Mannat ka sharayi hukm batayein


मन्नत का शरई हुक्म बताएं

Mannat ka sharayi hukm batayein


देखें, मन्नत का मतलब होता है नज़्र मानना और इससे किसी चीज़ को ख़ुद पर वाजिब कर लेना, और सबसे पहले ये बात याद रखें कि मन्नत दो तरह के होते हैं
मन्नते शरई_ यानी वो मन्नतें जो शरई हैं और इनको मानने से वो अमल खुद पर करना वाजिब हो जाता है, जैसे मन्नत में रोज़ा, नमाज़, नफ़्ली हज, नफ़्ली उमरह वगैरह,
मन्नते उर्फ़ी_ यानी वो मन्नतें जो शरई तो नही हैं लेकिन जाएज़ हैं जैसे मज़ार की हाज़िरी और नज़र व नियाज़, लंगर करना, और कुछ लोग चादर चढ़ाने की मन्नत मानते हैं तो याद रहे किसी मज़ार पर जब तक एक चादर सही है तो दूसरी चादर चढ़ाना फ़ुज़ूल है इस लिए बेहतर है कि वो रक़म किसी ग़रीब या ज़रूरतमंद को दे दें,

और हमें हमेशा मन्नते शरई का एहतिमाम करना चाहिए कियूंकि इसमे आसानी है, और जाएज़ काम मे ही मन्नत मनना चाहिये, बाक़ी रब की रिज़ा और हिकमत पर राज़ी रहें कि वो बेहतर जानने वाला बड़ा हिकमत वाला है,

नजाएज़ मन्नत
कुछ लोग मन्नत के नाम पर ख़ुराफ़ात चीज़ें मानते हैं, जैसे_ मर्द या लड़कों के कान नाक छेदना, कान में बाला बूंदी पहनना, मर्दों या लड़कों के बड़े बड़े बाल रखना, चूड़ा कंगन धागा पहनना, कुछ लोग बच्चों फक़ीर बनाते है या भींख मंगवाते हैं, मुहर्रम में शेर बनना या नाचना, खड़े पीर का रोज़ा रखना, इस तरह के तमाम मन्नत जिनकी कोई असल नही और शरीअत के खिलाफ हैं तो ये सब नजाएज़ व हराम हैं, और ऐसे मन्नत मन्नत भी नही और इनको को पूरा करना ज़रूरी भी नही और न ही इजाज़त है, वरना जो करेगा सब लोग गुनाहगार होंगे,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

dekhen, mannat ka matlab hota hai nazr manna aur isse kisi cheez ko khud par wajib kar lena, aur sabse pahle ye baat yaad rakhen ki mannat do tarah ke hote hain
mannate sharyi_ yani wo mannaten jo sharayi hain aur inko manne se wo amal khud par karna wajib ho jata hai, jaise mannat mein roza, namaz, nafli haj, nafli umrah wagairah,
mannate urfi_ yani wo mannaten jo sharayu to nahi hain lekin jaez hain jaise mazar ki haziri aur nazar o niyaaz, langar karna, aur kuchh log chadar chadhane ki mannat mante hain to yaad rahe kisi mazar par jab tak ek chadar sahi hai to dusri chadar chadhana fuzool hai is lie behtar hai ki wo raqam kisi gareeb ya zaruratmand ko de den,

aur hamen hamesha mannate sharayi ka ehtimaam karna chahie Qki isme asani hai, aur jayez kaam me hi mannat manna chahiye, baqi rab ki riza aur hikmat par razi rahen ki wo behtar janne wala bada hikmat wala hai,

najayez mannat
kuchh log mannat ke naam par khurafat chizen mante hain, jaise_ mard ya ladkon ke kaan naak chhedna, kaan mein bala bundi pahanna, mardon ya ladkon ke bade bade baal rakhna, chooda kangan dhaga pahanna, kuchh log bacchon faqeer banate hai ya bheenkh mangwate hain, muharram mein sher banna ya nachna, khade peer ka roza rakhna, is tarah ke tamam mannat jinki koi asal nahi aur shariat ke khilaf hain to ye sab najayez o haram hain, aur aise mannat mannat bhi nahi aur inko ko pura karna zaruri bhi nahi aur na hi ijazat hai, warna jo karega sab log gunahgar honge,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s