Sharayi musafir (shariat ke hisab se musafir kon hota hai


शरई मुसाफ़िर (शरीअत के हिसाब से) मुसाफ़िर कौन होता है

Sharayi musafir (shariat ke hisab se musafir kon hota hai


▪️जो शख़्स अपने घर से 3 दिन की राह तक जाने के सफ़र के इरादे से बस्ती से बाहर निकले, 3 दिन का मुराद साल का सबसे छोटा दिन, और 3 दिन की राह से मतलब की दिन का अक्सर हिस्सा सफर करे और फिर ठहर जाए ये ज़रूरी नही की दिन भर चलता रहे, जैसे सुबहे सादिक़ से चला और ज़हवये कुबरा तक चलने के बाद ठहर जाए इसी तरह से 3 दिन सफर करे,
और अगर मील के एतेबार से देखें तो 57.3 मील (92 किलोमीटर) होता है, यानी अगर 92 किलोमीटर दूर चला गया तो मुसाफ़िर हुआ,
▪️सिर्फ सफर की नीयत करने से मुसाफ़िर न होगा जब तक शहर या गांव से बाहर ना हो जाये, और अगर नियत ही ना किया और फिर मिक़दारे सफ़र या इससे ज़्यादा तय कर लिया तो भी मुसाफ़िर नही, और अगर 92km से कम गया तो भी मुसाफ़िर नही
▪️अगर इस सफर को किसी तेज़ सवारी से सफर करेगा तो भी मुसाफ़िर ही रहेगा,
▪️अगर ऐसा सफर का इरादा था कि बीच मे एक जगह काम है वह एक दिन रुक जाऊंगा या कुछ दिन रुक जाऊंगा, फिर आगे जाऊंगा, तो इस सूरत में वो मुसाफ़िर नही,
▪️अगर कोई शख़्स 92km के सफ़र की नीयत से निकला और 15 दिन के अंदर वापस आ जायेगा तो मुसाफ़िर हुआ, और अगर 15 दिन से ज़्यादा रुकेगा तो मुक़ीम होगा,
▪️और अगर जहां पर जा कर मुक़ीम हुआ अब अगर वहां से फिर 92km का सफर करने की नीयत किया और 15 दिन के अंदर वापस आने की नियत है तो मुसाफ़िर हो जाएगा, अगर इससे कम का सफर किया तो मुसाफ़िर नही, और अगर 92km जा कर 15 दिन से ज़्यादा रुकने की नीयत है तो मुक़ीम हो जाएगा
▪️और अगर जहा पर जा कर मुसाफ़िर है और वहां से कही भी 92km जाएगा और जाकर 15 दिन के अंदर वापस आ जायेगा तो भी मुसाफ़िर ही रहेगा या इससे कम जाएगा तो भी मुसाफ़िर ही रहेगा, और अगर 92km गया और 15 दिन से ज़्यादा रुकेगा तो मुक़ीम होगा

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

▪jo shakhs apne ghar se 3 din ki raah tak ke safar ke irade se basti se bahar nikle, 3 din ka murad saal ka sabse chhota din, aur 3 din ki raah se matlab ki din ka aksar hissa safar kare aur phir thahar jae ye zaruri nahi ki din bhar chalta rahe, jaise subhe sadiq se chala aur zahwaye qubra tak chalne ke baad thahar jae isi tarah se 3 din safar kare,
aur agar meel ke etebar se dekhen to 57.3 meel (92 kilomeetar) hota hai, yani agar 92 kilomeetar door chala gaya to musafir hua,
▪sirf safar ki niyat karne se musafir na hoga jab tak shahar ya gaon se bahar na ho jaye, aur agar niyat hi na kiya aur miqadare safar ya isse zyada tay kar liya to bhi musafir nahi, aur agar 92km se kam gaya to bhi musafir nahi
▪agar is safar ko kisi tez sawari se safar karega to bhi musafir hi rahega,
▪agar aisa safar ka irada tha ki beech me ek jagah kam hai waha ek din ya kuchh din ruk jaunga phir aage jaunga, to is surat mein wo musafir nahi,
▪agar koyi shakhs 92km ke safar ki niyat se nikla aur 15 din ke andar wapas aa jayega to musafir hua, aur agar 15 din se zyada rukega to muqem hoga,
▪aur agar jahan par ja kar muqeem hua ab agar waha se phir 92km ka safar karne ki niyat kiya aur 15 din ke andar wapas aane ki niyat hai to musafir ho jaega, agar isse kam ka safar kiya to musafir nahee, aur agar 92km ja kar 15 din se zyada rukne ki niyat hai to muqeem ho jaega
▪aur agar jaha par ja kar musafir hai aur waha se kahi bhi 92km jaega aur jakar 15 din ke andar wapas aa jayega to bhi musafir hi rahega ya isse kam jaega to bhi musafir hi rahega, aur agar 92km gaya aur 15 din se zyada rukega to muqeem hoga

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s