Hadeeth Auliya Allah ke Qurb me Raho

🌹Hadees e Paak🌹
Auliya Allah ke Qurb me Raho

Hazrat Anas Bin Malik رضي الله عنه Riwayat Karte Hai Nabi صلی اللہ علیہ وسلم Ne Irshad Farmaya Auliya ALLAH Se Apni Jaan Pehchaan Rakha Karo Unse Qareeb Hojaya Karo Jis Wali Se Tum Qurb Haasil Karoge Woh ALLAH Ka Wali Roz E Qayamat Tumhari Shafat Karega.

📚(Imam Dailmee Ne Musanad Ul Firdous Jild 1 Hadees 2051 Safa 81)

ALCOHAL MILI HUI DAWA

ALCOHAL MILI HUI DAWA

Sawal: Aisy Adwiyat(Dawai) ka kya hukm hai jisme Alcohol ki kuch miqdaar payi jaaty hai?

Alhmdulillah..

Pahla: Dawa ko alcohol yaani sharaab ke sath milana jayez nahi hai, kyunke sharab ko baha kar zaa’e kar dena zaroory hai.

Abu sa’eed r.z. kahte hai, “Hamare paas ek yateem bacche ki sharab thy, Aur jis waqt surah ma’idah ki aayat (sharab ki hurmat ke baare me) Nazil hui to maine Rasool ѕαℓℓαℓℓαнυ αℓαyнє ωαѕαℓℓαм se istefsaar kia, aur ye bhi batlaya ke wo kisi yateem ki hai, to aap ѕαℓℓαℓℓαнυ αℓαyнє ωαѕαℓℓαм ne farmaya: Ise bhi undael (bahaa) do.
Tirmizi hadith-1263.
Sheikh Albani ne ise Sahih Tirmizi me sahih qaraar diya hai.

Dusra: Agar dawa ko alcohol me mila diya gaya ho, aur is alcohol ki miqdaar itny zyada ho ke dawa nasha aawar ban jaye to ye sharab hai, Jise peena haram hai, Aur agar alcohol ki miqdaar boht hi thodi hai ke is se nasha na chade to fir is dawa ka istemaal jayez hai.

Fatawa Al Lajnah Ad Daa’imah (22/110) me hai ke: “Nasha awar alcohol ko Dawa me shamil karna jayez nahi hai, aur agar Dawai me alcohol ko shamil kar diya gaya hai, aur zyada miqdaar me ye adwiyaat istemaal karne se nasha aata ho to aisy adwiyaat ka nusqa likh kar dena aur inhe istemal karna dono najayez hai, Chahe iski miqdaar thody ho ya zyada, Aur agar bhut zyada miqdaar me in adwiyaat ke istemal par bhi nasha nahi aata to aisy adwiyaat ka nusqa likh kar dena istemal karna jayez hai.” End Quote.

Shaikh Ibn e Uthaimeen r.h. kahte hai: “Kuch Dawa me alcohol paya jata hai, To agar is dawa ke istemal se insaan ko nasha chadhe to is dawa ka istemaal haraam hoga, aur agar is ka asar wazeh na ho, balke alcohol ko dawa mehfooz banane ke liye istemal kiya jaye to aisy surat me koi harj nahi, Kyun ke alcohol ka is me koi asar nahi hai.”

Liqa’at al baab al maftooh ( 3/231).

WALLAHU ALAM.

Allah se dua hai ki hame halal shifa ata kare. aameen

जानवरों का बयान

————————﷽———————-*जानवरों का बयान*
❉━━✠✥✠━━❆❆━━✥✠✥━━❉

*🌹👉 सवाल-* हुज़ूरे अनवर सल्ललाहो तआला अलैह वसल्लम ने कितने जानवरों को मारने की ताकीद फरमाई है?
जवाब- छः किस्म के जानवरों को मारने की ताकीद फरमाई है
👉🏻 (1) काटखाने वाला कुत्ता
👉🏾 (2) चूहा
👉🏾 (3) बिच्छू
👉🏻 (4) चील
👉🏾 (5) कव्वा
👉🏾 (6)सांप।
📕 (फ़तावा रिज़विया जिल्द 10 निस्फ अव्वल सफ़्हा 100)

