बदबख़्त आदमी कौन?

बदबख़्त आदमी कौन?

हदीस

रावीयान ए हदीस, मुहम्मद बिन वहाब बिन अब्दुल्लाह बिन सिमक बिन अबी करीमह अल्- हर्रानी, मुहम्मद बिन सलामह, मुहम्मद बिन इस्हाक़, यज़ीद बिन मुहम्मद बिन खुसैम, मुहम्मद बिन का’ब अल्- कुराजी, मुहम्मद बिन खुसैम ।

हज़रत अम्मार बिन यासिर रज़िअल्लाहु अन्हो बयान करते हैं कि मैं और हज़रत अली बिन अबु तालिब अलैहिस्सलाम, गज़वा ए अल्-उशयारह में साथ थे। जब रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम तश्रीफ़ लाए तो आपने लगभग एक महीने तक क़याम किया। वहाँ हमने देखा कि बनी मुद’लज के लोग कुएँ या ख़जूर के बाग में कुछ काम कर रहे थे। मौला अली अलैहिस्सलाम ने मुझसे कहा, “ऐ अबु यक़ज़ान (अम्मार), क्या तुम मेरे साथ , चलकर, इनका काम देखना चाहते हो ?”

मैंने फरमाया, अगर आप बेहतर समझें तो ज़रूर और हम दोनों वहाँ चले गए और उनके काम को देखते रहे। कुछ देर बाद हमें नींद आने लगी और हम दोनों पेड़ की छाँव देखकर. बंजर ज़मीन पर लेट गए और सो गए। खुदा की कसम हमें रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने जगाया और हज़रत अली अलैहिस्सलाम से फरमाया, “ऐ अबु तुराब! तुम्हें क्या हो गया है?”, आपने ये बात आप पर मिट्टी लगी देखकर फरमाई।

फिर आप सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने फरमाया, क्या मैं तुम को दो बदबख्त’तरीन आदमियों के मुताल्लिक़ बताऊँ?

हमने अर्ज़ किया, “हाँ रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम, ज़रूर बताएँ।”, तो आपने फरमाया, समूद का वो शख़्स जिसने ऊँटनी काट डाली थी और वो शख्स ऐ अली, जो तुझे शहीद करेगा। आपने अपना हाथ मुबारक सर पर रख कर दिखाया कि यहाँ तक की सर/खोपड़ी खून से तर हो जाएगी और आपने अपनी दादी के बाल मुबारक पकड़कर दिखाया यानी सर से खून बहकर, दादी को तर कर देगा।

बदबख़्त आदमी कौन?

बदबख़्त आदमी कौन?

हदीस

रावीयान ए हदीस, मुहम्मद बिन वहाब बिन अब्दुल्लाह बिन सिमक बिन अबी करीमह अल्- हर्रानी, मुहम्मद बिन सलामह, मुहम्मद बिन इस्हाक़, यज़ीद बिन मुहम्मद बिन खुसैम, मुहम्मद बिन का’ब अल्- कुराजी, मुहम्मद बिन खुसैम ।

हज़रत अम्मार बिन यासिर रज़िअल्लाहु अन्हो बयान करते हैं कि मैं और हज़रत अली बिन अबु तालिब अलैहिस्सलाम, गज़वा ए अल्-उशयारह में साथ थे। जब रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम तश्रीफ़ लाए तो आपने लगभग एक महीने तक क़याम किया। वहाँ हमने देखा कि बनी मुद’लज के लोग कुएँ या ख़जूर के बाग में कुछ काम कर रहे थे। मौला अली अलैहिस्सलाम ने मुझसे कहा, “ऐ अबु यक़ज़ान (अम्मार), क्या तुम मेरे साथ , चलकर, इनका काम देखना चाहते हो ?”

मैंने फरमाया, अगर आप बेहतर समझें तो ज़रूर और हम दोनों वहाँ चले गए और उनके काम को देखते रहे। कुछ देर बाद हमें नींद आने लगी और हम दोनों पेड़ की छाँव देखकर. बंजर ज़मीन पर लेट गए और सो गए। खुदा की कसम हमें रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने जगाया और हज़रत अली अलैहिस्सलाम से फरमाया, “ऐ अबु तुराब! तुम्हें क्या हो गया है?”, आपने ये बात आप पर मिट्टी लगी देखकर फरमाई।

फिर आप सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने फरमाया, क्या मैं तुम को दो बदबख्त’तरीन आदमियों के मुताल्लिक़ बताऊँ?

हमने अर्ज़ किया, “हाँ रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम, ज़रूर बताएँ।”, तो आपने फरमाया, समूद का वो शख़्स जिसने ऊँटनी काट डाली थी और वो शख्स ऐ अली, जो तुझे शहीद करेगा। आपने अपना हाथ मुबारक सर पर रख कर दिखाया कि यहाँ तक की सर/खोपड़ी खून से तर हो जाएगी और आपने अपनी दादी के बाल मुबारक पकड़कर दिखाया यानी सर से खून बहकर, दादी को तर कर देगा।

हुज़ूर का का हज़रत अली से मशवरा और उम्मत से तक़फीफ

हदीस-

रावीयान ए हदीस, मुहम्मद बिन अब्दुल्लाह बिन अल्-मौसिली, कासिम बिन यजीद अल्जर्मी, सूफियान अस्-सौरी, उस्मान बिन अल्-मुगीरा, सलीम बिन अब्दुल ज़द, अली बिन अल्-क्रमह।

हज़रत अली अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि जब आयत ए करीमा –

يسم الله الرحمن الرحيم يا أيها الذين آمنوا إذا ناجيتم الرسول فقدموا بين يدي نجواكم صدقة

नाज़िल हुई तो रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने हज़रत अली अलैहिस्सलाम को फरमाया, “इन्हें हुक्म दो कि सदक़ा दें”, अर्ज़ किया कि, “या रसूलु लाहा कितना सदका दें?”, फरमाया, “एक दीनार”, अर्ज़ किया कि वो इतनी ताक़त नहीं है। फरमाया, “निस्फ़ दीनार”, अर्ज़ किया कि वो इसकी भी ताकत नहीं रखते, फरमाया, “
कितना”, मौला अली ने कहा, “मुश्किल से एक जौ / अनाज”

रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने फरमाया कि अल्लाह तआला ने एक आयत भेजी है और फरमाया

بسم الله الرحمن الرحيم ة الشققثم أن تقدموا بين يدي نجواكم صدقات

हज़रत अली अलैहिस्सलाम फरमाते हैं कि मेरी वजह से इस उम्मत से तकफीफ़ हुई। (कुरआन पाक 58:12-13 की तफ़सीर देखें।)