Hazrat Data Ganj Bakhsh (رحمتہ اللہ علیہ) Ki Talimat Aur Islah Muashra

Advertisements

Hadith-e-Kisa (Hadith of the Cloak)

download

 

The Hadees-e-Kisa may be narrated in short as; Once, the Noble Messenger (s.a.w.a.s.) came to the Lady of Paradise, Sayyida Fatima Zahra (s.a.) and told her that he was feeling weakness. She (s.a.) brought a Yamani cloak and placed it on him. Shortly, Imam Hasan (a.s.) came in and inquired from her that he could feel the sacred fragrance of our Grandfather. She told him that his grandfather (s.a.w.a.s.) was resting under the cloak. He went near the cloak, offered his salutations and sought permission to enter the cloak which was granted, and he joined his grandfather. Subsequently, Imam Husyan (a.s.), Imam Ali (a.s.) and Sayyida Fatima Zahra (s.a.) also joined the Noble Messenger (s.a.w.a.s.) under the cloak. At that time, the Noble Messenger (s.a.w.a.s.) addressed Allah (s.w.t.) saying, “O Allah! These are my Ahlul Bayt”

Allah (s.w.t.) said to the angels and the residents of Heavens, “I have not created this universe but for the love of these Five persons under this cloak.” The Archangel Jibra’il inquired as to who were those Five persons? Allah (s.w.t.) replied, “They are the Ahlul Bayt of the Prophet and the Assets of the Prophet hood. They are Fatima, her father, her husband and her two sons.” Archangel Jibra’il sought permission if he could join them and he was granted permission. He descended on earth, offered salutations to the Noble Messenger (s.a.w.a.s.) and sought permission to join them which was granted. He then narrated theAyah of Tatheer, “Indeed Allah desires to repel all impurities from you O Ahlul Bayt, and purify you with a through purification.” (33:33)

 

Mirror_writing2

Narrated Hazrat Aisha (رضئ اللہ تعالی عنہ):

One day the Prophet (PBUH&HF) came out afternoon wearing a black cloak (upper garment or gown; long coat), then al-Hasan Ibn Ali came and the Prophet accommodated him under the cloak, then al-Husain came and entered the cloak, then Fatimah came and the Prophet entered her under the cloak, then Ali came and the Prophet entered him to the cloak as well. Then the Prophet recited: “God Allah intends to keep off from you every kind of uncleanness O’ People of the House (Ahlul-Bayt), and purify you a perfect purification (the last sentence of Verse 33:33).”

Reference:
* Sahih Muslim, Chapter of virtues of companions, section of the virtues of the Ahlul-Bayt of the Prophet (PBUH&HF), 1980 Edition Pub. in Saudi Arabia, Arabic version, v4, p1883, Tradition #61.

Another version of the “Tradition of Cloak” is written in Sahih al-Tirmidhi, which is narrated in the authority of Umar Ibn Abi Salama, the son of  Hazrat Umm Salama (رضئ اللہ تعالی عنہ), which is as follows:

The verse “Allah only intends to … (33:33)” was revealed to the Prophet (PBUH&HF) in the house of Umm Salama. Upon that, the Prophet gathered Fatimah, al-Hasan, and al-Husain, and covered them with a cloak, and he also covered Ali who was behind him. Then the Prophet said: “O’ Allah! These are the Members of my House (Ahlul-Bayt). Keep them away from every impurity and purify them with a perfect purification.” Umm Salama (the wife of Prophet) asked: “Am I also included among them O Apostle of Allah?” the Prophet replied: “You remain in your position and you are toward a good ending.”

Reference: Sahih al-Tirmidhi, v5, pp 351,663

Hazrat Ja’far Ibn Abi Talib (رضئ اللہ تعالی عنہ) narrated:

When the Messenger of Allah noticed that a blessing from Allah was to descent, he told Safiyya (one of his wives): “Call for me! Call for me!” Safiyya said: “Call who, O the Messenger of Allah?” He said: “Call for me my Ahlul-Bayt who are Ali, Fatimah, al-Hasan, and al-Husain.” Thus we sent for them and they came to him. Then the Prophet (PBUH&HF) spread his cloak over them, and raised his hand (toward sky) saying: “O Allah! These are my family (Aalee), so bless Muhammad and the family (Aal) of Muhammad.” And Allah, to whom belong Might and Majesty, revealed: “Allah only intends to keep off from you all uncleanness O’ People of the House (Ahlul-Bayt), and purify you a thorough purification (Quran, the last sentence of Verse 33:33)”.

