Qaul e Hazrat Ali Alahisalam..hindi

दोस्त वह है जो अपने दोस्त का हाथ
परेशानी और तंगी में पकड़ता है
मौला अली ,

फरमाने मौला अली a.s

जब मेरी दुआ कुबूल होती है तो मैं खुश होता हूं क्यों के ईसमें मेरी मरज़ी है और जब कुबूल नहीं होती तो मैं और भी खुश होता हूं क्यों के उसमें अल्लाहकी मरज़ी है.

बद तरीन दोस्त वह है ,
जो
तुम को गलत काम पे राज़ी करे ,
मौला अली

अगर तुम हक़ ही को नहीं पहचानते हो तो क्या जानो के हक़दार कौन है और बातिल ही को नहीं जानते हो तो क्या जानो के बातिल परस्त कौन है!
*मौला अली अलैहिसलाम☝🏻*

लोगों पर एक ऐसा मुश्किल समय आने वाला है कि जब मालदार अपने माल में कंजूसी करेगा हालांकि उसे ऐसा करने से मना किया गया है। अल्लाह पाक ने कहा है, आपस में एक दूसरे को अपना माल देने को भूलो मत। उस ज़माने में बुरे लोग अधिक हो जाएँगे और अच्छे लोग अपमानित होंगे। और मजबूर व बेबस लोगों के साथ ख़रीद फ़रोख़्त की जाए गी जबकि आक़ा रसूल ए खुदा ﷺ ने मजबूर लोगों का माल सस्ते दामों में ख़रीदने को मना फ़रमाया है।

*मौला अली अलैहिसलाम☝🏻*
तुम्

हारा कोई शहर दूसरे शहर से अच्छा नहीं है। तुम्हारे लिए सब से अच्छा शहर वो है जो तुम्हारा बोझ उठाए (अर्थात जहाँ तुम्हारा रोज़गार हो)।

*मौला अली अलैहिसलाम*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s