Ek baar SubhanAllah, Allahu Akbar, La ilaha ilAllah kahne ki fazilat

Medina-HD-salafiaqeedah-Blogspot-com

Abu Hurairah Radi Allahu Aahu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sal-Allahu alaihi wasallam ne farmaya beshak Allah subanahu ne kalimat
mein se in chaar ko chun liya hai SubhanAllah Aur Alhamdulillah aur La ilaha ilallah aur Allahu Akbar
isliye jo bhi (ek baar) SubhanAllah kahega uske liye 20 nekiya likhi jayengi aur 20 gunah mita diye jayenge,
aur jo bhi Allahu Akbar kahega usko bhi waisa hi sawab milega , aur jo koi bhi (ek baar) Laa ilaha ilAllah kahega usko bhi waisa hi
sawab milega aur jo koi dil se Alhamdulillahi Rabbil Alamin kahega (yani zuban ke saath dil se bhi iska yakeen ho ki Tamam tarife
Allah ke liye hain aur wahi sare jahan ka palne wala hai) to uske liye 30 nekiya likhi jayegi aur 30 gunah mita diye jayenge
(Tashreeh : Yani ek baar SubhanAllah, Allahu Akbar, Laa ilaha ilAllah,Alhamdulillahi Rabbil Aalamin padhne par total 20+20+20+30 = 90
nekiya likhi jayegi aur 90 gunah mita diye jayenge In Sha Allah)
Masnad Ahmed, 7813-Sahih

✦ Abu Malik Ashari Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki Rasool-Allah Sallallahu Alaihi Wasallam ne farmaya Alhadulillah kahne se meezan
bhar jata hai, Tasbeeh (SubhanAllah) aur takbir (Allahu Akbar) se zameen aur aasman bhar jate hain
Sunan ibn Majah, Vol 1, 280-Sahih
—————-
✦ अबू हुरैरा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सल-अल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया बेशक अल्लाह सुबहानहु ने कलीमात में से इन चार को चुन लिया है सुबहानअल्लाह और अल्हम्दुलिल्लाह और ला ईलाहा इलअल्लाह और
अल्लाहू अकबर इसलिए जो भी (एक बार) सुबहानअल्लाह कहेगा उसके लिए 20 नेकिया लिखी जाएगी और 20 गुनाह मिटा दिए जाएँगे, और जो भी अल्लाहू अकबर कहेगा उसको भी वैसा ही सवाब मिलेगा ,
और जो कोई भी (एक बार) ला ईलाहा इलअल्लाह उसको भी वैसा ही सवाब मिलेगा और जो कोई दिल से अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन कहेगा (यानी ज़ुबान के साथ दिल से भी इसका यकीन हो की तमाम तारीफें अल्लाह के लिए हैं और
वही सारे जहाँ का पालने वाला है) तो उसके लिए 30 नेकियां लिखी जाएगी और 30 गुनाह मिटा दिए जाएँगे
(तशरीह : यानी एक बार सुबहानअल्लाह , अल्लाहू अकबर, ला ईलाहा इलअल्लाह और अल्हम्दुलिल्लाही रब्बिल आलमीन पढ़ने पर 20+20+20+30 = 90 नेकियां लिखी जाएगी और 90 गुनाह मिटा दिए जाएँगे ईन-शा-अल्लाह)
मसनद अहमद , हदीस 7813-सही

✦ अबू मलिक अशारी रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सलअल्लाहू अलैही वसल्लम ने फरमाया अलहम्दुलिल्लाह कहने से मीज़ान भर जाता है, तसबीह (सुबहान अल्लाह ) और तकबीर (अल्लाहू अकबर) से ज़मीन और
आसमान भर जाते हैं
सुनन इब्न माजा, जिल्द 1, 280-सही

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s