References:
* al-Mustadrak by al-Hakim, Chapter of “Understanding (the virtues) of Companions, v3, p148. The author then wrote: “This tradition is authentic (Sahih) based on the criteria of the two Shaikhs (al-Bukhari and Muslim).”
* Talkhis of al-Mustadrak, by al-Dhahabi, v3, p148
* Usdul Ghabah, by Ibn al-Athir, v3, p33

 

The Hadees-e-Kisa, which is considered “Mutawatir”, have been reported by hundreds of scholars 

  • Sahih Muslim volume 3 number 5955 and volume 15 page 190
  • Hakim in Mustadrak volume 2 page 416
  • Baihique in Sunan al-Kubra
  • Tabari in Usd al-Ghabah volume 3 page 33
  • Tafsir Ibne Kathir volume 3page 485 volume 6 page 369
  • Allama Suyuti in Tafsir Durr al-Manthur volume 5page 376 and volume 5 page 198 and 605
  • Sahih Tirmizi
  • Tahavi in Mushkil al-athar volume 1 pages 332-336
  • Haitham in Majma al-Zawaid
  • Masnad Ahmad bin Hambal v1 pages 330-331, v 3 page 252, v4 page 107, v 7 page 415,
  • Sawa’iq al-Muhriqa by Ibne Hajar Makki page 144
  • Ibne Athir in Usd al-Ghaba volume 2 page 12 and volume 4 page 79
  • Tabari in Dalail Imama page 21
  • Zamakhshari in al-Kashshaf volume 1 pages 193, 368-370
  • Allama Fakhr ad din Razi in Tafsir al-Kabir volume 8 page 247 and volume 2 page 700
  • Fadha’il al-Sahaba by Ahmad ibn Hambal volume 2 page 578 #978
  • Al-Khasa’is by al-Nisa’I page 4 and 8
  • Tafsir AL-Qurtubi
  • Tarikh al-Khatib al Baghdadi volume 10
  • Sahih Muslim, Chapter of virtues of companions, section of the virtues of the Ahlul-Bayt of the Prophet (s), 1980 Edition Pub. in Saudi Arabia, Arabic version, v4, p1883, Tradition #61.
  • al-Mustadrak, by al-Hakim, v2, p416
  • Musnad Ahmad Ibn Hanbal, v6, pp 323,292,298; v1, pp 330-331; v3, p252; v4, p107 from Abu Sa’id al-Khudri
  • Fadha’il al-Sahaba, by Ahmad Ibn Hanbal, v2, p578, Tradition #978
  • .al-Mustadrak, by al-Hakim, v2, p416 (two traditions) from Ibn Abi Salama, v3, pp 146-148 (five traditions), pp 158,172
  • .al-Khasa’is, by an-Nisa’i, pp 4,8
  • .al-Sunan, by al-Bayhaqi, narrated from Aisha and Umm Salama
  • .Tafsir al-Kabir, by al-Bukhari (the author of Sahih), v1, part 2, p69
  • .Tafsir al-Kabir, by Fakhr al-Razi, v2, p700 (Istanbul), from Aisha
  • .Tafsir al-Durr al-Manthoor, by al-Suyuti, v5, pp 198,605 from Aisha and Umm Salama
  • .Tafsir Ibn Jarir al-Tabari, v22, pp 5-8 (from Aisha and Abu Sa’id al-Khudri), pp 6,8 (from Ibn Abi Salama) (10 traditions)
  • .Tafsir al-Qurtubi, under the commentary of verse 33:33 from Umm Salama
  • .Tafsir Ibn Kathir, v3, p485 (Complete version) from Aisha and Umar Ibn Abi Salama
  • .Usdul Ghabah, by Ibn al-Athir, v2, p12; v4, p79 narrated from Ibn Abi Salama
  • .Sawa’iq al-Muhriqah, by Ibn Hajar al-Haythami, Ch. 11, sec. 1, p221 from Umm Salama
  • .Tarikh, by al-Khateeb Baghdadi, v10, narrated from Ibn Abi Salama
  • .Tafsir al-Kashshaf, by al-Zamakhshari, v1, p193 narrated from Aisha
  • .Mushkil al-Athar, by al-Tahawi, v1, pp 332-336 (seven traditions)
  • .Dhakha’ir al-Uqba, by Muhibb al-Tabari, pp21-26, from Abu Sa’id Khudri
  • .Majma’ al-Zawa’id, by al-Haythami, v9, p166 (by several transmitters)

 

