अंधेरे से उजाले की ओर…

e3682a586f6a8864628773a48370d469_Sufiyana-110-1440-c-90

 

”रब के हुक्म से वो अंधेरे से निकालकर रौशनी की तरफ ले जाते हैं”

(क़ुरान 5:16)

”और उसके हुक्म से (वो) रब की तरफ बुलाते हैं, और (वो) सूरज से चमकनेवाले हैं”

(क़ुरान 33:46)

”वो सूर्य की तरह रौशन हैं और अंधेरे को परास्त करने वाले हैं”

(वेद य.31:18)

अल्हम्दोलिल्लाह, सारी तारीफें उस ख़ुदा के लिए ही है, जिसने सारे आलम को बनाया। उसी ने हमें पैदा किया और ज़िन्दगी दी। इसलिए नहीं कि हम जिहालत (अज्ञानता) के अंधेरे में रहें, बल्कि इसलिए कि हम इल्म (ज्ञान) की रौशनी में रहें और अपनी ज़िन्दगी व आखिरत भी रौशन करें। जब हमें ये मालूम ही नहीं होगा कि हमारे लिए क्या सही है और क्या ग़लत, तो हम ज़िन्दगी को खुशगवार और बेहतर कैसे बना सकते हैं। अपने पैदा होने के असल मक़सद तक कैसे पहुंच सकते हैं। जिसको सहीं ग़लत का इल्म नहीं होता, जो ज़िन्दगी उन्हें दी जाती है वही जिये जाते हैं। लेकिन इन्सान ऐसा नहीं होता, क्योंकि उसमें सोचने समझने की सलाहियत होती है। वो ख़ुद सोच सकता है कि उसके लिए क्या बेहतर है क्या सही है। सिर्फ इसी वजह से वो ज़िन्‍दा लोगों में सबसे बेहतर है, अशरफुल मख़्लूकात है।

लेकिन इन्सान एक मुकाम पर ख़ुद की अक्‍़ल व इल्म पर ज्यादा भरोसा करने लगता है और अपनी सोच का एक छोटा सा दायरा बना लेता है। उसे हर चीज़ अपने इसी दायरे के हिसाब से चाहिए होता है। इस तरह का दायरा दरअस्ल कमअक्‍़ली की निशानी है। हज़रत दाता गंजबख्श अली हजवेरी रहमतुल्‍लाह अलैह फ़रमाते हैं- ”अक्‍़ल और इल्म, किसी चीज़ को जानने का ज़रिया है, लेकिन ख़ुदा को जानने के लिए और उसकी मारफ़त हासिल करने के लिए, ये काफ़ी नहीं है। इसी लिए हर आलिम सूफ़ी नहीं होता, जबकि हर सूफ़ी एक आलिम भी होता है।”

इन्सान को चाहिए कि अपने दायरे से बाहर निकले और उस लामहदूद ज़ात को, असिमित ज्ञान को हासिल करने के लिए ख़ुद को आज़ाद कर ले। और इस अंधेरे से निकलने की कोशिश तब तक करते रहें, जब तक कि कामयाब न हो जाए। क़ुरान में है-

”ऐ ख़ुदा, हम तुझी को माने और तुझी से मदद चाहें। हमको सीधा रास्ता चला, रास्ता उनका जिन पर तूने एहसान (ईनाम) किया, न कि उनका जिन पर गजब हुआ और न बहके हुओं का।”

(क़ुरान 1:6-8)

इसके लिए ख़ुदा से ही दुआ मांगें और ऐसे रहबर से जुड़ जाएं जो ख़ुद इस अंधेरे से निकल चुका है। ये दो तरह के होते हैं एक वो जो ख़ुद को इस अंधेरे से निकाल ले यानि आलिम। दूसरा वो जो ख़ुद तो अंधेरे से निकले ही, साथ में दूसरो को भी निकाल ले यानि सूफ़ी। आलिम तो बहुत होते हैं लेकिन आलिम बनाने वाले बहुत कम होते हैं। अंधेरे से निकल जाने वाले तो बहुत होते हैं लेकिन उस अंधेरे से निकालने वाले बहुत कम होते हैं। आलिम वो जो ख़ुद तो पा लिया लेकिन बांटा नहीं, जबकि सूफ़ी वो जो ख़ुद भी पाया और दूसरों को भी बांटा।

