DIL KI HIFAZAT KIJIYE : Hirs

Hirs (Lalach)👇
हिर्स (लालच)👇

◈_ Jab Aadmi par Duniya Kï Muhabbat ka nasha chadhta he to Wo Hirs ka mareez ban jata he,Yani uske paas kitna hi maal v Daulat Jama ho jaye magar fir bhi Wo zyada ka talabgaar rehta he,

◈_ Janabe Rasulallah Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,:- ”_ Agar Aadmi ko Sone se bhari hui ek poori Vaadi bhi de Dï jaye to wo doosri vaadi ka talabgaar hoga aur agar doosri de di jaye to Wo teesri ka talabgaar hoga, Aur Aadmi ka pet to sirf mitti hi bhar sakti he (yani Marne ke baad is laalach ka silsila khatm hoga) aur Jo Tauba kare to Allah Ta’ala Uski Tauba qubool farmayega ,”

⚀•RєԲ: Bukhari Sharif, 2/953,

◈_ Ek doosri Rivayat me Aap Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya:- ”_ Aadmi bada ho jata he aur uske saath Uski Do khwahishe’n bhi badhti he’n, Ek MAAL Kï Muhabbat doosri Lambi Umar Kï Tamanna,”

⚀•RєԲ: Bukhari Sharif, 2/950,

◈_ Hirs ke marz ko khatm karne ke liye un ahadees ko saamne rakhna chahiye jinme Duniya Kï mazammat waarid hui he’n, Maslan ek Rivayat me he ke Nabi Kareem Sallallahu Alaihivasallam ne irshad farmaya,:- ”_Duniya Momin ke liye qaid khana he aur Kaafir ke liye Jannat he ,”

⚀•RєԲ: Muslim Sharif, 20/407,

◈_ Isi tarah ek aur Rivayat me Huzoor Sallallahu Alaihivasallam ka irshad he:- ”_ Jo Apni Duniya se lagaav rakhega Wo Apni Aakhirat ka nuqsaan karega Aur Jo Apni Akhirat pasand karega Wo apni Duniya ganwayega, Lihaza fana hone wali Duniya ke muqable me baqi rehne wali Aakhirat ko tarjeeh do ,”

⚀•RєԲ: Mishkaat Sharif, 2/441,

◈_ isi tarah Hirs ko khatm karne ke liye ye Yaqeen bhi rakhna chahiye ke Allah Ta’ala ne hamara rizq pehle se hi matayyan kar diya he, Wo Hame baharhal mil kar rahega aur hamari Maut us waqt tak nahi aa sakti jab tak ke ham apne muqaddar ke har har luqme ko na hasil karle ,

_ Hamesha Apne se niche darje walo par Nazar rahe ,taki Shukr ka jazba bhi Ata ho ,

⚀•RєԲ:➻┐Allah se Sharm Kijiye, 163,

दिल की हिफाजत कीजिए

हिर्स (लालच)

★_ जब आदमी पर दुनिया की मोहब्बत का नशा चढ़ता है तो वह हिर्स का मरीज़ बन जाता है यानी उसके पास कितना ही माल व दौलत जमा हो जाए मगर फिर भी वह ज़्यादा का तलब गार रहता है।

★_ जनाब ए रसूलुल्लाह सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- आदमी को सोने से भरी हुई एक पूरी वादी भी दे दी जाए तो वह दूसरी वादी का तलबगार होगा और अगर दूसरी दे दी जाए तो वह तीसरी का तलबगार होगा और आदमी का पेट तो सिर्फ मिट्टी ही भर सकती है (यानी मरने के बाद इस लालच का सिलसिला खत्म होगा) और जो तौबा करें तो अल्लाह ताला उसकी तौबा क़ुबूल फरमाएगा _,” (बुखारी शरीफ- 2/ 953)

★_ एक दूसरी रिवायत में आप सल्लल्लाहू अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया:- आदमी बड़ा हो जाता है और उसके साथ उसकी दो ख्वाहिशें भी बढ़ती है, एक माल की मोहब्बत दूसरी लंबी उम्र की तमन्ना _,” (बुखारी शरीफ – 2/950)

★_ हिर्स के मर्ज़ को खत्म करने के लिए उन अहादीस को सामने रखना चाहिए जिनमें दुनिया की मज़म्मत वारिद हुई हैं, मसलन एक रिवायत में नबी करीम सल्लल्लाहू अलैहि वसल्लम ने फरमाया:- दुनिया मोमिन के लिए कै़दखाना है और काफ़िर के लिए जन्नत है _,” (मुस्लिम शरीफ- 20/407)

★_ इसी तरह एक और रिवायत में हुजूर सल्लल्लाहू अलैही वसल्लम का इरशाद है:- जो अपनी दुनिया से लगाव रखेगा वो अपनी आखिरत का नुक़सान करेगा और जो अपनी आखिरत पसंद करेगा वह अपनी दुनिया गवाएगा, लिहाज़ा फना होने वाली दुनिया के मुक़ाबले में बाक़ी रहने वाली आखिरत को तरजीह दो_,” (मिशकात शरीफ-2/441 )

★_ इसी तरह हिर्स को खत्म करने के लिए यह यक़ीन भी रखना चाहिए कि अल्लाह ताला ने हमारा रिज़्क पहले से ही मुतय्यन कर दिया है, वह हमें बहरहाल मिल कर रहेगा और हमारी मौत उस वक्त तक नहीं आ सकती जब तक कि हम अपने मुकद्दर के हर हर लुक़में को ना हासिल कर लें _,

“हमेशा अपने से नीचे दर्जें वाले पर नज़र रहे ताकि शुक्र का जज़्बा भी अता हो ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s