SERMON About the greatness and the attributes of Allah


ومن خطبة له (عليه السلام)
[في صفات الله جل جلاله، وصفات أئمة الدين]

الْحَمْدُ للهِِ الدَّالِّ عَلَى وُجُودِهِ بِخَلْقِهِ، وَبِمُحْدَثِ خَلْقِهِ عَلَى أَزَلِيَّته، وَبِاشْتِبَاهِهِمْ عَلَى أَنْ لاَ شَبَهَ لَهُ.

لاَ تَسْتَلِمُهُ  الْمَشَاعِرُ، وَلاَ تَحْجُبُهُ السَّوَاتِرُ، لاِفْتِرَاِق الصَّانِعِ وَالْمَصْنُوعِ، وَالْحَادِّ وَالْـمَحْدُودِ، وَالرَّبِّ وَالْمَرْبُوبِ.

الاَْحَدُ لاَ بِتَأْوِيلِ عَدَد، وَالْخَالِقُ لاَ بِمَعْنَى حَرَكَة وَنَصَب ، وَالسَّمِيعُ لاَ بِأَدَاة ، وَالْبَصِيرُ لاَ بِتَفْرِيقِ آلَة ، وَالشَّاهِدُ لاَبِمُمَاسَّه، وَالْبَائِنُ  

لاَبِتَرَاخِي مَسَافَة، وَالظّاهِرُ لاَبِرُؤيَة، وَالْبَاطِنُ لاَ بِلَطَافَة.

بَانَ مِنَ الاَْشْيَاءِ بَالْقَهْرِ لَهَا، وَالْقُدْرَةِ عَلَيْهَا، وَبَانَتِ الاَْشْيَاءُ مِنْهُ بَالْخُضُوعِ لَهُ، وَالرُّجُوعِ إِلَيْهِ.

مَنْ وَصَفَهُ  فَقَدْ حَدَّهُ، وَمَنْ حَدَّهُ فَقَدْ عَدَّهُ، وَمَنْ عَدَّهُ فَقَدْ أَبْطَلَ أَزَلَهُ، وَمَنْ قَالَ: كَيْفَ، فَقَدِ اسْتَوْصَفَهُ، وَمَنْ قَالَ: أَيْنَ، فَقَدْ حَيَّزَهُ. عَالِمٌ إِذْ لاَ مَعْلُومٌ، وَرَبٌّ إِذْ لاَ مَرْبُوبٌ، وَقَادِرٌ إِذْ لاَ مَقْدُورٌ.

منها: [في أئمّة الدين]

فَقَدْ طَلَعَ طَالِعٌ، وَلَمَعَ لاَ مِعٌ، وَلاَحَ  لاَئِحٌ، وَاعْتَدَلَ مَائِلٌ، وَاسْتَبْدَلَ اللهُ بِقَوْم قَوْماً، وَبِيَوم يَوْماً، وَانْتَظَرْنَا الْغِيَرَ  انْتِظَارَ الْـمُجْدِبِ الْمَطَرَ.

وَإِنَّمَا الاَئِمَّةُ قُوَّامُ اللهِ عَلَى خَلْقِهِ، وَعُرَفَاؤُهُ عَلَى عِبَادِهِ، لاَ يَدْخُلُ الْجَنَّةَ إِلاَّ مَنْ عَرَفَهُمْ وَعَرَفُوهُ، وَلاَ يَدْخُلُ النَّارَ إِلاَّ منْ أَنْكَرَهُمْ وَأَنْكَرُوهُ.

إِنَّ اللهَ خَصَّكُمْ بَالاِْسْلاَمِ، وَاسْتَخْلَصَكُمْ لَهُ، وَذلِكَ لاَِنَّهُ اسْمُ سَلاَمَة،

وَجِمَاعُ  كَرَامَة، اصْطَفَى اللهُ تَعَالَى مَنْهَجَهُ، وَبَيَّنَ حُجَجَهُ، مِنْ ظَاهِرِ عِلْم، وَبَاطِنِ حِكَم، لاَ تَفْنَى غَرَائِبُهُ، وَلاَ تَنْقَضِي عَجَائِبُهُ، فِيهِ مَرَابِيعُ  النِّعَمِ، وَمَصَابِيحُ الظُّلَمِ، لاَ تُفْتَحُ الْخَيْرَاتُ إِلاَّ بِمَفَاتِحِهِ، وَلاَ تُكْشَفُ الظُّلُمَاتُ إِلاَّ بِمَصَابِحِهِ، قَدْ أَحْمَى حِمَاهُ ، وَأَرْعَى مَرْعَاهُ، فِيهِ شِفَاءُ الْمُسْتَشْفِي، وَكِفَايَةُ الْمُكْتَفِي.

Praise be to Allah who is proof of His existence through His creation, of His being external through the newness of His creation, and through their mutual similarities of the fact that nothing is similar to Him. Senses cannot touch Him and curtains cannot veil Him, because of the difference between the Maker and the made, the Limiter and the limited and the Sustainer and the sustained.He is One but not by the first in counting, is Creator but not through activity or labour, is Hearer but not by means of any physical organ, is Looker but not by a stretching of eyelids, is Witness but not by nearness, is Distinct but not by measurement of distance, is Manifest but not by seeing and is Hidden but not by subtlety (of body).He is Distinct from things because He overpowers them and exercises might over them, while things are distinct from Him because of their subjugation to Him and their turning towards Him.He who describes Him limits Him. He who limits Him numbers Him. He who numbers Him rejects His eternity. He who said “how” sought a description for Him.He who said “where” bounded him. He is the Knower even though there be nothing to be known. He is the Sustainer even though there be nothing to be sustained. He is the Powerful even though there be nothing to be overpowered.
A part of the same sermon about the Divine leaders (Imams)The riser has risen, the sparkler has sparkled, the appearer has appeared and the curved has been straightened. Allah has replaced one people with another and one day with another.We awaited these changes as the famine-stricken await the rain. Certainly the Imams are the vicegerents of Allah over His creatures and they make the creatures know Allah. No one will enter Paradise except he who knows them and knows Him, and no one will enter Hell except he who denies them and denies Him.Allah the Glorified, has distinguished you with Islam and has chosen you for it. This is because it is the name of safety and the collection of honour. Allah the Glorified, chose its way and disclosed its pleas through open knowledge and secret maxims.Its (Qur’an)wonders are not exhausted and its delicacies do not end. It contains blossoming bounties and lamps of darkness. (The doors of) virtues cannot be opened save with its keys, nor can gloom be dispelled save with its lamps. Allah has protected its inaccessible points (from enemies) and allowed grazing (to its followers) in its pastures. It contains cover (from the ailment of misguidance) for the seeker of cure and full support for the seeker of support.


