Mubarak Nikah

*_1Zilhajj ko Wo Mubarak Nikah hua jo pehle Allah ﷻ Ne Arsh pe karwaya aur fir Farsh pe Allah ke Rasool (SallAllahu Alaihi wa Aalihi wa Aalihi wa Sallam) Ne karwaya!_*
_Aqd-e-Sayyeda Fatimah tuz Zahra wa Sayyeduna Maula Ali al Murtaza KarramAllahu Wajhahuma._

*_“Hazrat Anas RadiAllahu Anhu se Marvi hai ke Huzoor Nabi-e-Akram SallAllahu Alaihi wa Aalihi wa Sallam Masjid Me Tashreef farma they ke Maula Ali KarramAllahu Wajhahu se farmaya:_*
_“Ye Jibrael ع hain jo Mujhe Khabar derahe hain ke Allah ﷻ ne Fatimah se Tumhari Shaadi kardi hai. Aur Tumhare Nikah par (Maala-e-Aala me) 40,000 Farishton ko Gawah ke taur par Majlis-e-Nikah me Shareek kiya, aur Shajra haa-e-Tuba se farmaya: Inpar moti aur yaaqut nichawar karo, fir dilkash aankhon waali Hooren un motiyon aur yaaquton se thaal bharne lagin. Jinhe (Taqreeb-e-Nikah me shirkat karne waale) Farishte Qayamat tak ek dusre ko bator Tahaeef Dete Rahenge.”_

*_Ab koi keh sakta hai ke Farishte to arabo kharabon hain, itne hain ke koi tasawwur bhi nahi karsakta , to Is Mubarak Nikah me sirf 40 Hazaar Farishton ko he kyu bulaya gaya tha? Jawab simple hai, jitne bade level ka function ho, mehman bhi utne he bade bade bulaye jaate hain. Farishte to bayshumaar hain, magar unme jo sabse unche martabe waale hain, un 4o Hazaar ko he Dawat di Gayi!_*

*_📚(Muhibuddin Tabari, Riyad un Nadra, 3/146_*
*_Muhibuddin Tabari,_* *_📚Zakhaairul Uqba fee Manaqib Zawil Qurba, 72)_*

_Allahumma Salle Ala Sayyedina wa Maulana Muhammad wa Ala Sayyedina Aliyyuw wa Sayyedatina Fatimah wa Sayyedatina Zainab wa Sayyedina Hassan wa Sayyedina Hussain wa Ala Aalihi wa Sahbihi wa Baarik wa Sallim_

1 ज़िल्हिज (यौम ए निकाह )

_अक़्द ए सय्यदा फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा व सय्यदना अली ए मुर्तज़ा कर्रमअल्लाहो वजहुल करीम_

*_ये मुबारक निकाह अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने अर्श पे करवाया और अल्लाह के रसूल ने फ़र्श पे करवाया_*

_हज़रत अनस रदिअल्लाहो अंहों से मरवी है कि हुज़ूर नबी ए अकरम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम मस्जिद में तशरीफ़ फ़रमा थे_
*_मौला अली ए मुर्तज़ा कर्रमअल्लाहो वजहुल करीम से फ़रमाया : ये जिबरील हैं जो मुझे ख़बर दे रहे हैं के अल्लाह ﷻ ने सय्यदा फ़ातिमा س से तुम्हारा निकाह कर दिया है और तुम्हारे निकाह पर मआला ए आला में 40,000 मुक़र्रब फ़रिश्तों को गवाह के तौर पर मजलिस ए निकाह में शरीक किया और शजरा ए तूबा से फ़रमाया इन पर मोती और याक़ूत बरसा, फिर दिलकश आंखों वाली हूरें उन मोतियों और याक़ूत से थाल भरने लगीं जिन्हें (तक़रीब ए निकाह में शिरकत करने वाले) फ़रिश्ते क़यामत तक एक दूसरे को बतौर तोहफ़ा देते रहेंगे_*

_एक दूसरी रिवायत में हैं कि शजरे तूबा ने अल्लाह ﷻ के हुक्म से उन 40,000 मुक़र्रब फ़रिश्तों पर अपने पत्तों की बारिश की थी उन पत्तों को फ़रिश्ते त-क़यामत तक एक दूसरे को दे कर इस मुबारक निकाह की मुबारकबाद देते रहेंगे और रोज़े महशर ये मुक़द्दस पत्ते फ़रिश्ते मुहिब्बाने अहलेबैत को दे देंगे ये मुक़द्दस पत्ते निजात का परवाना होंगे_


*_📚 मुहिबुद्दीन तबरी रियाज़ उन नज़रा 3/146_*

*_📚 ज़ख़ीरूल उक़्बा फ़ी मनाक़िब ज़ाविल क़ुर्बा 72_*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s