Humoral Pathology

muslimheritage.com-humoral-pathology-humoralpathology0

In turn, the mixture of the humours produces the uniform parts of the body (al-ʾaǧzāʾ al-mutašābiha), such as bones, nerves, muscles or veins. In its normal state, blood is red in colour, has no unpleasant smell, and is sweet to the taste. It is produced in the liver. Phlegm is a whitish discharge that is produced in the liver or in the stomach. The two biles were more hypothetical substances, and generated many disputes about their nature and functions. Yellow bile was generally understood as a foam produced during the formation of blood. It is bright red in colour and is light and pungent. Finally, black bile in its normal state is a sediment of blood, and is refined and bright. Health is understood as a balanced state between the four humours. Disease, on the other hand, can in most cases be explained by the excess of one or several humours, or by the corruption of one or several humours.

Arab physicians inherited the theoretical frame-work of humoral pathology from the Greeks, and especially from Hippocrates’ On the Nature of Man and Galen’s commentary. But they refined this theory in various ways, and also challenged it to a point. Modifications included the potential transformations of the humours into one another as well as the introduction of additional faculties to certain humours. Attempts to challenge humoral pathology remained marginal: for most Arabo-Islamic physicians, humoral pathology should be accepted as a given principle (Gutas 2003, 151). Nonethelesss, these attempts constituted breaches within the overall philosophical framework underlying Islamic medicine…

humoral-pthology-01

The Four Humours

humoral-pthology-02

Opening page of Ibn al-Tilmīdh’s Treatise on Bloodletting. Arundel Or. 10, f. 109v (Source)

According to the prevalent theory of humoral pathology, health results from a balance of the four humours, each of which has two of the four primary qualities, cold or warm, and dry or moist. Yet, there are also contributing factors outside the human body, or, to put it in contemporaneous terms, ‘outside human nature’. These contributing factors are called the six non-naturals (al-ashyāʾ ghayr al-ṭabīʿīya); they are:

1) the ambient air, that is, the environment;
2) food and drink, the things ingested;
3) sleeping and waking;
4) exercise and rest;
5) retention and evacuation, that is, urine, stool, constipation, but also sexual intercourse; and
6) the mental state, such as joy, sadness, fear, elation, apprehension and so on, often influenced by personal interactions.

The mental states, in particular, were the focus of many physicians’ attention. In the case of certain diseases, music, conversation, and light entertainment could be prescribed. Take melancholy as an example. This disease, caused by an excess of black bile and characterised by despondency, fear and delusions, reacted also to mental stimuli. Avicenna, for instance, recommended listing to music, pleasant conversations with friends, and intercourse with slave girls. In this, he followed a long tradition, going back to the Greek medic Rufus of Ephesus (fl. ca. D 100), who advocated a similar course of action.

Rishwat dene wala aur lene wala dono Malaoon

money-768x495

Hadees– Hazrat abdullah bin amr radiallahu ta’ala Anhum raavi hain ko Rasulallah sallallahu ta’ala alaihi wasallam ne rishwat dene wale aur rishwat lene wale dono par laanat farmayi.

(Mishkat Jild 2 safa 326)

Tabsara-kisi batil ko haq thahrane kisi haq ko baatil thahrane ke liye jo Raqan ya saman ko Liya diya jaye wah rishwat hai. Khwah usko mehnatana kah kar liya jaye ya inaam wa bakhshish kah kar liya jaye baharhal rishwat haram wa najaiz hai aur rishwat dene aur lene wale dono duniya wa akhirat me azaab ke haqdar hain. Aur dono par rahmate alam sallallahu ta’ala alaih wasallam ne lanat farmayi hai.  Lekin agar ape jayaz haq ko lene ke liye apne oopar se zulm dafa karne ke liye majburan kisi ko kuchh dena pade to dene wale par koi gunaah na hoga lekin lene wale se duniya wa akhirat me zarur muaakhza hoga. Kyuki haqime waqt par laazim hai ki har haq wale ko uska haq dilaye. Aur mazloom ko zulm se bachaye aur uska muaawza na le.

