Namaz ke waqton ke bare mein


नमाज़ के वक़्तों की तफ़सील कुछ इस तरह से है
फ़जर
फ़जर का वक़्त सुबहे सादिक़ के शुरू होने से ले कर आफ़ताब की पहली किरन चमकने तक है
ज़ोहर
ज़ोहर का वक़्त आफ़ताब ढलने (निस्फुन-नहार) के बाद से ले कर जब हर चीज़ का साया अपने असली साया से दोगुना हो जाये तब तक रहता है
असर
असर का वक़्त ज़ोहर का वक़्त ख़तम होने के बाद से ग़ुरूबे आफ़ताब के 20 मिनट पहले तक रहता है
मग़रिब
मग़रिब का वक़्त ग़ुरूबे आफ़ताब के बाद से ले कर ग़ुरूबे शफ़्क़ (सूरज डूबने के बाद जब सूरज की सुर्खी ख़तम हो जाती है तो उसके बाद आसमान में एक सफेदी छा जाती है, और जब ये ख़तम हो जाये तो मग़रिब का वक़्त ख़तम,
ईशा
ईशा का वक़्त ग़ुरूबे शफ़्क़ के बाद से ले कर पूरी रात होता है और सुबहे सादिक़ के वक़्त ख़तम हो जाता है

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

namaz ke waqton ki tafseel kuchh is tarah se hai
fajar
fajar ka waqt subhe sadiq ke shuroo hone se le kar aaftab ko pahli kiran chamakne tak hai
zohar
zohar ka waqt aftab dhalne (nisfun-nahaar) ke baad se le kar jab har cheez ka saya apne asli saya se doguna ho jaye tab tak rahta hai
asar
asar ka waqt zohar ka waqt khatam hone ke baad se guroobe aaftab ke 20 mint. pahle tak rahta hai
magrib
magrib ka waqt guroobe aaftab ke baad se le kar guroobe shafq (sooraj dubne ke baad jab sooraj ki surkhi khatam ho jati hai to uske baad aasman mein ek safedi chha jati hai, aur jab ye khatam ho jaye to magrib ka waqt khatam,
Isha
Isha ka waqt guroobe shafq ke baad se le kar poori raat hota hai aur subhe sadiq ke waqt khatam ho jata hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s