The first part of this sermon consists of important issues concerning the science of knowledge about Allah, wherein Amir al-mu’minin has thrown light on the matter that Allah is from ever and His attributes are the same as He Himself. When we cast a glance at creation, we see that for every movement there is a mover, from which every man of ordinary wisdom is compelled to conclude that no effect can appear without a cause, so much so, that even an infant a few days old, when his body is touched, feels in the depth of his consciousness that someone has touched him.He indicates it by opening his eyes or turning and looking. How then can the creation of the world and the system of all creation be arranged without a Creator or Organiser?Once it is necessary to believe in a Creator, then He should exist by Himself, because everything which has a beginning must have a centre of existence from which it should terminate.If that too needed a creator, there would be the question of whether this creator is also the creation of some other creator or exists by itself. Thus unless a Self-created Creator is believed in, who should be the cause of all causes, the mind will remain groping in the unending labyrinth of cause and effect, and never attain the idea of the last extremity of the series of creation. It would fall into the fallacy of circular arguing and would not reach any end.If the creator were taken to have created himself, then there would be (one of the two positions, namely) either he should be non-existent or existent.If he were not existent, then it would not be possible for something non-existent to create any existent being. If he were existent before creating himself, there would be no sense in coming into being again. Therefore it is necessary to believe that the Creator should be a Being not dependent on any other creator for His own existence, and everything else should be dependent on Him.This dependence of the entire creation is a proof that the existence of the Source of all creation is from ever and eternal. And since all beings other than He are subject to change, are dependent on position and place and are similar to one another in qualities and properties, and since similarity leads to plurality whereas unity has no like save itself, therefore nothing can be like Him.Even things called one cannot be reckoned after His Unity because He is One and Singular in every respect. He is free and pure from all those attributes which are found in body or matter because He is neither body, nor colour, nor shape, nor does He lie in any direction, nor is He bounded within some place or locality. Therefore, man cannot see or understand Him through his senses or feelings, because senses can know only those things which accord with the limitations of time, place and matter. To believe that He can be seen is to believe that He has body, but since He is not a body, and He does not exist through a body, and He does not lie in any direction or place, there is no question of His being seen.But His being unseen is not like that of subtle material bodies, due to whose delicacy the eye pierces through them and eyes remain unable to see them; as for example the wind in the vast firmament. But He is unseen by His very existence.Nevertheless, nothing is unseen for Him. He sees as well as hears, but is not dependent on instruments of seeing or hearing, because if He were in need of organs of the body for hearing and seeing He would be in need of external things for His perfection and would not be a perfect Being, whereas He should be perfect in all respects and no attribute of perfection should be apart from His Self.To believe in attributes separately from His Self would mean that there would be a self and a few attributes and the compound of the self and the attributes would be Allah. But a thing which is compounded is dependent on its parts and these parts must exist before their composition into the whole. When the parts exist from before, how can the whole be from ever and eternal because its existence is later than that of its parts.But Allah had the attributes of knowledge, power and sustaining even when nothing was existent, because none of His attributes were created in Him from outside, but His attributes are His Self and His Self is His attributes. Consequently, His knowledge does not depend on the object of knowledge existing first and then His knowledge, because His Self is prior to things coming into existence.Nor is it necessary for His power that there should first exist the object to be over-powered and then alone He would be called Powerful, because Powerful is that who has power equally for doing or abandoning and as such the existence of the object to be over-powered is not necessary.Similarly Sustainer means master. Just as He is the Master of the non-existent after its coming into existence, in the same way He has power to bring it into existence from non-existence, namely if He so wills He may bestow existence upon it.

हज़रते इमाम ज़ैनुल आबेदीन रदियल्लाहो तआला अन्हो और पाक बीबियां दमिश्क से वापस हुए तो

हज़रते इमाम ज़ैनुल आबेदीन रदियल्लाहो तआला अन्हो और पाक बीबियां दमिश्क से वापस हुए तो

हज़रत नोमान इब्ने बसीर के साथ काफले को भेजा गया यज़ीद ने 3 शर्त में से 2 शर्त मंज़ूर की और उसके मुताबिक बीबी फातिमा ज़हरा की पाक चादर और शहीदों के सर को इमामे जैनुल आबेदीन अलैहिस्सलाम को सौंपे अहलेबैयत दमिश्क से करबला में आये सैयदा बीबी ज़ैनबे कुबरा सलामुल्लाह अलयहा कौनसी कब्र किसकी है जानती थी मोरर्रेखीन लिखते है के वो मंज़र इतना दर्दनाक था के उश मंज़र को किखने की हिम्मत कलममें न थी करीबी एक कबीला था बनु असद ईस कबिले ने शौहदा ए किराम को मदफन किये थे और हज़रते इमाम ज़ैनुल आबेदीन इमामे हुसैन अलैहिस्सलाम के सर मुबारक को मदीना शरीफ लेकर आये और जनाबे बीबी फातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा के पहलू में मदफन किया (एक रिवायत में है के यज़ीद के दरबार के करीब ही सर मुबारक को मदफन किया गया लेकिन ये रिवायत ज़ईफ़ है)

इमामे ज़ैनुल आबेदीन रदियल्लाहो तआला अन्हो फिर कभी मदीने से बहार न गए पूरी ज़िंदगी आपने मदीने में गुज़ारी। हज़रते इमाम जाफर सादिक रदियल्लाहो अन्हो फरमाते है के जब इमाम ज़ैनुल आबेदीन रदियल्लाहो अन्हो को प्यास लगती और पानी पीने लगते तो घंटो तक आप रोते और पानी पी नही पाते थे गुलाम अर्ज़ करते सरकार पानी तो पी ले ब मुश्किल आप पानी पीते और फरमाते जब भी पानी का प्याला मेरे सामने आता है तो बाबा हुसैन की प्यास याद आजाती है अली असगर का सूखा गला याद आजाता है।

😪 तू ज़िंदा है वल्लाह तू ज़िंदा है वल्लाह मेरी चश्मे आलम से चुप जाने वाले 🙏

आशूरा (10 मुहर्रम सन ‌61 हिजरी) के दिन इग्लैंड के आसमान से ख़ून बरसा!