ख़ुदा के दोस्तों की अन्धेरी रात भी दिन की रौशनी की तरह चमकीली है।

(शैख सादी रहमतुल्‍लाह अलैह)

आपके अंधेरे की कोई हद नहीं, उसके उजाले की कोई हद नहीं। अगर वो सच्चा मिल जाए तो उससे जा मिलो, उससे जो मिलता है हासिल कर लो। उसी पर ख़ुदा ने एहसान किया उसी को ईनाम दिया है। वही हक़ को पा लिया है और वही दे सकता है। वही रौशन है और रौशन कर सकता है। वही आपको इस अंधेरे से उजाले की तरफ़ ले जा सकता है।

Planetary Orbits

All stars and planets have orbits.

For centuries it was believed that Earth is fixed and the sun, moon and planets revolve around it. However 1400 years ago the Quran said that not only the sun and moon but also Earth moves in a designated path:

[Quran 39.5] [Allah] Created the heavens and the Earth in truth. He overlaps the night over the day and overlaps the day over the night, and enslaved the sun and the moon, ALL MOVE (كل يجري) to a prerecorded destiny. Is He not the Exalted, the Forgiver?

Here the Quran is referring to ALL MOVING: not only the sun and moon but also Earth. In Arabic grammar there is difference between the singular (one), binary (two) and plural (three or more). The reference to binary is “Kulahuma Yajreean كلاهما يجريان” however the Quran said “Kullon yajree كل يجري” referring to the plural (three or more). Since the sun and moon are just two but the Quran is refering to three or more then according to the Quran all the three move sun, moon and Earth.

[Quran 86.11] And the sky that returns.

Al-rajeh in Arabic ” الرَّجْعِ  means returns to the same location. We already know that all planets return to the same locations in their respective orbits. This is confirmed. But there is also another characteristic of the universe, however is still theoretical, that is if you continue in a straight line in the universe you will eventually approach from behind and end up where you started. It depends on the topology of the universe and how it is connected.

Pharaoh

Pharaoh

Pharaoh is a title given to Egyptian rulers in the New Kingdom (not before).

For centuries it was thought that all Egyptian rulers were referred to as Pharaohs. Actually the Christian Bible insists that Abraham and Joseph interacted with Pharaohs. However modern discoveries show that this cannot be true. Pharaoh is a title given to rulers in the Egyptian New Kingdom, not before.

Before the New Kingdom the word “Pharaoh” meant “Great House” and it referred to the buildings of the court or palace but not to the ruler.

 From the Twelfth Dynasty onward, the word appears in a wish formula “Great House, May it Live, Prosper, and be in Health”, but again only with reference to the royal palace and not the person.

Sometime during the era of the New Kingdom, Second Intermediate Period, pharaoh became the form of address for a person who was king.

Wikipedia, Pharaoh, 2019

So there were no Pharaohs at the time of Abraham or Joseph. They were just kings. But the Quran didn’t do this mistake. The Quran correctly addressed the ruler at the time of Joseph as King, and correctly addressed the ruler at the time of Moses as Pharaoh.

The Egyptian ruler at time of Joseph was a king:

[Quran 12:52] The king said, “Bring him to me, and I will reserve him for myself.” And when he spoke to him, he said, “This day you are with us established and secure.”

The Egyptian ruler at time of Moses was a Pharaoh:

[Quran 40:26] Pharaoh said, “Let me kill Moses, and let him appeal to his Lord. I fear he may change your religion, or spread disorder in the land.”