Youm-e-Wiladat Hazrat Sayyeduna Imam Ali Zain ul Aabideen Alaihissalaam Mubarak..

WhatsApp Image 2020-03-30 at 10.51.06 PM

5 Shaban Youm-e-Wiladat, Shehzada-e-Imam Hussain, Sayyedul Aabideen, Sayyedus Sajideen, Hazrat Sayyeduna Imam Ali Zain ul Aabideen Alaihi-Muswalatu was Salaam Mubarak!!

Khud Tajdar-e-Kainat SallAllahu Alaihi wa Aalihi wa Sallam ne Irshad farmaya ke Qayamat ke Din jab Nida di jayegi ke Sayyedul Aabideen yaani tamam Ibadat guzaro ka Sardar kaha hai to Mere Hussain ka ye Beta khada hoga ❤

Allahumma Salli wa Sallim Ala Sayyedina Muhammadiw wa Ala Aali Sayyedina Muhammadin bee Adadil Aabideen

Al-Fatiha!

– Ibne Asakir, Taarikh Madina ad-Damishq, 54:276
Ibne Jauzi, Tazkiratul Khawaas, 303,
Ibne Taimiya, Minhaj us Sunna al-Nabawiyyah, 4:11
Ibne Hajar Makki, As sawa aqal mahraqah, 2:586
Shablanji, Noor al Absar fee Manaqib Aale Baytin Nabi al-Mukhtar: 288

Taken from Book of Dr. Tahir-ul-Qadri: ‘Sahaba-e-Kiram RadiAllahu Anhum aur Aaimma-e-Ahle Bayt
Alaihimussalam se Imam-e-Aazam RadiAllahu Anhu ka Akhze Faiz’ Page, 82,83

WhatsApp Image 2020-03-30 at 10.53.35 PM

5शाबानविलादत्तऐहज़रतइमामज़ैनुल आबेदीनरदियल्लाहोतआलाअन्हो_मुबारक हो। सरकार कि बारगाह लाखो करोड़ो दुरूद और सलाम हो। 💐

💐सैयद ए सज्जाद हज़रत इमाम जैनुल आबेदीन र।आ। बिन हज़रत इमाम ऐ हुसैन र।आ। बिन हज़रत इमाम मोला अली र।आ।।💐

आप का आला मकाम है आप के जमाने मे आप जैसा मुत्तक़ी और परहेज़गार और कोई न था आप की आला ज़ात और आला मरातिब आला नसब होने के बावजूद आम इंसानो जैसी ज़िन्दगी बसर करते सूफिया ए किराम ने खास कर सिलसिला ए कलंदरिया के पीरान के उज़्ज़ाम ने आप की ज़िन्दगी मुबारक को अपने अंदर ढाला और आप के तबर्रुकात को सिलसिला ब सिलसिला शैखैन को आता करते रहे।

आप खौफ ए खुदा से इस कदर रोते थे के आप की दाढ़ी मुबारक आशुओ से तर हो जाती और रुखसार ए मुबारक पे काले निशान पड़ गए थे। जिस वक्त आप वुज़ू करते तो आप के चेहरे का रंग पीला पड़ जाता और बहुत रद्दो बदल होता जाता। और आप के जिस्म मुबारक पर लरज़ा तारी हो जाता। लोग आप से इसका सबब पूछते आप फरमाते “परवरदिगार ए आलम के दरबार मे हाज़िर होने का वक़्त है। इस लिए मुझपर इसकी हैबत तारी हो जाती है। (हुसैनी सिरीज़ भाग 27 पेज नंबर 2)

आप सरकार ने अपने घर मे एक मस्जिद बनाई थी जिसमे आप इबादत किया करते जब रात आधी हो जाती सब लोग सो जाते तो आप दुआ और मुनाजात करते और कहते के बारी तआला हौले कयामत और हैबत ए हुज़ूर मुजे तकिये पे सर रखने नही देती। ये कहकर आप सजदे में गिरते और ज़ार ज़ार रोने लगते ये देख आप के घर वाले भी आप के आसपास खड़े हो जाते और वो भी रोने लगते मगर आप को इसकी कुछ खबर न होती आप बराबर दुआए फरमाते रहते के या इलाही मेरी ये आरज़ू है के जब में तेरी खिदमत में हाज़िर होऊं तो तुझको अपने से खुश पाऊं।
(हुसैनी सिरीज़ भाग 27 पेज नंबर 3)

