A beautiful story a jewish boy in the court of the Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم

34006_1218235795020_1802646556_405535_8057621_n

Once there was a Jewish boy in the Blessed Court of RasulAllah صلى الله عليه وآله وبارك وسلم. And out of his deep love for the Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم, he would come each day and follow the Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم by holding the Blessed Na’alain Pak. He would sit quietly in one corner, holding the Blessed Na’alain Pak tightly to his chest. All the Blessed Companions رضوان الله عليهم أجمعين used to envy him for holding the Blessed Sandals.

بسم الله والحمد الله ه والصلاة والسلام عليك ياسيدى يارسول الله يا حبيب الله و على آلك و اصحابك يا نور الله

مثال لنعل المصطفي ما له مثال
لروحي به راح لعيني به كحل
فأكرم به تمثال نعل كريمة
لها كل رأس ودلو انه رجل

“There is no equal to the impression of the Blessed Sandal of the Chosen One, صلى الله عليه وآله وبارك وسلم
It is Solace for my soul, Kohl for my eyes,
So respect the imprint of the Exalted Sandals
For every head wishes to be its foot”

– Shaykh Yusuf Nabhani ‘Alaiher Rehma

Then one day, the boy fell ill and was not seen at the Blessed Court for a couple of days. The Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم enquired about the boy’s absence and was told that he had fallen sick. The Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم wanted to visit the sick boy urgently and therefore left the blessed court for the boy’s house. He was walking so fast that the Blessed Companions رضوان الله عليهم أجمعين were struggling to keep up with him, SubhanAllah!

When the Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم reached the house, he went inside and found the boy very ill in his bed. The Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم asked for his health and then told him to take the Shahadah. The boy was quiet and looked up at his father. The father said to him, ‘Don’t look at me and obey Abu’l-Qasim (صلى الله عليه وآله وبارك وسلم) , do as he says!’

So the boy took the Shahadah and became a Muslim. The Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم then left and just a few seconds later the news reached them that the boy has left for the realms. The Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم Praised Allah Kareem and said, ‘Alhamdolillah! Who has saved him from the Hell Fire through me.”
Allahu Akbar Kabeerah!

SubhanAllah! Such is the August Personality of our Beloved Master صلى الله عليه وآله وبارك وسلم, who is sent as a Mercy to all the worlds! The Blessed Prophetic vision had foreseen the death of a Jewish boy by the Will of Alalh Kareem and thus was given the eternal salvation.

And we, the Lovers/Aashiquain say that it is the Sadaqah/Wasilah of the Blessed Na’alain Pak that the boy used to carry so lovingly, which made him earn the place in Paradise…
Allah Allah Allah!

This young boy who was dying would not have added anything to the strength of the Muslim society, nor would he have increased the wealth of the Muslims, but the Beloved Prophet صلى الله عليه وآله وبارك وسلم rushed to him just to save one soul from the Hellfire…Allahu Akbar Kabeerah!
This story is the True Essence of Ikhlaas…Indeed!

الصلاة والسلام عليك يا سيدى يا حبيبى يا سيد الأوليين والأخرين
الصلاة والسلام عليك يا سيدى يا حبيبى ياشفيع المذنبين
الصلاة والسلام عليك يا سيدى يا حبيبى يا رحمة اللعالمين
الصلاة والسلام عليك يا سيدي يا حبيبي يا مراد المشتاقين
♥ الصلاة والسلام عليك يا سيدى يا سيدى يا سيدى يا حبيبى ياراحة العاشقين

Choon Soo’e Mun Guzar Aari
Manne Miskeen Zanaa Daari
Fida-E-Naqsh-E-Na’lainat
Kunam Ja. Ya Rasul Allah! صلى الله عليه وآله وبارك وسلم

When you pass by me
Then even in my immense poverty, ecstatically,
I must sacrifice my soul on your Blessed Sandals. Ya Rasul Allah! صلى الله عليه وآله وبارك وسلم

(Hadith-e-Mubarakah is mentioned in Bukhari Shareef- Book of Funerals # 1290, also by Imam Al Bayhaqi and Imam Abu Dawud Rehmatullahe ‘Alaihem Ajmaee’n)

घर पर तरावीह की नमाज़ कैसे पढ़ें

namaz-1

Ghar Par Taravih Ki Namaz Kaise Padhen

घर पर तरावीह की नमाज़ कैसे पढ़ें

जैसा कि रमज़ान का महीना आज से शुरू हो रहा है और इस रमज़ान में दिन की इबादत रोज़ा है और रात की इबादत तरावीह है दोनों इबादतें ज़रूरी हैं वो अलग बात है कि रोज़ा फ़र्ज़ है और तरावीह सुन्नत है, आम तौर से मस्जिद में एक हाफ़िज़ इमाम पूरा कुरान तरावीह में पढ़ाता है लेकिन इस साल लॉक डाउन की वजह से हमें घर पर ही तरावीह पढना है तो घर पर तरावीह कैसे पढ़ें |

Ghar Par Taravih Kaise Padhen

अगर आपके घर में कोई हाफ़िज़ है तो माशा अल्लाह वो पूरा कुरान तरावीह में पढ़ा सकता है लेकिन अगर कोई हाफ़िज़ नहीं है तो तो कम से कम आपको कुरान की आखिरी 10 सूरतें तो ज़रूर याद होंगी तो वही दस सूरतें पढ़ा सकते है जैसे एक हाफ़िज़ कुरान ख़त्म होने के बाद अलम तरा कैफ़ पढाता है |

दस सूरतें कौन सी हैं

आखिरी 10 सूरतें अलम तरा कैफ़ से लेकर सूरह कुल ऊजु बिरब बिन नास तक हैं

यहाँ पर हम घर पर तरावीह की नमाज़ पढने का तरीक़ा बताएँगे

तरावीह की नियत कैसे करें ?

नियत करता हूँ मैं दो रकात नमाज़ सुन्नत तरावीह वास्ते अल्लाह तआला के रुख मेरा काबे शरीफ़ की तरफ अल्लाहु अकबर कह कर हाथ बाँध लें

नोट : ज़रूरी नहीं कि ज़ुबान से नियत करें दिल में ही कर लें तब भी काफी है |

कौन सी रकात में कौन सी सूरह पढ़ें ?

हाथ बाँध कर “सना” पढ़ें सुब हानकल लाहुम्मा फिर सूरह फातिहा पढ़ें इसके बाद पहली रकात में अलम तारा कैफ़ सूरह पढ़ लें और दूसरी

रकात में लि इलाफि क़ुरैश सूरह पढ़ लें

तीसरी रकात में सूरह अरा ऐतल लज़ी पढ़ें और चौथी में इन्ना आतैनाकल कौसर सूरह पढ़ें

पांचवीं रकात में सूरह कुल या अय्युहल काफ़िरून पढ़ें छठी रकात में सूरह इज़ा जा अ नसरुल लाहि वल फतह पढ़ें

सातवीं रकात में सूरह तब्बत यदा पढ़ें आठवीं रकात में क़ुल हुवल लाहू पढ़ें

नवीं रकात में क़ुल अऊजु बिरबबिल फलक और दसवीं रकात में कुल ऊजु बिरब बिन नास पढ़ें

ये दस रकात हो गयीं इसी तरह अगली दस रकातें इन्ही सूरतों के साथ पूरी कर लें

लेकिन अगर किसी को पूरी दस सूरतें नहीं याद हैं तो करें ?

जितनी भी सूरतें याद हों पढ़ लें बाद में फिर उन्हीं सूरतों को अगली रकातों में दोहरा दें जैसे कि आप को 4 सूरतें याद हैं ये 4 सूरतें पहली चार रकातों में पढ़ लें उसके बाद फिर उन्ही सूरतों को अगली चार रकातों में पढ़ लें इसी तरह तरावीह पूरी कर लें |

इन दस सूरतों के अलावा भी क़ुरान में कहीं से पढ़ सकते हैं ?

जी हाँ, अगर आपको कुरान का कुछ और हिस्सा याद है तो माशा अल्लाह बिलकुल पढ़ें

क्या घर में अकेले तरावीह पढ़ सकते हैं ?

