Hazrat Deewan Shah(رحمتہ اللہ علیہ)

 

Hazrat Deewana Shah baba urf Hazrat Abdurrazzak Sb. (rahamatullah alaih) was a sufi saint…. The tomb is situated in KAPASAN TOWN 40 km. away from Chittorgarh and 80 km. from Udaipur Rajasthan.
Every year urs sharif is celebrated from 6 safar to 8 safar every year

• Early Life and Family

• It was the day of joy and happiness in the family of Abdul Kadir when a boy born as a third children in this family. It was the land of Deesa in the regime of Palanpur. Deesa was the army base of British Government at that time. The boy was named Abdur Razzak who is today known as Deewana Shah by the world. He had two siblings, elder brother and sister. When he was 5-6 years old he was sent to school where he learned Quran, Urdu and Gujrati, but soon he left the school. He used to spend his time in graveyard, alone, apart from his friends, kept thinking about universe, creation and miracles of Allah.
Business and Marriage
Having seen that strange behavior, his father involved him in the family business. Although he belonged to Kassab(butcher) family, their business was to just trade sheep and goats. When he reached at the age of 16. his family started thinking about his marriage. His sister chose a girl for him and but he loved another girl. In the family pressure he had to reluctantly marry the girl chosen by the sister. But he could not forget that girl whom he loved. In that same mental situation he spent 4-5 years with family and business. Meanwhile he got two children but it could not turn him towards the world. He was reluctantly fullfilling his responsbilities but same time agony and fire of love withered his life.
Abandon of home and family
There are two forms of love, metaphorical love (ishq Majaji) and true love (ishq Haqiqi). Ishq Majaji refers to the love for creation while Ishq Haqiqi leads to the love for creater. Sometimes it is Ishq Majaji who leads lover to the Ishq Haqiqi. Love introduced itself in the form of Ishq Majaji initially in the life of Hazrat, but soon it was going to turn into Ishq Haqiqi.
It was 4 pm when he heard about the death of his beloved. He wanted to cry but due to restriction of world he could not. It was nothing left for him, he left his family sleeping in midnight and reached to his beloved grave. he lamented whole day holding his beloved grave but the tears and lament could not pacify the burning heart. All connection to the world had already lost. He took the unknown path from there and Ishq Majaji turned into Ishq Haqiqi.
The Path of Truth
Heart was burning in agony and in the same mental situation, bearing difficulties of path, he reached to Khwaja Moinudding Chisti Dargah but the intention of Almighty was different so the could not find peace there.
He went to Sojat road from Ajmer where a Walli of Allah, belonged to Nagore, was staying. It was the time when summer was on the top. Hazrat Deewana Shah was going to meet that Walli, walking bare foot on the hot sand of Marwar but the pain of heart was greater than body. On the way he saw a person eating dead animal. He offered Hazrat a piece three times but Hazrat did not pay attention because it was against sharia to eat dead animal. As he moved forward a little bit he thought about the situation and turned back but there was no sign of that person or animal. That person was abdaal who was offering spiritual rank. Hazrat rushed to Walie of Nagore but he condemned Hazrat for refusing the offer. When Hazrat insisted then Walie told that Hazrat would get his rank but after death.
He stayed Sojat for a while and then left for Ajmer. He then went Devgarh from Ajmer where famous Kutub Ali Shah Saheb was staying. Kutub Ali Shah was a famous Darvesh. Hazrat Stayed there for a while and found some peace in the sermon of Kutub Ali Shah. Hazrat wanted to make Kutub Ali Shah his spiritual teacher but Kutub Ali Shah make Hazrat disciple of Mahbob Ali Shah. Following the order of his teacher, Hazrat started spend his life according to Sharia.556875_136880703130774_1090496413_n1557343_490349314409208_1375641508_o

 

 

हिन्दुस्तान के सुबाए गुजरात में डीसा छावनी पालनपुर के करीब एक शहर वाकेअ है। शहर डीसा के महल्ला कुरैशीयान में हजरत अब्दुल कादिर अलयहिर्रहमा कयाम पज़ीर थे। आपकी शरीके हयात का नाम जे़नब बी अलयहा-रहमा था। महल्ला कुरैशीयान में आप मुमताज हैसीयत के मालिक होकर तिजारत किया करते थे।

