Taleemat e Ameer 80

** تعلیمات امیر (Taleemat e Ameer r.a)
** اسیواں حصہ (part-80)

  • بیعت و خلافت:۔
    ظاہری علوم سے فراغت کے بعد سعادت ازلیہ نے جزب دروں کو علم باطن کے حصول کہ لیے پا بہ اشتییاق کردیا- جزبہ شوق نے زیارت حرمین شریفین کے لیے قدم بڑھایا- والدین کریمین سے اجازت طلب کی اور عازم مکہ اور مدینہ ہوگئں- جب وطن سے باہر نکلے تو منشاے قدرت نے حریم دل سے صدادی کہ اے بدیع الدین!صحن بیت المقدس میں تمہاری مرادوں کا کلید لئے ہوے سر گروہ اولیاء بایزید بسطامی سراپا انتظار ہیں- آپ نے عزم کے رہوار کو بیت المقدس کی طرف موڑ دیا- ۲۹۶ھ میں سلطان الاولیاء حضرت بایزید بسطامی عرف طیفور شامی قدس سرہ السامی نے صحن بیت المقدس میں نسبت,صدیقیہ,طیفوریہ
    ,وبصریہ,طیفوریہ سے سرفراز فرمایا اور اجازت وخلافت کا تاج سر پر رکھ کر حلہ باطن سے آراستہ وپیراستہ فرمایا- تھوڑی مدت تک مرشد بر حق کی معیت میں رہکر عرفان کی نعمتوں سے مستفیض ومستفید ہوتے رہے- ذکر و اشغال اورادو وظائف اور ریاضات ومجاہدات کے ذریعے طریقت وحقیقت اور سلوک کی منزلوں اور معرفت کے اسرارو رموز کے مقامات کو طے کرتے رہے مرشد برحق نے ذکر دوام اور حبس دم کی بھی تعلیم فرمائی۔ 📚 ماخذ از کتاب چراغ خضر۔

Sone ks aadab batayen


सोने के आदाब बताएं

Sone ks aadab batayen


सोने का मुस्तहब तरीक़ा ये है कि बाताहरत हो कर वुज़ू से सोयें, पहले बिस्तर को झाड़ कर बिछाएं, और साथ ही साफ सुथरे बिस्तर पर सोयें, अब सबसे पहले सोने की दुआ पढ़ें, और किबला की तरफ रुख़ करके दाएं करवट पर लेटें और अपने दाएं हाथ को रुख़सार के नीचे रखें, फिर उसके बाद करवट बदलें, सोते वक्त किसी से बात ना करें और न ही इधर उधर की बात सोचें, बल्कि तस्बीह व दूरूद का विर्द करते हुए सोयें, सोने से पहले तौबा इस्तग़फ़ार कर के सोयें,

▪️ ख़्याल रहे
▪️पेट के बल सोना जहन्नमियों का तरीका है,
▪️इस तरह से सोना की चित लेट कर एक पांव को खड़ा कर ले और उसके ऊपर दूसरे पांव को रखे ये अगर सतर खुलने के डर है तो सोना मना है, और पैर लंबे कर के पंजे को पंजे के ऊपर रखने में कोई हर्ज नही,
▪️फ़ज़र की नमाज़ के बाद व दिन के इब्तेदायी वक़्त (सुबह) के वक़्त सोना मना है, और मग़रिब व ईशा के दरमियान सोना मकरूह है,
▪️असर और मग़रिब के दरमियान में सोने से अक़्ल ज़ाएल (मजनून) होने का अंदेशा होता है,
▪️दोपहर में खाना खाने के बाद थोड़ी देर आराम करना (क़ैलूला) मुस्तहब है, और रात को खाना खाने के तुरंत बाद ना सोयें,
▪️ऐसी छत पर सोना जिस पर रोक (बाउंडरी) नही हो तो मना है, और एक दम तन्हा सोने से भी मना फ़रमाया गया है
▪️ईशा की नमाज़ के बाद से सोने तक फालतू के बात करना मकरूह है, हां ये की इल्मी गुफ़्तगू की जाए, या मवानेसत (यानी मिया बीवी में या मेहमान के उन्स के लिए बात करना जाएज़ है) पर फालतू बातें कर के जागना मना है,
▪️जब लड़का या लड़की की उम्र दस साल हो जाये तो उन्हें अलग सुलाया जाए, यानी जब लड़का इतना बड़ा हो जाये तो मां या बहन या किसी औरत के साथ न सोये,
▪️ऐसे छोटे कपड़े जिसको आज कल लड़के या लड़की पहन कर सोते है ये हराम है,
▪️सोते वक्त न कुछ खाएं और न ही पियें, इससे बहुत सी बीमारी होती है
▪️सुबह उठ कर सबसे पहले जागने की दुआ पढ़ें, और बिस्तर को समेट कर रखें,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

sone ka mustahab tariqa ye hai ki ba’taharat ho kar wuzu se soyen, pahle bistar ko jhaad kar bichhaen, aur sath hi saf suthre bistar par soyen, ab sabse pahle sone ki dua padhen, aur qibla ki taraf rukh karke daen karwat par leten aur apne daen hath ko rukhsaar ke niche rakhen, phir uske baad karwat badlen, sote waqt kisi se baat na karen aur na hi idhar udhar ki baat sochen, balki tasbeeh o durood ka wird karte hue soyen, sone se pahle tauba astgfaar kar ke soyen,