हाँ, पढ़ सकते हैं ऊपर जो तरीक़ा बताया गया उसी तरीके के मुताबिक़ आप अकेले भी पढ़ सकते हैं और पढ़ा भी सकते हैं |

तरावीह में दो दो रकात की नियत करनी हैं या चार की भी कर सकते हैं ?

दो दो रकात ही पढना है चार रकात एक सलाम के साथ नहीं बल्कि हर दो रकात के बाद सलाम फेर देना है |

TAKING HUSBAND’S NAME AFTER MARRIAGE

cute-mustlime-couple20

Our Common Mistakes in Islam – Woman dropping her father’s name and adopting husband’s name after marriage!

How many of you are aware that it is Haraam for a woman (after marraige) to change her surname from her father to that of her husband?

Example, before marriage she was “Fatima maqsood Ali” and after marriage to Sajid Siddique, she changes to “Fatima Sajid Siddique” or just “Fatima Sajid”.

This is haraam. It is not permissible for a woman to take her husband’s name or his family name because that is attributing oneself to someone other than one’s father, and imitating the kuffaar from whom this custom was adopted.

There are some very stern warnings regarding this from Allah and his Prophet (pbuh). Read below:

The Prophet (pbuh) said: “Whoever calls himself by other than his father’s name (or attributes himself to someone other than his father), will be cursed by Allaah, the angels and all the people.” (Reported by Ibn Maajah, 2599)

Narrated from Abu Dharr (ra) that he heard the Prophet (pbuh) say: “Any man who knowingly attributes himself to someone other than his father is guilty of kufr. Whoever claims to belong to a people when he has nothing to do with them, let him take his place in Hell.” [Bukhari 3508 and Muslim 61]

It was narrated that Sa’d ibn Abi Waqqaas and Abu Bakrah said: The Messenger of Allaah (pbuh) said: “Whoever claims after having become Muslim to belong to someone who is not his father, knowing that he is not his father, Paradise will be forbidden to him.” [Bukhaari 4072 and Muslim 63]

What else needs to be said in this matter when clear commands of prophet (pbuh) are present? Besides this, the Salaf-us-saliheen have also sternly warned against this.

It is not permitted for anyone to claim to belong to anyone other than his father. Imitating the kuffaar by dropping the wife’s surname and giving her the husband’s name is haraam; it is also a form of falsehood, and humiliation of the woman. There is no blood tie between the husband and wife, so how can she take his surname as if she is part of the same lineage? Moreover, she may get divorced, or her husband may die, and she may marry another man. Will she keep changing her surname every time she marries another man? Furthermore, there are rulings attached to her being named after her father, which have to do with inheritance, spending and who is a mahram, etc. Taking her husband’s surname overlooks all that. The husband is named after his own father, and what does she have to do with the lineage of her husband’s father? This goes against common sense and true facts. The husband has nothing that makes him better than his wife so that she should take his surname, whilst he takes his father’s name.

If taking husband’s name is allowed in Islam. .Prophet Muhammad’s (who was the best human being) wives would have kept his name after their names !

But still Aysha remained as Aysha bint Abu bukker.
Even his wives whose fathers were kuffar. .even they didn’t change their last name after marriage.

.they kept their kaafir fathers’ names behind theirs.
Eg. Saffiya bint Huyayy
( Huyayy was a jew and a staunch enemy of the Prophet sallallaahu alayhi wa sallam)

Anyone who has done this must repent to Allaah and put it right by going back to her father’s name. Please revert back to your fathers lineage or fathers name!

Each one of us is accountable for our actions on the Day of Judgement! Don’t obey others to disobey Allah (even if it be your parents or your husband)

May Allah guide us to the right path!