Huqumat mangne walo ko huqumat Na do

Hadees- Hazrat abu musa radiallah ta’ala anhu ka bayan hai ki mai aur mere chacha zaad bhai Nabi sallallhu ta’ala alaih wasallam ki khidmat me gaye to ek ne kaha ki ya rasulallah sallallahu ta’ala alaihi wasallam ap mujhe in baaz kaamo ka haqim bana dijiye jo apke zere huqumat hai aur dusre ne bhi yahi kaha to apne farmaya ki khuda ki kasam ham us shakhs ko haqim nahi banate jo huqumat ka talib aur harees ho. (mishkat Jild2 safa 320)

Tabsara

Huqumat ke kisi ohde ko talab karne wale wa lalchi ko wah ohda supurd kar dena bobot hi khatarnak hai isi liye huzur sallallahu ta’ala alaih wasallam ne kasam kha kar farmaya ki ham hukumat ke talib ya iska lalach rakhne wale ko kabhi hakim nahi banate. Balki jo is ohde se bhagta ho usko yah ohda supurd karte hain. Ki isme yakinan adl wa khair barkat ki taufik hogi. Chunanche baarah ka tajurba shahid hai. Ki jin logo ko talab karne par kou ohda diya gaya chuki isme iski nafsani khwahisho ka jazba tha. Isliye un logo ne apne ohdo ka najaiz fayda uthakar apne deen wa dayanat ka zibah kar dala.  Aur nizame huqumat ko tahas nahas kar dala aur jo log kisi ohde se bhagte rahe aur haqime waqt ne zabardasti koi ohda supurd kar diya to un logo ne ikhlas wa lillahiyat ke sath bohot acha kam kiya.

ALLAH pak ham sabko nek raah pe chalne ki taufeeq ata farmaye.  Achi bat aage btana bhi neki hai. masha ALLAH

हौज-ए-कौसर

☆हौज-ए-कौसर…!!

Astighfar

 

हौजे कौसर जो हमारे नबी-ए-करिम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) को दिया गया है हक है।,
उसकी लम्बाई एक महीना का रास्ता है और उतनी ही चौड़ाई है!,

उसके किनारे सोने के है उन पर मोती के कुब्बे बने है उसकी तह मुश्क की है।,
उसका पानी दुध से ज्यादा सफेद और शहद से ज्यादे मिठा है और मुश्क से ज्यादा खुश्बुदार है।,

जो उसका पानी एक बार पिएगा कभी
प्यासा न होगा।,
उसपर पानी पिने के बरतन सितारो से भी गिनती मे ज्यादा है।,
उसमे जन्नत से दो नाले गिरते है एक सोने का दुसरे चांदी का !,
📖(कानुने शरिअत, हिस्सा-1, पेज-23-24)

हदीस : रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया —

“जो शख्स अल्लाह और क्यामत के दिन पर ईमान रखता हो ओ अपने पड़ोसी (Neighbour) को तकलीफ न पहुंचाये,

और मै तुम्हे औरतों (women) के बारे भलाई की वसीयत
करता हुं क्योंकी, ओ पस्ली (Rib) से पैदा की गई है और पस्ली मे सबसे ज्यादा टेढ़ा (Crooked) उसके उपर का हिस्सा है।,

अगर तुम उसे सिधा करना चाहोगे तो उसे तोड़ डालोगे और उसे छोड़ दोगे तो ओ टेढ़ी (Crooked) ही बाकी रह जाएगी, इस लिए मै तुम्हे औरतों के बारे मे अच्छे सुलुक की वसीयत करता हुं।,

📖(बुखारी शरिफ, 67 किताब अल निकाह : 80, बाब अल वसा बिल नसाह)

हदीस : एक सहाबी ने अर्ज की,आए अल्लाह के नबी! (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) मेरे घर मे बरकत नही क्या करूं??”
आप (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया–

“अपने घर के दरवाजे पर पर्दा लगाओ, सहाबी ने ऐसा ही किया कुछ दिन बाद फिर आए अर्ज किया:-

“अब मेरे घर बहुत बरकत है! लेकीन पर्दे से क्या वास्ता??
रसुलल्लाह! (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया के, “आपके घर के पास से बेनमाजी गुजरते है उनकी
नहुसत घर पे पड़ती थी और बरकत निकल जाती थी”

 सोचो जिस घर मे ही बेनमाजी हो तो कैसे बरकत हो??,
प्यारे आका मुस्तफा (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया–
“जिस मोमीन बन्दे की आंखो से अल्लाह तआला के खौफ से आंसु टपक पड़े ख्वाह ओ आंसु मख्खी के सर के बराबर क्यों न हो तो अल्लाह तआला उस पर जहन्नम की आग हराम फरमा देगा….!!
📖 (इब्ने मजा’ किताब उल जोहाद, हदीस-4197)

सबक : बेनमाजी की नहुसत से घर की बरकत निकल जाती है….!!

