Mani, mazi aur wadi kise kahte hain aur iski napaki ka kya hukm hai


मनी, मज़ी और वदी किसे कहते हैं, और इसकी नापाकी का क्या हुक्म है

Mani, mazi aur wadi kise kahte hain aur iski napaki ka kya hukm hai


देखें, मनी, मज़ी और वदी यानी जो मर्द के पेशाब के रास्ते से 3 चीज़ें खारिज होती हैं इसको मुख़्तसरन समझते हैं, और इसकी नापाकी और पाक करने का हुक्म देखते हैं
▪️ मनी
मनी (वीर्य, Sperm) यानी वो चीज़ जो मर्द के अज़्व से शहवत (सेक्स) के बाद निकलती है और इसमे बच्चा पैदा करने की ताक़त होती है,
अज़्व से जैसे ही मनी शहवत के साथ बाहर निकलती है (बीमारी या कमज़ोरी से नही) मर्द नापाक हो जाता है और उस पर ग़ुस्ल वाजिब हो जाता है,
▪️ मज़ी
मज़ी यानी शहवत शुरू करने से पहले, उसके ख़्याल से, बीवी से बात करने वगैरह से ही जो चिपचिपा पानी के कुछ क़तरे आते हैं उसे मज़ी कहा जाता है, इसके निकलने से सिर्फ वुज़ू टूटता है ग़ुस्ल वाजिब नही होता,
▪️ वदी
वदी यानी पेशाब के साथ धात आना, इसी तरह उठने बैठने से, किसी वज़न को उठाने से या चलने फिरने से भी धात आ जाता है, इसके निकलने से भी सिर्फ वुज़ू टूटता है ग़ुस्ल नही टूटता,

▪️ नोट ये तीनो के निकलने से ग़ुस्ल और वुज़ू का अलग अलग हुक्म है लेकिन अगर शरीर या कपड़े में कही पर ये तीनो में से कोई भी लगे तो सभी का हुक्म एक जैसा ही है
यानी कपड़े या जिस्म में अगर कही पर भी एक दिरहम (लगभग हथेली के गहराई बराबर) से ज़्यादा लग जाये तो उसे पाक करना फ़र्ज़ है बिना पाक किये नमाज़ ही न होगी, और अगर एक दिरहम के बराबर है तो पाक करना वाजिब है अगर बिना धोए नमाज़ पढ़ा तो नमाज़ को दोहराना वाजिब, और अगर एक दिरहम से कम है तो पाक करना सुन्नत है अगर बिना धोए नमाज़ पढ़ा तो ख़िलाफ़े सुन्नत है, कपड़े के जिस हिस्से में लगा बस उसी को धो लेने से भी कपड़ा पाक हो जाएगा पूरा धोना ज़रूरी नही लेकिन पूरा धो लेगा तो बेहतर है, जैसे अगर आस्तीन या दामन में लगा और सिर्फ उसी हिस्से (आस्तीन या दमन) को ही अच्छे से धो लिया तो भी कपड़ा पाक हो जाएगा,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

dekhen, mani, mazi aur wadi yani jo mard ke peshaab ke raste se 3 chizen khaarij hoti hain isko mukhtasaran samajhte hain, aur iski napaki aur paak karne ka hukm dekhte hain
mani
mani (wirya, sperm) yani wo cheez jo mard ke azw se shahwat (sex) ke baad nikalti hai aur isme bachcha paida karne ki taaqat hoti hai,
azw se jaise hi mani shahwat ke sath bahar nikalti hai (bimari ya kamzori se nahi) mard napak ho jata hai aur us par gusl wajib ho jata hai,
mazi
mazi yani shahwat shuru karne se pahle, uske khayal se, biwi se baat karne wagairah se hi jo chipchipa pani ke kuchh qatre aate hain use mazi kaha jata hai, iske nikalne se sirf wuzu toot’ta hai gusl wajib nahi hota,
Wadi
Wadi yani peshab ke sath dhaat aana, isi tarah uthne baithne se, kisi wazan ko uthane se ya chalne firne se bhi dhaat aa jata hai, iske nikalne se bhi sirf wuzu toot’ta hai gusl nahi toot’ta,

Note ye tino ke nikalne se gusl aur wuzu ka alag alag hukm hai lekin agar sharir ya kapde mein kahi par ye tino mein se koi bhi lage to sabhi ka hukm ek jaisa hi hai
yani kapde ya jism mein agar kahi par bhi ek dirham (lagbhag hatheli ke gahrayi baraabar) se zyada lag jaye to use paak karna farz hai bina paak kiye namaaz hi na hogi, aur agar ek dirham ke baraabar hai to paak karna wajib hai agar bina dhoye namaaz padha to namaaz ko dohrana wajib, aur agar ek dirham se kam hai to paak karna sunnat hai agar bina dhoye namaaz padha to khilafe sunnat hai, kapde ke jis hisse mein laga bas usi ko dho lene se bhi kapda paak ho jayega pura dhona zaruri nahi lekin pura dho lega to behtar hai, jaise agar aasteen ya daaman mein laga aur sirf usi hisse (aasteen ya daaman) ko hi achhe se dho liya to bhi kapda paak ho jayega,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s