jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya

 

Bismillahirrahmanirrahim

✦ Hadith: jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya
——————
✦ Abu darda Radi Allahu Anhu se rivayat hai ki mere mehboob Sallallahu Alaihi wasallam ne mujhe waseeyat farmayee ki Allah ke saath kisi ko sharik na karna chahe tumhare tukde tukde kar diye jaye ya tumhe aag mein jala diya jaye Aur farz namaz ko jaan bujh kar kabhi mat chorhna kyunki jo jaanbujh kar farz namaz chorh de to Allah ke zimme se bari ho gaya (yani ab wo Allah ki panah mein nahi) aur sharab na peena kyunki sharab har burayee ki kunji (key) hai
Sunan Ibn Maja, Jild 3, 915-Hasan

✦ Beshak Namaz apne muqarrar waqto mein momeeno par farz hai
Al Quran : Surah An-Nisa (4) , #103

✦ Hadith: Abdullah bin buraidah Radi-Allahu-Anhu ne apney walid se rivayat kiya ki Rasool-Allah Sallallhu-Alaihi-Wasallam ne farmaya Hamare aur unke (munafiqon ke) darmiyan Ahad Namaz hai to jisne Namaz ko chorh de usney kufr kiya.
Sunan Ibn Majah, jild 1 , # 1079 -Sahih)
——————
✦ अबू दर्दा रदी अल्लाहू अन्हु से रिवायत है की मेरे मेहबूब सलअल्लाहु अलैही वसल्लम ने मुझे वसीयत फरमाई की अल्लाह के साथ किसी को शरीक ना करना चाहे तुम्हारे टुकड़े टुकड़े कर दिए जाए या तुम्हे आग में जला दिया जाए और फ़र्ज़ नमाज़ को जान बुझ कर कभी मत छोड़ना क्यूंकी जो जानबूझ कर फ़र्ज़ नमाज़ छोड़ दे तो अल्लाह के ज़िम्मे से बरी हो गया (यानी अब वो अल्लाह की पनाह में नही) और शराब ना पीना क्यूंकी शराब हर बुराई की कुंजी (चाबी) है
सुनन इब्न माज़ा, जिल्द 3, 915-हसन

✦ अल क़ुरान : बेशक नमाज़ अपने मुक़र्रर वक्तो में मोमीनो पर फ़र्ज़ है
सुरह अन निसा (4) आयत 103

✦ हदीस: अब्दुल्लाह बिन बुरैदा रदी-अल्लाहू-अन्हु ने अपने वालिद से रिवायत किया की रसूल-अल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया हमारे और उनके मुनाफिकों के) दरमियान अहद नमाज़ है तो जिसने नमाज़ को छोड़ दिया उसने कुफ्र किया.
सुनन इब्न माज़ा, जिल्द 1 , 1079 -सही

Subah ke sare azkars mein se meezan par sabse bhari azkar

madina

Bismillahirrahmanirrahim

✦ Subah ke sare azkars mein se meezan par sabse bhari azkar
——–
✦ Ummul Momineen Juwairiyah Radi Allahu Anha se rivayat hai ki Rasool-Allah Sal-Allahu Alaihi Wasallam subah ko unke pass se nikle , wo apni namaz ki jagah mein subah ki namaz ada kar rahi thi, Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam wapas chasht ke waqt laute to dekha ki wo wahi baithee huyee hai, Aap Sal-Allahu Alaihi Wasallam ne pucha ki jab se main tumhe chorh kar gaya tha tabse kya tum isee haal mein rahi ? Unhone kaha ji haan. Aapne farmaya maine tumhare baad chaar kalme 3 baar padhe , agar in kalmo ka wajan kiya jaye un kalmo ke saath jo tumne aaj abhi tak padhe hain to yahi bhari rahnege wo kalimat ye hain

سُبْحـانَ اللهِ وَبِحَمْـدِهِ عَدَدَ خَلْـقِه
وَرِضـا نَفْسِـه
وَزِنَـةَ عَـرْشِـه
وَمِـدادَ كَلِمـاتِـه

Subhaanallaahi wa bihamdihi Adada khalqihi
Wa ridhaa nafsihi, Wa zinata Arshihi
Wa Midaada Kalimaatihi

tarjuma : Main Allah subhanahu ki paaki bayan karta hu uski makhluqat ki tadad ke barabar, aur uski khushi ke barabar, Aur uske Arsh ke wazan ke barabar, aur uske kalimat ki siyahi(ink) ke barabar.
Sahih Muslim, Jild 6, 6913
————-

✦ उम्मुल मोमीनीन जुवेरियाह रदी अल्लाहू अन्हा से रिवायत है की रसूल-अल्लाह सल-अल्लाहू अलैही वसल्लम सुबह को उनके पास से निकले , वो अपनी नमाज़ की जगह में सुबह की नमाज़ अदा कर रही थी, आप सल-अल्लाहू अलैही वसल्लम वापस चाश्त के वक़्त लौटे तो देखा की वो वही बैठी हुई हैं , आप सल-अल्लाहू अलैही वसल्लम ने पूछा की जब से मैं तुम्हे छोड़ कर गया था तब से क्या तुम इसी हाल में रही ? उन्होने कहा जी हाँ आपने फरमाया मैने तुम्हारे बाद चार कलमे 3 बार पढ़े , अगर इन कलमों का वजन किया जाए उन कलमों के साथ जो तुमने आज अभी तक पढ़े हैं तो यही भारी रहेंगे वो कलमे ये हैं

सुबहान अल्लाहि वा बि हमदिही अददा खलक़ीही
वा रिदा नफसिही, वा ज़िनाता अरशिही
वा मीदादा कालिमातीही

तर्जुमा : मैं अल्लाह सुबहानहु की पाकी बयान करता हूँ उसकी मख्लुकात की तादाद के बराबर, और उसकी खुशी के बराबर, और उसके अर्श के वज़न के बराबर, और उसके कालीमत की सियाही (ink) के बराबर.
सही मुस्लिम, जिल्द 6, 6913