आशूरा (10 मुहर्रम सन ‌61 हिजरी) के दिन इग्लैंड के आसमान से ख़ून बरसा! 😭

‘एंग्लो सैक्सन के युग की घटनाएं’ नामक पुस्तक जो कि 1996 में प्रकाशित हुई है ने आशूरा के दिन सन 61 हिजरी में जो कि एक ऐतिहासिक और सदैव याद की जाने वाली है इग्लैंड में ख़ून की बारिश का ज़िक्र किया है।

समाचार एजेन्सी ‘अलजवार’ ने इस को बयान करते हुए लिखाः ‘एंग्लो सैक्सन के युग की घटनाएं’ जो कि एंग्लो सैक्सन के ऐतिहासिक स्रोतों में से एक है, का माइकल स्वाटंन (MICHAEL SWANTON) द्वारा अनुवाद और संपादन किया गया है।

यह पुस्तक 1996 में इग्लैंड में प्रकाशित हुई है और 1998 में ईस्टर विश्वविद्यालय द्वारा न्यूयार्क में दोबारा प्रकाशित की गई। इस पुस्तक के 38 वें पेज पर यह वाक्य लिखा हुआ हैः

(685. Here in Britain there was Bloody rain, and milk and butter were turned to blood)

अनुवादः 685 ईसवीं में यहां ब्रिटेन में आसमान से ख़ून बरसा और दूध एवं मख्खन ख़ून में बदल गए और उनका रंग लाल हो गया।

नीचे दिये गए वाक्य इसी किताब के 38 वें पेज के हैं:

A.D. 685. This year King Everth commanded Cuthbert to beconsecrated a bishop; and Archbishop Theodore, on the first dayof Easter, consecrated him at York Bishop of Hexham; for Trumberthad been deprived of that see. The same year Everth was slain bythe north sea, and a large army with him, on the thirteenth daybefore the calends of June. He continued king fifteen winters;and his brother Elfrith succeeded him in the government. Everthwas the son of Oswy. Oswy of Ethelferth, Ethelferth of Ethelric, Ethelric of Ida, Ida of Eoppa. About this time Ceadwall began tostruggle for a kingdom. Ceadwall was the son of Kenbert, Kenbertof Chad, Chad of Cutha, Cutha of Ceawlin, Ceawlin of Cynric,Cynric of Cerdic. Mull, who was afterwardsconsigned to theflames in Kent, was thebrother of Ceadwall. The same year diedLothhere, King of Kent; and John was consecrated Bishop ofHexham, where he remained till Wilferth was restored, when Johnwas translated to York on the death of Bishop Bosa. Wilferth hispriest was afterwards consecrated Bishopof York, and Johnretired to his monastery (21) in the woodsof Delta. This yearthere was in Britain a bloody rain, and milkand butter wereturned to blood…

ध्यान दिए जाने योग्य बात यह है कि 685 ईसवीं का साल वही साल है जब 61 हिजरी में करबला का वाक़ेआ घटित हुआ जिसमें इमाम हुसैन (अ) और उनसे साथियों की शहादत हुई।

स्पष्ट रहे कि कुछ हदीसों में भी बयान किया गया है कि आशूरा के दिन आसमान ख़ून रोया। मिसाल के तौर पर हज़रत ज़ैनब (स) ने आशूरा के दिन लोगों के संबोधित करते हुए फ़रमायाः

“أو عَجفبتم أن مَطَرت السماءف دماً”

क्या तुम आसमान के ख़ून रोने पर आश्चर्य चकित हो?

अहले सुन्नत किताबों में भी लिखा हैः

لما قتل الحسین اسودّت السماء وظهرت الکواکب نهاراً حتى رأیت الجوزاء عند العصر وسقط التراب الأحمر

रावी कहता है किः जब इमाम हुसैन (अ) शहीद कर दिए गए आसमान में अंधेरा छा गया और सितारे दिन में दिखाई देने लगे और मैंने जौज़ा सितारे को अस्र के समय देखा। इसी प्रकार उस दिन लाल मिट्टी आसमान से ज़मीन पर बरसी।

तारीख़ लिखने वालों ने कहा है कि इस दिन बैतुल मुक़द्दस में जिस पत्थर को उल्टा जाता था उसके नीचे ताज़ा ख़ून निकलता था।

ध्यान दिए जाने योग्य बात है कि यूरोप की जिन इतिहासिक पुस्तकों में इस प्रकार की घटना का उल्लेख किया गया है वह केवल एंगलो सैक्सन की किताब ही नहीं है और यह एक से अधिक पुस्तकें हैं इन पुस्तकों में से ‘वर्च लेतिंक क्रोनिल’ या ‘क्रोनिल आव प्रिंसेस’ का नाम लिया जा सकता है।

जान वाडे बिर्टेन के डाक्युमेंट्री फ़िल्म निर्माता और शोधकर्ता ने इस बारे में हम को और अधिक जानकारी दी हैं। एंग्लो सैक्सन की किताब पर अपने शोध में मुझे कुछ चौकाने वाली इबारतें मिली इसमें लिखा हुआ है किः 689 ई में बिर्टेन में ख़ून की बारिश हुई और मख्खन और दूध ख़ून में बदल गए। यह एकेला लेख असमान्य लगता है लेकिन इसके अतिरिक्त दो दूसरी ऐतिहासिक महत्व रखने वाली किताबों में भी पहली वेल्श ग्रोनकेल और दूसरी क्रोनकेल उफ दि प्रिंसेस हैं ने भी इसी घटना को बयान किया है, और चूकि उत्तर पूर्वीय युरोप की विभिन्न तीन पुस्तकों में इस प्रकार की बात लिखी गई है, इसने आश्चर्च चकित कर दिया और हमारा ध्यान ख़ीचा ताकि पता लगाएं कि इस घटना की वजह क्या है। अलबत्ता यह किताबें मध्ययुग के इतिहास की किताबें हैं। यानी जब समाज पर चर्च की हुक्मरानी थी और दीन के बारे में बात करना एक आम बात मानी जाती थी।

इस बार हमने ईसाई धर्म को स्रोतों को खंगाला ताकि उनकी राय का भी पता लगा सकें। इस ईसाई वेबसाइट का अध्ययन करने से जिसने बाइबिल की बशारतों को बयान किया था ने कुछ घटनाओं को ख़ुदा का अज़ाब बताया है और उनका नाम लिखा है इनमें से एक, ख़ून की वह बारिश है जो 685 ई. में यूरोपीय देशों में हुई थी और उसको ख़ुदा का एक अज़ाब बताया है। यह कैसे संभव है कि मध्ययुग के प्रतिबंधित और डर भरे माहौल में उस समय की किताबों में लिखी जानी वाली चीज़ों को एक ऐतिहासिक तथ्य के तौर पर स्वीकार किया जाए।इसी बदगुमानी ने हमको मजबूर किया कि हम उस ज़माने की सबसे बड़ी और सबसे प्रतिष्ठित सभ्यता की ऐतिहासिक सनद को खंगालें।

इस्लाम! गोस्ताव लीबॉन उन्नीसवीं सदी का फ्रांसीसी इतिहासकार और समाजशास्त्री कहता है कि 15 वीं शताब्दी तक यूरोपियन विद्वान किसी भी उस बात का जिसे मुसलमान विद्वानों से न लिया गया हो ताईद नहीं करते थे।इस्लाम की तरक़्क़ी का युग, दुनिया की सबसे बड़ी और प्रतिष्ठित सभ्यता, ठीक मध्ययुग से साथ साथ थी, आश्चर्य की बात यह है कि इस महान सभ्यता की ऐतिहासिक किताबों ने भी इस घटना यानी ख़ून की बारिश को लगभग उन्ही सालों यानी 685 ई. में विभिन्न श्रेत्रों में जैसे रोम, ईरान, इराक़, यमन और दूसरे स्थानों पर होने को बयान किया है या ताईद की है। इसी मुहिम के लिए हम इस्लामी सभ्यता के इतिहास विशेषग्यों के पास दुनिया के विभिन्न देशों में गए ताकि इस माध्यम से हम इन उल्लेखों और यूरोपीय इतिहास में लिखी गई बातों के बीच की कड़ी को तलाश कर सकें। बयान किया गया है कि सीरिया, हिजाज़ (सऊदी), ख़ुरासान और बैतुल मुक़द्दस में ख़ून की बारिश देखी गई।

अहले सुन्नत की एक प्रतिष्ठित ऐतिहासिक किताब ‘बग़यतुत तलब फ़ी तारीख़े हलब’ में जाफ़र बिन सुलैमान नामी व्यक्ति से इस प्रकार लिखा गया हैः इतनी ख़ून की बारिश हुई कि उसका असर मुद्दतों तक घरों की दीवारों और दरवाज़ों पर देखा जा सकता था और वह ख़ून से सन गए थे। ख़ून की बारिश बसरा, कूफ़ा, सीरिया और ख़ुरासान भी पहुँची और हम को यक़ीन था कि बहुत जल्द अज़ाब नाज़िल होने वाला है।

अहले सुन्नत की हदीसी और इतिहासिक किताबों में इस घटना को विस्तार से बयान किया गया है और ध्यान देने योग्य बात यह है कि यूरोप की किताबों के ख़िलाफ़ इनमें आसमान से इस बारिश की वजह को भी बयान किया गया है। तमाम इस्लामी मज़हबों के स्रोतों और किताबों में ख़ून की बारिश को रसूले इस्लाम (स) के नवासे और शियों के तीसरे इमाम, इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम की शहादत के बाद मोहर्रम की दसवीं तारीख़ सन 61 हिजरी को बयान किया गया है, जो एक जंग में करबला नाम की ज़मीन पर शहीद हुए और उनके पूरे परिवार को गिरफ़्तार किया गया और आपकी बहन ज़ैनब (स) ने एक स्थान पर अपने भाई के क़ातिलों को संबोधित करते हुए इस ख़ून की बारिश की घटना की तरफ़ इशारा किया है।

इसी प्रकार हमको मिलता है कि जब हज़रत ज़ैनब सलामुल्लाह अलैहा यज़ीद के दरबार में क़ैदी बनाकर ले जाई गई थीं और आपने वह मशहूर ख़ुत्बा पढ़ा, ख़ुत्बे के आख़िर में कहा: तुम लोग तअज्जुब न करना! अगर इस मुसीबत पर आसमान से ख़ून बरसे और अगर नदी और नाले खून से भर जाएं अगर तुम्हारे कुँएं ख़ून की बारिश के कारण ख़ून से भर जाएं।

यह रिवायतें भी किताबे ‘सवाएके मोहरेक़ा’ पेज नम्बर 116 और 192 और तफ़सीरे इब्ने कसीर, जिल्द 9, पेज 162 बर दर्ज है।

इस घटना को आशूरा के दिन शिया और सुन्नी दोनों रिवायतों में मुतवातिर तौर पर ज़िक्र किया गया है। इसी प्रकार किताबे ‘उयूने अख़बारे रज़ा’ में शियों के आठवें इमाम, हज़रत इमाम अली रज़ा (अ) से इस प्रकार बयान किया गया है कि आपके दादा इमाम मुहम्मद बाक़िर अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं:

لما قتل جدی الحسین امطرت السماء دما و ترابا احمر

जब मेरे दादा इमाम हुसैन क़त्ल किए गए कि ख़ुद इमाम मुहम्मद बाक़िर भी इस घटना के समय मौजूद थे और लगभग पाँच साल के थे फ़रमाते हैं कि जब इमाम हुसैन क़त्ल कर दिए गए तो आसमान से ख़ून और लाल मिट्टी बरसी।

विशेषकर कुछ सुन्नी किताबों में अपने अक़ीदे और विश्वासों पर तअस्सुब के बावजूद हम देखते हैं कि उन्होंने इस मसअले की तरफ़ इशारा किया है और स्वीकार किया है। यह दिखाता है कि यह सच्ची घटना है और यह हुआ है यहां तक कि ज़ोहरी, ज़ोहरी जिसकी बनी उमय्या से वाबस्तगी वाज़ेह और रौशन है और इब्ने अब्दे रब्बे अंदलोसी जिसने अपनी ‘अल उक़दुल फ़रीद’ नामी किताब में इस तरफ़ इशारा किया है कि वह उमवी अंदलुस में रहता था और बनी उम्मया का समर्थक है, जैसे ने भी इस घटना को बयान किया है और उसका एतराफ़ किया है।

हम जितना आगे बढ़ते जाते हैं और अधिक रोचक चीज़ें हमारी राहनुमाई करती हैं जैसे कि इस्लामी किताबों में इस घटना यानी ख़ून की बारिश के बारे में इस्लामी राहनुमाओं और रहबरों की तरफ़ से भविष्यवाणी की गई है और उसकी कैफ़ियत के बारे में बात कही गई है।

किताब ‘बिहारुल अनवार’ की 45 वीं जिल्द में अल्लामा मजलिसी एक बाब लाए हैं: “आसमान का गिरया” के बाब में और किस प्रकार रोया और यह कि यह लाली किस तरह की थी, 57 वीं जिल्द में भी रिवायात हैं और 79 वीं जिल्द में फिर रिवायात ज़िक्र की है और शियों की विभन्न किताबों में है और इसको हमने इशारे के तौर पर नक़्ल किया है।

हमे अपनी तहक़ीक़ में इसी के बारे में यानी ख़ून बरसने की भविष्यवाणी के बारे में रिवायात दिखाई दीं।

जनाबे उम्मे सलमा, पैग़म्बरे इस्लाम स. की पत्नी ने शियों के तीसरे इमाम, हज़रत इमाम हुसैन अ.स की करबला की ज़मीन पर शहादत की भविष्यवाणी और इस घटना के होने को रसूले ख़ुदा स. के क़ौल से बयान किया है जिसको ‘अल मजमउल कबीर, ‘मजमउल ज़वाएद’ और ‘कनज़ुल उम्माल’ जैसी किताबों में लिखा गया है।

एक हदीस में जनाबे मीसमे तम्मार से हज़रत अमीरुल मोमिनीन हज़रत अली अलैहिस्सलाम से इस प्रकार ज़िक्र किया गया है कि जब आपने अपने बेटे की शहादत की सूचना देते हुए फ़रमाया उसकी शहादत पर हर चीज़ रोएगीः

و تمطر السماء دما و رمادا

और उस समय है जब आसमान से ख़ून और ख़ाक बरसेगी।

इसी प्रकार शियों के आलिम जनाबे शेख़ सदूक़ अपनी किताब ‘अमाली’ में लिखते है कि शियों के दूसरे इमाम, हज़रत इमाम हसन अलैहिस्सलाम ने अपने जीवन के अंतिम पलों में अपने भाई इमाम हुसैन अ.स को संबोधित कर के कहाः कोई भी दिन तुम्हारी शहादत के दिन की तरह नहीं हो सकता और जिस दिन आसमान से ख़ून बरसेगा।

यह भविष्यवाणी भी इस घटना से सालों पहले की गई थी। अब इस पूरे शोध और तहक़ीक़ के टुकड़ों को मिलाने पर हमको कुछ रोचक तथ्य मिलते हैं। यूरोप की इतिहास की किताबों का अध्यय करने से हमको पता चला कि 684 और 685 ई. के साल वह साल हैं कि जिनमें ख़ून की बारिश का ज़िक्र किया गया है जबकि आशूरा का वाक़ेआ 680 ई में हुआ है। सालों के इस अंतर की किस प्रकार तौजीह कर सकते हैं? उत्तर बहुत ही आसान है, प्रोफ़ेसर रिचर्ड नोरस के अनुसार यह यूरोपीय इतिहास की यह किताबें आशूरा के वाक़ेए के 300 साल बाद लिखी गई हैं यानी इन ऐतिहासिक लेखों का आधार मौखिक था। इसलिए चार या पाँच साल की गलती की संभावना प्राकृतिक होगी, जबकि इस्लामी तारीख़ के तमाम स्रोतों में ख़ून की बारिश को एक ही तारीख़ में बताया गया है। इसी प्रकार ईसवी तारीख़ का आधार दिन का बीतना है जबकि चाँद का निकलना और रातें क़मरी साल का आधार हैं, और यह आधार का अंतर ख़ुद गिनती में थोड़े इख़्तेलाफ़ का कारण बन सकता है। लेकिन ख़ून की वह बारिश जिसको यूरोप और इस्लामी किताबों में बयान किया गया है, वह क्या वास्तव में ख़ून था या केवल उसका रंग लाल था? यह बहुत आवश्यक है। ध्यान रखा जाए कि वह ख़ून की बारिश जो यूरोप और इस्लाम की ऐतिहासिक किताबों में बयान की गई है और वह घटनाएं जो दूसरे स्थानों पर हुई हैं जैसे हिन्दुस्तान के केरला में लाल बारिश या ख़ून की बारिश की रिपोर्ट दी गई है कि बीच बहुत अंतर है। यूरोप और इस्लामी दुनिया की इतिहास की किताबों में लिखी गई हैं और केरला में लाल बारिश में अंतर यह है कि जिन लोगों ने इस घटना को लिखा है वह आलिम थे और उन लोगों ने इस घटना को ख़ून के शब्द में लिखा है जो ख़ून के लोथड़ों और मोटाई को बयान करता है उन्होंने यह नहीं कहा है कि उसका रंग लाल था और विशेषकर ताज़ा ख़ून के शब्द का प्रयोग किया है, यह हम को इस नतीजे पर पहुँचाता है कि जिस चीज़ की उन्होंने रिपोर्ट दी है वह उनकी निगाह में वास्तव में ख़ून था, ख़ून के जैसी कोई दूसरी चीज़ नहीं।

अबी सईद किताब ‘सवाएक़े मोहरक़ा’ में लिखते हैः और आसमान से भी ख़ून बरसा और उसका प्रभाव मुद्दतों तक कपड़ों पर बाक़ी था यहां तक कि यह कपड़े फट गए। यानी यह ख़ून साफ़ नहीं होता था जितना भी वह धोते थे फिर भी उसका असर बाक़ी था यहां तक कि कपड़े तार तार हो गए। शायद यह नुक्ता भी ध्यान देने योग्य हो ख़ून की बारिश की वजह यानी इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का शहीद होना यूरोप की ऐतिहासिक किताबों में बयान नहीं किया गया है। क्यों?पश्चिमी यूरोप में पश्चिमी रोम के पतन के बाद वह क्षेत्र जो इटली से पश्चिमी यूरोप की तरफ़ हैं वह सब टूट फूट और एक दूसरे की विरोधी स्वतंत्र हुकूमतों में बट गए और इल्म का चिराग़ इनमें ख़ामोश हो गया और वह जिहालत की तरफ़ पलट गए यूरोप उस समय इल्मी पिछड़ेपन का शिकार था और इंग्लैंड भी इस यूरोप का एक भाग था जो इत्तेफ़ाक़न एक जज़ीरा होने के कारण बाक़ी यूरोप से अहमियत में भी कम था। संबंधित विशेषज्ञों की बातों से पता चलता है कि यूरोप की तारीख़ के लिखे जाने के समय असली सभ्यता के न होने के कारण घटनाओं के सहीह और इल्मी स्तर पर लिखे जाने का इमकान नहीं था, तो इन घटनाओं के कारण के बारे में क्या बात की जाए और अब अंत में इन तमाम शोधों और तहक़ीक के बाद जो इस डाक्यूमेंट्री के बनने का सबब बनी हम इस नुक्ते पर पहुँचे हैं कि विश्व इतिहास में केवल एक दिन, केवल एक दिन पूर्व से लेकर पश्चिम तक ख़ून की बारिश हुई है और वह दिन हुसैन इब्ने अली (अ) की मज़लूमाना शहादत का दिन था जो तमाम लोगों, विचारों और तमाम धर्मों के अनुसार इन्सानी इतिहास के सबसे अधिक प्रभावित करने वाले इन्सान थे।

😭 अस्सलामु अलल हुसैन अ.
😭 व अला अली यब्नल हुसैन अ.
😭 व अला औलादिल हुसैन अ.
😭 व अला असहाबिल हुसैन अ.

