Bugz v Adawat

◈_ Dil ko jin bad tareen Amraaz se bachana zaroori he unme ek Bada Marz kisi se Keena aur Bugz rakhna he ,Iska Duniyavi nuqsaan to zahir he ke is Bugz v Adawat Kï Vajah se maamla kaha se kaha pahunch jata he, aur Deeni nuqsaan ye he ke Jab kisi se Bugz hota he to fir us par ilzamaat lagaye jate he’n, geebate Kï jati he’n ,Sazishe rachayi jati he Goya ke ek marz na Jane kitne Kitne marzo ki vajah ban jata he ,

◈_ Chunache Aap Hazrat Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya he:-”_ Har hafte me do baar Peer aur Jumeraat ke din (Allah Ta’ala ke darbaar me ) logo ke Amaal naame pesh kiye jate he’n, Pas Allah Ta’ala har imaan wale Shakhs Kï magfiat farmata he, Sivaye ese Aadmi ke Jiski doosre se Dushmani aur Bugz ho to keh diya jata he ke in dono ko abhi chhod do taki ye dono Sulah karle ,”

⚀•RєԲ: Kanzul Ummal ,3/187,

◈_ Aur Baaz Rivayaat me he ke Sha’baan Kï Pandrhvi Shab ko magfirat Kï jati he magar Keena parvar Kï is Raat me bhi magfirat Nahi hoti ,

⚀•RєԲ: Kanzul Ummal, 3/186,

◈_ Is liye Shariyat e islamiya ne Bugz v Adawat ke taqazo par Amal karne se nihayat sakhti se mana kiya he ,

⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 196,

दिल की हिफाजत कीजिए

बुग्ज़ व अदावत

★_ दिल को जिन बदतरीन अमराज़ से बचाना ज़रूरी है उनमें एक बड़ा मर्ज़ किसी से कीना और बुग्ज़ रखना है, इसका दुनियावी नुक़सान तो जाहिर है कि इस बुग्ज़ व अदावत की वजह से मामला कहां से कहां पहुंच जाता है और दीनी नुक़सान यह है कि जब किसी से बुग्ज़ होता है तो फिर उस पर इल्ज़ामात लगाए जाते हैं, गीबतें की जाती हैं, साजिशें रचाई जाती हैं गोया कि एक मर्ज़ ना जाने कितने कितने मर्ज़ों की वजह बन जाता है ।

★_ चुनांचे आप हजरत सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया है, “हर हफ्ते में दो बार पीर और जुमेरात के दिन (अल्लाह ताला के दरबार में) लोगों के आमाल नामें पेश किए जाते हैं, पस अल्लाह ताला हर ईमान वाले शख्स की मग्फिरत फरमाते हैं सिवाय ऐसे आदमी के जिसकी दूसरे से दुश्मनी और बुग्ज़ हो तो कह दिया जाता है कि इन दोनों को अभी छोड़ दो ताकि यह दोनों सुलह कर लें _,” ( कंजुल उम्माल-3 /187)

★_ और बाज़ रिवायात में है कि शाबान की 15वीं शब को मग्फिरत की जाती है मगर कीना परवर की इस रात में भी मग्फिरत नहीं होती_,” ( कंजुल उम्माल -3/ 186)

★_ इसलिए शरीयत ए इस्लामिया ने बुग्ज़ व अदावत के तक़ाज़ों पर अमल करने से निहायत सख्ती से मना किया है ।

📝 अल्लाह से शर्म कीजिए _196

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s