1 Zilhajj Aqd e Maula e kainat o Malika e do alam

Haider Hai Kulle Imaan Aur Kulle Ismat Zahra
Us Sar Pe Wafaa Ka Sehra
Is Sar Pe Hayaa Ka Sehra
Ye Shehazada Hai Aur Wo Shehazadi
Ali Ke Sath Hai Zahra Ki Shaadi
عليهم الصلاة والسلام
اللَّهُمَّ صَلِّ عَلَى سَيِّدِنَا مُحَمَّدٍ وَعَلَى آلِ سَيِّدِنَا مُحَمَّد

Hazrat Anas (RadiAllahu Ta’ala Anhu) Se Marwi Hai Ki RasoolAllah (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Masjid Me Tashrif Farma They Ki Aap (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Ne Hazrat Ali (عَلَيْهِ السَّلَام) Se Farmaya :

Yeh Jibra’il (عَلَيْهِ السَّلَام) Mujhe Bata Rahe Hain Ki Allah Ta’ala Ne Fatimah Se Tumhaari Shaadi Kar Dee Hai Aur Tumhare Nikaah Par Chaalis Hazaar 40,000 Firishton Ko Gawaah Ke Taur Par Majlis-E-Nikaah Me Sharik Kiya Gaya, Aur Shajaraha-E-Tooba Se Farmaya :
In Par Moti Aur Yaaqoot Nichhaawar Karo Phir Dilkash Aankhon Waali Hoorein Un Motiyon Aur Yaaqooton Se Thaal Bharne Lagi’n.
Jinhein (Taqrib-E-Nikaah Me Shirkat Karne Waale) Firishte Qayamat Tak Aik Doosare Ko Bataure Tahaa’if Deinge.

Subhan Allah


[Muhibb-ud-Deen Tabari Fi Al-Riyad-un-Nadarah Fi Manaqib-il-Ashrah, 03/146,

Muhibb Tabari Fi Dhakha’ir-ul-Uqba Fi Manaqib Dhaw-il-Qurba, 01/72,

Ghayat-ul-Ijabah Fi Manaqib-il-Qarabah,/94, 95, Raqqam-94.]

___________

Hazrat Maula Ali (KarramAllahu Ta’ala Waj’hah-ul-Karim) Se Riwayat Hai RasoolAllah (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ Ne Farmaya :
Mere Paas Aik Firishte Ne Aa Kar Arz Kiya :
Ya Muhammad (صلى الله عليه وآله وسلم)‎ !
Allah Ta’ala Ne Aap Par Salaam Bheja Hai Aur Farmaya Hai :
Mein Ne Aap Kee Beti Fatimah (سلام الله علیها) Ka Nikaah Mala-E-Aala Me Ali Bin Abi Talib (عليهم السلام) Se Kar Diya Hai, Pas Aap Zameen Par Bhi Fatimah Ka Nikaah Ali Se Kar Dein.

Subhan 💞 Allah


[Muhibb Tabari Fi Dhakha’ir-ul-Uqba Fi Manaqib Dhaw-il-Qurba, 01/73,

Ghayat-ul-Ijabah Fi Manaqib-il-Qarabah,/95, Raqam-95.]

हैदरع है कुल्ल ए ईमान ओर कुल्ल ए इस्मत है जेहराس उस सर पे वफ़ा का सेहरा इस सर पे हया का सेहरा, नूर का दूल्हा नूर की दुल्हन हक़ का शहज़ादा है हक़ की शहज़ादी, ना हुई क़ायनात में फ़ातेमाس जैसी शादी

💖img-20200722-wa00897973284850864102481.jpgimg-20200722-wa00912621067693968381004.jpgimg-20200722-wa00773135084820991749330.jpg

 

 

1st Zul Hajj
Yaum E Aqd E Dukhatar E Rasool صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم, Jigar Gosha E Rasool صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم , Shehzadi E Umm Ul Mominin Sayyidah Bibi Khadiza سلام اللہ علیہا, Madar E Hasnayn Karimain علیہما السلام, Tafseer E Kausar, Umme Abiha, Makhdooma E Kainat, Mujaddid E Aalam, Ummi E Sadaat E Ikram,
Sayyidah Tahira Aabida Zahida Pakiza Masooma Fatimah Zahra Al Batool سلام اللہ علیہا
و
Shehzada E Khwaja Abu Talib علیہ السلام, Sajjada Wa Janasheen E Rasool صلی اللہ علیہ وآلہ وسلم, Akhi E Rasool ع, Wasi E Rasool ع, Amir Ul Mominin, Imam Ul Muttaqin, Mazhar Ul Azayib Wal Gharaib, Noor Ul Mashariq Wal Magharib, Bab Ul Irfan, Sareh Sitta Wal Quran, Natiq E Quran, Imam Ul Mubeen, Kashif Ul Ramz Wal Asrar, Qasim Ul Faiz Wal Anwar, Asadullah E Ghalib, Abul Hasnain, Abu Turab, Huzoor Sayyiduna Murshiduna Maulana Imam Ali Ibne Abi Talib

जिल्हाज़ योम ए निकहा मौला ए क़ायनात ओर सय्यदा ए क़ायनात
हुज़ूर नबी ए करीम सल्लल्लाहो अलैहे वा आलेही वा सल्लम ने इरशाद फ़रमाया ऐ अली अल्लाह ने तुम्हारा निकाह फ़ातिमा से किया है इस निकाह का महेर ज़मीन को क़रार दिया है चुनांचे जो तुमसे बुग्ज़ रखते हुए ज़मीन पर चले तो उसका इस (ज़मीन) पर चलना हराम है

हवाला 📚📚👇👇
कुतुब ए अहलेसुन्नत
मुसनद उल फ़िरदोस 5/319

1 ज़िल्हिज (यौम ए निकाह)

अक़्द ए सय्यदा फ़ातिमा ज़हरा सलामुल्लाह अलैहा व सय्यदना अली ए मुर्तज़ा कर्रमअल्लाहो वजहुल करीम

ये मुबारक निकाह अल्लाह रब्बुल इज़्ज़त ने अर्श पे करवाया और अल्लाह के रसूल ने फ़र्श पे करवाया

हज़रत अनस रदिअल्लाहो अंहों से मरवी है कि हुज़ूर नबी ए अकरम सल्लल्लाहो अलैहे व आलेही व सल्लम मस्जिद में तशरीफ़ फ़रमा थे
हज़रत अली ए मुर्तज़ा कर्रमअल्लाहो वजहुल करीम से फ़रमाया : ये जिबरील हैं जो मुझे ख़बर दे रहे हैं के अल्लाह तआला ने सय्यदा फ़ातिमा से तुम्हारा निकाह कर दिया है और तुम्हारे निकाह पर मआला ए आला में 40,000 मुक़र्रब फ़रिश्तों को गवाह के तौर पर मजलिस ए निकाह में शरीक किया और शजरा ए तूबा से फ़रमाया इन पर मोती और याक़ूत बरसा, फिर दिलकश आंखों वाली हूरें उन मोतियों और याक़ूत से थाल भरने लगीं जिन्हें (तक़रीब ए निकाह में शिरकत करने वाले) फ़रिश्ते क़यामत तक एक दूसरे को बतौर तोहफ़ा देते रहेंगे

एक दूसरी रिवायत में हैं कि शजरे तूबा ने अल्लाह के हुक्म से उन 40,000 मुक़र्रब फ़रिश्तों पर अपने पत्तों की बारिश की थी उन पत्तों को फ़रिश्ते त-क़यामत तक एक दूसरे को दे कर इस मुबारक निकाह की मुबारकबाद देते रहेंगे और रोज़े महशर ये मुक़द्दस पत्ते फ़रिश्ते मुहिब्बाने अहलेबैत को दे देंगे ये मुक़द्दस पत्ते निजात का परवाना होंगे

📚 मुहिबुद्दीन तबरी रियाज़ उन नज़रा 3/146
📚 ज़ख़ीरूल उक़्बा फ़ी मनाक़िब ज़ाविल क़ुर्बा 72

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s