हज़रत उज़ैर अलैहिस्सलाम और ख़ुदा की क़ुदरत के करिश्मे


●┄─┅━★✰★━┅─┄●
¤️बनी इस्राईल जब ख़ुदा की नाफरमानी में हद से ज्यादा बढ़ गए तो ख़ुदा ने उन पर एक ज़ालिम बादशाह बख़्त नस्र को मुसल्लत कर दिया। जिसने बनी इस्राईल को क़त्ल किया, गिरफ्तार किया और तबाह किया और बैत-उल-मुक़द्दस को बर्बाद व वीरान कर डाला।

हज़रत उज़ैर अलैहिस्सलाम एक दिन शहर में तशरीफ़ लाए तो आपने शहर की वीरानी व बर्बादी को देखा, तमाम शहर में फिरे, किसी शख्स को वहाँ ना पाया। शहर की तमाम इमारतों को मुनहदिम देखा। ये मंज़र देख कर आपने बराह तआज्जुब फ़रमाया। अन्नीया यूहियी हाज़ीहिल्लाहू बअदा मौतिहा यअन ऐ अल्लाह! इस शहर की मौत के बाद उसे फिर कैसे ज़िंदा फ़रमाएगा?

आप एक दराज़ गोश पर सवार थे और आपके पास एक बर्तन ख़जूर और एक पियाला अंगूर के रस का था। आपने अपने दराज़गोश को एक दरख्त से बाँधा और उस दरख़्त के नीचे आप सो गए। जब सो गए तो खुदा में उसी हालत में आपकी रूह क़ब्ज़ कर ली और गधा भी मर गया।

इस वाक़ये के सत्तर साल बाद अल्लाह तआला ने शाहाने फ़ारस में से एक बादशाह को मुसल्लत किया और वो अपनी फ़ौजें लेकर बैत-उल-मुक़द्दस पहुँचा और उसको पहले से भी बेहतर तरीके पर आबाद किया और बनी इस्राईल में से जो लोग बाक़ी रहे थे, खुदा तआला उन्हें फिर यहाँ लाया और वो बैत-उल-मुक़द्दस और उसके नवाह में आबाद हुए और उनकी तअदाद बढ़ती रही। उस ज़माना में अल्लाह तआला ने हज़रत उज़ैर अलैहिस्सलाम को दुनिया की आँखों से पोशीदा रखा और कोई आपको देख ना सका। जब आपकी वफ़ात को सौ साल गुज़र गए तो अल्लाह ने दोबारा आपको ज़िन्दा किया। पहले आँखों में जान आई। अभी तमाम जिस्म मुर्दा था। वो आपके देखते-देखते ज़िन्दा किया गया। जिस वक़्त आप सोए थे, वो सुबह का वक़्त था और सौ साल के बाद जब आप दोबारह ज़िन्दा किए गए तो ये शाम का वक्त था। खुदा ने पूछा। ऐ उज़ैर! तुम यहाँ कितने ठहरे? आपने अंदाज़े से अर्ज़ किया कि एक दिन या कुछ कम। आपका ख़याल ये हुआ के ये उसी दिन की शाम है जिसकी सुबह को सोए थे।

खुदा ने फ़रमाया- बल्की तुम तो सौ बरस ठहरे हो, अपने खाने और पानी यानी खजूर और अंगूर के रस को देखिये के वैसा ही है इसमें बू तक नहीं आई और अपने गधे को भी ज़रा देखिए। आपने देखा तो वो मरा हुआ और
गल चुका था, आज़ा उसके बिखरे हुए और हड्डियाँ सफेद चमक रही थीं। आपकी निगाह के सामने अल्लाह ने उस गधे को भी ज़िन्दा फरमाया। पहले उसके अज्ज़ा जमा हुए और अपने अपने मौके पर आए। हड्डियों पर गोश्त चढ़ा। गोश्त पर खाल आई। बाल निकले फिर उसमें रूह आई और आपके देखते-देखते ही वो उठकर खड़ा हुआ और आवाज़ करने लगा। आपने अल्लाह की क़ुदरत का मुशाहेदा किया और फ़रमाया मैं जानता हूँ के अल्लाह तआला हर शै पर क़ादिर है। फिर आप अपनी सवारी पर सवार होकर अपने मोहल्ले में तशरीफ़ लाए। आपको कोई पहचानता ना था। अंदाज़े से आप अपने मकान पर पहुँचे उम्र आपकी वही चालीस साल की थी। एक ज़ईफ़ बूढ़िया मिली। जिसके पाऊँ रह गए थे और नाबीना थी। वो आपके घर की बांदी थी और उसने आपको देखा था आपने उससे पूछा कि ये उज़ैर का मकान है? उसने कहा- हाँ, मगर उज़ैर के गुम हुए सौ बरस गुज़र गए। ये कह कर खूब रोई। आपने फ़रमाया- अल्लाह तआला ने मुझे सौ बरस मुर्दा रखा फिर जिन्दा किया। बूढ़िया बोली- उज़ैर अलैहिस्सलाम मुसतजाब-उल-दावात थे, जो दुआ करते क़बूल हो जाया करती थी। आप अगर उज़ैर हैं तो दुआ कीजिये कि मैं बीना हो जाऊं ताकी मैं अपनी आँखों से आपको देखूँ।

आपने दुआ की तो वो बीना हो गयी, फिर आपने उसका हाथ पकड़ कर फ़रमाया खुदा के हुक्म से उठ। ये फ़रमाते ही उसके मरे हुए पाऊँ भी दुरूस्त हो गए उसने आपको देख कर पहचाना और कहा- मैं गवाही देती हूँ कि आप बेशक उज़ैर ही हैं। फिर वो आपको मोहल्ले में ले गई। वहाँ एक मजलिस में आपके फ़रज़न्द थे। जिनकी उम्र एक सौ अठ्ठारह साल की हो चुकी थी और आपके पोते भी थे, जो बूढे हो चुके थे। बूढ़िया ने मजलिस में पुकारा- ये हज़रत उज़ैर तशरीफ़ लाए हैं, अहले मजलिस ने उस बात को झुटलाया। उसने कहा मुझे देखो, मैं आपकी दुआ से बिलकुल तनदुरूस्त और बीना हो गई हूँ। लोग उठे और आपके पास आए। आपके फ़रज़न्द ने कहा- मेरे वालिद साहब के शानों के दरमियान सियाह बालों का एक हलाल था। जिस्म मुबारक खोल कर देखा गया तो वो मौजूद था।

