कुरैश के दो सबसे बदकार कबीले बनी उमय्या और बनी मुगैरा है.

*कुरैश के दो सबसे बदकार कबीले बनी उमय्या और बनी मुगैरा है.*
✍️ हजरत क़ाज़ी सनाउल्लाह उस्मानी पानीपती रह० ने तफसीर-ए-मज़हरी में सूरह इब्राहीम की आयत 28 से 30 की तफसीर में लिखा है कि ‘हजरत उमर ने फरमाया कि कुरैश के दो सबसे बदकार कबीले बनी मुगैरा और बनी उमय्या थे। बनी मुगैरा के सर (यानि बला और फित्ने) से तो बद्र की लड़ाई में तुम्हारी हिफाज़त हो चुकी (यानि बद्र में इनका जोर टूट गया) और बनी उमय्या को एक वक्त तक मजे उड़ानें का मौका दिया गया है।
फिर आगे क़ाज़ी सनाउल्लाह पानीपती लिखते हैं कि- “मैं कहता हूं कि बनी उमय्या को हालते कुफ्र में मजे उड़ानें का मौका दिया गया, यहां तक कि अबू सुफियान, माविया और अम्र बिन आस वगैरह मुसलमान हो गयें फिर यजीद और इसके साथियों ने अल्लाह की नेमतों की नाशुक्री की और अहले-बैत की दुश्मनी का झंडा इन्होंने बुलंद किया, आखिर हज़रत ईमाम हुसैन को जुल्मन शहीद कर दिया और हजरत ईमाम हुसैन को शहीद कर चुका तो चंद अशआर (शेर) पढ़ें जिनका मजमून ये था “आज मेरे असलाफ (यानि पूर्वज या बाप-दादा) होते तो देखते कि मैंने आले मुहम्मद और बनी हाशिम से उनका कैसा बदला लिया।” *लानत बर यज़ीद और उसके पैरोकार पर*

kuraish ke do sabase badakaar kabeele banee umayya aur banee mugaira hai…
✍ hajarat qaazee sanaullaah usmaanee paaneepatee raha0 ne taphaseer-e-mazaharee mein soorah ibraaheem kee aayat 28 se 30 kee taphaseer mein likha hai ki hajarat umar ne pharamaaya ki kuraish ke do sabase badakaar kabeele banee mugaira aur banee umayya the. banee mugaira ke sar (yaani bala aur phitne) se to badr kee ladaee mein tumhaaree hiphaazat ho chukee (yaani badr mein inaka jor toot gaya) aur banee umayya ko ek vakt tak maje udaanen ka mauka diya gaya hai.
phir aage qaazee sanaullaah paaneepatee likhate hain ki- “main kahata hoon ki banee umayya ko haalate kuphr mein maje udaanen ka mauka diya gaya, yahaan tak ki aboo suphiyaan, maaviya aur amr bin aas vagairah musalamaan ho gayen phir yajeed aur isake saathiyon ne allaah kee nematon kee naashukree kee aur ahale-bait kee dushmanee ka jhanda inhonne buland kiya, aakhir hazarat eemaam husain ko julman shaheed kar diya aur hajarat eemaam husain ko shaheed kar chuka to chand ashaar (sher) padhen jinaka majamoon ye tha “aaj mere asalaaph (yaani poorvaj ya baap-daada) hote to dekhate ki mainne aale muhammad aur banee haashim se unaka kaisa badala liya.” *laanat bar yazeed aur usake pairokaar par*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s