मुआविया की झूठी सहबीयत का तेहक़ीकी जायज़ा

WhatsApp Image 2019-04-06 at 11.57.12 AM

Hazrat Ali Bin Ja’d Ustade Imam Bukhari Jinhen Siyar A’lam, 02/468_459 Me Imam Wa Hafiz Al-Hadit Jaise Waqi’ Al-Alfaz Se Yad Kiya Gaya Hai, Aap Farmate Hain:

مَاتَ وَاللہِ مُعَاوِیَۃُ عَلیٰ غَیْرِ الْاِسْلَامِ
Allah Kee Qasam Mu’awiyah Islam Se Khaarij Ho Kar Mara.

[Masa’il Ahmad Ibn Hanbal, 02/154.]

Kya Hamare Ulama’e Ahle Sunnat Inhen Raafzi, Gustakh Aur Ma’azAllah Jahannam Ka Kutta Kehne Ka Hausala Rakhte Hain?

मुआविया की झूठी सहबीयत का तेहक़ीकी जायज़ा

सबसे पहले आप प्ले स्टोर से हदीस की एप्लिकेशन इस्लाम 360 डाऊनलोड करे ताकि हमारे बताए हुए हवाले आप ब आसानी से जांच लें

●इस हादीस को मद्दे नज़र रख कर समझे👇🏻

हज़रत अब्दुल्लाह बिन मसूद ® रिवायत करते है , की मुझसे रासुल्लाह (स.अ.व.अ) ने इर्शाद फ़रमाया की, मुसलमान को गाली देने से आदमी फ़ासिक हो जाता है, और मुसलमान से लड़ना कुफ्र हैं.!

ये दोनों अलामत कथा कथित साहबी मुआविया पर फिट बैठती हैं,
क्यों की खलीफा राशिद अली ए मूर्तज़ा से जंग ए जमल करने वालो का सरदार मुआविया बिन अब सुफियान ही था , इनको बचाने के लिए मौलवी हज़रात “किसास ए हज़रत उस्मान का नाम देती हैं”
बहर हाल ये मान भी लिया जाए की ये खता-ए-इज्तिहादी हुई, जमल में क्यों कि दिगर साहब रिज़्वन उल्लाह आजमीन साथ थे, खास तौर उम्मुल मोमेनीन राज़ीअल्लाह ताला आलेहा
इस बिना पँर अगर मुआविया को शक के आधार पर मुजरिम नही भी मन जाए और सहाबा की अज़मत पँर मान लिया जाए तो ये सवाल उठते ही कि

●क्या सिफ़्फ़ीन की जंग दुबारा से खता-ए-इज्तिहादी नही है,
●जिसमे उनके साथ कोई भी जय्यद साहबी शामिल नही हुआ जमल की तरह तो फिर, ये क्यों तनहा जंग कर राह थे
●क्या हर बार खता ए इजतिहाद की आड़ में मुआविया का दिफ़ा करना इंसाफ हैं.??
●क्या इन दोनों जंगों के बाद मुआविया ने सुलाह की..??
●हज़रत अली ए मुर्तज़ा की मोहब्बत ईमान का हिस्सा है तो जमल और सिफ़्फ़ीन की जंग में इश्क़ था या बुग्ज़ ए अली था.??

अब आते है मुसलमान को गाली देने वाला फ़ासिक है ऊपर दी हुई हदीस के मुताबिक

★•★•★•★•★

इब्ने माज़ा हदीस न.121 में मुआविया ने ज़िक्र ए अली सुन कर ऐसे नामुनासिब कलेमात कहे जिससे सामने वाले साहबी को सुनकर गुस्सा आ गया और उन्हीने फ़ज़ीलत ए अली ए मुर्तज़ा बयान की

★•★•★•★•★

सही मुस्लिम हदीस न.6220 में मुआविया ने अमर बिन साद बिन अबि वक़्क़स से सवाल किया अली ए मुर्तज़ा को गाली क्यों नही देते..??

★•★•★•★•★

सुनन तिर्मिज़ी में हदीस 3724 में भी यही रिवायत दर्ज है कि मुआविया ने तुम क्यों गाली नही देते हज़रत अली ए मुर्तज़ा को

★•★•★•★•★

मुआविया ने हज़रत उमर से ज़्यादा खुद खिलाफत का अहल बताया और भरे मजमे में हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर को रुसवा किया और वो मौत के ख़ौफ से खामोश रहे…!
सही बुखारी हदीस 4108

★•★•★•★•★

मुआविया के गवर्नर बर सारे मिम्बर ए रसूल पे बैठ कर साहबी के रसूल अली ए मूर्तज़ा को गालियाँ देते थे.!
सही बुखरी हदीस #3703
सही मुस्लिम हदीस #6229

★•★•★•★•★

सही मुस्लिम हदीस #4061

साहबी रसूल एबाद बिन समेद राज़ीअल्लाह अन्हा की बताई हुई हदीस पर मुआविया ने इंकार किया और झठी हदीस होने का दावा किया जिस पर हज़रत एबाद रज़ियल्लाहु अन्हा ने कहा :- मुआविया की नाक ख़ाक आलूद हो मैं इसके लश्कर में एक रात भी नही रहना चाहता

★•★•★•★•★

मुआविया बिन अबु सुफियान जान बूझ कर रासुल्लाह की हराम की हुई चीज़ों को बिना परवाह किये इस्तेमाल करता था और शहादत के इमाम हसन पर गुस्ताखाना रवैया दिखाया

सही मुस्लिम हदीस #4776

★•★•★•★•★

सुनन अबु दाऊद हदीस न. #4131

इस हदीस में सहाबा ए रासुल्लाह का साफ़ दावा है कि मुआविया उनको हराम माल खाने का हुक्म और नाहक़ क़त्ल करने कि ताक़ीद करता था.!

