Qurane pak ki tilawat aur uske adab ka hukm batayein


क़ुरआने पाक की तिलावत और उसके अदब का हुक्म बताएं

Quran e pak ki tilawat aur uske adab ka hukm batayein


▪️ क़ुरआने पाक की तिलावत
क़ुरआने पाक को तजवीद के साथ पढ़ना फ़र्ज़ है, और अगर किसी को ना आती हो तो उस पर सीखना ज़रूरी है, कियूंकि अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त एक वक्त तक न जानने वालों को भी जानने और सीखने का मौका देता है, इस लिए अगर किसी को क़ुरआने पाक अच्छे से पढ़ना नही आता तो वो जल्द से जल्द सीखने की कोशिश करें, इस लिए अपने आस पास किसी से राब्ता करके सही तरह से पढ़ना सीखें
एक बात और है जब कोई क़ुरआने पाक को पढ़ना सीखता है और अटक-अटक कर पढता है तो उसे दोगुना सवाब मिलता है
▪️ क़ुरआने पाक को किसी और ज़बान में पढ़ना
क़ुराने पाक को अरबी के अलावा किसी भी ज़ुबान चाहे फ़ारसी, हिंदी, इंग्लिश किसी भी ज़ुबान में पढ़ना या लिखना दोनों नाजायज़ हैं
कियूंकि अरबी के अलावा किसी और ज़ुबान में इसकी तजवीद और सही हुरूफ़ की अदायगी नही होती है और माना फ़ासिद हो जाता है, इस लिए जब भी क़ुरआने पाक पढ़ा जाएगा या लिखा जाएगा सिर्फ अरबी ज़बान में ही लिखा या पढ़ा जाएगा वरना ख़िलाफ़े शरई होगा,
हां क़ुरआने पाक का तर्जुमा अरबी के अलावा किसी और ज़ुबान में पढ़ा या लिखा जा सकता है,
▪️ क़ुरआने पाक गिर जाए तो
अगर किसी ने जानबूझ कर गिराया तो वो दायरये इस्लाम से खारिज हो गया लेकिन ऐसा करना किसी मुसलमान से मुमकिन नही, लिहाज़ा अगर किसी वजह से क़ुरआने पाक गिर जाए तो उसे उठा कर तुरंत चूमें और आंखों से लगायें, और दिल से इस बात की तौबा करें,
और अगर कोई मुस्तहबन कोई सदक़ा वगैरह करना चाहे तो अपनी सआदत के मुताबिक सदक़ा कर सकते हैं, लेकिन ये कोई तय नही है कि कितना सदक़ा करना है, आवाम में मशहूर है कि क़ुरआने पाक के वजन के बराबर गेंहू या आटा सदक़ा करते हैं और कहते हैं क़ुरआने पाक शहीद हो गया (माज़ाअल्लाह) ये उनकी गलतफहमी है,
▪️ क़ुरआने पाक में बाल निकलना
क़ुरआने पाक में जो बाल निकलता है और लोग उसे हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम के मुये मुबारक से निस्बत देते हैं और कहते हैं कि ये हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम का मुए मुबारक है लिहाज़ा इस बात की कोई सनद नही है और इस तरह से इसकी निस्बत हुज़ूर के मुए मुबारक से जोड़ना जाएज़ नही, बल्कि एक झूठ को आगे बढ़ाना है लिहाज़ा इससे बचें,
ये बाल पढ़ने वालों का हो सकता है जैसे तिलावत करते वक़्त उसमे गिर जाते हैं, या बाइंडिंग करने वालों के भी हो सकते हैं, लिहाज़ा इस अफवाह से बचना चाहिए
▪️ नक़्श के बराबर क़ुरान पाक बनाना
ऐसा अक्सर देखा गया है कि इतने छोटे क़ुरान पाक बनाये जाते हैं कि नक़्श की तरह या तावीज़ की तरह रखा जाता है या गले मे डाला जाता है और उसकी किताबत भी बहुत बारीक होती है, लेकिन याद रहे इस तरह से क़ुरआने पाक को बनाना मकरूह है

▪️ Qurane paak ki tilawat
qurane paak ko tajwid ke saath padhna farz hai, aur agar kisi ko na aati ho to us par sikhna zaruri hai, kiyunki allaah rabbul izzat ek waqt tak na janne walon ko bhi janne aur sikhne ka mauka deta hai, is lie agar kisi ko qurane paak ko acche se padhna nahi aata to wo jald se jald sikhne ki koshish karen, is lie apne aas pas kisi se rabta karke sahi tarah se padhna sikhen
Ek baat ye bhi hai ki jab koi padhna sikhta hai aur atak-atak kr padhta hai to usko doguna sawab milta
▪️ Qurane paak ko kisi aur zaban me padhna
Quraane paak ko arabi ke alawa kisi bhi zuban chahe farsi, hindi, english kisi bhi zuban mein padhna ya likhna dono najayez hai
kiyunki arbi ke alawa kisi aur zuban mein iski tajweed aur sahi huroof ki adaygi nahi hoti hai aur mana fasid ho jata hai, is lie jab bhi qurane paak padha jayega ya likha jayega sirf arbi zubaan mein hi likha ya padha jayega warana khilafe sharayi hoga,
haan qurane paak ka tarjuma arbi ke alawa kisi aur zuban mein padha ya likha ja sakta hai
▪️ Agar qurane pak gir jaye to
dekhen, agar kisi ne janboojh kar giraya to vo dayraye islam se kharij ho gaya lekin aisa karna kisi musalmaan se mumkin nahi, lihaza agar kisi wajah se qurane paak gir jae to use utha kar turant choomen aur aankhon se lagayen, aur dil se is baat ki tauba karen,
aur agar koyi mustahban koyi sadqa wagairah karna chahe to apni sa’adat ke mutabik sadqa kar sakte hain, lekin ye koeyi tay nahi hai ki kitna sadqa karna hai, aawam mein mashhoor hai ki qurane paak ke wazan ke barabar genhu ya aata sadqa karte hain aur kahte hain qurane paak shaheed ho gaya (maazaallaah) ye unki galatfahmi hai,
▪️ Qurane paak me baal nikalna
Qurane pak men jo bal nikalta hai aur log use huzur sullallahu alaihi wasallm ke muye mubarak se nisbat dete han aur kahte han ki ye huzur sullallahu alaihi wsallm ka mue mubarak hai lihaza is bat ki koi sanad nahi hai aur is tarah se isaki nisbat huzur ke mue mubark se jodna jaez nahi, balki ek jhuth ko aage badhana hai lihaza isse bachen, ye bal padhne walon ka ho sakta hai jaise tilawat karte waqt usme gir jate hain, ya bainding karne walon ke bhi ho sakte hain, lihaza is afwah se bachna chahiye
naqsh ke barabar quran paak banana
aisa aksar dekha gaya hai ki itne chhote quran paak banaye jate hain ki naqsh ki tarah ya taweez ki tarah rakha jata hai ya gale me dala jata hai aur usaki kitabat bhi bahut bareek hoti hai, lekin yaad rahe is tarah se qurane paak ko banana makrooh hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s