*🌹👉 सवाल-* क्या जानवरों में भी फ़ासिक होते है?
*🌸👉🏻 जवाब-* हाँ हदीस शरीफ में कुछ जानवरों को फ़ासिक कहा गया है जैसे कव्वा,चील,चूहा,बिच्छू,कटखना कुत्ता छिपकली वगैरह।
📕 (मुस्लिम शरीफ़ जिल्द 1 सफ़्हा 318)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा परिन्दा है जिसकी उम्र एक हज़ार साल तक होती है?
*🌸👉🏻 जवाब-* गिध्द।
📕 (हयातुल हैवान जिल्द 2 सफ़्हा 349)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा जानवर है जो आगे-नमरूद को *(जिस में हज़रत इब्राहिम अलैहिस्सलाम डाले गये थे)* अपने मुँह में पानी लेकर बुझा रहा था?
*🌸👉🏻 जवाब-* मेंढक।
📕 (हयातुल हैवान जिल्द 2 सफ़्हा 86)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा परिन्दा है जो आतिशे नमरूद में अपनी चौंच से पानी का कतरा डाल रहा था ताकि आग बुझ जाऐ और अल्लाह के खलील को नुक़सान न पहुँचे?
*🌸👉🏻 जवाब-* हूद हूद।
📕 (हयातुल हैवान जिल्द 2 सफ़्हा 86)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा परिन्दा है जो ज़मीन के अन्दर का पानी ऊपर से देखकर बता देता है कि यहाँ पानी इतने फिट पर निकलेगा?
*🌸👉🏻 जवाब*- हूद हूद।
📕 (कुरान-ए-मुकद्दस सूरऐ नमल)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा परिन्दा है जो हज़रत सुलैमान अलैहिस्सलाम के पास ख़बर लाया था कि यमन की हुकमराँ एक औरत है?
*🌸👉🏻 जवाब-* हूद-हूद।
(कुरान-ए-मुकद्दस सूरऐ नमल)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा जानवर है जो आतिशे नमरूद में फूँक मार रहा था ताकि अल्लाह के खलील के लिए आग भड़क उठे और आपको तकलीफ़ पहुँचे?
*🌸👉🏻 जवाब-* वह जानवर गिरगिट या छिपकली है।
📕 (ख़ाज़िन जिल्द 4 सफ़्हा 244)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा परिन्दा है जो आदमी को नमाज़ के लिये बेदार करता है और अल्लाह के रसूल ने उसे बुरा कहने से मना फ़रमाया?
*🌸👉🏻 जवाब-* वह परिन्दा मुर्गा है।
📕 (मिश्कात शरीफ जिल्द 2 सफ़्हा 361)

*🌹👉 सवाल-* वह कौनसा जानवर है जो कभी पानी नहीं पीता?
*🌸👉🏻 जवाब-* शुतर मुर्ग और गोह।
📕 (हयातुल हैवान जिल्द 2 सफ़्हा 357)

*🌹👉 सवाल-* कौनसा परिन्दा अल्लाह का लश्कर है?
*🌸👉🏻 जवाब-* टिड्डी अल्लाह का लश्कर है उसके सीने पर यह इबारत लिखी हुई है ” *नहनु जुन्दल्लाहिल आज़म” (हम अल्लाह का अज़ीम लश्कर हैं)*।
📕 (हयातुल हैवान जिल्द 1 सफ़्हा 234)

*🌹👉 सवाल-* क्या जन्नत में जानवर भी दाखिल होंगे?
*🌸👉🏻 जवाब-* हाँ जन्नत में दस जानवर दाख़िल होंगे।
👉🏾 (1) हुजूरे अनवर सल्ललाहो तआला अलैह वसल्लम का बुराक,
👉🏾 (2) हज़रत सालेह अलैहिस्सलाम की ऊँटनी,
👉🏾 (3) हज़रत इब्राहिम अलैहिस्सलाम का बछड़ा,
👉🏻 (4) हज़रत इस्माईल अलैहिस्सलाम का मेंढा,
👉🏻 (5) हज़रत मूसा अलैहिस्सलाम की गाय,
👉 (6) हज़रत यूनुस अलैहिस्सलाम की मछली,
👉🏾 (7) हज़रत उज़ैर अलैहिस्सलाम का खच्चर,
👉🏾 (8) हज़रत सुलैमान अलैहिस्सलाम की चीटी,
👉 (9) बिलक़ीस का हूद-हूद,
👉 (10) असहाबेकहफ़ का कुत्ता।
📕 (अलइशबार वन्नज़ाइर व हमवी शरह इश्बार सफ़्हा 583)

*🌹👉 सवाल-* क्या इन जानवरों के इलावा भी कुछ जानवर जन्नत में दाख़िल होंगे?
*🌸👉🏻 जवाब-* हाँ जैसे मोर,घोड़ा,और वह जानवर जो देखने में खूबसूरत है या वह परिन्दा जिसकी आवाज़ सुरीली और अच्छी है या वह जानवर जिनका गोश्त जन्नतियों को पसन्द होगा पहले जन्नत की गिजा के वास्ते जन्नत में जाऐंगे।
📕 (तफ़सीर अज़ीज़ी पारा 30 सफ़्हा 63)

