All Type Burning Chest Tezabiyat Seene ki Jalan Ka Ilaj

Seene ki jalan hona bhi 1 aam baat hai aaj ka hamara khan paan bhi kuchh aisa hai ki tali chupdi aur murgan cheejen had se ziyadah istimaal karte hain jiski wajah se bhi tezabiyat seene ki jalan ho sakti hai magar fir bhi hamari ray yahi hai ki aisi koi probelm ho to Dr. se 1 baar jarur milen aur isko kabhi bhi halke mein na len kyunki heart burn & chest burn same ho sakta hai jisko janna kabhi dushwar bhi ho jata hai

 

Burn Chest Fact_Seene mein Jalan Hone Ki Important Nishaniyan

1:Seene ki haddi (bone) ke neeche jalan, sowzish ka ehsaas hona.

 

2:seene ki jalan ki surat mein dard hona

 

3:Seene mein jalan ki shikayat ziyadatar khane ke baad mehsoos hoti hai.

 

4: sleep sone ki surat mein Heart Burn ki shiddat badh jati hai.

 

5: Antacid aur dawaon ( medicines) ke istemaal se dard me kuchh rahat mil jati hai jiski wajhah se dard door ho jata hai.Is takleef mein saans lene mein preshani , sir mein halka dard mehsoos hona, chakkar aana, thandda paseena aane ki shikayat hona etc wagairah ho to yeh samjhlen ki aapko finly burn chest yani seene ki jalan aur tezabiyat hai iske liye aap yeh nuskhe use karen insha allah aapko kafi had tak aaram milega

(1) agar ho sake to daily 1 kela (banana) din ke waqt khaliya karen isse bhi aapke seene ki jalan mein faidah hoga
(2) har 3 din mein isapgol 2_3 spoon pani ke sath faank len han khali isapgol munh mein chipak sakti hai isliye pehle munh mein thoda pani le fir faank len insha allah bahut kaamyab nuskha hai seene ki jalan ka
(3) hafte (weekly) mein 2 roze rakhen jismein sehri mein khana bahut kam khana hai aur roza 1 aisa hathyar hai ki bimariyun ko paas tak nahi aane deta hai isski ziyadah jaankari ke liye yahan padehn Kya Roza Bimar Karta Hai Dr. Special Report

(4) tezabiyat ka behtreen ilaj yeh hai ki khira kakdi moli patun ke saath shaljam gajar chuqandar ki sabjiyan aur apple ko bina chhilka utare khaen warna chheelne se isska vitamans khatam hojate hain han achhi tarah se dhole bas yahi kafi hai
(5) jalan ka khaas issue hota hai pani ki kami jab hamari body ko zarurat ka pani nahi milta hai to iski wajah se sirf seene ki jalan hi nahi balki bahut si bimariyan janam leleti hain to isska shandar ilaj yeh hai ki kam se kam 10_12 gilaas pani 24 hr mein jarur piyen isse bhi aapki  jalan khatm hogi

(6) thande mashrubat pepsis and bahut ziyadah thanda pani achaar medeh se bani chijen pizza paranthe aur mithi dishen etc. se bachne aur khana jitna ho sake kam half hi khaen agarche aapki khawahish abhi baki hai magar haath ko rokne ki koshish karlijiye isse na sirf aapki seene ki jalan kam hogi balki aapki bahut si bimariyun ka ilaj hojaega aur aap 1 dam tari taza aur tandrust rahenge yeh nuskha agar aapne karliya to samjen ki 80% bimariyan aapke kareeb tak nahi aaegi insha allah
you can trust me hi is all the tips very powerfull for all type Burning chest (seene ki jalan)

Treatment Of Asthma (Dama Ka Behtreen Ilaj

 

(1) daily 3_5 Khajoor kha kar upar se garam pani pilijiye isse belgaum patla hokar nikal jaega aur damah ki takleef mein bahut madad karega insha allah
(2) 3 Khushk (sukhi hui) anjeer doodh mein pakakar daily subah w shaam istemaal karen isse bhi balgam patla hokar nikal jaega aur damah ke mareez ko shifayabi milegi
Agar damah ka hamla ho to yeh 3 tips bahut kamyab hai sehat ke liye jab bhi damah ki shikayat ho to Haldi aur soonth thoda sa shahad ke saath lelen foran damah ki shikayat door hogi