(कुरआन करीम, पारा-3, रूकू-3 और ख़ज़ायन-उल-इरफ़ान, सफ़ा-65)

🌹सबक़ ~

ख़ुदा की नाफ़रमानी का एक नतीजा ये भी है, ज़ालिम हाकिम मुसल्लत कर दिए जाते हैं और मुल्क बर्बाद व वीरान हो जाते हैं और अल्लाह तआला बड़ी क़ुदरतों का मालिक है वो जो चाहे कर सकता है और एक दिन उसने सब को दोबारह ज़िन्दा करके अपने हुजूर बुलाना है और हिसाब लेना है और ये भी मालूम हुआ के नबी का जिस्म मौत वारिद होने के बाद भी सही सालिम रहता है। हाँ जो गधे हैं वही मर कर मिट्टी में मिल जाते और मिट्टी हो जाते हैं।

📕»» सच्ची हिकायात ⟨हिस्सा अव्वल⟩, पेज: 73-75, हिकायत नंबर- 60


ماہ محرم میں خوشیاں کیوں نہیں منانی چاہئیے…

ماہ محرم میں خوشیاں کیوں نہیں منانی چاہئیے…

قُلۡ لَّاۤ اَسۡئَلُکُمۡ عَلَیۡہِ اَجۡرًا اِلَّا الۡمَوَدَّۃَ فِی الۡقُرۡبٰی
ترجمہ: (اے محبوب) آپ فرمادیجئے کہ میں تم سے کوئی اجر (یعنی بدلہ کار رسالت کا) نہیں چاہتا سواۓ میری قرابت کی مودت و محبت (سورہ شوریٰ ۲٣)

امام اهل سنت مفسر اعظم حضرت امام فخرالدین رازی نے تفسیر کبیر میں فرمایا کہ یہ آیت مبارکہ پنجتن پاک اور اهل بیت علیهم السلام کی شان میں نازل ہوئی ہے. اسی طرح جمهور مفسر ین کا قول بهی یہی ہے.

اگر آیت کریمہ جسے آیت مودت بهی کہتے ہیں پر ہم غور کریں تو الله یہ فرما رہا ہے کہ جو کچھ رسول پاک صلی الله علیہ وسلم نے کار رسالت انجام دیا ہے یعنی نماز سیکهائی ، روزہ سیکهایا، زکوٰت کے احکام سمجهاۓ، تبلیغ و اشاعت دین کی اور جهالت کے اندھیرے سے نکالا اور علم کے نور سے منور کیا، الغرض اسلام کے احکامات کی مکمل تعلیم دے کر ہم سب کو انسان کامل اور نمونۂ عمل بنایا اس دوران جو کچھ مصیبتیں رسول الله صلی الله علیہ و آلہ وسلم نے برداشت کی اور جن۔جن پریشانیوں سے گذرے مثلاً فاقہ کئے ، لوگوں کی دشنامیوں پر تحمل کیا، لوگوں نے پتهر مارے پهر بهی صبر کیا . جیسا کہ مشهور حدیث میں ہے کہ رسول الله صلی الله علیہ وسلم نے ارشاد فرمایا کہ جتنی مصیبت راہ خدا میں مجھ پر آئی ہے اتنی کسی پہ نہیں آئی . مثلاً کسی نبی کی اهل بیت کو کبهی قیدی نہیں بنایا گیا اور نہ ہی کسی نبی کی بیٹیوں کو بازار میں بے پردہ پهیرایا گیا. ہر حال میں تبلیغ اسلام فرماتے رہے اور احکام خدا کو اصحاب سے لے کر آج ہم تک پہنچایا پس الله اسی طرف اشارہ فرماتے ہوۓ اس آیت میں فرما رہا ہے کہ ان تمام قربانیوں کے بدلے میں کچھ نہیں چاہیۓ پس یہ کہ رسول الله صلی الله علیہ وآلہ وسلم کے اهل بیت سے محبت اور مودت. پتہ یہ چلا اجر رسالت رسول خدا صلی الله علیہ وآلہ وسلم کی اهل بیت سے بے انتها اور شدید محبت کرنے کا نام ہے.

مَوَدّت کیا ہے؟
محبت کی انتها کے بعد جس کیفیت و احساس و جذبات کی ابتدا ہوتی ہے اسے مودت کہتے ہیں. محبت کہتے ہیں اُس احساس کو جس میں انسان دوسرے شخص کو اتنا پسند کرے کہ خود کی ذات پر اس کو برتری دینے لگے اور اس کے حکم کو بجا لاۓ . جب کہ مودت اس سے ایک درجہ آگے کی چیز ہے کہ جب انسان کسی سے اتنی محبت کرنے لگے کہ اس کے لئے اپنا سب کچھ لٹانے پر آمادہ ہو جاۓ اور اس کے لۓ اپنی جان دینے سے بهی گریز نہ کرے .
الله تعالی مومنین کو اهل بیت سے اسی طرح کی محبت کرنے کا حکم دے رہا ہے اور یہی ایمان کا تقاضہ بهی ہے اور اسی آیت کے دیئے گۓ حکم کی بنیاد پر ہم اکثر کہا کرتے ہیں رسول الله کے لئے اور ان کے اهل بیت کے لئے اپنی جان تک لُٹا دینگے.
اهل بیت سے محبت کا حکم رسول خدا صلی الله علیہ وسلم نے بہت سارے مقامات پر دیا ہے. ابهی یہ موقع نہیں ہے کہ ان کا ذکر کروں بس اشارہ کئیے دیتا ہوں کہ مطالعہ کا شوق رکهنے والے حدیث ثقلین ، حدیث کساء جیسی حدیثیں پڑھ سکتے ہیں پس برکت کی نیت سے ایک حدیث جس کو الصواعق المحرقہ میں امام ابن حجر المکی الشافعی القادری نے نقل کیا ہے کہ رسول الله صلی الله علیہ و آلہ وسلم نے فرمایا کہ کوئی شخص مسلمان نہیں ہو سکتا جب تک کہ مجھ سے محبت نہ کرے اور کوئی شخص مجھ سے محبت نہیں کر سکتا جب تک کہ میری اهل بیت کو اپنی اهل بیت پر برتری نہ دے دے.
پس محبت و مودت رسول اور اهل بیت علیهم السلام کا یہی تقاضہ ہے کہ جب ان پر کوئی خوشی کا معاملہ پیش آیا ہو تو ان کی خوشی میں شریک ہو کر خوشیاں منایں اور اپنے ایمان کا ثبوت پیش کریں مثلاً کہ رسول الله صلی الله علیہ و آله وسلم کی ولادت کا موقع ہو یا حضرت علی یا حضرت سیدہ زهرہ یا حضرت امام حسن یا حضرت امام حسین یا جملہ اهل بیت علیهم السلام میں سے کسی کی ولادت یا شادمانی کی تاریخ آ پڑے تو اس دن مومن کو چاہئیے کہ خوشی مناۓ.
پس اسی طرح اهل بیت علیهم السلام سے محبت و مودت کا تقاضا یہ ہے کہ اگر ان ہی اهل بیت علیهم السلام میں سے کسی کی وصال یا شهادت کا موقع ہو تو غم کا اظہار کرے خاص طور پر سید الشهداء حضرت امام حسین علیہ السلام نے جس طرح سے اسلام کو بچانے کے لۓ کلمہ، روزہ، نماز، جملہ احکام الٰهی اور انسانی اقدار کو بچانے کے لۓ جس طرح سے میدان کربلا میں قربانی پیش کی ہے اس کی نظیر ملنا مشکل ہے .
آج ایمان کے سایہ میں سانس لینے والے ہر مسلمان کے کلمہ پر حضرت امام حسین علیہ السلام کا احسان ہے اور اس احسان کا بدلہ کوئی شخص جتنا بهی چاہے چکا بهی نہیں سکتا آج اگر کوئی شخص نماز ادا کرتا ہے اور احکام الٰھی بجا لاتا ہے تو اس پر امام حسین علیہ السلام اور شہداۓ کربلا کا احسان عظیم ہے . اس بات کو ایک شاعر نے باخوبی کہا ہے.
نمازیوں پر ہے فرض یہ خدا کی قسم
بچها کے مصلیٰ کہیں حسین زندہ باد!