अल्लाह तआला के फज़लों करम से गालिबन 25 मोहरर्म 1292 हिजरी, 4 मार्च 1875 बरोज जुमेरात को आप के घर में एक चश्मो चिराग पैदा हुआ। जिसका नामे नामी इस्में गिरामी अब्दुर्रज़्ज़ाक रखा गया। बिला शुबहा अब्दुर्रज़्ज़ाक घर के लिए नेअमत बनकर तशरीफ लाए। आपका घर अनवारो तजल्लीयात से मुनव्वर हो गया। आपके एक भाई और एक बहन थी। आपके वालिदे मोहतरम ने बड़े ही नाज़ो अदा से परवरिश फरमाई। बाबा हुजूर की भोली भाली सूरत को देखने वाला देखता ही रह जाता था। ज़माना उस भोली भाली सूरत को प्यार से “कालू” कहकर पुकारने लगा। आपकी उम्र तकरीबन 5 साल की हुई तो हस्बे दस्तूर फरमाने मुस्तफा के तहत वालदैन ने आपका मदरसा में दाखिला कराया। आप बड़े ही ज़हीन फिक्री दिमाग और नाबेगा ज़हन के मालिक थे। आपने कुरआनों हदीस की तालीम हासिल की। इसके साथ ही हिन्दी, गुजराती, उर्दू, अरबी, फारसी और अंग्रेजी जुबान की भी तालीम हासिल फरमाई। ज़्यो-ज़्यो वक्त गुज़रता गया। आपकी ज़िन्दगी परवान चढ़ने लगी। ज़ाहिरी तालीम से फारिग़ होने के बाद वालिदे मोहतरम के हुक्म पर कारोबार में मसरूफ हो गए। खानदानी तर्ज़ पर आप जंगल में बकरियां चराने की खिदमत अंजाम देने लगे। जो ज़माने के लिहाज से आम बात थी। लेकिन यह अल्लाह का वली अपनी ज़िन्दगी का आगाज़ सुन्नते रसूल से कर रहा था। रब तबारक तआला ने आपके मुकद्दर में लोहे महफूज़ पर कुछ और ही तहरीर फरमा रखा था। जिससे ज़माना नावाकिफ था। बाबा हुजूर के कदम रफ़्ता-रफ़्ता मंज़िले मकसूद की तरफ बढ़ने लगे। इसी धुन में आप तन्हाई पसंद फरमाने लगे। दुनियावी लहवो लईब से दर किनार रहने लगे और रमुजे हक पर गौरो फिक्र फरमाते रहते। इस बुनियाद पर खानदानी रिश्तों में दिलचस्पी नहीं रहती और दुनियावी माहौल से बेज़ार रहने लगे। आपकी यह हालत देखकर आपके वालिदे मोहतरम ने घर वालों से मशविरा कर आपके लिए बेहतर रिश्ता तलाश किया और देखते ही देखते आपको शादी के बंधन में बांध दिया और हज़रते मरीयम से आपकी निकाह हुआ।

यह भी ज़माने के लिए एक आम बात थी। मगर बाबा हुजूर का यह दूसरा अमल भी सुन्नते रसूल पर गामज़न था। लेकिन यह शादी का बंधन भी आपकी तन्हाई को न तोड़ सका। आप दुनियावी फर्ज भी निभाते और रमूजे हक की फ़िक्र में रहते। यहाँ तक के अल्लाह तआला ने आपको औलाद की नेअमते ला ज़वाल से नवाज़ दिया। रब के फज़्ल से आपके दो साहबजादे पैदा हुए। एक का बचपन ही इंतकाल हो गया और दूसरे साहबज़ादे का नामे नामी इस्म गिरामी मोहम्मद हुसैन रखा। बाबा हुजूर अपने कारोबार में मसरूफ रहकर दीनी व दुनियावी फराईज बखूबी अंजामी फरमा रहे थे। मगर आपका दिल रमूजे हक की तलाश में बेताब रहता। जब बेताबी हद से ज्यादा बढ़ी तो आपका दिल बेकरार हो उठा। बेकरारी के आलम में एक मोहब्बत भरी निगाह अपनी शरीके हयात और अपने साहबज़ादे पर डाली तो आपकी नज़रे ठहर गई। इसी पशोपेश के आलम में दिल ने रहनुमाई करते हुए आवाज दी।

“अब्दुर्रज़्ज़ाक ठहरों नहीं, तुम्हारी मंजिल अभी बहुत दूर है, तुम्हे उसे हासिल करना है। बिस्मिल्लाह करों रहमते इलाही तुम्हारे साथ है।”

आपने फौरन फैसला फरमाया और रात की तारीकी मेें जहाँ चारों ओर सन्नाटा छाया हुआ था। शहर के बाशिन्दे मीठी नींद की आगोश में सो रहे थे और आप अपने अहलो अयाल व अहबाबो अकरबा को अल्लाह के भरोसे छोड़कर अपने आबाई वतन को खैराबाद कहकर तलाशे हक के सफर के लिए रवाना हो गए।

 

रूकना नहीं अर्शी फर्श की आवाज़ से। आपको जाना है दूर हद्दे परवाज़ से।।