khayal rahe
▪pet ke bal sona jahannamiyon ka tariqa hai,
▪is tarah se sona ki chit let kar ek paon ko khada kar le aur uske upar dusre paon ko rakhe ye agar satar khulne ka dar hai to sona mana hai, aur pair lambe kar ke panje ko panje ke upar rakhne mein koi harj nahi,
▪fazar ki namaz ke baad aur din ke ibtedayi waqt (subah) ke waqt sona mana hai, aur magrib o isha ke darmiyan sona makrooh hai,
▪asar aur magrib ke darmiyan mein sone se aqal zael (majnoon) hone ka andesha hota hai,
▪dophar mein khana khane ke baad thodi der aaram karna (qailula) mustahab hai, aur raat ko khana khane ke turant baad na soyen,
▪aisi chhat par sona jis par rok (boundry) nahi ho to mana hai, aur ek dam tanha sone se bhi mana farmaya gaya hai
▪Isha ki namaz ke baad se sone tak faltu ke baat karna makrooh hai, haan ye ki ilmi guftagoo ki jae, ya mawanesat (yani miya biwi mein ya mehman ke uns ke lie baat karna jaez hai) par faltu baten kar ke jagna mana hai,
▪jab ladka ya ladki ki umar 10 saal ho jaye to unhen alag sulaya jae, yani jab ladka itna bada ho jaye to ma ya bahan ya kisi aurat ke sath na soye,
▪aise chhote kapde jisko aaj kal ladke ya ladki pahan kar sote hai ye haram hai,
▪️sote waqt na kuchh khayein na kuchh piyen, Qki isse bahut si bimari hoti hai
▪subah uth kar sabse pahle jagne ki dua padhen, aur bistar ko samet kar rakhen,

―――――――――――――――――――――
📚📖 देखें (Dekhein)
Bahare shariat, Jild 02, Hissa 16, Safah no. 50

Mannat ka sharayi hukm batayein


मन्नत का शरई हुक्म बताएं

Mannat ka sharayi hukm batayein


देखें, मन्नत का मतलब होता है नज़्र मानना और इससे किसी चीज़ को ख़ुद पर वाजिब कर लेना, और सबसे पहले ये बात याद रखें कि मन्नत दो तरह के होते हैं
मन्नते शरई_ यानी वो मन्नतें जो शरई हैं और इनको मानने से वो अमल खुद पर करना वाजिब हो जाता है, जैसे मन्नत में रोज़ा, नमाज़, नफ़्ली हज, नफ़्ली उमरह वगैरह,
मन्नते उर्फ़ी_ यानी वो मन्नतें जो शरई तो नही हैं लेकिन जाएज़ हैं जैसे मज़ार की हाज़िरी और नज़र व नियाज़, लंगर करना, और कुछ लोग चादर चढ़ाने की मन्नत मानते हैं तो याद रहे किसी मज़ार पर जब तक एक चादर सही है तो दूसरी चादर चढ़ाना फ़ुज़ूल है इस लिए बेहतर है कि वो रक़म किसी ग़रीब या ज़रूरतमंद को दे दें,

और हमें हमेशा मन्नते शरई का एहतिमाम करना चाहिए कियूंकि इसमे आसानी है, और जाएज़ काम मे ही मन्नत मनना चाहिये, बाक़ी रब की रिज़ा और हिकमत पर राज़ी रहें कि वो बेहतर जानने वाला बड़ा हिकमत वाला है,

नजाएज़ मन्नत
कुछ लोग मन्नत के नाम पर ख़ुराफ़ात चीज़ें मानते हैं, जैसे_ मर्द या लड़कों के कान नाक छेदना, कान में बाला बूंदी पहनना, मर्दों या लड़कों के बड़े बड़े बाल रखना, चूड़ा कंगन धागा पहनना, कुछ लोग बच्चों फक़ीर बनाते है या भींख मंगवाते हैं, मुहर्रम में शेर बनना या नाचना, खड़े पीर का रोज़ा रखना, इस तरह के तमाम मन्नत जिनकी कोई असल नही और शरीअत के खिलाफ हैं तो ये सब नजाएज़ व हराम हैं, और ऐसे मन्नत मन्नत भी नही और इनको को पूरा करना ज़रूरी भी नही और न ही इजाज़त है, वरना जो करेगा सब लोग गुनाहगार होंगे,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

dekhen, mannat ka matlab hota hai nazr manna aur isse kisi cheez ko khud par wajib kar lena, aur sabse pahle ye baat yaad rakhen ki mannat do tarah ke hote hain
mannate sharyi_ yani wo mannaten jo sharayi hain aur inko manne se wo amal khud par karna wajib ho jata hai, jaise mannat mein roza, namaz, nafli haj, nafli umrah wagairah,
mannate urfi_ yani wo mannaten jo sharayu to nahi hain lekin jaez hain jaise mazar ki haziri aur nazar o niyaaz, langar karna, aur kuchh log chadar chadhane ki mannat mante hain to yaad rahe kisi mazar par jab tak ek chadar sahi hai to dusri chadar chadhana fuzool hai is lie behtar hai ki wo raqam kisi gareeb ya zaruratmand ko de den,

aur hamen hamesha mannate sharayi ka ehtimaam karna chahie Qki isme asani hai, aur jayez kaam me hi mannat manna chahiye, baqi rab ki riza aur hikmat par razi rahen ki wo behtar janne wala bada hikmat wala hai,

najayez mannat
kuchh log mannat ke naam par khurafat chizen mante hain, jaise_ mard ya ladkon ke kaan naak chhedna, kaan mein bala bundi pahanna, mardon ya ladkon ke bade bade baal rakhna, chooda kangan dhaga pahanna, kuchh log bacchon faqeer banate hai ya bheenkh mangwate hain, muharram mein sher banna ya nachna, khade peer ka roza rakhna, is tarah ke tamam mannat jinki koi asal nahi aur shariat ke khilaf hain to ye sab najayez o haram hain, aur aise mannat mannat bhi nahi aur inko ko pura karna zaruri bhi nahi aur na hi ijazat hai, warna jo karega sab log gunahgar honge,