बिसमिल्ला हिर रहमानिर रहीम

अल्लाह हुम्मा सल्ले अला मुहम्मा व आले मुहम्मद

जाबिर इब्न अब्दुल्लाह अंसारी बीबी फ़ातिमा ज़हरा (स:अ) बिन्ते रसूल अल्लाह (स:अ:व:व) से रिवायत करते हुए कहते हैं के मैने जनाब फ़ातिमा ज़हरा (स:अ) से सुना है की वो फ़रमा रहीं थीं के एक दिन मेरे बाबा जान रसूले ख़ुदा (स:अ:व:व) मेरे घर तशरीफ़ लाये और फ़रमाने लगे, “सलाम हो तुम पर ऐ फ़ातिमा (स:अ)” मैने जवाब दिया, “आप पर भी सलाम हो” फिर आप ने फ़रमाया :”मै अपन जिस्म में कमज़ोरी महसूस कर रहा हूँ” मै ने अर्ज़ किया की, “बाबा जान ख़ुदा न करे जो आप में कमज़ोरी आये” आप ने फ़रमाया: “ऐ फातिमे (स:अ) मुझे एक यमनी चादर लाकर उढ़ा दो” तब मै यमनी चादर ले आई और मैंने वो बाबा जान क़ो ओढ़ा दी और मै देख रही थी के आपका चेहरा-ए-मुबारक चमक रहा है, जिस तरह चौदहवीं रात क़ो चाँद पूरी तरह चमक रहा हो, फिर एक लम्हा ही गुज़रा था की मेरे बेटे हसन (अ:स) वहां आ गए और बोले, “सलाम हो आप पर ऐ वालिदा मोहतरमा (स:अ)!” मैंने कहा और तुम पर भी सलाम हो ऐ मेरी आँख के तारे और मेरे दिल के टुकड़े – वोह कहने लगे, “अम्मी जान (स:अ), मै आप के यहाँ पाकीज़ा ख़ुशबू महसूस कर रहा हूँ जैसे वोह मेरे नाना जान रसूले ख़ुदा (स:अ:व:व) की ख़ुशबू हो” मैंने कहा, “हाँ तुम्हारे नाना जान चादर ओढ़े हुए हैं” इसपर हसन (अ:स) चादर की तरफ़ बढे और कहा, “सलाम हो आप पर ऐ नाना जान, ऐ ख़ुदा के रसूल! क्या मुझे इजाज़त है के आपके पास चादर में आ जाऊं?” आप ने फ़रमाया, “तुम पर भी सलाम हो ऐ मेरे बेटे और ऐ मेरे हौज़ के मालिक, मै तुम्हें इजाज़त देता हूँ” बस हसन आपके साथ चादर में पहुँच गए! फिर एक लम्हा ही गुज़रा होगा के मेरे बेटे हुसैन (अ:स) भी वहां आ गए और कहने लगे :”सलाम हो आप पर ऐ वालिदा मोहतरमा (स:अ) – तब मैंने कहा, “और तुम पर भी सलाम हो ऐ मेरे बेटे, मेरी आँख के तारे और मेरे कलेजे के टुकड़े” इसपर वो मुझे से कहने लगे, “अम्मी जान (स:अ), मै आप के यहाँ पाकीज़ा ख़ुशबू महसूस कर रहा हूँ जैसे वोह मेरे नाना जान रसूले ख़ुदा (स:अ:व:व) की ख़ुशबू हो” मैंने कहा, “हाँ तुम्हारे नाना जान और भाई जान इस चादर में हैं” बस हुसैन (अ:स) चादर के नज़दीक आये और बोले, “सलाम हो आप पर ऐ नाना जान! सलाम हो आप पर ऐ वो नबी जिसे ख़ुदा ने चुना है – क्या मुझे इजाज़त है के आप दोनों के साथ चादर में दाख़िल हो जाऊं?” आप ने फ़रमाया, “और तुम पर भी सलाम हो ऐ मेरे बेटे, और ऐ मेरी उम्मत की शफ़ा’अत करने वाले, तुम्हें इजाज़त देता हूँ” तब हुसैन (अ:स) ईन दोनों के पास चादर में चले गए, इसके बाद अबुल हसन (अ:स) अली इब्न अबी तालिब (अ:स) भी वहां आ गए और बोले, “सलाम हो आप पर ऐ रसूले ख़ुदा की बेटी!” मैंने कहा, “आप पर भी सलाम हो ऐ अबुल हसन (अ:स), ऐ मोमिनों के अमीर” वो कहने लगे, “ऐ फ़ातिमा (स:अ) मै आप के यहाँ पाकीज़ा ख़ुशबू महसूस कर रहा हूँ, जैसे वो मेरे भाई और मेरे चचाज़ाद, रसूले ख़ुदा की ख़ुशबू हो” मैंने जवाब दिया, “हाँ वो आप के दोनों बेटों समेत चादर के अन्दर हैं” फिर अली (अ:स) चादर के क़रीब हुए और कहा, ” सलाम हो आप पर ऐ ख़ुदा के रसूल – क्या मुझे इजाज़त है के मै भी आप तीनों के पास चादर में आ जाऊं?” आप ने इनसे कहा, “और तुम पर भी सलाम हो ऐ मेरे भाई, मेरे क़ायेम मुक़ाम, मेरे जा’नशीन, मेरे अलम’बरदार, मै तुम्हें इजाज़त देता हूँ” बस अली (अ:स) भी चादर में पहुँच गए – फिर मै चादर के नज़दीक आये और मैंने कहा, “सलाम हो आप पर ऐ बाबा जान, ऐ ख़ुदा के रसूल, क्या आप इजाज़त देते हैं के मैन आप के पास चद्दर में आ जाऊं?” आप ने फ़रमाया, “और तुम पर भी सलाम हो मेरी बेटी और मेरी कलेजे की टुकड़ी, मैंने तुम्हे इजाज़त दी” तब मै भी चादर में दाख़िल हो गयी! जब हम सब चादर में इकट्ठे हो गए तो मेरे वालिदे गिरामी रसूल अल्लाह (स:अ:व:व) ने चादर के दोनों किनारे पकड़े और दायें हाथ से आसमान की तरफ़ इशारा करके फ़रमाया, “ऐ ख़ुदा! यक़ीनन यह हैं मेरे अहलेबैत (अ:स), मेरे ख़ास लोग, और मेरे