Sone ks aadab batayen


सोने के आदाब बताएं

Sone ks aadab batayen


सोने का मुस्तहब तरीक़ा ये है कि बाताहरत हो कर वुज़ू से सोयें, पहले बिस्तर को झाड़ कर बिछाएं, और साथ ही साफ सुथरे बिस्तर पर सोयें, अब सबसे पहले सोने की दुआ पढ़ें, और किबला की तरफ रुख़ करके दाएं करवट पर लेटें और अपने दाएं हाथ को रुख़सार के नीचे रखें, फिर उसके बाद करवट बदलें, सोते वक्त किसी से बात ना करें और न ही इधर उधर की बात सोचें, बल्कि तस्बीह व दूरूद का विर्द करते हुए सोयें, सोने से पहले तौबा इस्तग़फ़ार कर के सोयें,

▪️ ख़्याल रहे
▪️पेट के बल सोना जहन्नमियों का तरीका है,
▪️इस तरह से सोना की चित लेट कर एक पांव को खड़ा कर ले और उसके ऊपर दूसरे पांव को रखे ये अगर सतर खुलने के डर है तो सोना मना है, और पैर लंबे कर के पंजे को पंजे के ऊपर रखने में कोई हर्ज नही,
▪️फ़ज़र की नमाज़ के बाद व दिन के इब्तेदायी वक़्त (सुबह) के वक़्त सोना मना है, और मग़रिब व ईशा के दरमियान सोना मकरूह है,
▪️असर और मग़रिब के दरमियान में सोने से अक़्ल ज़ाएल (मजनून) होने का अंदेशा होता है,
▪️दोपहर में खाना खाने के बाद थोड़ी देर आराम करना (क़ैलूला) मुस्तहब है, और रात को खाना खाने के तुरंत बाद ना सोयें,
▪️ऐसी छत पर सोना जिस पर रोक (बाउंडरी) नही हो तो मना है, और एक दम तन्हा सोने से भी मना फ़रमाया गया है
▪️ईशा की नमाज़ के बाद से सोने तक फालतू के बात करना मकरूह है, हां ये की इल्मी गुफ़्तगू की जाए, या मवानेसत (यानी मिया बीवी में या मेहमान के उन्स के लिए बात करना जाएज़ है) पर फालतू बातें कर के जागना मना है,
▪️जब लड़का या लड़की की उम्र दस साल हो जाये तो उन्हें अलग सुलाया जाए, यानी जब लड़का इतना बड़ा हो जाये तो मां या बहन या किसी औरत के साथ न सोये,
▪️ऐसे छोटे कपड़े जिसको आज कल लड़के या लड़की पहन कर सोते है ये हराम है,
▪️सोते वक्त न कुछ खाएं और न ही पियें, इससे बहुत सी बीमारी होती है
▪️सुबह उठ कर सबसे पहले जागने की दुआ पढ़ें, और बिस्तर को समेट कर रखें,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

sone ka mustahab tariqa ye hai ki ba’taharat ho kar wuzu se soyen, pahle bistar ko jhaad kar bichhaen, aur sath hi saf suthre bistar par soyen, ab sabse pahle sone ki dua padhen, aur qibla ki taraf rukh karke daen karwat par leten aur apne daen hath ko rukhsaar ke niche rakhen, phir uske baad karwat badlen, sote waqt kisi se baat na karen aur na hi idhar udhar ki baat sochen, balki tasbeeh o durood ka wird karte hue soyen, sone se pahle tauba astgfaar kar ke soyen,

khayal rahe
▪pet ke bal sona jahannamiyon ka tariqa hai,
▪is tarah se sona ki chit let kar ek paon ko khada kar le aur uske upar dusre paon ko rakhe ye agar satar khulne ka dar hai to sona mana hai, aur pair lambe kar ke panje ko panje ke upar rakhne mein koi harj nahi,
▪fazar ki namaz ke baad aur din ke ibtedayi waqt (subah) ke waqt sona mana hai, aur magrib o isha ke darmiyan sona makrooh hai,
▪asar aur magrib ke darmiyan mein sone se aqal zael (majnoon) hone ka andesha hota hai,
▪dophar mein khana khane ke baad thodi der aaram karna (qailula) mustahab hai, aur raat ko khana khane ke turant baad na soyen,
▪aisi chhat par sona jis par rok (boundry) nahi ho to mana hai, aur ek dam tanha sone se bhi mana farmaya gaya hai
▪Isha ki namaz ke baad se sone tak faltu ke baat karna makrooh hai, haan ye ki ilmi guftagoo ki jae, ya mawanesat (yani miya biwi mein ya mehman ke uns ke lie baat karna jaez hai) par faltu baten kar ke jagna mana hai,
▪jab ladka ya ladki ki umar 10 saal ho jaye to unhen alag sulaya jae, yani jab ladka itna bada ho jaye to ma ya bahan ya kisi aurat ke sath na soye,
▪aise chhote kapde jisko aaj kal ladke ya ladki pahan kar sote hai ye haram hai,
▪️sote waqt na kuchh khayein na kuchh piyen, Qki isse bahut si bimari hoti hai
▪subah uth kar sabse pahle jagne ki dua padhen, aur bistar ko samet kar rakhen,

―――――――――――――――――――――
📚📖 देखें (Dekhein)
Bahare shariat, Jild 02, Hissa 16, Safah no. 50

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s