(3) 1 paka huaa kela aag ki loi par garam karen aur fir usko chhel kar pisi hui kali mirch chhidak kar khalen rahat milegi
(4) 2 tea spoon adrak ka ras shehad ke saath istemaal karne se bhi damah ke mareez ko sukoon milta hai insha allah taala

Hi my all dear readers yeh post aapko kaisi lagi apne qimti mashware se hamen khabar karen aapki ray hamen aur isse behtar likhne ki himmat degi insha allah please share this post to all your friends thanks again for reading complet Art.
By. shahadatsherani Indian

 

डेंगू (Dengue)

डेंगू (Dengue) के बारे में इस समय इलेक्ट्रॉनिक मीडिया एवं समाचार-पत्र आदि में काफी सुनने व पढने को मिल रहा है। इस समय यह रोग भयानक रूप से फैलता हुआ दिखाई दे रहा है।

डेंगू दुनिया भर में पाया जाने वाला एक खतरनाक वायरल रोग है जो की संक्रमित मादा एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। अकेला एक संक्रमित मच्छर ही अनेक लोगों को डेंगू रोग से ग्रसित कर सकता है।

डेंगू मच्छर का वैज्ञानिक नाम एडीस इजिप्टी है। डेंगू दो प्रकार का होता है। डेंगू ज्वर और डेंगू रक्तस्रावी। डेंगू ज्वर एक भयानक फ्लू जैसी बीमारी है। यह आमतौर से बड़े उम्र के बच्चों और वयस्कों को होता है, किन्तु इससे ग्रस्त रोगी की मृत्यु कभी-कभार ही होती है। डेंगू रक्तस्राव ज्वर, डेंगू का अत्यंत भयानक रूप है। इसमें रक्तस्राव होता है और मृत्यु भी हो जाती है। इस रोग की चपेट में बच्चे आते हैं। डेंगू फैलाने वाला मच्छर या तो सुबह के प्रारम्भ के समय अथवा दिन में देर से काटता है।

डेंगू के लक्षण :

भिन्न-भिन्न रोगियों में रोग का लक्षण रोगी की आयु और स्वास्थ्य के अनुसार भिन्न-भिन्न होता है। नवजात और कम उम्र के शिशिओं में ज्वर के साथ शरीर पर खसरा यानी मीजिल्स के समान चित्तिकाएं या दरोरे निकल आते हैं। इन लक्षणों को एनफ्लूएन्जा, खसरा, मलेरिया, संक्रामक हेपेटाइटिस और अन्य रोगों से अलग नहीं किया जा सकता है। दूसरे बच्चे या वयस्कों में भी रोग के इसी प्रकार के लक्षण प्रकट होते हैं और रोग की प्रबलता मंद से तीव्र हो सकती है।

  • तेज बुखार,
  • मांस पेशियों एवं जोड़ों में भयंकर दर्द,
  • सर दर्द,
  • आखों के पीछे दर्द,
  • जी मिचलाना,
  • उल्टी
  • दस्त तथा
  • त्वचा पर लाल रंग के दाने

मरीज की स्थिति गम्भीर होने पर प्लेट लेट्स (platelets) की संख्या तेजी से कम होते हुए नाक, कान, मुँह या अन्य अंगों से रक्त स्राव शुरू हो जाता है, रक्त चाप काफी कम हो जाता है। यदि समय पर उचित चिकित्सा ना मिले तो रोगी कोमा में चला जाता है। उपरोक्त लक्षणों के सम्बन्ध में यह बात ध्यान रखने योग्य है कि बहुत से अन्य रोगों एवं अन्य बुखार आदि के लक्षण भी डेंगू से मिलते जुलते हो सकते हैं और कभी कभी रोगी में बुखार के साथ सिर्फ 1 – 2 लक्षण होने पर भी डेंगू पॉजिटिव आ सकता है। इसलिए सभी लक्षणों के प्रकट होने का इंतजार नहीं करना चाहिए। यदि बुखार 1 – 2 दिन में ठीक ना हो तो तुरन्त डॉक्टर के पास जाकर चेक-अप करवाना चाहिए क्योंकि कोई भी बुखार डेंगू हो सकता है।

डेंगू रोग की रोकथाम :

