Talaq ka sharayi hukm batayein


तलाक़ का शरई हुक्म बताएं

Talaq ka sharayi hukm batayein


सबसे पहले तो मालूम रहे कि तलाक़ अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त को तमाम जाएज़ कामों में सबसे कम पसंद यानी सबसे नीचे दर्जे का जाएज़ काम है, लिहाज़ा जब तक इसकी शरई मजबूरी ना हो कि इसके अलावा कोई रास्ता नही, तब तक ना तलाक़ लें और ना ही तलाक़ दें, बल्कि किसी तरह कोशिश करें कि जो वजह है उसे ख़तम कर के घर को ख़ुशियों का गहवारा बनायें ना कि तलाक़ का फ़ेल कर के घर की ख़ुशी को बर्बाद करें, याद रहे बिला उज़रे शरई तलाक़ देना मना है और जिस घर में बिला उज़रे शरई तलाक़ का फ़ेल होता है उस घर से नुरानीयत ख़तम हो जाती है, इसे सब ने देखा होगा,
और आज के दौर में बहुत से अल्फ़ाज़ ऐसे है जिनको आम बोलचाल या मज़ाक में भी बोल जाता है लेकिन लोगों को ये मालूम नही की इससे भी तलाक़ हो जाती है, हदीसे पाक है जिसका मफ़हूम ये है कि
“एक ऐसा वक़्त आएगा कि जब लोग अपनी बीवियों से ज़िना करेंगे”
यानी कि उनके बीच तलाक़ हो चुके रहेगा लेकिन उन्हें मालूम भी ना होगा, लिहाज़ा कोई भी ऐसा अल्फ़ाज़ न कहे, जैसे तू मुझ पर हराम हुई, मैने तुझे आज़ाद किया, तुझे आज़ाद किया वगैरह, जा निकल, मुंह काला कर, अपनी राह ले, घर खाली कर, तू मुझसे जुदा है, दफ़ा हो, तू मिस्ल शराब या सुवर के है, तू मेरे काम की नही, मुझे सूरत न दिखा, में तुझसे बरी हूं
यानी ऐसे कोई अल्फ़ाज़ जिसमे आज़ादी या छोड़ने का अल्फ़ाज़ हो और नियत तलाक़ की हो तो ये तालाके किनाया के अल्फ़ाज़ हैं, और इनसे बचें

तलाक़ की किस्में और तफ़सील आगे देख सकते हैं_

▪️ क्या ना करें
▪️गुस्से की हालत में न तलाक़ दें और न ही ऐसे कोई अल्फ़ाज़ कहें जिससे तलाक़ का फ़ेल होता हो, बल्कि जब गुस्सा आये तो ख़ामोश हो जाएं और बाद में इसके बारे में सोचें, फिर किसी अच्छी कोशिश से अपने बीच आयी दरार को ख़तम करें
▪️तलाक़ को कभी खेल की तरह इस्तेमाल ना करें, कियूंकि आपके इस काम से एक तो ख़ुद एक परेशानी में उलझेंगे और साथ ही इस काम से मज़हबे इस्लाम पर भी उंगली उठाई जाने लगती है, जिसे कई आज के दौर में देखा जा सकता है
▪️याद रहे गुस्से में जो तलाक़ दिया जाता है उसके बाद सिर्फ पछताना ही होता है, कियूंकि उसके बाद के शराएत पूरी कर पाना किसी भी ईमान वाले इंसान के लिए मुश्किल होता है, खास कर जब कि बच्चे भी हों
▪️अगर कभी ऐसी कोई भी परेशानी है तो पहले अपने घर वालों से मश्वरा करें ताकि वो परेशानी ख़तम हो, और फिर भी न हो तो पहले किसी काज़ी, मुफ़्ती या किसी अच्छे आलिम से इस मसले पर ज़िक्र करें, फिर जैसा वो शरीअत के हिसाब से हुक्म करें उस पर अमल करें, कई बार ऐसा होता है कि गलती दोनों की नही होती और वजह कुछ और रहती है फिर बाद में दोनों एक साथ रहने के लिए रास्ते खोजने लगते हैं, जबकि अब दोनों को साथ होने में बहुत सी मुश्किलात आएंगी,