आप अपने पास बैठने वालों को फरमाते है के हमारे साथ मोहब्बत रखने में मोहब्बत के इलाही को अफ़ज़ल रखो और उसका ख्याल रखो तुम्हारी हद दर्ज़ा महोब्बत से मुजे शर्म आती है तुमको अज़ाब ए इलाही से उस वक़्त तक नही बचा सकता जब तक के तुम खुद नेक आमाल के पाबंद न बनो हमारी विलायत में से बगैर इताअत व तक़वा के तुम कुछ नही पा सकते।
(हुसैनी सिरीज़ भाग 27 पेज नंबर 3)

जिस दिन आप ने विसाल फ़रमाया उस दिन पता चला के 100 घरों को राशन आप की ज़ेब ए खास से जाता था और आप छुप के पोहचा दिया करते थे और ज़ईफ़ व नातवा लोगो के लिए आप कुवें से पानी निकालते और मशक काँधे पे रख कर आप खुद पोहचा आते आप के काँधे मुबारक पर मशक उढ़ाने की वजह से निशान पड़ गया था और इबादत और रियाजत की वजह से आप जिस्म मुबारक कमज़ोर हो गया था।
(हुसैनी सिरीज़ भाग 27 पेज नंबर 7)

अल्लाह पाक हमे ऐहले बैयत की महोब्बत का सदका आता फरमाये आमीन।
अल्लाह रब्बुल आलमीन इनके सदके ओर इस माहे शाबान में आने वाले तमाम मुबारक दिनो के सदके में ओर पूरे मुबारक माह के सदके में तमाम आलम ए इस्लाम पर रहम फरमाये ओर आयी हुई तमाम बुरी वबा ओर बुरी बिमारीयो से महफूज फरमाये आमीन ।।।
ओर आने वाला मुबारक माह माहे रमज़ान हैम तमाम कौम ओ मिल्लत के लिए रहमत व बरकत से पुर नूर हो आमीन।।।

91534246_827660314382519_1276333034760568832_o

“Hazrat Imam Zain al Abideen (عليه السلام) Waqaye Karbala Ke Baʻd Madinah Munawwrah Se Kuch Dur Ek Maqam Par Abad Ho Ga’e The Hazrat Imam Hussain (عليه السلام) Ke Qatilon Meiṅ Se Ek Shakṣ Ko Yazid (لعنت اللہ) Ne Kisi Ghalaṭi Ki Saza Dena Chahi To Woh Jaan Bacha Kar Bhaga Puri Saltanat Meiṅ Usey Jaan Bachane Ki Koi Jagah Nah Mili Toh Woh Bil-Akhir Usi Gharane Ke Pas Chala Aaya Jis Gharane Ke Khun Se Woh Maidane Karbala Mein Holi Khel Chuka Tha Woh Shaḳhṣ Ḥazrat Imam Zain al Abideen (عليه السلام) Ke Pas Aya Aur Panah Chahi.
.
.
Aap (عليه السلام) Ne Usey Teen Din Apne Pas Thehraya. Us Ki Khidmat Aur Tawazo Karte Rahe Aur Jab Woh Rukhsat Hone Laga Toh Use Rukhsate Safar Bhi Diya. Yeh Husne Suluk Dekh Us Shaḳhṣ Ke Bahar Jate Huwe Qadam Rukh Ga’e, Use Khayal Aya Keh Shayad Imam Zain al Abideen (عليه السلام) Ne Use Pehchana Nahi Agae Pehchan Lete Toh Yeh Suluk Nah Karte Aur Inteqam Lete,
.
.
Chunancheh Woh Mur Kar Wapas Aya Aur Dabe Lafẓoṅ Mein Kehne Laga Keh Aye Aali Maqam! Aap Ne Shayad Mujhe Pehchana Nahi Hai.
.
.
Aap (عليه السلام) Ne Pucha Keh Tumhen Yeh Guman Kyun-Kar Guzra Ke Mein Ne Tumhe Pehchana Nahi, Us Ne Arz Kiya Keh Jo Suluk Aap Ne Mere Sath Kiyā Hai Kabhi Koi Apne Dushmanon Aur Qatiloṅ Ke Sath Yeh Suluk Nahin Karta.
.
.
Imam Zain Al Abideen (عليه السلام) Farmaya Keh Zalim! Maiṅ Tujhe Maidane Karbala Ki Us Ghari Se Janta Hun Jab Mere Baap Ki Gardan Par Tum Log Talwar Chala Rahe The Lekin Farq Yeh Hai Keh Woh Tumhara Kirdar Tha Aur Yeh Hamara Kirdar Hai.”

[Shahadate Imam Hussain (Falsafah-o Talimat),/226.]

Allahu Akbar Kabira

Aaoo Dare Zahra (سلام الله علیها) Par Phhailae Huwe Daaman

Hain Naslen Karimon Ki Lajpal Gharana Hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s