  1. घर में एवं घर के आसपास पानी एकत्र ना होने दें, साफ़ सफाई का विशेष ध्यान रखें।
  2. सेप्टिक टैंक और सोक पिट्स को ठीक तरह से सील कर दें, ताकि डेंगू मच्छर उसमें प्रजनन न कर सकें।
  3. यदि घर में बर्तनों आदि में पानी भर कर रखना है तो ढक कर रखें। यदि जरुरत ना हो तो बर्तन खाली कर के या उल्टा कर के रख दें।
  4. कूलर की टंकियों का पानी सदैव बदलते रहें ताकिर मच्छर उसमें अण्डे न दे सकें।
  5. गमले आदि का पानी रोज बदलते रहें।
  6. घर के आस-पास गंदगी और कूड़ा-कचरा न रहने दें।
  7. ऐसे कपड़े पहनें जो शरीर के अधिकतम हिस्से को ढक सकें।
  8. यदि छोटे-छोटे- गड्ढ़े घर के आसपास हों, और उनमें पानी एकत्र हो जाता हो, तो उसे मिट्टी से पाट दें।
  9. मच्छर रोधी क्रीम, स्प्रे, लिक्विड, इलेक्ट्रॉनिक बैट आदि का प्रयोग मच्छरों के बचाव हेतु करें।

डेंगू से बचने के आयुर्वेदिक एवं प्राकृतिक तरीके :

  1. घर की खिड़की आदि में तुलसी का पौधा लगाने से मच्छरों से बचाव होता है।
  2. नीम की सुखी पत्तियों एवं कर्पूर की घर में धूणी करने से मच्छर मर जाते हैं या कोने एवं पर्दों आदि के पीछे छिपे हुए मच्छर घर के बाहर भाग जाते हैं।
  3. नीम, तुलसी,गिलोय ,पिप्पली , पपीते की पत्तियों का रस, गेंहू के ज्वारों का रस, आँवला व ग्वारपाठे का रस डेंगू से बचाव में बहुत उपयोगी है। इनसे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढती है तथा डेंगू के वायरस से मुकाबला करने की ताकत आती है।
  4. 25 ग्राम ताजी गिलोय का तना लेकर कूट लें , 4 – 5 तुलसी के पत्ते एवं 2 – 3 काली मिर्च पीसकर 1 लीटर पानी में उबालें। 250 M.L. शेष रखें , इसे तीन बार में बराबर मात्रा में विभक्त करके लें। यह काढ़ा डेंगू, स्वाइन फ्लू एवं चिकन गुनिया जैसे वायरल इन्फेक्शन से बचाने में बहुत उपयोगी है।
  5. याद रखें डेंगू की कोई विशिष्ट चिकित्सा अभी तक उपलब्ध नहीं है। सिर्फ लाक्षणिक चिकित्सा ही की जाती है। बुखार कैसा भी हो इन दिनों में यदि जल्दी आराम ना मिले तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए और मच्छरों से बचाव एवं शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति बढायें। यही डेंगू से बचने का सर्वोत्तम उपाय है।

जैविक रोकथाम :

मच्छरों की रोकथाम के लिए ‘कुप्पीज’ जैसी मछलियों का प्रयोग किया जा सकता है, जो मच्छरों के छोटे लार्वा को भोजन के रूप में ग्रहण करती हैं। इन मछलियों को तालाबों या नालों से प्राप्त किया जा सकता है या वहाँ से खरीदा भी जा सकता है, जहाँ इन लारवा खाने वाली मछलियों को पाला जाता है। जीवाणुवीय कीटनाशी पेस्टिसाइड का प्रयोग मच्छरों को मारने के लिए किया जा सकता है।

डेंगू से डरे नहीं :

डेंगू से घबराना नहीं चाहिए, लेकिन यदि बुखार आ रहा हो, तो उसे नजरअंदाज न करें। स्वयं अथवा मेडिकल स्टोर से दवा खरीद कर न खाएँ और प्रशिक्षित डॉक्टर को ही दिखाएँ। बुखार होने पर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन यदि बुखार सात दिन से अधिक का हो गया हो, तो प्लेटनेट्स काउंट चेक कराएँ। प्लेटलेट्स काउंट 20 हजार से कम होने पर अथवा शरीर से रक्तस्राव होने पर रोगी को अस्पताल में अवश्य भर्ती कराएँ।

Adrak Ke Faide

Ek Masale ke roop me adrak ka istemal sadiyon se hota raha hai.adrak ka istemal morabba,Paak,Aachar ke shakal me kiya jata hai.Sauth to adrak se hi taiyaar hota hai.Sauth ka upyog garmiyon mein nahi karna chahiye, lekin adrak ka istemal kuch mikdath mein kiya ja sakta hai.