हामी, इनका गोश्त मेरा गोश्त और इनका ख़ून मेरा ख़ून है, जो इन्हें सताए वो मुझे सताता है, और जो इन्हें रंजीदा करे वो मुझे रंजीदा करता है! जो इनसे लड़े मै भी उस से लडूंगा, जो इनसे सुलह रखे, मै भी उस से सुलह रखूओंगा, मै इनके दुश्मन का दुश्मन और इनके दोस्त का दोस्त हूँ, क्योंकि वो मुझ से और मै इनसे हूँ! बस ऐ ख़ुदा तू अपनी इनायतें और अपने बरकतें और अपनी रहमत और अपनी बखशिश और अपनी खुशनूदी मेरे और इनके लिये क़रार दे, इनसे नापाकी क़ो दूर रख, इनको पाक कर, बहुत ही पाक”, इसपर खुदाये-बुज़ुर्ग-ओ-बरतर ने फ़रमाया, “ऐ मेरे फरिश्तो और ऐ आसमान में रहने वालो, बेशक मैंने यह मज़बूत आसमान पैदा नहीं किया, और न फैली हुई ज़मीन, न चमकता हुआ चाँद, न रौशन’तर सूरज, न घुमते हुए सय्यारे, न थल्कता हुआ समुन्दर, और न तैरती हुई किश्ती, मगर यह सब चीज़ें ईन पाक नफ्सों की मुहब्बत में पैदा की हैं जो इस चादर के नीचे हैं” इसपर जिब्राइल अमीन (अ:स) ने पुछा, “ऐ परवरदिगार! इस चादर में कौन लोग हैं?” खुदाये-अज़-ओ-जल ने फ़रमाया की वो नबी (स:अ:व:व) के अहलेबैत (अ:स)  और रिसालत का ख़ज़ीना हैं, यह फ़ातिमा (स:अ) और इनके बाबा (स:अ:व:व), इनके शौहर (अस:) इनके दोनों बेटे (अ:स) हैं! तब जिब्राइल (अ:स) ने कहा, “ऐ परवरदिगार! क्या मुझे इजाज़त है की ज़मीन पर उतर जाऊं ताकि इनमे शामिल होकर छठा फ़र्द बन जाऊं?” खुदाये ताला ने फ़रमाया, ” हाँ हम ने तुझे इजाज़त दी” बस जिब्राइल ज़मीन पर उअतर आये और अर्ज़ की, “सलाम हो आप पर ऐ ख़ुदा के रसूल! खुदाये बुलंद-ओ-बरतर आप क़ो सलाम कहता है, आप क़ो दुरूद और बुज़ुर्गवारी से ख़ास करता है, और आप से कहता है, मुझे अपने इज़्ज़त-ओ-जलाल की क़सम के बेशक मै ने नहीं पैदा किया मज़बूत आसमान और न फैली हुई ज़मीन, न चमकता हुआ चाँद, न रौशन’तर सूरज, न घुमते हुए सय्यारे, न थल्कता हुआ समुन्दर, और न तैरती हुई किश्ती, मगर सब चीज़ें तुम पाँचों की मुहब्बत में पैदा की हैं और ख़ुदा ने मुझे इजाज़त दी है की आप के साथ चादर में दाख़िल हो जाऊं, तो ऐ ख़ुदा के रसूल क्या आप भी इजाज़त देते हैं?” तब रसूले ख़ुदा बाबा जान (स:अ:व:व) ने फ़रमाया , “यक़ीनन की तुम पर भी हमारा सलाम हो ऐ ख़ुदा की वही के अमीन (अ:स), हाँ मै तुम्हे इजाज़त देता हूँ” फिर जिब्राइल (अ:स) भी हमारे साथ चादर में दाख़िल हो गए और मेरे ख़ुदा आप लोगों क़ो वही भेजता है और कहता है वाक़ई ख़ुदा ने यह इरादा कर लिया है की आप लोगों ए नापाकी क़ो दूर करे ऐ अहलेबैत (अ:स) और आप क़ो पाक-ओ-पाकीज़ा रखे”, तब अली (अ:स) ने मेरे बाबा जान से कहा, “ऐ ख़ुदा के रसूल बताइए के हम लोगों का इस चादर के अन्दर आ जाना ख़ुदा के यहाँ क्या फ़ज़ीलत रखता है?” तब हज़रत रसूले ख़ुदा ने फ़रमाया, “इस ख़ुदा की क़सम जिस ने मुझे सच्चा नबी बनाया और लोगों की निजात की ख़ातिर मुझे रिसालत के लिये चुना – अहले ज़मीन की महफ़िलों में से जिस महफ़िल में हमारी यह हदीस ब्यान की जायेगी और इसमें हमारे शिया और दोस्तदार जमा होंगे तो इनपर ख़ुदा की रहमत नाज़िल होगी, फ़रिश्ते इनको हल्क़े में ले लेंगे, और  जब वो लोग महफ़िल से रूखसत न होंगे वो इनके लिये बखशिश की दुआ करेंगे”, इसपर अली (अ:स) बोले, ” ख़ुदा की क़सम हम कामयाब हो गए और रब्बे काबा की क़सम हमारे शिया भी कामयाब होंगे” तब हज़रत रसूल ने दुबारा फ़रमाया, “ऐ अली (अ:स) इस ख़ुदा की क़सम जिस ने मुझे सच्चा नबी बनाया, और लोगों की निजात की ख़ातिर मुझे रिसालत के लिये चुना, अहले ज़मीन की महफ़िलों में से जिस महफ़िल में हमारी यह हदीस ब्यान की जायेगी और इस्मे हमारे शिया और दोस्तदार जमा होंगे तो इनमे जो कोई दुखी होगा ख़ुदा इसका दुख़ दूर कर देगा, जो कोई ग़मज़दा होगा ख़ुदा इसके ग़मों से छुटकारा देगा, जो कोई हाजत मंद होगा झुदा इसकी हाजत क़ो पूरा कर देगा” तब अली (अ:स) कहने लगे, “ब’ख़ुदा हमने कामयाबी और बरकत पायी और रब्बे काबा की क़सम की इस तरह हमारे शिया भी दुन्या व आख़ेरत में कामयाब व स’आदत मंद होंगे!