▪️ तलाक़ लेने के लिए शरई उज़र क्या है
जैसे औरत शौहर को या दूसरों को इज़ा देती है, नमाज़ नही पढ़ती, शौहर नामर्द या हिजड़ा है, और जबकि इन सबको सही करने का कोई रास्ता न हो, तो इस तरह की सूरतों में तलाक की शरई उज़र है

तलाक़ की सूरतें और उसकी किस्में
👉🏻तलाक़ की दो सूरतें है
▪️बाईन, ▪️रजई,
बाईन में तलाक़ होने से औरत उसी वक़्त निकाह से बाहर हो जाती है,
रजई में तलाक़ होने से औरत इद्दत गुज़रने पर बाहर होगी
👉🏻तलाक़ की किस्में
तलाक़ की तीन किस्में हैं
▪️हसन, ▪️अहसन, ▪️बिदई,
अहसन इसमे औरत को हर महीने पाकी की हालत में एक एक तलाक़ देना होता है, और इस बीच (यानी तीनो तलाक़/तीनों महीने में अपनी बीवी से हमबिस्तरी वगैरह कुछ नही कर सकता)
👉🏻तलाक़ के अल्फ़ाज़ की दो किस्में हैं
▪️सरीह▪️किनाया
सरीह यानी ऐसे अल्फ़ाज़ जिसमे सीधा तलाक़ कहा
किनाया यानी ऐसे अल्फ़ाज़ जिसकी तशरीह की जाए तो तलाक़ की नीयत हो

और अगर शौहर घर से बाहर रहता है फिर चाहे कितने ही बरस हो जाएं जब तक जिंदा है बाहर रहने की वजह से निकाह ना टूटेगा हां अगर ये बिला वजह किया तो सख़्त गुनाहगार होगा, कियूंकि इस रिश्ते में दोनों का एक दूसरे पर बहुत से हुक़ुक़ मुतअय्यन हैं, और मर्दों को खास हुक्म है कि अपनी औरतों की सारी ज़रूरतों को पूरा करो,
और अगर कोई मर्द कई बरस से गायब है और पता नही की ज़िंदा है कि मार गया तो औरत को इतने दिन इंतेज़ार करना होगा कि उसके शौहर की उम्र 70 बरस की हो जाये फिर ये निकाह टूट जाएगा

लिहाज़ा तलाक़ कोई खेल नही है, जब तक काज़ी, मुफ़्ती या किसी अच्छे अलीम से सलाह ना लें तलाक़ न दें और न ही कोई ऐसे अल्फ़ाज़ कहें जिसका मतलब इससे हो, वरना बाद में पछताने के सिवा कुछ ना होगा

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

sabse pahle to maloom rahe ki talaq allah rabbul izzat ko tamam jaez kamon mein sabse kam pasand yani sabse niche darze ka jaez kam hai, lihaza jab tak iski sharayi majburi na ho ki iske alawa koi rasta nahi, tab tak na talaq len aur na hi talaq den, balki kisi tarah koshish karen ki jo wajah hai use khatam kar ke ghar ko khushiyon ka gahwara banayen na ki talaq ka fel kar ke ghar ki khushi ko barbad karen, yaad rahe bila uzre sharayi talaq dena mana hai aur jis ghar mein bila uzre sharayi talaq ka fel hota hai us ghar se nuraniyat khatam ho jati hai, ise sab ne dekha hoga,
aur aaj ke daur mein bahut se alfaz aise hai jinko aam bolchal ya mazak mein bhi bola jata hai lekin logon ko ye maloom nahi ki isse bhi talaq ho jati hai, hadise paak hai jiska mafhoom ye hai ki
“ek aisa waqt ayega ki jab log apni biwiyon se zina karenge”
yani ki unke beech talaq ho chuke rahega lekin unhen maloom bhi na hoga, lihaza koi bhi aisa alfaz na kahe, jaise tu mujh par haram hui, maine tujhe aazad kiya, tujhe aazad kiya wagairah, ja nikal, munh kala kar, apni raah le, ghar khali kar, tu mujhse juda hai, dafa ho, tu mujh pr misl sharab ya suwar ke hai, tu mere kaam ki nahi, mujhe surat na dikha, mein tujhse bari hoon
yani aise koi alfaz jisme aazadi ya chhodne ka alfaz ho aur niyat talaq ki ho to ye talaqe kinaya ke alfaz hain, aur inse bachen