Aaiye jane tarha tarha ki bimariyon mein adrak kis tarha hamare kaam Aata hai.

KHANSI

Adrak aur nimbu ke Raas aur Sahad 3 ko sahi mikdath me milakar din me 2 baar piye.adrak ke raas main shehad milakar chatne se bhi rahat milti hai.

KHABZ

Adrak,azwain aur gud in tino ko sahi mikdath me kut le, ise ghee mein bhun kar paani dalkar pakaye.ise niyamit roop se khane se khabz ki shikayat door ho jati hai.

PEET MEIN JALAN YA DARD

apach ke karan peet main jalan ho tohdo ganne ka raas ek ganth adrak ke sath piye.gas se hone wali gale ki jalan bhi shant ho jayegi adrak aur pudina ka ras aur sendha namak milakar chai banaye.

GETHIYA

adrak ko barook katein aur taza ghee main bhunkar khaye. adrak ko til ke tel main garam karke is tel se jodon ki malish karen.

INFLUENZA YA FLU

adrak aur tulsi ke patte, kali mirch aur longinsab ko milakar chai banaye. teen char baar aisi chai ka istemal karen. influenza ya flu main rahat milegi.

MANDAGNI

adrak ka raas, nimbu ka raas aur sendha namak ek saath milakar khane se pehle lene se mandagni door hoti hai.aur khulkar bhookh lagti hai,isse cough,vayu vikar ka bhi shaman hota hai.

MASUDHON KI SUJAN

sauth ka churan paani ke sath istemal karne se masudon ki sujan aur daanton ke dard se chutkara milta hai.

BUKHAR

adrak aur pudine ka kadha banakar piye.ye thandi bukhar main bhi faydemand hai.

KAMJORI

sauth,bael ki giri,choti elichi,dalchini aur chuhara barabar matra main kut kar bareek powder bana le.ise roj subha-sham dood ke sath len.ya bimari ke baad ki kamjori ko door karta hai.

ULTI

adrak aur pyaz ka raas milakar peene se ulti door ho jati hai.

भोजन द्वारा स्वास्थ्य

केला ::-
ब्लडप्रैशर नियंत्रित करता है,
हड्डियों को मजबूत बनाता है,
हृदय की सुरक्षा करता है,
अतिसार में लाभदायक है,
खाँसी में हितकारी है।

 जामुन ::-
कैंसर की रोकथाम करता है,
हृदय की सुरक्षा करता है,
कब्ज को मिटाता है,
स्मरण शक्ति बढाता है,
रक्त शर्करा नियंत्रित करता है,
डायबिटीज में अति लाभदायक।

 सेवफ़ल ::-
हृदय की सुरक्षा करता है,
दस्त उपचार से रोकता है,
कब्ज में फ़ायदेमंद है,
फ़ेफ़ड़ों की शक्ति बढाता है।

 चुकंदर ::-
शरीर का वजन घटाता है,
ब्लडप्रैशर नियंत्रित करता है,
अस्थिक्षरण रोकता है,
कैंसर के विरुद्ध लडता है,
हृदय की सुरक्षा करता है।

 पत्ता गोभी ::-
बवासीर में हितकारी है,
हृदय रोगों में लाभदायक है,
कब्ज को मिटाता है,
वजन घटाने में सहायक है,
कैंसर में फ़ायदेमंद है।

 गाजर ::-
नेत्र ज्योति वर्धक है,
कैंसर प्रतिरोधक है,
वजन घटाने में सहायक है,
कब्ज को मिटाती है,
हृदय की सुरक्षा करती है।

 फूल गोभी ::-
हड्डियों को मजबूत बनाती है,
स्तन कैंसर से बचाव करती है,
प्रोस्टेट ग्रंथि कैंसर में उपयोगी,
चोंट, खरोंच ठीक करती है।

 लहसुन:
कोलेस्टरोल घटाती है,
उच्च रक्तचाप घटाती है,
अवांछित कीटाणुनाशक है,
कैंसर से लडती है।

