Qasam khana wa todna kaisa hai aur qasam ka kaffara kya hai


क़सम खाना व तोड़ना कैसा है और क़सम का कफ़्फ़ारा क्या है

Qasam khana wa todna kaisa hai aur qasam ka kaffara kya hai


▪️ सबसे पहले क़सम की मज़ीद जानकारी
👉🏻क़सम किसे कहते हैं
यानी अल्लाह और उसके नाम, उसके सिफ़ात और उसके कलाम की क़सम ही क़सम होती है
👉🏻कोन सी क़सम को खाना क़सम नही
ग़ैरे ख़ुदा की कसम यानी तुम्हारी क़सम, मेरी क़सम, तुम्हारी जान की क़सम, मेरी जान की क़सम, सर की क़सम, काबा की क़सम, मज़हब की क़सम, दीन की क़सम, हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम की क़सम
लेकिन ग़ैरे ख़ुदा की क़सम खाना मकरूह है
👉🏻अब अगर कोई शरई क़सम खाये तो उसकी 3 किस्में हैं
▪️ ग़मूस यानी जानबूझ कर झूटी क़सम खाना, इसमे गुनाहगार होगा और तौबा फ़र्ज़ है मगर कफ़्फ़ारा नही
▪️ लग़व यानी अनजाने में झूटी क़सम खाना, इसमे अगर क़सम खाने वाले को मालूम नही तो न गुनाह है और न कफ़्फ़ारा
▪️ मुनक़्क़ीदह यानी आने वाले वक़्तों में किसी काम के लिए क़सम खाना, लेकिन बाद में उसे तोड़ दिया तो कफ़्फ़ारा लाज़िम होगा और बअज़ सूरतों में गुनाहगार भी होगा

▪️ क़सम का कफ़्फ़ारा
सबसे पहले तो ये बात ध्यान में रखें कि हर छोटी-छोटी बात पर क़सम नही खाना चाहिए खास कर गुस्से में, कियूंकि इन सब सूरतों में आदमी कसम तो खा लेता है लेकिन वो बाद में टूट ही जाती है
और जब कोई क़समें शरयी खाता है जैसे, अल्लाह की शान की या अल्लाह के नाम की, या उसके कलाम की, तो इनमें से कोई भी क़सम खाना और बाद में तोड़ देने से हक़ अदा करना होता है इसे ही कफ़्फ़ारा कहा जाता है और इसको अदा करने के 3 तरीके हैं
01 10 मिस्कीनों को भर पेट दोनों टाइम का एक दिन खाना खिलाएं, या एक मिस्कीन को 10 दिन तक दोनों टाइम का खाना खिलाएं, या इतना ही पैसे दे दें,
लेकिन याद रहे जिनको एक बार इंतेख़ाब करेगा कफ़्फ़ारा होने तक वही रहेंगे बीच मे मिस्कीन को बदल नही सकते
02 या तो इनको कपड़े दे दे, कपड़े भी पूरे देने होंगे
03 अगर ये सब ना कर सकें तो लगातार 3 दिन तक रोज़े रखें

मिस्कीन का मतलब वो होता है जिसके पास दूसरे टाइम खाने का कुछ भी न हो

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

▪️ Sabse pahle qasam ki mazeed jankari
👉🏻Qasam kise kahte hain
Yani allaah aur uske naam, uske sifaat aur uske kalaam ki qasam hi qasam hoti hai
👉🏻kon si qasam ko khana qasam nahi
gaire khuda ki qasam
Yani tumhari qasam, meri qasam, tumhari jaan ki qasam, meri jaan ki qasam, sar ki qasam, kaba ki qasam, mazhab ki qasam, deen ki qasam, huzoor sallallaahu alaihi wasallam ki qasam
lekin gaire khuda ki qasam khana makruh hai
👉🏻 Ab agar koi qasme sharayi khaye to uski 3 kismein hain
▪️ gamoos yani ki janboojh kar jhuti qasam khana, isme sakht gunahgaar hoga aur tauba farz hai magar kaffara nahi
▪️ lagwa yani ki anajane mein khana, isme agar qasam khane wale ko maloom nahi to na gunaah hai aur na kaffara
▪️ mun’aqqidah yani ane wale waqton mein kisi kaam ke lie khana, lekin baad mein use tod diya to kaffaara laazim hoga aur ba’az suraton mein gunahgaar bhi hoga

