Mayyat ko kafan pahnane ka tariqa batayein


मय्यत को कफ़न पहनाने का तरीक़ा बताएं


मय्यत को कफ़न देना फर्ज़े किफ़ाया है और इसके तीन दर्जे हैं
01 ज़रूरत, 02 किफ़ायत, 03 सुन्नत
इसके बारे में थोड़ी तफ़सील है, लिहाज़ा यहां पर सुन्नत के मुताबिक़ तरीक़ा बता दिया जा रहा है
▪️ मर्द के लिए कफ़न
मर्द के लिए कफन के तीन कपड़े हैं
01 लिफ़ाफ़ा, 02 इज़ार, 03 कमीज़,
01 लिफ़ाफ़ा यानी चादर इतना बड़ा हो की सर और पांव की तरफ बांध सकें,
02 इज़ार यानी तहबन्द ये चोटी से ले कर क़दम तक हो
03 कमीज़ यानी कफ़नी गर्दन से गुठने के नीचे तक, इसको मुंढे पर चीरें, और आगे पीछे दोनों बराबर रखें
▪️मर्द को कफ़न पहनाने का तरीक़ा
सबसे पहले मय्यत के शरीर को आहिस्ता आहिस्ता अच्छे से पोंछ लें ताकि कफ़न भीगे ना,
अब कफ़न को तीन पांच या सात बार धूनी दें, फिर सबसे पहले लिफ़ाफ़ा बिछाएं उसके ऊपर इज़ार को बिछाएं नीचे की तरफ़, फिर उसके ऊपर कमीज़ बिछाएं ऊपर की तरफ़, अब इसके ऊपर मय्यत को लिटाएं, और अब कमीज पहनाएं, फिर दाढ़ी और तमाम बदन पर खुशबू मलें, माथे नाक हाथ गुठने और क़दम पर काफ़ूर लगाएं, इसके बाद इज़ार लपेटें पहले बायें तरफ से मोड़ें फिर दाएं तरफ से मोड़ें ताकि दायां उपर रहे, अब लिफ़ाफ़ा भी इसी तरह लपेटें ताकि दायां ऊपर रहे, और फिर सर और पांव की तरफ़ से बांध दें ताकि उड़ने का डर ना रहे
▪️ औरत के लिए कफ़न
औरत के लिए कफन के पांच कपड़े हैं
01 लिफ़ाफ़ा, 02 इज़ार, 03 कमीज़, 04 ओढ़नी, 05 सिनाबन्द
01 लिफ़ाफ़ा यानी चादर इतना बड़ा हो की सर और पांव की तरफ बांध सकें,
02 इज़ार यानी तहबन्द ये चोटी से ले कर क़दम तक हो
03 कमीज़ यानी कफ़नी गर्दन से गुठने के नीचे तक, इसको सीने की तरफ चीरें, और आगे पीछे दोनों बराबर रखें
04 ओढ़नी इसकी चौड़ाई एक कान की लौ से दूसरे कान की लौ तक, और लंबाई तीन हाथ यानी डेढ़ ग़ज़
05 सीनाबन्द ये पिस्तान से ले कर नाफ़ तक और बेहतर रहेगा कि रान तक हो
▪️औरत को कफ़न पहनाने का तरीक़ा
सबसे पहले मय्यत के शरीर को आहिस्ता आहिस्ता अच्छे से पोंछ लें ताकि कफ़न भीगे ना,
अब कफ़न को तीन पांच या सात बार धूनी दें, फिर सबसे पहले लिफ़ाफ़ा बिछाएं उसके ऊपर इज़ार को बिछाएं नीचे की तरफ़, फिर उसके ऊपर कमीज़ बिछाएं ऊपर की तरफ़, अब इसके ऊपर मय्यत को लिटाएं, और अब कमीज पहनाएं, और फिर उसके बाल के दो हिस्से कर के सीने पर ला कर रख दें, फिर तमाम बदन पर खुशबू मलें, माथे नाक हाथ गुठने और क़दम पर काफ़ूर लगाएं, इसके बाद ओढ़नी डालें ये आधी पीठ से ले कर सर के ऊपर से घूम कर सीने पर ला कर रख दें नक़ाब की तरह, फिर इज़ार लपेटें पहले बायें तरफ से मोड़ें फिर दाएं तरफ से मोड़ें ताकि दायां उपर रहे, अब सीन बन्द बांधे इसको पिस्तान से ले कर रह तक ले कर बांध दें, अब लिफ़ाफ़ा इस तरह लपेटें की दायां ऊपर रहे, और फिर सर और पांव की तरफ़ से बांध दें ताकि उड़ने का डर ना रहे