 

Afzaliyat e Panjatan

“Imam ul Ambiya (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Ne Farmaya Meri Ahle Bait Ki Misaal Kashti E Nooh Ki Tarah Hai, Jo Isme Sawar Hogaya Usne Najaat Paayi Aur Jisne Isse Mukhalifat Ki Wo Ghark Hogaya” . 📚 (Imam Hakim Al Mustadraq Vol : 02, Pg : 406, Hadees : 3370) .

“Hazrat Jabir Bin Abdullah (رضي الله تعالى عنهما) Bayan Karte Hain ki Ek Dafa’ Imam ul Ambiya (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Hum Se Mukhaatib Huwe Pas Mein Ne Aap (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Ko Farmate Hue Suna :

Aye Logon! Jo Hamare Ahle Bayt Se Bughz Rakhta Hai Allah Ta’ala Use Roz E Qayamat #Yahoodiyon Ke Saath Jama’ Karega toh Mein Ne Arz Kiya :

Ya RasoolAllah ﷺ !

Agarche Woh Namaz, Rozah Ka Paaband Hi Kyun Na Ho Aur Apne Aap Ko Musalman Gumaan Hi Kyun Na Karta Ho ?

To Aap (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Ne Farmaya :

(Haan) Agarche Woh Roza Aur Namaz Ka Paaband Hi Kyun Na Ho Aur Khudko Musalman Tasawwur Karta Ho, Aye Logon !

Yeh Labaadah Oodh Kar Usne Apne Khoon Ko Mubaah Hone Se Bachaaya Aur Yeh Ki Woh Apne Haath Se Jizyah De Us Haal Mein Woh Ghatya Aur Kamine Ho’n Pas Meri Ummat Mujhe Meri Maa Ke Paet Mein Dikhaayi Gayi Pas Mere Paas Se Jhandon Waale Gujare toh Maine Hazrat Ali Aur Shian E Ali Ke Liye Maghfirat Talab Ki.”

Is Hadith Ko Imam Tabarani Ne Riwayat Kiya Hai.

[Tabarani Fi Al-Mu’jam-ul-Awsat, 04/212, Raqam-4002,

Dhahabi Fi Mizan-ul-I’tidal, 03/171,

Haythami Fi Majma’-uz-Zawa’id, 09/172,

Ghayat-ul-Ijabah Fi Manaqib-il-Qarabah,/55, Raqam-43.]

📖📖📖📖📖📖📖📖📖📖📖📖📖📖

शान ए सय्यदा फ़ातिमा ज़हरा سلام اللہ علیھا
بنت محمد مصطفی صلی اللہ علیہ والہ وسلم

“बिलकुल मिलती थी नबी से आदत बतूल की
किरदार में गुफ़्तार में थी शबाहत रसूल की”

सय्यदा आयशा सिद्दिक़ा رضی اللہ عنھا अपना मुशाहिदा बयान फ़रमाती हैं : 👇

ما رأيت أفضل من فاطمة سلاماﷲ علیھا عن ه ا غير أبيها.

( طبرانی، المعجم الاوسط، ۳:۱۳۷ رقم: ۲۷۲۱)

” मैंने हुज़ूर صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم के सिवा फ़ातिमा سلام اللہ علیہا के कायनात में कोई और बेहतर व अफ़ज़ल इन्सान नही देखा ”

मज़ीद इरशाद फ़रमाती हैं के 👇

ما رأيت أحدا أشبه سَمتا و دَلا و هَديا برسول اﷲ صلی الله عليه وآله وسلم فی قيامها و قعودها من فاطمة بنت رسول اﷲ صلی الله عليه وآله وسلم.