▪️ Qasam ka kaffara
sabse pahle to ye baat dhyaan mein rakhen ki har chhoti-chhoti baat par qasam nahi khana chahiye khaas kar gusse mein, kiyunki in sab suraton mein aadmi qasam to kha leta hai lekin wo baad mein toot hi jati hai
Ab jab koyi qasme sharayi khaata hai jaise, allaah ki shaan ki ya allaah ke naam ki ya uske kalaam ki,
to inmen se koyi bhi qasam khaana aur baad mein tod dene se jo haq ada karana hota hai ise hi kaffara kaha jata hai, aur isko ada krne ke 3 tariqe hote hain
01 10 miskinon ko bhar pet dono time ka ek din khana khilaen, ya ek miskin ko 10 din tak donon time ka khana khilaen, ya itne hi paise de den,
lekin yaad rahe jinko ek baar intekhab karega kaffaara hone tak wahi rahenge beech me miskin ko badal nahi sakte
02 ya to inko kapde de de, kapde bhi poore dene honge
03 agar ye sab na kar saken to lagatar 3 din tak roze rakhen

Miskeen ka matlab wo hota hai kiske pas dusre time bhi khane ka kuchh nahi ho

Nikah ki sharton ke bare me batayein,


निकाह की शर्तों के बारे में बताएं,

Nikah ki sharton ke bare me batayein,


निकाह की चंद शराएत हैं एक निकाह को मुकम्मल करने के लिए जैसे कि_
▪️ आकिल होना यानी दोनों आक़ील हों कियूंकि कि पागल या मजनू से निकाह दुरुस्त नही,
▪️ बालिग़ होना और अगर बालिग़ नही है तो वली की इजाज़त होनी चाहिए,
▪️ गवाह का होना यानी गवाह का इजाब व क़ुबूल के वक़्त मौजूद होना, गवाह का आकिल और आज़ाद भी ज़रूरी है, अगर फ़ासिक़ से गवाह ली तो निकाह तो हो जाएगा लेकिन किसी आकेदीन ने इनकार कर दिया तो इसकी गवाही क़ुबूल नही होगी,
▪️ इजॉब व क़ुबूल एक ही मजलिस में होना
▪️ क़ुबूल और इजाब मुखालिफ न हों
▪️ लड़की बालिग़ है तो उसका राज़ी होना शर्त है
▪️ निकाह में किसी अइन्दह वक़्त की तरफ इशारा ना हो कि फुला दिन क्या या इस तरह की कोई बात बल्कि क़ुबूल तुरंत में होगा,
▪️ निकाह की अज़फत कुल की तरफ हो अगर ऐसा कहा कि तेरे हाथ पॉव या ऐसे ही किसी हिस्से से निकाह क्या तो निकाह ना हुआ

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

nikah ki chand sharaet hain ek nikah ko mukammal karne ke lie jaise ki_
aaqil hona yani donon aaqil hon kiyunki ki pagal ya majnoo se nikah durust nahi,
baalig hona aur agar baalig nahi hai to wali ki ijazat honi chahie,
gawah ka hona yani gawah ka eejab o qubool ke waqt maujood hona, gawah ka aaqil aur azaad bhi zaruri hai, agar fasiq se gawah li to nikah to ho jaega lekin kisi aaqedeen ne inkar kar diya to iski gawahi qubool nahi hogi,
eejab o qubool ek hi majlis mein hona
qubool aur eejab mukhalif na hon
ladki balig hai to uska razi hona shart hai
nikah mein kisi ayindah waqt ki taraf ishara na ho ki fula din kya ya is tarah ki koyi baat balki qubool turant mein hoga,
nikah ki azfat qul ki taraf ho agar aisa kaha ki tere hath panw ya aise hi kisi hisse se nikah kya to nikah na hua