▪️ ध्यान दें
कफ़न का कपड़ा अच्छा होना चाहिए जैसा मर्द ईद और जुमा के दिन पहनता था, और औरत के लिए ऐसा की जैसे वो मायके पहन कर जाती थी, नौ बरस या इससे ज़्यादा उम्र की लड़की को औरत के बराबर कफ़न दिया जाएगा, और बारह बरस से बड़े लड़के को मर्द के बराबर कफ़न दिया जाएगा, अगर लड़का बारह बरस से छोटा है तो एक कपड़ा और लड़की 9 बरस से छोटी है तो दो कपड़े भी दे सकते हैं, पर बेहतर ये है कि दोनों को पूरा कपड़ा दें चाहे एक ही दिन का बच्चा कियूं ना हो, बेहतर रहता है कि मय्यत के माल से ही कफ़न का कपड़ा इंतेज़ाम करें,

━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━━

mayyt ko kafan dena farze kifaya hai aur iske 3 darje hain
01 zrurat, 02 kifayat, 03 sunnat
iske bare men thodi tafsil hai, lihaza yahan par sunnat ke mutabik tarika bat diya ja raha hai
▪️ mard ke liye kafan mard ke liye kafan ke 3 kapde hain
01 lifafa, 02 izar, 03 kameez,
01 lifafa yani chadar itna bada ho ki sar aur panw ki tarf bandh saken,
02 izar yani tahband ye choti se le kar kadm tak ho
03 kameez yani kafani gardan se guthne ke niche tak, isko mundhe par chiren, aur aage pichhe donon barabar rakhen,
▪️Mard ko kafan pahnane ka tarika
sabse pahle mayyt ke sharir ko aahista aahista achhe se ponchh len taki kafan bhige na, ab kafan ko tin panch ya sat bar dhuni den, fir sabse pahle lifafa bichhayen uske upar izar ko bichhayen niche ki tarf, fir uske upar kameez bichhayen upar ki tarf, ab iske upar mayyat ko litayen, aur ab kameez pahnayen , fir dadhi aur tamam badan par khushbu malen, mathe nak hath guthne aur kadam par kafoor lagayen, iske bad izar lapeten pahle bayen tarf se moden fir dayen tarf se moden taki dayan uper rahe, ab lifafa bhi isi tarah lapeten taki daya upar rahe , aur fir sar aur pawn ki tarf se bandh den taki udne ka der na rahe
▪️ aurat ke liye kafan aurat ke liye kfun ke panch kapde hain
01 lifafa, 02 izar, 03 kameez, 04 odhni, 05 sinaband
01 lifafa yani chadar itna bada ho ki sar aur pawn ki tarf bandh saken,
02 izar yani tahband ye choti se le kar kadm tak ho
03 kameez yani kafani gardan se guthne ke niche tak, isako sine ki taraf chiren, aur aage pichhe donon barabar rakhen
04 odhni iski chaudai ek kan ki lau se dusri kan ki lau tak, aur lambai tin hath yani dedh gaz
05 sinaband ye pistan se le kar naf tah aur behtar rahega ki ran tak ho
▪️Aurat ko kafan pahanane ka tarika
sabse pahle mayyat ke sharir ko aahista aahista achhe se ponchh len taki kafan bhige na, ab kafan ko tin panch ya sat bar dhuni den, fir sabse pahle lifafa bichhayen uske upar izar ko bichhayen niche ki tarf, fir uske upar kameez bichhayen upar ki tarf, ab iske upar mayyt ko litayen , aur ab kameez pahnayen, aur fir uske bal ke do hisse kar ke sine par la kar rakh den, fir tamam badan par khushbu malen, mathe nak hath guthne aur kadam par kafoor lagayen, iske bad odhni dalen ya aadhi peeth se le kar sar ke upar se ghuma kar sine par la kar rakh den nakab ki tarah, fir izar lapeten pahle bayen tarf se moden fir dayen tarf se moden taki dayan uper rahe, ab sinaband bandhe isko pistan se le kar ran tak le kar bandh den, ab lifafa is tarah lapeten ki daya upar rahe, aur fir sar aur pawn ki tarf se bandh den taki udne ka der na rahe
▪️ dhyan den
kafan ka kapda achha hona chahiye jaisa mard eid aur juma ke din pahanta tha , aur aurat ke liye aisa ki jaise wo maike pahan kar jati thi, 9 bars ya isse zyada umar ki ladki ko aurat ke barabar kafan diya jayega, aur 12 bars se bade ladke ko mard ke barabar kafan diya jayega, agar ladka 12 bars se chhota hai to ek kapda aur ladki 9 bars se chhoti hai to 2 kapde bhi den sakte hain par behtar ye hai ki donon ko pura kapda den chahe ek hi din ka baccha kiyun na ho, behtar rahta hai ki mayyat ke maal se hi kafan ka kapda intezam karen,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s