हज़रत मौला अली एक महान वैज्ञानिक

यह बहुत कम लोग जानते है कि हज़रत मौला अली एक महान वैज्ञानिक

हज़रत अली के कई वैज्ञानिक पहलू

एक प्रश्नकर्ता ने उनसे सूर्य की पृथ्वी से दूरी पूछी तो जवाब में बताया कि एक अरबी घोड़ा पांच सौ सालों में जितनी दूरी तय करेगा वही सूर्य की पृथ्वी से दूरी है

उनके इस कथन के चौदह सौ साल बाद वैज्ञानिकों ने जब यह दूरी नापी तो 149600000 किलोमीटर पाई गई।

अगर अरबी घोडे की औसत चाल 35 किमी/घंटा ली जाए तो यही दूरी निकलती है।

इसी तरह एक बार अंडे देने वाले और बच्चे देने वाले जानवरों में फर्क इस तरह बताया कि जिनके कान बाहर की तरफ होते हैं वे बच्चे देते हैं और जिनके कान अन्दर की तरफ होते हैं वे अंडे देते हैं।

हज़रत अली ने इस्लामिक थियोलोजी (अध्यात्म) को तार्किक आधार दिया। कुरान को सबसे पहले क़लमबद्ध करने वाले भी हज़रत अली ही हैं।

हज़रत मौला अली की कुछ किताबें

(1) किताबे अली
(2) ज़फ़्रो जामा (Islamic Numerology पर आधारित) इसके बारे में कहा जाता है कि इसमें गणितीय फ़ार्मूलों के द्वारा क़ुरआन मजीद का असली मतलब बताया गया है।

तथा क़यामत तक की समस्त घटनाओं की भविष्यवाणी की गई है यह किताब अब अप्राप्य है।

3) किताब फ़ी अब्वाबुल शिफ़ा
4) किताब फी ज़कातुल्नाम

हज़रत मौला अली की सबसे मशहूर व उपलब्ध किताब नहजुल बलाग़ा है

जो उनके ख़ुत्बों (भाषणों) का संग्रह है। इसमें भी बहुत से वैज्ञानिक तथ्यों का वर्णन है।

माना जाता है कि जीवों में कोशिका(cells) की खोज 17 वीं शताब्दी में हुक ने की थी

लेकिन नहजुल बलाग़ा का निम्न कथन ज़ाहिर करता है कि हज़रत अली को कोशिका की जानकारी थी।

“जिस्म के हर हिस्से में बहुत से अंग होते हैं। जिनकी रचना उपयुक्त और उपयोगी है।

सभी को ज़रूरतें पूरी करने वाले शरीर दिए गए हैं।

सभी को काम सौंपे गए हैं और उनको एक छोटी सी उम्र दी गई है।

ये अंग पैदा होते हैं और अपनी उम्र पूरी करने के बाद मर जाते हैं।

(खुतबा-71) ” स्पष्ट है कि ‘अंग’ से हज़रत मौला अली का मतलब कोशिका ही था।

हज़रत मौला अली सितारों द्बारा भविष्य जानने के खिलाफ़ थे

लेकिन खगोलशास्त्र सीखने पर राज़ी थे,उनके शब्दों में “ज्योतिष सीखने से परहेज़ करो, हाँ इतना ज़रूर सीखो कि ज़मीन और समुन्द्र में रास्ते मालूम कर सको।

” (77 वाँ खुतबा – नहजुल बलाग़ा)

इसी किताब में दूसरी जगह पर यह कथन काफ़ी कुछ आइन्स्टीन के सापेक्षकता सिद्धांत से मेल खाता है, ‘उसने मख़लूक़ को बनाया और उन्हें उनके वक़्त के हवाले किया।’ (खुतबा – 1)

चिकित्सा का बुनियादी उसूल बताते हुए कहा, “बीमारी में जब तक हिम्मत साथ दे, चलते फिरते रहो।

” ज्ञान प्राप्त करने के लिए हज़रत मौला अली ने अत्यधिक ज़ोर दिया, उनके शब्दों में, “ज्ञान की तरफ़ बढो, इससे पहले कि उसका हरा भरा मैदान ख़ुश्क हो जाए।”

यह विडंबना ही है कि मौजूदा दौर में मुसलमान हज़रत मौला अली की इस नसीहत से दूर हो गया और अनेकों बुराइयां उसमें पनपने लगीं हैं।

अगर वह आज भी ज्ञान प्राप्ति की राह पर लग जाए तो उसकी हालत में सुधार हो सकता है।