*🌹👉🏾 सवाल-* क्या कुछ जानवर जहन्नम में भी जाऐंगे?
*🌸👉🏻 जवाब-* हाँ वह जानवर जो मर्ज हैं जैसे साँप,बिच्छू,वगैरा जहन्नम में काफिरों को अज़ाब देने के लिये जाऐंगे उनको खुद कोई तकलीफ न होगी जिस तरह अज़ाब के फ़रिश्तों को कोई तकलीफ नहीं होती।
📕 (तफ़सीर अज़ीज़ी पारा 30 सफ़्हा 63/अलमलफूज जिल्द 4 सफ़्हा 80)

*🌹👉 सवाल-* बाकी जानवर कहाँ जाऐंगे?
*🌸👉🏼 जवाब-* मिट्टी कर दिये जाएंगे उनको मिट्टी होता देखकर काफिर कहेंगे काश हम भी उन्हीं की तरह मिट्टी हो जाते।
📕 (अलमलफूज जिल्द 4 सफ़्हा 80)

______________________________________
*📖 हदीसे पाक में है कि इल्म फैलाने वाले के बराबर कोई आदमी सदक़ा नहीं कर सकता।*
📕 (क़ुर्बे मुस्तफा,सफह: 100)
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
*सवाब की नीयत से पोस्ट शेयर करें*
*दुआओं 🤲🏻 में याद रखियेगा*
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Ameer Khusro R.A

🌹🌹🌹🌹🌹Urs Mubarak Hazrat Ameer Khusro R.A 🌹🌹🌹🌹🌹
Hazrat Ameer Khusro ki shakshiyat ek Karismati shakhsiyat thi aap museeqi main numaya the sher goyi main numaya the aur aapne Farsi Hindvi rekhta zuban main aapke masnavi ,gazaliyat , waighra kahin hai
*Hindavi* zuban ka bht hi behtreen kalam jo zayadatar logo ki zuban zad hai jisko Hazrat Ameer Khusro r.a ne tehrir farmaya
_**Zee haal e miskeen makun taghaful
duraye naina banaye batiyan
ki taab e hijran nadaram ay jaan
na leho kaahe lagaye chhatiyan_
**
Is ghazal main ek sher zuban e farsi ka hai aur dusra sher Hindavi zuban ka hai
Hazrat Ameer Khusro ne bht se cheezo ka zikr apne ashar main kiya hai hindustan ko hi jannat mana hai apni shayri main aur uski wajuhat bhi di hai aapne hindustan ki firhang adab o rusoom ko bhi bht jagah apne apne ashar ke zariye bataya hai aur uski latafat ko bhi bayan kiya hai
Ye shayar sufi,Khwaja Nizamuddin Auliya R.A se mureed the
Aur khwaja Nizamuddin Auliya r.a ne farmaya ki khuda agar mujhse puchega ki tum kya laaye ho to main Ameer Khusro ko pesh kar dunga
Silsila e chishtia main qaul e qalbana ki ijat bhi hazrat Ameer Khusro ne kari jo aksar qawwal hazrat mehfil e sama main parhte bhi hai
Hazrat Ameer Khusro ek hama jehat shakhsiyat ke hamil the aapne tabla sitar waighra ki ijat kiya hai
Maulana Abul Kalam Azad likhte hai *India has not produced in the last 700 years any talented and sublime scholar as Amir Khusaro*
Yani hindustan main 700 saal main aisi koi buzurg shakhsiyat paida nahi hui Amir Khusro jaise.
Haqiqat to ye bhi hai ki silsila e chishtiya main Amir Khusaro ki tarah aaj tak koi dusra shayar paida nahi hua.
Hazrat Ameer Khusro ne apne peer o murshid ki shan main bhi bht se ashar tehrir farmaye hai
*Rekhta* zuban ka bht hi acha sher hai kyuki rekhta zuban Delhi ke ilaqe main boli jane wali zuban thi
Khusrau darya prem ka, ulti wa ki dhaar,
Jo utra so doob gaya, jo dooba so paar
Hindustan ko Naaz hai is shayar par jinko *Tuti e Hind* kaha jata hai Aur aaj tak aisa hindustan main *kaseer ul lisan* shayar paida nahi hua hai jiski koi dusri misal hai aapki shayari kayi zubano main aur kayi mukhtalif ilaqo ki zubano ka zikr kiya hai aapne
Aap tamam Hazraat ko Hazrat Ameer Khusro R.A ka Urs Mubarak