( ترمذی، الجامع الصحيح، ۵:۷۰۰، رقم: ۳۸۷۲)

” मैंने फ़ातिमा बिन्ते रसूल سلام اللہ علیہا से बढ़ कर किसी को उठने बैठने चलने फिरने आदत व خصائل و منع قطع، حسن و خلق और गुफ़्तगू में हुज़ूर رسول اللہ صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم के मुशाबेह नही देखा

📕📕📕📕📕📕📕📕📕📕📕📕📕📕

“जैसा जिसका ज़र्फ़ वैसे उसकी तख़लीक़”

सैय्यदना इमामे जाफ़र सादिक़ अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं
👇👇👇👇👇

“सैय्यदना मौला अली (कर्रमअल्लाहो वजहुल करीम) के फ़ज़ाइल सुन कर मोमिन की मारिफ़त बढ़ती है
और मुनाफ़िक़ की मुनाफ़िक़त में इज़ाफ़ा होता है जिस तरह बारिश हर जगह बरसती है लेकिन बारिश के बाद बाग़ की ख़ुश्बू में इज़ाफ़ा हो जाता है और गलाज़त (गन्दगी) की बदबू बढ़ जाती है

📒📒📒📒📒📒📒📒📒📒📒📒📒📒

हज़रत अबु बकर सिद्दीक़ रदिo से रिवायत है “मफ़हूम”👇
कोई इंसान हो या कोई जिन्नात मौला अली(अ.स.) की इजाज़त के बग़ैर कोई भी पुल सिरात से गुज़र ही नही सकता❤️🙏❤️

गौर ओ फिक्र की बात है सुन्नीयों

*क्या हम सैय्यदना इमामे हुसैन अलैहिस्सलाम के बड़े भाई और उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम को भूल गए हैं ???*

रोज़े क़यामत अगर रसूलुल्लाह صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ने हमसे पूछ लिया कि मैंने तो अपने दोनों नवासों को लुआब ए दहेन कि घुट्टी दी थी दोनों को अपने कांधे मुबारक पर उठाया था दोनों को जन्नत का सरदार बनाया था तो *तुम लोगों ने मेरे “हसन” को क्यों फ़रामोश कर दिया क्यों भुला दिया ???*

*याद रहे आपकी शहादत 28 सफ़र को हुई*
(28 सफ़र यौमे शहादत सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम)

*सैय्यदना इमामे हसन उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद हैं आप मनसब ए ख़िलाफ़त पर तक़रीबन 6 माह फ़ाइज़ रहे और इमामत पर हमेशा फ़ाइज़ रहेंगे*

*सैय्यदना इमामे हसन ने उम्मत को बचाने की लिए इख़्तेदार को ठोकर मार दी ताकि मुसलमानों का ख़ून न बहे*

*सैय्यदना इमामे हसन के ज़िक्र को दुश्मने अहलेबैत दबाते छुपाते हैं*
याद रहे हदीस ए रसूल ﷺ है कि मेरे बाद ख़िलाफ़त 30 साल तक रहेगी फिर बादशाहत का दौर शुरू होगा (मुसन्द अहमद,तिर्मिज़ी,अबु दाऊद)

सही रिवायतों और मुस्तनद तारीख़ी किताबों में ख़िलाफ़त ए राशिदा की 30 साल तक कि मुद्दत को इस तरह बयान किया गया है

1- हज़रत अबु बकर सिद्दीक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 2 साल 4 माह
2- हज़रत उमर फ़ारूक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 10 साल 6 माह
3- हज़रत उस्मान ए ग़नी रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना चन्द रोज़ कम 12 साल
4- हज़रत मौला अली कर्मअल्लाहो वजहुल करीम की ख़िलाफ़त का ज़माना 4 साल 9 माह
इस तरह चारो ख़ुल्फ़ा की मुद्दत ए ख़िलाफ़त तक़रीबन
29 साल 7 माह बनती है
*5- हज़रत सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम की ख़िलाफ़त का ज़माना 5 माह चन्द दिन (आपकी ख़िलाफ़त के ज़माने को मिला कर ख़िलाफ़त ए राशिदा के 30 साल मुकम्मल हुए)*

सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम इस उम्मत के दूसरे इमाम और पांचवे ख़लीफ़ा ए राशिद हैं
سنی حسینی مش مالیگاؤں
مہاراشٹر الہند
*. 🤔गौर ओ फिक्र की बात है सुन्नीयों😔*

*ये माह ए सफर उल मुजफ्फर का महीना है और इसका आखरी असरा हैं*
*बहुत से औलिया अल्लाह का उर्स मनाया गया इस महीने में और बेशक मनाना चाहिए*

*मगर दयानतदारी से बताये क्या इस महीने में अमीरुल मोमिनीन सिब्ते रसुल सरदार ए नोंजवान ए जन्नत सुल्तान उल औलिया इमाम हसन अल मुज्तबा का जिक्र किया आपने*❓❓ *(इल्ला माशा अल्लाह, कुछ खुश नशीबों ने किया)*

*इस महीने की 28 तारीख खलिफतुल मुस्लेमीन अमीरुल मोमिनीन हजरत सैय्यदना हसन ए मुज्तबा की शहादत से है*

*सुन्नीयों याद रखों इस सफर के महीने को सबसे पहली निस्बत इमाम हसन ए मुज्तबा से है,उसके बाद दूसरे औलिया अल्लाह से*

*इतने जुम्मा चले गये पर किसी मिम्बर पर खिताब करने वाले मुफ्ती मौलाना को तौफीक नही हुई के इमाम हसन का ज़िक्र करें, उनके फजाइल, उनकी करामात,उनकी सीरत,उनकी सूरत, शहादत, कुर्बानी पर बयान करें 😔* *(इल्ला माशा अल्लाह कुछ खुश नशीबों ने की)*

*गुलामों का उर्स मनाया, बादशाहों को भूल गये 😔* ❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जन्नतियों का उर्स मनाया,जन्नत के सरदार को भूल गये 😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*मोमिनीन का उर्स मनाया, अमीरुल मोमिनीन को भूल गये😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*गुलाम ए रसूल का उर्स मनाया, शहजाद ए रसूल को भूल गये 😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जीनकी मुहब्बत अल्लाह ने फर्ज की है उनकी याद मनाना भूल गये 😔*❓❓ (इल्ला माशा अल्लाह)

*औलियाओं का उर्स मनाया, सरदार ए औलिया को भूल गये😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जिनके सदके कायनात में विलायत मिलती हैं उस इमाम को भूल गये😔*❓❓

*सुन्नीयों क्या यहीं हैं इश्क ए अहलेबैत 😔*❓❓

*बहुत से पोस्ट आयें हैं व्हाट्सअप और सोशियल मीडिया पर के इनका उर्स हैं, उनका उर्स हैं.*

*और करना भी चाहिये. पर एक भी पोस्ट आपने इमाम हसन ए पाक के ताल्लूक से किया 😔*❓❓ ( इल्ला माशा अल्लाह, कुछ खुश नशीबों को छोड़कर)

*अहलेबैत की मुहब्बत अस्ल ए ईमान हैं*

*कीसी पर तनक़ीद करना मकसद नहीं*

*बेशक औलिया अल्लाह का उर्स मनाना चाहिए पर उन से पहले इमाम उल औलिया सैय्यदना इमाम हसन ए मुज्तबा का उर्स मनाओं*

*माह ए सफर की इब्तेदा इमाम हसन ए मुज्तबा के ज़िक्र से हो और इंतेहा भी उनके ज़िक्र से हो*

*बुरा मान ने वाली बात नहीं है*

*अल्लाह जल्ला जलालहु अपने हबीब के सदके तुफैल हमें हकीकी मानों में मुहिब् ए अहलेबैत बनाये. आमीन*

✋ याद रहें ये तारीख ✋

👉 28 *सफर उल मुजफ्फर यौम ए शहादत अमीरुल मोमिनीन खलिफतुल मुस्लेमीन सिब्ते रसुल सरदार ए नोंजवान ए जन्नत सुल्तान उल औलिया इमाम हसन अल मुज्तबा अलैहिस्सलाम व रदियल्लाहो ता’अला अन्हु*

*सल्लाहु अलैही व आलैही व सल्लिम*🌹

*ज़रूर नजर करें और ज़िक्र ए इमाम हसन अलैहिस्सलाम करें*
*गदा-ए-अहलेबैत*

*क्या हम सैय्यदना इमामे हुसैन अलैहिस्सलाम के बड़े भाई और उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम को भूल गए हैं ???*

रोज़े क़यामत अगर रसूलुल्लाह صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم ने हमसे पूछ लिया कि मैंने तो अपने दोनों नवासों को लुआब ए दहेन कि घुट्टी दी थी दोनों को अपने कांधे मुबारक पर उठाया था दोनों को जन्नत का सरदार बनाया था तो *तुम लोगों ने मेरे “हसन” को क्यों फ़रामोश कर दिया क्यों भुला दिया ???*

*याद रहे आपकी शहादत 28 सफ़र को हुई*
(28 सफ़र यौमे शहादत सैय्यदना इमाम हसन अलैहिस्सलाम)

*सैय्यदना इमामे हसन उम्मत के पांचवें ख़लीफ़ा ए राशिद हैं आप मनसब ए ख़िलाफ़त पर तक़रीबन 6 माह फ़ाइज़ रहे और इमामत पर हमेशा फ़ाइज़ रहेंगे*

*सैय्यदना इमामे हसन ने उम्मत को बचाने की लिए इख़्तेदार को ठोकर मार दी ताकि मुसलमानों का ख़ून न बहे*

*सैय्यदना इमामे हसन के ज़िक्र को दुश्मने अहलेबैत दबाते छुपाते हैं*
याद रहे हदीस ए रसूल ﷺ है कि मेरे बाद ख़िलाफ़त 30 साल तक रहेगी फिर बादशाहत का दौर शुरू होगा (मुसन्द अहमद,तिर्मिज़ी,अबु दाऊद)

सही रिवायतों और मुस्तनद तारीख़ी किताबों में ख़िलाफ़त ए राशिदा की 30 साल तक कि मुद्दत को इस तरह बयान किया गया है