फजाइल-ए-दुरूद: 10 रहमत और 10 गुनाह मुआफ,…!!

हदीस : हजरत अनस बिन मलिक (रजी अल्लाहु अन्हु) से रिवायत है कि,
रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया–

“जो शख्स मुझपर एक मर्तबा दुरूद भेजेगा तो अल्लाह तआला उस पर 10 मर्तबा रहमत भेजेगा और 10 गुनाह मुआफ होंगे और 10 दर्जा बुलंद होंगे।”

📖(सुनन अन नसाई, वो-1, नम्बर, 1300 (साहीह) दुरूद शरिफ,)

 अल्लाहुमा सल्ली अला मुहम्मद व अला आली मुहम्मद
कमा सलैता अला इब्राहीमा व अला आली इब्राहीमा इन्नका हमीदुम मजीद,

❇ अल्लाहुमा बारिक अला मुहम्मदीव व अला आली मुहम्मदीन कमा बाराक्ता अला इब्राहीमा व अला आली इब्राहीमा इन्का हमीदुम मजीद”,

🌀तर्जमा :
ऐ अल्लाह! सलामती और रहमत अता फरमा !!
नबी-ए-करिम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) पर और उनकी आल पर

जिस तरह तुने सलामती अता फरमाई इब्राहीम (अलैहीस्सलाम) पर और उनकी आल पर,..
बेशक तु बड़ी तारिफ वाला और बुजुर्गी वाला है!!

ऐ अल्लाह!! बरकत अता फरमा!!
नबी-ए-करिम (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) पर और उनकी आल पर

जिस तरह तुने बरकत नाजील फरमाई इब्राहीम (अलैहीस्सलाम) पर और उनकी आल पर,,
बेशक तु बड़ी तारिफ वाला और बुजुर्गी वाला है।…

हलाल तरिके की मेहनत से रोजी हासील किया करो

☆हलाल तरिके की मेहनत से रोजी हासील किया करो…!!

13731693_603958586440451_557245535381992138_n

☆हलाल तरिके की मेहनत से रोजी हासील किया करो…!!

हजरत अबु हुरैरा (रजी अल्लाहु अन्हु) से रिवायत है की,
रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमाया–

“अगर कोई शख्स लकाड़ीयों का गढ़्ढ़ा अपनी पिठ पर (बेचने) के लिए फिरे तो ओ उससे अच्छा है कि किसी के सामने हाथ फैलाए और ओ उसे कुछ दे या ना दें।…
📖(साहीह बुखारी, वो-3, 2374)

——-
सबक : यानी किसी के सामने हाथ फैलाने से
बेहतर है की हलाल तरिके की मेहनत से रोजी हासील किया जाए फिर चाहे लकाड़ीयों का गढ़्ढ़ा ही अपनी पिठ पर लेकर क्यों ना बेचना पड़े….!!

हजरत अब्दुल्लाह बिन उमर (रजी अल्लाहु अन्हु) से रिवायत है की,
रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने औरतों को मुखातिब करके फरमाया–
“ऐ औरतों की जमाअत! 

•तुम सदका दिया करो!
•और बहुत ज्यादा अस्तगफार किया करो क्योंकी मैनें
जहन्नम मे ज्यादा तदाद औरतों की देखी है।,
—-
 उनमे से एक अक्लमंद औरत बोली की या रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम)! औरतों को कसरत से जहन्नम मे जाने का क्या सबब है??
रसुलल्लाह (सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम) ने फरमायें– 

•औरत लेन-देन ज्यादा करती हैं।,
•और अपने शौहर की ना-शुक्री करती हैं।.

📖(सहीह मुस्लिम, वो-1, हदीस-241)