★•★•★•★•★

जैसा कि उसने अज़ीम साहबी ए रसूल अम्मार ए यासिर को सिफ़्फ़ीन में क़त्ल करवाया , जिनके लिए नबी ए पाक ने इर्शाद फ़रमाया था कि अम्मार को एक बाघी जमात क़त्ल करेगी जो जहन्नम की तरफ बुलाने वाली होगी

सही बुखारी हदीस न.2812
सही मुस्लिम हदीस न.7320

★•★•★•★•★

आखिरी हादिस जिस्से ये वाज़ेह हो जाएगा कि , जो अक़ीदा इन मौलवी हज़रात ने ऊम्मत को सिखाया है कि सहाबा की जमात बक्शी हुई हैं, उनकी मग़फ़िरत हो चुकी है इस हदीस से उनके इस झूठ से भी पर्दा उठ जाएगा कि,

अल्लाह के नबी की साफ अल्फाज़ो में हदीस वारिद हुई है सही बुखरी, जिल्द न.8 में , बाब ए फ़ज़ाईल ए कौसर में हदीस न.6585 जिस में साफ लिखा हैं सहाबा की जमात में से कुछ जन्नत में जायेगे और कुछ जहन्नम में जाएगे

सही बुख़ारी हदीस #6585

Muawiya ke kaam hi kuch is tarah hai ke sunne walo me 4 group ban jaate hai..

1. Wo jo saari baato ko jhoothla deta hai.
2. Wo jo saari baato ko jaanne ke baad Lanat, Gaali Galoch par utar aate hai.
3. Wo jo saari baato ko jaankar bhi Sukoot akhtiyar karte hai..
4. Wo jo saari baato ko janne k baad sukoot bhi rkhte hai mgr jb koi Jhoothe Fazail Bayan karta hai to sukoot ko todkar Haq baat bayan karta hai .

1) Munafiq grp 2)jaazbaati grp. 3)padhe lekhe duniyawi diplomat tunni grp. 4)Sunni Mawli grp.
Well its my faith 4 and 2 grp Allah maf farma ke deen duniya mein qamyaab karega

Imam e Azam Hazrat Abu Hanifa r.a

Imam-Abu-Hanifa-life-story

Imam Abu Hanifa r.a

Note: Imam e Aazam imam Abu Hanifa raziallahu anhu ne baiyt Hazrat Imam nafs e zakiya a.s ibn Hazrat Abdullah al mahaz a.s ke chhote bhai aur khalifa Hazrat Ibraheem ibn Abdullah al mahaz Alaihissalam se bhi kiya tha jiske aiwaz jafar al mansoor ne aapko qaed karwa diya aur phir zaher dilwa kar shaheed karwa diya
Tareekh ka ye ahem pahlu log bhool jate hain kyunki imam nafs e zakiya imam hasan a.s ke pote hain.
Aap ke hum palla us waqt imam jafar sadiq a.s ke siwa koi na tha, do hi imam us waqt mash’hoor the ek silsila e jafariya ke imam imam jafar sadiq a.s aur dusre silsila e zaidiya ke imam imam nafs e zakiya a.s

Preparing For Ramadan Advice from Habib Umar bin Hafiz

“Make sure you end Sha’ban in the best of states, for Allah records the rewards that we will receive and the supererogatory actions that we will perform before Ramadan enters. He also records the bad deeds and the wretchedness of those that will be deprived the blessings of Ramadan.  What will be your state on the last Friday of Sha’ban and the night before it? Attend the gatherings at the end of this month with a heart focused on the All-Merciful.

ramadan-header

Prepare for the first night of Ramadan, for on this night Allah gazes at His creation, a special gaze which is unique to this Ummah. Allah will never punish the one upon whom He gazes.[2] Look at how many gifts have been given to this Ummah – when Ramadan enters the gates of the Garden are opened and the gates of the Fire are closed.[3]

If someone who is destined for the Fire dies during Ramadan he will see that the gates of the Fire are closed!

The odour that comes forth from the mouth of the fasting person is sweeter in the sight of Allah than the scent of musk!

Every night Allah decrees the safety of 600,000 people from the Fire (in some narrations one million). Then on the last night he decrees the safety of the same number of people that he decreed on every night of the month. He also decrees the safety of others during the day – particularly at sunrise and sunset.

This is not to mention what happens on Laylat al-Qadr! Allah make us amongst those who reach that night and attain all that it contains. