Taqdeer kise kahte hain, aur iski qismein batayein


तक़दीर किसे कहते हैं, और इसकी किस्में बताएं

Taqdeer kise kahte hain, aur iski qismein batayein


देखें, सबसे पहली बात तो ये जान लें कि तक़दीर के बारे में एक मुसलमान का क्या शरई तसव्वुर होना चाहिए,
जैसे कि अहादीसे करीमा का मफ़हूम है कि अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ﷻ ने एक तख़्ती और एक क़लम को पैदा फ़रमाया और हुक्म दिया कि लिख, तो क़लम ने अर्ज़ किया कि या अल्लाह ﷻ क्या लिखूं, तो रब ﷻ ने हुक्म फ़रमाया जो कुछ होने वाला है सब लिख दे, तो बहुक्मे इलाही और अताये इलाही से जो भी इस क़ायनात में होने वाला था और उसके तमाम बन्दे जो कुछ भी करने वाले थे उस क़लम ने सब कुछ लिख दिया, अब इसी में इस दुनिया मे क़ब क्या होना है, कौन कब पैदा होगा, कब अच्छा काम करेगा, कब बुरे काम करेगा, कब परेशान होगा, कब खुश रहेगा, यानी वो बन्दा जो कुछ भी करने वाला था वही सब उस क़लम ने लिख दिया, इसमे रब ने किसी बन्दे को गुनाह की तरफ रागिब को नही लिखा बल्कि वो बन्दा खुद करने वाला था वो लिखा गया,
अब तक़दीर की 3 किस्में होती हैं
01– तक़दीरे मुअल्लक़,
02– तक़दीरे मुबरम,
03– तक़दीरे शबीया बा मुबरम,

अब इसकी तफ़सील देखें_
01 – तक़दीरे मुअल्लक़
यानी तक़दीर की वो बातें जो इंसान के लिए मुअल्लक़ हैं, जैसे क़ब पैदा होगा, क़ब मरेगा वगैरह वगैरह,

02 – तक़दीरे मुबरम
ये अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ﷻ का अजली फैसला होता है और टाला नही जा सकता, यहां तक कि अगर इस पर अम्बियाये कराम عليه السلام भी दुआ फ़रमाते हैं तो उन्हें रब ﷻ रोक देता है या फिर उनकी तवज्जो इस तक़दीर की तरफ़ से हटा देता है, जैसा कि क़ौमे लूत पर जब अज़ाब नाज़िल होना हुआ तो हज़रते इबराहीम عليه السلام ने अज़ाब टालने की दुआ करनी चाही तो अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ﷻ ने हज़रते इबराहीम عليه السلام को दुआ से रोक दिया, ऐसे बहुत से वाकियात भी मौजूद हैं,

03 – तक़दीरे शबीया बा मुबरम
ये वो तक़दीर है जिसमे ख़ुदा बन्दे को कुछ रास्ते देता है और वो बन्दा जिस रास्ते से जाएगा उसका वही तक़दीर होगा, जैसा कि रब ने उसे किसी काम के लिए कुछ रास्ते अता फरमाए की एक रास्ते से जाएगा तो कामयाब होगा, दूसरे रास्ते से जाएगा तो परेशानी का सामना करेगा, तीसरे रास्ते से जाएगा तो नाकामयाब होगा वगैरह वगैरह, अब बन्दा जिस रास्ते को अख़्तियार कर लेता है वही उसकी तक़दीर बन जाती है, और दुआओं से जो तक़दीर बदलने का ज़िक्र होता है वो यही तक़दीर है कि किसी नेक बन्दे की दुआ और नेक अअमाल की बुनियाद पर बन्दा बुरे और नाकामयाबी के रास्तों से बच जाता है और कामयाबी और फ़लाह के रास्ते को अपना लेता है और फ़िर उसकी वही तक़दीर हो जाती है,