 शहद ::-
घाव भरने में उपयोगी है,
पाचन क्रिया सुधारता है,
एलर्जी रोगों में उपकारी है,
अल्सर से मुक्तिकारक है,
तत्काल स्फ़ूर्ती देता है।

 नींबू ::-
त्वचा को मुलायम बनाता है,
कैंसर अवरोधक है,
हृदय की सुरक्षा करता है,
ब्लड प्रैशर नियंत्रित करता है,
स्कर्वी रोगनाशक है।

 अंगूर ::-
रक्त प्रवाह वर्धक है,
हृदय की सुरक्षा करता है,
कैंसर से लडता है,
गुर्दे की पथरी नष्ट करता है,
नेत्र ज्योतिवर्धक है।

 आम ::-
कैंसर से बचाव करता है,
थायराईड रोग में हितकारी है,
पाचन शक्ति बढाता है,
याददाश्त कमजोरी में हितकर।

 प्याज ::-
फ़ंगस अवरोधी गुणकारक है,
हार्टअटैक रिस्क कम करता है,
अवांछित जीवाणु नाशक है,
कैंसर विरोधी है,
खराब कोलेस्टरोल घटाता है।

 अलसी के बीज ::-
मानसिक शक्ति वर्धक है,
रोग प्रतिरोध शक्ति को बढ़ते हैं,
डायबिटीज में उपकारी है,
हृदय की सुरक्षा करता है,
डायजैशन को ठीक करते हैं।

 संतरा ::-
हृदय की सुरक्षा करता है,
रोग प्रतिरोध शक्ति बढ़ाता है,
श्वसन विकारों में लाभकारी है,
कैंसर में हितकारी है।

 टमाटर ::-
कोलेस्टरोल कम करता है,
प्रोस्टेट ग्रंथि सुधार में उपकारी है,
कैंसर से बचाव करता है,
हृदय की सुरक्षा करता है।

 पानी ::-
गुर्दे की पथरी का नाशक है,
वजन घटाने में सहायक है,
कैंसर के विरुद्ध लड़ता है,
त्वचा की चमक बढाता है।

 अखरोट ::-
मूड उन्नत करने में सहायक है,
मैमोरी पावर बढाता है,
कैंसर से लड सकता है,
हृदय रोगों से बचाव करता है,
कोलेस्टरोल घटाता है।

 तरबूज ::-
स्ट्रोक रोकने में उपयोगी है,
प्रोस्टेट-स्वास्थ्य में हितकारी है,
रक्तचाप घटाता है,
वजन कम करने में सहायक है।

 अंकुरित गेहूँ ::-
बडी आँत के कैंसर से लडता है,
कब्ज प्रतिकारक है,
स्ट्रोक से रक्षा करता है,
कोलेस्टरोल कम करता है,
पाचन शक्ति को सुधारता है।

 चावल ::-
किडनी स्टोन में हितकारी है,
डायबिटीज में लाभदायक है,
स्ट्रोक से बचाव करता है,
कैंसर से लडता है,
हृदय की सुरक्षा करता है।

 आलू बुखारा ::-
हृदय रोगों से बचाव करता है,
बुढापा जल्द आने से रोकता है,
याददाश्त को बढाता है,
कोलेस्टरोल घटाता है,
कब्ज प्रतिरोधक है।

 पाइनैप्पल ::-
अतिसार (दस्त) रोकता है,
वार्ट्स (मस्से) ठीक करता है,
सर्दी, ठंड से बचाव करता है,
अस्थिक्षरण को रोकता है ,
पाचन क्रिया सुधारता है।

 जौ, जई ::-
कोलेस्टरोल घटाता है,
कैंसर से लडता है,
डायबिटीज में उपकारी है,
कब्ज प्रतिकारक् है ,
त्वचा की शाईनिंग बढ़ाता है।

 अंजीर ::-
रक्तचाप नियंत्रित करता है,
स्ट्रोक्स से बचाता है,
कोलेस्टरोल कम करता है,
कैंसर से लडता है,
वजन घटाने में सहायक है।

 शकरकंद ::-
आँखों की रोशनी बढाता है,
मूड को उन्नत करता है,
हड्डियाँ बलवान बनाता है,
कैंसर से लडता है ।