Mayyt ko dafnana aur qabar ke adaab ke bare me batayein


मय्यत को दफ़नाना और क़बर के आदाब के बारे में बताएं

Mayyt ko dafnana aur qabar ke adaab ke bare me batayein


▪️मय्यत को दफ़न करना फर्ज़े किफ़ाया है,
▪️क़बर की लंबाई मय्यत के क़द के बराबर हो, और चौड़ाई आधे क़द के बराबर हो, और गहराई कम से कम आधे क़द के बराबर या पूरे क़द के बराबर, लेकिन मुतावासित दर्जा ये है कि सीने के बराबर हो,
▪️याद रहे क़बर दो तरह की होती हैं 01 लहद, 02 संदूक,
01 लहद- यानी बग़ली, इसमे किबला की तरफ अंदर में जगह खोदते हैं मय्यत को रखने के लिए, यह सुन्नत है,
02 संदूक- यानी हौज़ की तरह जो अमूमन बनाया जाता है और उसमे तख़्ता लगाया जाता है,
▪️क़बर में मय्यत रखने की जगह पर पक्की ईटें लगाना मकरूह है और चटाई वगैरह लगाना नजाएज़ है,
▪️मय्यत उतारने के लिए लिए दो या तीन जितने लोगों की ज़रूरत हो उतने लोग उतरे और नेक लोग हों,
▪️अगर कुछ नामुनासिब देखें तो ज़ाहिर न करें और अगर अच्छी चीज़ देखें तो चर्चा करें, ▪️औरत के मय्यत को उतारने वाले महारिम (महरम में से) या फिर दूसरे रिश्तेदार या परहेज़गार लोग हों, औरत के जनाज़ह को क़बर में उतारने से ले कर तख़्ता लगाने तक क़बर को कपड़े वगैरह से पर्दा कर के रखें,
▪️जनाज़ह को क़बर के किबला की तरफ रखें फिर मय्यत को उतारें, जनाज़ह उतरते वक़्त ये दुआ पढ़ें
بسم الله وبالله وعلى ملة رسول الله ﷺ
▪️मय्यत को क़बर में रखने के बाद उसका मुंह किबला की तरफ़ कर दें, कफ़न की बंदिश खोल दें कियूंकि अब ज़रूरत नही और अगर न खोल तो भी हर्ज नही,
अगर उल्टा लिटा दिए या मुंह किबला की तरफ़ करना भूल गए और तख़्ता लगाने के बाद तक याद आ गया तो तख़्ता हटा कर सही करें, और अगर मिट्टी देने के बाद याद आया तो रहने दें,
▪️अगर मय्यत को लहद में रखे हैं तो कच्ची ईंटों से बंद कर दें या तख़्ते भी लगा सकते हैं,
▪️मय्यत को क़बर में रखने के बाद तख़्ता लगाएं, तख़्ता सर की तरफ से लगाना शुरू करें,
▪️तख़्ता लगाने के बाद सर की तरफ से मिट्टी डालना शुरू करें,
सभी लोग तीन तीन बार मिट्टी डालें
पहली बार मिट्टी डालें तो ये पढ़ें
منها خلقنكم
दूसरी बार मिट्टी डालें तो ये पढ़ें
وفيها نعيدكم
तीसरी बार मिट्टी डालें तो ये पढ़ें
ومنهانخرجكم تارة اخرى
अब इसके बाद बाकी मिट्टी को खुरपी या फावड़े से डाल दें, जितनी मिट्टी क़बर से निकली है उतना ही डालें उससे ज़्यादा डालना मकरूह है,
▪️क़बर को चौकोन ना बनाएं बल्कि ढाल (ऊंट के कोहान) की तरह बनाएं, इसके बाद क़बर पर पानी छिड़कने में भी कोई हर्ज नही बल्कि बेहतर है, और अब हाथ मे लगी हुई मिट्टी को चाहे तो झाड़ लें या धो लें,
कुछ बातें
▪️क़बर को पुख़्ता न किया जाए
▪️कुछ लोग जब भी जाते हैं तो क़बर पर पानी डालते हैं ये सोच कर की इससे मुर्दे को फ़ायदा होगा तो ये बिलावजह है और इसका कोई फ़ायदा नही,
▪️क़अबर पर फूल वगैरह डालना जाएज़ है और इससे फायदा होता है कि जब तक वो सब्ज़ रहेंगे तस्बीह करेंगे इससे मुर्दे को सुकून मिलता है
▪️क़बर पर बैठना, सोना, चलना, पाख़ाना व पेशाब करना हराम है, क़ब्रों का अदब करना लाज़मी है किसी क़बर को रौंद कर न चलें, कब्रस्तान में जो नया रास्ता निकाला गया है उस पर चलना नजाएज़ है, कब्रस्तान में हसना फ़ुज़ूल की बात करने से बचना चाहिए,
▪️कब्रस्तान में जूते या चप्पल पहन कर ना जाएं बाहर ही उतार दें, और सबसे पहले सलाम करें इस तरह
السلام عليكم يااهل القبور
फिर फ़ातिहा वगैरह जो भी पढ़ना हो पढ़ें,
▪️क़बर पर जब भी जाएं तो पैर की तरफ से जा कर मय्यत के मुंह की तरफ खड़ा हो (यानी क़बर और किबला के बीच में), क़बर के सिरहाने की तरफ से कभी ना जाएं,
▪️अगर कोई क़बर खुल (धंस) जाए तो बगैर खोले दूसरी जगह से मिट्टी ला कर उसे ढंक दें, लेकिन दूसरी क़बर की मिट्टी न लें

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

▪mayyat ko dafan karna farze kifaya hai,
▪qabar ki lambayi mayyat ke qad ke barabar ho, aur chaudayi aadhe qad ke barabar ho, aur gahrayi kam se kam aadhe qad ke barabar ya poore qad ke barabar, lekin mutawasit darja ye hai ki sine ke barabar ho,
▪yaad rahe qabar do tarah ki hoti hain
01 lahad, 02 sandook,
01 lahad- yani bagali, isme qibla ki taraf andar mein jagah khodte hain mayyat ko rakhne ke lie, yah sunnat hai,
02 sandook- yani hauz ki tarah jo amooman banaya jata hai aur usme takhta lagaya jata hai,
▪qabar mein mayyat rakhne ki jagah par pakki eiten lagana makrooh hai aur chatayi wagairah lagana najaez hai,
▪mayyat utarne ke lie lie 2 ya 3 jitne logon ki zarurat ho utne log utare aur nek log hon,
▪agar kuchh namunasib dekhen to zahir na karen aur agar achhi cheez dekhen to charcha karen,
▪aurat ke mayyat ko utarne wale maharim (mahram mein se) ya fir dusre rishtedar ya parhezgar log hon, aurat ke janazah ko qabar mein utarne se le kar takhta lagane tak qabar ko kapde wagairah se parda kar ke rakhen,
▪janazah ko qabar ke qibla ki taraf rakhen phir mayyat ko utaren, janazah utarte waqt ye dua padhen
بسم الله وبالله وعلى ملة رسول الله ﷺ
▪mayyat ko qabar mein rakhne ke baad uska munh qibla ki taraf kar den, kafan ki bandish khol den Qki ab zarurat nahi aur agar na khola to bhi harj nahi,
agar ulta lita die ya munh qibla ki taraf karna bhool gae aur takhta lagane ke baad tak yaad aa gaya to takhta hata kar sahi karen, aur agar mitti dene ke baad yaad aaya to rahne den,
▪agar mayyat ko lahad mein rakhe hain to kacchi einton se band kar den ya takhte bhi laga sakte hain,
▪mayyat ko qabar mein rakhne ke baad takhta lagaen, takhta sar ki taraf se lagana shuru karen,
▪takhta lagane ke baad sar ki taraf se mitti dalna shuru karen,
sabhi log 3-3 baar mitti dalen
pahli baar mitti dalen to ye padhen
منها خلقنكم
dusri baar mitti dalen to ye padhen
وفيها نعيدكم
tisri baar mitti dalen to ye padhen
ومنهانخرجكم تارة اخرى
ab iske baad baki mitti ko khurpi ya fawde se daal den, jitni mitti qabar se nikli hai utna hi dalen usse zyada dalna makrooh hai,
▪qabar ko chaukon na banaen balki dhaal (unt ke kohan) ki tarah banaen, iske baad qabar par pani chhidakne mein bhi koi harj nahi balki behtar hai, aur hath me lagi huyi mitti ko chahe to jhad len ya dho len,
kuchh baten
▪qabar ko pukhta na kiya jae
▪kuchh log jab bhi jate hain to qabar par pani dalte hain ye soch kar ki isse murde ko fayda hoga to ye bilawajah hai aur iska koi fayda nahi,
▪qabar par phool wagairah dalna jaez hai aur isse fayda hota hai ki jab tak wo sabz rahenge tasbeeh karenge isse murde ko sukoon milta hai
▪qabar par baithna, sona, chalna, pakhana wa peshab karna haram hai, qabron ka adab karna lazmi hai, kisi qabar ko raund kar na chalen, qabrastan mein jo naya rasta nikala gaya hai us par chalna najaez hai, qabrastan mein hasna fuzool ki baat karne se bachna chahie,
▪Qabrastan mein joote ya chappal pahan kar na jaen bahar hi utar den, aur sabse pahle salam karen is tarah
السلام عليكم يااهل القبور
Fir fatiha wagairah jo bhi padhna ho padhen,
▪qabar par jab bhi jaen to pair ki taraf se ja kar mayyat ke munh ki taraf khada ho (yani qabar aur qibla ke beech mein), qabar ke sirhane ki taraf se kabhi na jaen,
▪agar koi qabar khul (dhans) jae to bagair khole dusri jagah se mitti la kar use dhank den, lekin dusri qabar ki mitti na len

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s