Nabi a.s Ne Dokhe Baaz Sahabiyo Ki Nishan Dehi Ki

*Nabi a.s Ne Dokhe Baaz Sahabiyo Ki Nishan Dehi Ki*

*Yala bin Sadad* apne walid se riwayt karte hai k …inke walid *Maviya Bin AbuSufiyan* ke pass dakhil hue waha *Umro bin Aash* bistar par tha…
*Shadad* in dono k Darmiyan baith gaye aur kaha……” *Tumhe maloom hai ki mai tum dono k Darmiyan kyu baitha hu..???* Maine Rasool s.a.w ko farmate suna…
*Jab tum Do ko ikhtte baithe dekho to in dono k Darmiyan judaee kar do*
*ALLAH KI QASAM Wo dono kisi se DHOKA karne k liye hi ikhtte hue hai* …mai pasand karta hu tumhare Darmiyan fark kar du ..

*Al Moazam Al Kabeer zild 5 page 243 Raqm 7015*

*नबी अ.स ने दोखेबाज़ सहबियों की निशान देही की*

*याला बिन शददाद* अपने वालिद से रिवायत करते हैं कि… इनके वालिद *मविया बिन अबुसुफियान* के पास दखिल हुए वहा *उमरो बिन आस* बिस्तर पर था…
हज़रात *शदाद* इन दोनो के दरमियान बैठ गए और कहा……” *तुम्हें मालूम है कि मैं तुम दोनो के दरमियान क्यों बैठा हूं..???* मैंने नबी अ. स को फरमाते सुना…
*जब तुम दो को इखट्टा बैठे देखो तो इन दोनो के दरमियान जुदाई कर दो*
*अल्लाह की कसम वो दोनो किसी से धोखा करने के लिए ही इखट्टा हुए हैं* … मैं पसंद करता हूं तुम्हारे दरमियान फ़र्क कर दूं..

*अल मोआज़म अल कबीर ज़िल्ड 5 पेज 243 रक़म 7015*