Allah ki raza hasil karne aur narazgi se bachne ki dua

muhammed-salallah-o-salam-259x300

Bismilahirrahmanirrahim

✦ Allah ki raza hasil karne aur narazgi se bachne ki dua
———————
Aisha Radi Allahu anha se rivayat hai ki maine ek raat Rasool-Allah Sal-Alalahu alaihi wasallam ko bistar par mojud na paya to main unko dhundhne lagi (makan mein andhera tha) to mera haath aap ke qadmo ke talwo par ja padha aapke dono paanw khade they ( yani aap sajde ki halat mein they) aur aap ye dua farma rahe they

اللَّهُمَّ إِنِّي أَعُوذُ بِرِضَاكَ مِنْ سَخَطِكَ
وَبِمُعَافَاتِكَ مِنْ عُقُوبَتِكَ
وَأَعُوذُ بِكَ مِنْكَ
لاَ أُحْصِي ثَنَاءً عَلَيْكَ
أَنْتَ كَمَا أَثْنَيْتَ عَلَى نَفْسِكَ

Allahumma inni Audhu biridaka min sakhatika
wa bimu’afatika An Uqubatika,
Wa Audhu bika minka,
La uhsi sana’an Alaika,
Anta kama Asnayta Ala nafsika

✦ Ya Allah main panaah maangta hu tere razamandi ki teri narazgi se,
Aur teri aafiyat ki teri saza se,
aur main teri panah maangta hu tere azab se,
main teri tarif ka haq ada nahi kar sakta
to waisa hi hai jaisa tune khud apni tarif farmayee hai
Sunan Ibn Maja,Jild 3, 722-sahih

عائشہ رضی اللھ عنہا سے روایت ہے کی
میں نے ایک رات رسول اللہ صلی اللہ علیہ وسلم کو بستر پر موجود نہ پایا تو میں آپ کو ڈھونڈھنے لگی ( مکان میں اندھیرا تھا ) تو میرا ہاتھ آپ کے قدموں کے تلووں پر جا پڑا، دونوں پاؤں کھڑے تھے اور آپ ( حالت سجدہ میں ) یہ دعا کر رہے تھے:

اللَّهُمَّ إِنِّي أَعُوذُ بِرِضَاكَ مِنْ سَخَطِكَ وَبِمُعَافَاتِكَ مِنْ عُقُوبَتِكَ وَأَعُوذُ بِكَ مِنْكَ لاَ أُحْصِي ثَنَاءً عَلَيْكَ أَنْتَ كَمَا أَثْنَيْتَ عَلَى نَفْسِكَ

اے اللہ! میں پناہ مانگتا ہوں تیری رضا مندی کی تیری ناراضگی سے، اور تیری عافیت کی تیری سزا سے، اور میں تیری پناہ مانگتا ہوں تیرے عذاب سے، میں تیری تعریف کما حقہ نہیں کر سکتا، تو ویسے ہی ہے جیسے تو نے خود اپنی تعریف فرمائی ہے ۔
سنن ابن ماجہ جلد ٣ حدیث ٧٢٢ صحیح

“मौत के वक़्त की कैफियत”

mout

जब रूह निकलती है तो इंसान का मुंह खुल जाता है होंठ किसी भी कीमत पर आपस में चिपके हुए नहीं रह सकते, रूह पैर के अंगूठे से खिंचती हुई ऊपर की तरफ आती हैं जब फेफड़ो और दिल तक रूह खींच ली जाती है तो इंसान की सांस एक तरफा बाहर की तरफ ही चलने लगती है… ये वो वक़्त होता है जब चन्द सेकेंडो में इंसान शैतान और फरिश्तों को दुनिया में अपने सामने देखता है…। एक तरफ़ शैतान उसके कान के ज़रिये कुछ मशवरे सुझाता है तो दूसरी तरफ़ उसकी जुबान उसके अमल के मुताबिक़ कुछ लफ्ज़ अदा करना चाहती है… अगर इंसान नेक होता है तो उसका दिमाग उसकी ज़ुबान को कलमा ए शहादत का निर्देश देता है और अगर इंसान काफ़िर मुशरिक बद्दीन या दुनिया परस्त होता है तो उसका दिमाग कन्फ्यूज़न और एक अजीब हैबत का शिकार होकर शैतान के मशवरे की पैरवी ही करता है और इंतेहाई मुश्किल से कुछ लफ्ज़ ज़ुबान से अदा करने की भरसक कोशिश करता है…।

ये सब इतनी तेज़ी से होता है की दिमाग को दुनिया की फ़ुज़ूल बातों को सोचने का मौका ही नहीं मिलता इंसान की रूह निकलते हुए एक ज़बरदस्त तकलीफ़ ज़हन महसूस करता है लेकिन तड़प इसलिए नहीं पाता क्योंकि दिमाग को छोड़कर बाकी ज़िस्म की रूह उसके हलक में इकट्ठी हो जाती है और जिस्म एक गोश्त के बेजान लोथड़े की तरह पड़ा हुआ होता है जिसमे कोई हरकत की गुंजाइश बाकी ही नहीं रहती…। आखिर में दिमाग की रूह भी खींच ली जाती है आँखे रूह को ले जाते हुए देखती हैं इसलिए आखो की पुतलीयां ऊपर चढ़ जाती हैं या जिस सिम्त फ़रिश्ता रूह कब्ज करके जाता है उस तरफ़ हो जाती हैं…।

इसके बाद इंसान की ज़िन्दगी का वो सफर शुरू होता है जिसमे रूह तकलीफ़ो के तहखानो से लेकर आराम के महलो की आहट महसूस करने लगती है जैसा की उससे वादा किया गया है …जो दुनिया से गया वो वापस कभी नहीं लौटा …सिर्फ़ इसलिए क्योंकि उसकी रूह आलम ए बरज़ख में उस घड़ी का इंतज़ार कर रही होती है जिसमे उसे उसका ठिकाना दे दिया जाएगा ….इस दुनिया में महसूस होने वाली तवील मुद्दत उन रूहों के लिये चन्द सेकेंडो से ज़्यादा नही होगी भले ही कोई आज से करोड़ो साल पहले ही क्यों न मर चुका हो…।

मोमिन की रूह इस तरह खींच ली जाती है जैसे आटे में से बाल खींच लिया जाता है और गुनाहगार की रूह कांटेदार पेड़ पर पड़े सूती कपड़े को खींचने की तरह खींची जाती है…।

अल्लाह पाक हम सब को मौत के वक़्त कलमा-ए-हक़ नसीब फरमाकर आसानी के सात रुह कबज़ फ़रमा और उस वक़्त नबी-ए-करीम ﷺ का दीदार नसीब फरमा…।

आमीन या रब्बल आलमीन!

EXCELLENCE OF THOSE WHO HAVE PATIENCE

al-quran

The Holy Quran mentions excellence of those who have patience: .
♡ And indeed We shall give those who have patience such a reward which befits the best of their deeds. ♡
.
(Part 14, Surah An-Nahl, Ayah 96)
.
.
♡ Those who have patience will be paid their full reward, uncounted. ♡
.
(Part 23, Surah Az-Zumar, Ayah 10)
.

.
Worldly calamity and difficulty is often a great blessing for a Muslim.
.
It is stated: Allah عزوجل says,
.
‘When I want to have mercy on any bondman, I punish him in the world to give him the requital [i.e. return] for his wrongdoing, sometimes by inflicting him with diseases, by putting his family into some form of distress, sometimes by poverty and destitution; and if some of his sins still remain, then I subject him to severity at the time of death.
.
When he eventually meets Me, he is as free from sins as he was on the day when his mother gave birth to him.
.
I swear on My Honour and Glory, when I intend to punish someone, I give him the requital for his every virtue in the world; sometimes in the form of good physical health, sometimes by increasing his sustenance, sometimes by the well-being of his family; if some good deeds are still left, then I make death easy for him.
.
Thereafter, when he meets Me, none of his virtues is left to save him from hellfire.’
.
(Sharh-us-Sudoor, pp. 28)
.
● Do not boast of comforts! ●
.
Dear Islamic brothers!
.
If we have a car, a splendid house, good health, huge wealth and other comforts and luxuries, we should not boast of them but rather we should fear the Hidden Plan of Allah عزوجل , thinking that these comforts and luxuries might be the requital of our good deeds in the world and we might face severe torment in the Hereafter for our sins.
.
Similarly, in case of experiencing any illness, poverty, problem for our life, wealth or offspring, we should have patience, thinking that this problem might be a means of comfort in the Hereafter.
.
We pray to Allah عزوجل to grant us the goodness of both the worlds.
.
May Allah عزوجل grant us the privilege of remaining pleased with His will and having patience at the time of calamity; and may He protect us from complaining