हदीस :फ़ुज़ूल ख़र्ची से मत उड़ाओ।

*بِسْمِ اللٰہِ الرَّحْمٰنِ الرَّحِیْمِ*

इरशादे बारी तआ़ला है:
“खाओ और पियो और ह़द से ज़ियादा ख़र्च न करो।”
[अल आ’राफ़, 7: 31]

इरशादे बारी तआ़ला है:
“और (अपना माल) फ़ुज़ूल ख़र्ची से मत उड़ाओ। बेशक फ़ुज़ूल ख़र्ची करने वाले शैत़ान के भाई हैं।”
[बनी इस्राईल, 17: 26, 27]

ह़ुज़ूर नबिय्ये अकरम ﷺ ने फ़रमाया:
“(आमदन व स़र्फ़ में) मियाना रवी मुआ़शी ज़िन्दगी की ख़ुश गवारी का निस़्फ़ ह़िस़्स़ा है।”
[त़बरानी, अल मु’जमुल औसत़, 76744]