Naad e Ali hindi mein

नादे अली
जब खैबर की जंग फतह नजर ना आई और लश्करे इस्लाम में मायूसी फलने लगी तो हज़रत जिब्रिल नाज़िल हुऐ और रसूलल्लाहﷺ की खिदमत में अर्ज किया की “अल्लाह आप को सलाम कहता है और फरमाता है कि या तो में फरिश्तों की फौज़ भेज दूं और तुम्हारे लिए जंग फतह करू या फिर अली को मदद के लिए बुलाये” रसूल ऐ अकरम ने फरमाया “में अली को अख्तियार करता हूं” तो जिब्रिल ने कहा अच्छा आप अली को अख्तियार करते है तो फिर कह दीजिये
“नादे अली यम मजहरुल अजाईबे
तजहिदु ओनलका फिन नवाईबे
कुल्लि हम्मीमव व गममीन शयनजली
बे अजमतेका या अल्लाहो
बे नबुवतेका या मोहम्मद सल्ललाहो अलेही वस्सलम
बे विलायतेका या अलीयो अलीयो या अलीयो”
ऐ रसूल अली को पुकारो जिससे अजाईबात जाहिर होते है तुम उन को हर मुसीबत में अपना मददगार पाओगे तुम्हारी सारी दुख परेशानी दूर हो जायेगी अली की मदद से अली की मदद से अली की मदद से

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s