تو اس محبت کا یہ تقاضہ ہے کہ ہم ماہ محرم میں غم امام حسین علیه السلام کا لحاظ کرتے ہوۓ اپنی خوشیوں پر انکے غم کو ترجیح دیتے ہیں. اور اسی وجہ سے کسی خوشی کی محفل و تقریب سے دور رہتے ہیں. جب انسان کسی سے محبت کرتا ہے اور اس پر کوئی غم یا دردناک حادثہ آ جاۓ تو وہ اس کے غم کو اپنا غم بنا لیتا ہے. اسی لۓ ماہ محرم میں رسول اکرم صلی الله علیه و آله وسلم و اهل بیت علیهم السلام کی ارواح پاک بیشک غمگین ہوتی ہے اور مومن ہونے کا تقاضہ یہ ہے کہ رسول پاک و اهل بیت علیهم السلام کو پُرْسا و تعزیت پیش کریں.
اور دل سے یہ کہا جاۓ کہ یا رسول الله ہم آپکے غم میں شریک ہیں.
صحبح مسلم میںجو حدیث ثقلین ہے یعنی قرآن اور اهل بیت والی اسکا آخری جملہ یہ ہے کہ رسول اکرم صلی الله علیہ و آله وسلم نے ارشاد فرمایا کہ میں تمہیں ڈراتا ہوں اللّه سے اپنی اهل بیت کے معاملے میں اور یہ جملہ حضور پاک صلی اللّه علیہ و آله وسلم نے تین بار ارشاد فرمایا(حدیث ثقلین رواہ المسلم) .

کیا ہم آنحضرت صلی اللّه علیہ و آله وسلم اور اهل بیت علیهم السلام کےغم کی وجہ سے اپنی خوشیوں کو موقوف و ملتوی (postpone) نہیں کر سکتے؟ جب کہ یہ محبت کا تقاضا ہےاور قرآن کریم کی ذکر کردہ آیت سے ثابت بهی چکا ہے.
میرا یہ سوال اپنے مومن بهائیوں اور بہنوں سے ہے کہ روز قیامت اگر حضورصلی اللّه علیہ وآله وسلم آپ سے سوال کریں گے کہ تم ہمارے غم میں شریک کیوں نہیں ہو سکے تو آپ کیا جواب دینگے. اگر رسول خدا صلی اللّه علیہ و آله وسلم نے یہ پوچھ لیا کہ میلاد کی خوشی میں جلسہ تو خوب کرتے تهے. کیا میرے نواسہ کے غم میں شریک بهی ہوۓ؟ تو اس کا جواب کیا بن پڑیگا؟ اگر رسول خدا صلی اللّه علیہ و آلہ وسلم نے یہ سوال کر لیا کہ دنیا میں تم نے ہمارے غم کی تاریخوں میں خوشیوں کی محفلیں سجائیں اور نئے سال کی مبارک باد دیں, تفریح وغیرہ کا اهتمام کیا . کیا تجهے ہمارا غم یاد نہ رہا تو کیا جواب دیتے بنے گا؟
مومنین تهوڑا ہوش کےناخون لیں…..

یہ بات تو حدیث سے ثابت ہے کہ رسول خدا صلی اللّه علیہ وآله وسلم امت سے اپنی اهل بت علیهم السلام کے بارے میں سوال ضرور کریں گے. کیونکہ چند روایتوں میں یہ الفاظ آۓ ہیں کہ میں دیکهونگا تم میری اهل بیت کے ساتھ کیا سلوک کرتے ہو. اس روایت میں جو لفظ ہے دیکھوں گا اس سے یہی مطلب نکلتا ہے کہ رسول خدا صلی اللّه علیہ وآله وسلم سوال کریں گے اگر کسی کے پاس همّت ہو جواب دینے کی تو وہ پهر جو چاہے کرے. کربلا میں اسی آیت مودت پر عمل کرتے ہوئے سیده زینب سلام الله علیها نے اپنے بچوں اور دوستان حضرت امام حسین علیه السلام نے انکے غم شریک ہوکر اُنپر آی مصیبت میں اپنی جانوں کی قربانی کا نذرانہ دیا اور مودت کا حق ادا کیا.
ایمان کا تقاضا یہی ہے کہ دنیاء میں اپنا سب کچھ امام حسین علیہ السلام کے غم میں لُٹا دیں اورانکےغم میں شریک ہوکر آیت قرآنی کے حکم پے عمل کرتے ہوۓ ایمان کا ثبوت دیں اور اجر رسالت ادا کریں.

والسلام علیکم
طالب شفاعت رسول و اهل بیته علیهم السلام
سید فیضان وارثی(غفراللّه لہ)