth of huge European trade. Fatehpur Sikri, Lahore and Agra were the chief centres of silk weaving whereas Cambay, Broach and Surat in Gujarat were the major ports for foreign trade and business. By the time of the Mughals, cities had grown in importance. Urbanisation and fixed markets also helped in expanding economy in Mughal Empire. Initially, the weekly market concept was popular. Eventually several trade centres in prosperous cities with the growth of the economy. Besides the metalled highways, river transport system was also considered significant for navigation throughout the year. Such initiatives by the rulers were vital contributing factors in the developed economy of the era.

The Mughal Empire was one of the biggest centres of attraction for trade and commerce all over the World. There were great flourishing trade centres in Lahore, Agra, Ahmadabad, Sironj, Berhampore, Dhaka, Patna, Benares, Golconda, Deccan, Bijapur, and Daulatabad. Trade routes crisscrossed the country, the vibrant trade route of Surat- Agra passed through Sironj and Burhanpur. In fact Burhanpur had trade connections with Iran, Turkey, Russia, Poland, Arabia, and Egypt. Surat and Cambay were two prosperous ports in Gujarat which connected Mughal India with the markets of Asia and Europe. These urban centres of trade contributed about 19% to Mughal tax revenue.

Depending on the nature of trade we can classify these trade centres into two broad categories. Towns like Peshawar, Lahore, Sirhind, Allahabad, Patna and Qassimbazar (Kassimbazar) prospered because of their close proximity to the national highways or trade-routes. Secondly towns like Surat, Cambay, Satgaon, Chittagong, flourished because of their location near the sea. Apart from these towns there were manufacturing centres, each famous for its produce, Dhaka for textile, Patna for saltpetre, Biana and Sarkhel for indigo and so on. So in effect there was thriving trade going all over the Empire, both through land and sea. The commodities that were taken in and out of the country are specifically interesting. As its mentioned earlier that Bengal silk was a very attractive commodity for the Dutch and English traders. Apart from these Bengal supplied, fair amount of salt for domestic need, and handicrafts of ivory to the foreign traders. From Central Asia came horses, fruits, slaves, and gorgeous carpets, lavish dress and similar products which had huge demand in the Mughal court. The European traders brought gold bullion, choicest wine, innovative products, precious stones, glass works all the way from Europe. It is a point to remember that common Indians did not have much affinity for European products it was reserved for great connoisseurs of art and the Mughal court was full of these sorts of people. Take Jahangir for example he was presented with ‘a small whistle of gold, weighing almost an ounce, set with spark of rubies, which he took and whistled therewith almost an hour’. We may assume that Jahangir whistled better than all the birds of Mughal India put together! Jahangir’s father Shahjahan had special love for mastiffs and deer hounds. It is interesting to learn how far these presents or royal commerce were useful, in one occasion the President of Surat factory John Child was able to change the mind of the Mughal Governor by a present of two spaniels. As the common Indians did not buy anything, and the target customers of the Europeans being the Mughal royals a great amount of finance was needed to feed the European companies, it was so much that Sir Thomas Roe remarked, ‘Europe bleedeth to enrich Asia’. Cities in Gujarat like Ahmadabad, Surat, and Baroda were known for their textiles, silk weaving, in fact silk from Bengal was converted to dresses, apart from these there were various kinds of drugs and medicinal items that went abroad. To summarize the main imports of India to Europe were the calicoes (a plain-woven textile made from unbleached, and often not fully processed cotton) of Madras, the saltpetre of Bihar, silk and sugar of Bengal. As far as the exports of the Europeans were considered it was primarily to fan the fire of lavishness of the Royal Mughals while their subjects roamed the Great Empire with minimum clothing and few utensils.

Sources
●Co-existence of Standardized and Humble Money: The Case of Mughal India OM PRAKASH Delhi School of Economics University of Delhi
●SARRAFS (BANKERS) IN THE MUGHAL EMPIRE, Ishrat Alam, Department of History,A.M.U., Aliga
==============

The Gardens of Babur (Bagh-e Babur in Persian and Pashto) is a park in Kabul, Afghanistan, and also the last resting place of the first Mughal emperor, Babur. It is thought that the gardens were constructed around 1528, as detailed in Babur’s memoirs, the ‘Baburnama’. When the fifth Mughal emperor, Shah Jahan, visited it in 1638, he added a marble screen around the tombs, and built a mosque on the terrace below.

The gardens have changed much since the Mughal period. Emir Abdur Rahman Khan (d. 1901) added a pavilion and a residence for his wife, Bibi Halima, in 1880. It was converted into a public recreation space in 1933, with pools and fountains becoming the central focal point. A modern greenhouse and a swimming pool were added in the late 1970s. The grave enclosure is no longer present.

The independent Bagh-e Babur Trust has managed the gardens since 2008. Nearly 300,000 people visited the site in 2008.
============

यह वसीयतनामा बाबर का है 
This is the will of Emperor Zaheeruddin Mohammad Babur to his son Nooruddin Mohammad Humayun . In the will deed it is mentioned that Hindustan is a land of many religions & it is ur duty to give respect to all religions and its people and do justice with fair with every single person. Especially avoid slaughtering of cows, by doing this you may win the heart of Hindustani people. Give respect to temples and priests. The public should be happy with King and King with its people.

========

Emperor Babur’s tomb in Afghanistan
The one who started the Mughal Empire in Hindustan

 

==========