1- हज़रत अबु बकर सिद्दीक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 2 साल 4 माह
2- हज़रत उमर फ़ारूक़ रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना 10 साल 6 माह
3- हज़रत उस्मान ए ग़नी रदिअल्लाहो अन्हो की ख़िलाफ़त का ज़माना चन्द रोज़ कम 12 साल
4- हज़रत मौला अली कर्मअल्लाहो वजहुल करीम की ख़िलाफ़त का ज़माना 4 साल 9 माह
इस तरह चारो ख़ुल्फ़ा की मुद्दत ए ख़िलाफ़त तक़रीबन
29 साल 7 माह बनती है
*5- हज़रत सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम की ख़िलाफ़त का ज़माना 5 माह चन्द दिन (आपकी ख़िलाफ़त के ज़माने को मिला कर ख़िलाफ़त ए राशिदा के 30 साल मुकम्मल हुए)*

सैय्यदना इमामे हसन अलैहिस्सलाम इस उम्मत के दूसरे इमाम और पांचवे ख़लीफ़ा ए राशिद हैं
سنی حسینی مش مالیگاؤں
مہاراشٹر الہند
*. 🤔गौर ओ फिक्र की बात है सुन्नीयों😔*

*ये माह ए सफर उल मुजफ्फर का महीना है और इसका आखरी असरा हैं*
*बहुत से औलिया अल्लाह का उर्स मनाया गया इस महीने में और बेशक मनाना चाहिए*

*मगर दयानतदारी से बताये क्या इस महीने में अमीरुल मोमिनीन सिब्ते रसुल सरदार ए नोंजवान ए जन्नत सुल्तान उल औलिया इमाम हसन अल मुज्तबा का जिक्र किया आपने*❓❓ *(इल्ला माशा अल्लाह, कुछ खुश नशीबों ने किया)*

*इस महीने की 28 तारीख खलिफतुल मुस्लेमीन अमीरुल मोमिनीन हजरत सैय्यदना हसन ए मुज्तबा की शहादत से है*

*सुन्नीयों याद रखों इस सफर के महीने को सबसे पहली निस्बत इमाम हसन ए मुज्तबा से है,उसके बाद दूसरे औलिया अल्लाह से*

*इतने जुम्मा चले गये पर किसी मिम्बर पर खिताब करने वाले मुफ्ती मौलाना को तौफीक नही हुई के इमाम हसन का ज़िक्र करें, उनके फजाइल, उनकी करामात,उनकी सीरत,उनकी सूरत, शहादत, कुर्बानी पर बयान करें 😔* *(इल्ला माशा अल्लाह कुछ खुश नशीबों ने की)*

*गुलामों का उर्स मनाया, बादशाहों को भूल गये 😔* ❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जन्नतियों का उर्स मनाया,जन्नत के सरदार को भूल गये 😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*मोमिनीन का उर्स मनाया, अमीरुल मोमिनीन को भूल गये😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*गुलाम ए रसूल का उर्स मनाया, शहजाद ए रसूल को भूल गये 😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जीनकी मुहब्बत अल्लाह ने फर्ज की है उनकी याद मनाना भूल गये 😔*❓❓ (इल्ला माशा अल्लाह)

*औलियाओं का उर्स मनाया, सरदार ए औलिया को भूल गये😔*❓❓(इल्ला माशा अल्लाह)

*जिनके सदके कायनात में विलायत मिलती हैं उस इमाम को भूल गये😔*❓❓

*सुन्नीयों क्या यहीं हैं इश्क ए अहलेबैत 😔*❓❓

*बहुत से पोस्ट आयें हैं व्हाट्सअप और सोशियल मीडिया पर के इनका उर्स हैं, उनका उर्स हैं.*

*और करना भी चाहिये. पर एक भी पोस्ट आपने इमाम हसन ए पाक के ताल्लूक से किया 😔*❓❓ ( इल्ला माशा अल्लाह, कुछ खुश नशीबों को छोड़कर)

*अहलेबैत की मुहब्बत अस्ल ए ईमान हैं*

*कीसी पर तनक़ीद करना मकसद नहीं*

*बेशक औलिया अल्लाह का उर्स मनाना चाहिए पर उन से पहले इमाम उल औलिया सैय्यदना इमाम हसन ए मुज्तबा का उर्स मनाओं*

*माह ए सफर की इब्तेदा इमाम हसन ए मुज्तबा के ज़िक्र से हो और इंतेहा भी उनके ज़िक्र से हो*

*बुरा मान ने वाली बात नहीं है*

*अल्लाह जल्ला जलालहु अपने हबीब के सदके तुफैल हमें हकीकी मानों में मुहिब् ए अहलेबैत बनाये. आमीन*

✋ याद रहें ये तारीख ✋

👉 28 *सफर उल मुजफ्फर यौम ए शहादत अमीरुल मोमिनीन खलिफतुल मुस्लेमीन सिब्ते रसुल सरदार ए नोंजवान ए जन्नत सुल्तान उल औलिया इमाम हसन अल मुज्तबा अलैहिस्सलाम व रदियल्लाहो ता’अला अन्हु*

*सल्लाहु अलैही व आलैही व सल्लिम*🌹

*ज़रूर नजर करें और ज़िक्र ए इमाम हसन अलैहिस्सलाम करें*
*गदा-ए-अहलेबैत*