▪️कुछ लोग कहते हैं कि जब रब ने ही बन्दे की किस्मत में गुनाह लिखा है तो उस पर अज़ाब क्यूं, तो मालूम होना चाहिए कि रब तआला ﷻ तो रहमान व रहीम है तो वो अपने बंदों की किस्मत में गुनाह को क्यूं लिखेगा ताकि उसे अज़ाब में डालना पड़े, बल्कि बन्दे के गुनाह के रास्ते या नाकामयाबी के रास्ते उसके खुद के चुने हुए होते हैं जैसा कि तक़दीरे शबीया बा मुबरम में बताया गया है,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

dekhen , sabse pahli bat to ye jan len ki taqdir ke bare men ek musalman ka kya shrayi taswwur hona chahiye, jaisa ki ahadise karima ka mufhoom hai ki allah rabbul izzat ﷻ ne ek takhti aur ek qalam ko paida farmaya aur hukm diya ki likh, to qalam ne arz kiya ki ya allah ﷻ kya likhun, to rab ﷻ ne hukm farmaya jo kuchh hone wala hai sab likh de, to bahukme ilahi aur ataye ilahi se jo bhi is qaynat men hone wala tha aur uske tamam bande jo kuchh bhi karne wale the us qalam ne sab kuchh likh diya, ab isi men is duniya me kab kya hona hai, kaun kab paida hoga, kab achha kam karega, kab bure kam karega, kab pareshan hoga, kab khush rahega, yani wo banda jo kuchh bhi karne wala tha wahi sab us qalam ne likh diya, isme rab ne kisi bande ko gunah ki tarf ragib ko nahi likha balki wo banda khud karne wala tha wo likha gaya, ab taqdir ki 3 qismen hoti han
01 — taqdire mu’allaq,
02 — taqdire mubram,
03 — taqdire shabiya ba mubram,

ab iski tafseel dekheim_
01 — taqdire mu’allaq
yani taqdir ki wo baten jo insan ke liye mu’allaq han, jaise kab paida hoga, kab marega wgairah wgairah,
02 — taqdire mubram
ye allah rabbul izzat ﷻ ka ajali faisla hota hai aur tala nahi ja sakta, yahan tak ki agar is par ambiyaye karam عليه السلام bhi dua farmate hain to unhen rab ﷻ rok deta hai ya fir unki tawajjo is taqdir ki taraf se hata deta hai, jaisa ki qaume loot par jab azab nazil hona hua to hazrate ibraheem عليه السلام ne azab talne ki dua karni chahi to allah rabbul izzat ﷻ ne hazrate ibraheem عليه السلام ko dua se rok diya, aise bahut se waqiyat bhi maujood hain,
03 — taqdire shabiya ba mubram
ye wo taqdir hai jisme khuda bande ko kuchh raste deta hai aur wo banda jis raste se jayega uska wahi taqdir hoga, jaisa ki rab ne use kisi kam ke liye kuchh raste ata farmaye ki ek raste se jayega to kamyab hoga, dusre raste se jayega to pareshani ka samna karega, tisre raste se jayega to nakamyab hoga wgairah wgairah, ab banda jis raste ko ekhtiyar kar leta hai wahi uski taqdir ban jati hai, aur duaon se jo taqdir badalne ka zikr hota hai wo yahi taqdir hai ki kisi nek bande ki dua aur nek aamal ki buniyad par banda bure aur nakamyabi ke raston se bach jata hai aur kamyabi aur falaah ke raste ko apna leta hai aur fir uski wahi taqdir ho jati hai,

▪️Kuchh log kahte hain ki jab rab ne hi bande ki qismat men gunah likha hai to us par azab kyun, to maloom hona chahiye ki rab ta’ala ﷻ to rahman o raheem hai to wo apne bandon ki qismat men gunah ko kyun likhega taki use azab men dalna pade, balki bande ke gunah ke raste ya nakamyabi ke raste uske khud ke chune hue hote han jaisa ki taqdire shabiya ba mubram mein bataya gaya hai,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s