talaq ki kismen aur tafseel aage dekh sakte hain_

kya na karen
▪gusse ki halat mein na talaq den aur na hi aise koi alfaz kahen jisse talaq ka fel hota ho, balki jab gussa aaye to khamosh ho jaen aur baad mein iske bare mein sochen, phir kisi achhi koshish se apne beech aayi darar ko khatam karen
▪talaq ko kabhi khel ki tarah istemaal na karen, kiyunki apke is kaam se ek to khud ek pareshani mein uljhenge aur saath hi is kaam se mazhabe islam par bhi ungli uthayi jane lagti hai, jise ki aaj ke daur mein dekha ja sakta hai
▪yaad rahe gusse mein jo talaq diya jata hai uske baad sirph pachhtana hi hota hai, kiyunki uske baad ke sharayet puri kar pana kisi bhi iman wale insan ke lie mushkil hota hai, khas kar jab ki bacche bhi hon
▪agar kabhi aisi koi bhi pareshani hai to pahle apne ghar walon se mashwara karen taki wo pareshani khatam ho, aur phir bhi na ho to pahle kisi qazi, mufti ya kisi achhe aalim se is masle par zikr karen, phir jaisa wo shariat ke hisab se hukm karen us par amal karen, kayi baar aisa hota hai ki galti donon ki nahi hoti aur wajah kuchh aur rahti hai phir baad mein donon ek sath rahne ke lie raste khojne lagte hain, jabki ab donon ko sath hone mein bahut si mushkilat aaengi,

talaq lene ke lie sharayi uzr kya hai
jaise aurat shauhar ko ya dusaron ko iza deti hai, namaz nahi padhti, shauhar namard ya hijda hai, aur jabki in sabko sahi karne ka koi rasta na ho, to is tarah ki suraton mein talak ki sharayi uzr hai

talaq ki suraten aur usaki qismen
👉🏻talaq ki do suraten hai
▪bayeen, ▪rajayi,
bayeen mein talaq hone se aurat usi waqt nikah se bahar ho jati hai,
rajayi mein talaq hone se aurat iddat guzarne par bahar hogi
👉🏻talaq ki kismen
talaq ki teen kismen hain
▪hasan, ▪ahsan, ▪bidayi,
ahsan isme aurat ko har mahine paki ki halat mein ek ek talaq dena hota hai, aur is beech (yani teeno talaq/teenon mahine mein apni biwi se hamabistari wagairah kuchh nahi kar sakta)
👉🏻talaq ke alfaz ki do kismen hain
▪sareeh▪kinaya
sareeh yani aise alfaz jisme sidha talaq kaha
kinaaya yani aise alfaz jiski tashreeh ki jae to talaq ki niyat ho

Aur agar shauhar ghar se bahar rahta hai phir, chahe kitne hi baras ho jaen jab tak zinda hai bahar rahne ki wajah se nikah na tutega haan agar ye bila wajah kiya to sakht gunahgar hoga, kiyunki is rishte mein donon ka ek dusre par bahut se huqooq muta’ayyan hain, aur mardon ko khaas hukm hai ki apni auraton ki sari zaruraton ko poora karo,
aur agar kai mard kayi baras se bahar hai aur uska kuchh pata nahi ki zinda hai ya mar gaya to aurat ko itane din intezar karna hoga ki uske shauhar ki umar 70 baras ki ho jaye phir ye nikaah toot jaega

lihaza talaq koi khel nahi hai, jab tak qazi, mufti ya kisi achhe aalim se salah na len talaq na den aur na hi koi aise alfaz kahen jiska matlab isse ho, warna baad mein pachhatane ke siwa kuchh na hoga

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s