30 Rozon ka Amal

c254011eeb32996b0fe56b7af2e63b3e_30-Roza-ke-Wazaif-1440-c-90

माहे रमज़ानुल मुबारक में नेकियों का अज्र बहुत बढ़ जाता है लिहाज़ा कोशिश कर के ज्‍़यादा से ज्‍़यादा नेकियां इस माह में जमा कर लेनी चाहियें। चुनान्चे ह़ज़रते सय्यिदुना इब्राहीम नख़्इ़र् फ़रमाते हैं: माहे रमज़ान में एक दिन का रोज़ा रखना एक हज़ार दिन के रोज़ों से अफ़्ज़ल है और माहे रमज़ान में एक मरतबा तस्बीह़ करना (यानी कहना) इस माह के इ़लावा एक हज़ार मरतबा तस्बीह़ करने (यानी ) कहने से अफ़्ज़ल है और माहे रमज़ान में एक रक्अ़त पढ़ना गै़रे रमज़ान की एक हज़ार रक्अ़तों से अफ़्ज़ल है। (अद्दुर्रुल मन्स़ूर, जिल्द:1, स़-फ़ह़ा:454)

पेश है रमज़ान के 30 रोज़ों के अमल …

30-Roza-Wazaif-130-Roza-Wazaif-230-Roza-Wazaif-330-Roza-Wazaif-430-Roza-Wazaif-530-Roza-Wazaif-630-Roza-Wazaif-730-Roza-Wazaif-830-Roza-Wazaif-930-Roza-Wazaif-1030-Roza-Wazaif-1130-Roza-Wazaif-1230-Roza-Wazaif-1330-Roza-Wazaif-1430-Roza-Wazaif-1530-Roza-Wazaif-1630-Roza-Wazaif-1730-Roza-Wazaif-1830-Roza-Wazaif-1930-Roza-Wazaif-2030-Roza-Wazaif-2130-Roza-Wazaif-2230-Roza-Wazaif-2330-Roza-Wazaif-2430-Roza-Wazaif-2530-Roza-Wazaif-2630-Roza-Wazaif-2730-Roza-Wazaif-2830-Roza-Wazaif-2930-Roza-Wazaif-30

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: