Mayyat ko gusl dene ka tariqa batayein


मय्यत को ग़ुस्ल देने का तरीक़ा बताएं

Mayyat ko gusl dene ka tariqa batayein


मय्यत को ग़ुस्ल देना फर्ज़े किफ़ाया है, लिहाज़ा चंद लोगों ने भी नहला दिया तो सब बरीउज़-ज़िम्मा हो गए,
सबसे पहले अगर हो तो बेरी के पत्ते से जोश किया हुआ पानी तैयार करें, अगर बेरी के पत्ते न हो तो फिर सादा नीम गर्म पानी ही इंतेज़ाम कर लें, और जहां पर नहलाना है वह पर पर्दा करें,
▪️ अब मय्यत को नहलाने का तरीक़ा देखें
अब सबसे पहले जिस चारपाई या तख़त पर नहलाना है उसे तीन पांच या सात बार धूनी दें, अब मय्यत को उस पर लिटा कर नाफ़ से ले कर गुठने तक किसी कपड़े से ढांक दें, फिर नहलाने वाला अपने हाथ पर कपड़ा लपेट कर पहले इस्तीनजा कराए, अब वुज़ू के जैसा हाथ पॉव धोएं (यानी मुंह, कोहनियों समेत हाथ, धोएं, और सर का मसह करें, फिर पॉव धोएं) अगर बने तो रुई वगैरह को भिगो कर दांतों मसूढ़ों और नथुनों पर फिरा दें, सर के बाल और दाढ़ी हो तो गुले ख़ैरु या किसी पाक साबुन से धो दें और अगर न हो तो सिर्फ पानी ही काफी है, फिर बायें करवट पर लिटा कर सर से पॉव तक पानी बहाएं की तख़्ता तक पहुंच जाए, और फिर दाहिनी करवट पर लिटा कर सर से पांव तक पानी बहाएं की तख़्ता तक पहुंच जाए, फिर टेक लगा कर बैठाएं और पेट पर हल्का हाथ फेरें अगर कुछ निकले तो साफ कर के धो दें दुबारा ग़ुस्ल देने की ज़रूरत नही, आखिर में सर से पांव तक काफ़ूर का पानी बहाऐं, फिर मय्यत के बदन को धीरे धीरे किसी कपड़े से पोंछ दें, एक बार सारे शरीर पर पानी बहने फ़र्ज़ है और तीन बार सुन्नत,
▪️ ध्यान दें
मर्द को मर्द ही ग़ुस्ल देंगे और औरत को औरत, अगर बीवी की मय्यत है तो शौहर ना ग़ुस्ल दे सकता है और न ही बिना कपड़े के हाएल के छू सकता है

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

mayyat ko gusl dena farze kifaya hai, lihaza chand logon ne bhi nahla diya to sab bariuz-zimma ho gae,
sabse pahle agar ho to bairy ke patte se josh kiya hua pani tayyar karen, agar bairy ke patte na ho to phir sada neam garam pani hi intezam kar len, aur jahan par nahlana hai wahan par parda karen,
ab mayyat ko nahlane ka tareeqa dekhen
ab sabse pahle jis charpayi ya takhat par nahlana hai use 3, 5 ya 7 baar dhooni den, ab mayyat ko us par lita kar naf se le kar guthne tak kisi kapde se dhank den, phir nahlane wala apne hath par kapda lapet kar pahle istinja karae, ab wuzu ke jaisa hath ponw dhoen (yani munh, kohniyon samet hath, dhoen, aur sar ka masah karen, phir panw dhoen) agar bane to ruyi bagairah ko bhigo kar danton masoodhon aur nathunon par phira den, sar ke baal aur dadhi ho to gule khairu ya kisi paak sabun se dho den aur agar na ho to sirf pani hi kafi hai, phir bayen. karwat par lita kar sar se panw tak pani bahaen ki takhta tak pahunch jae, aur phir dahini karwat par lita kar sar se panw tak pani bahaen ki takhta tak pahunch jae, phir tek laga kar baithaen aur pet par halka hath feren agar kuchh nikle to saf kar ke do den dubara gusl dene ki zarurat nahi, aakhir mein sar se panw tak kafoor ka pani bahaein, phir mayyat ke badan ko dhire dhire kisi kapde se ponchh den, ek baar sare sharir par pani bahana farz hai aur teen baar sunnat,
dhiyan den
mard ko mard hi gusl denge aur aurat ko aurat, agar biwi ki mayyat hai to shauhar na gusl de sakta hai aur na hi bina kapde ke hayel ke chhoo sakta hai

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s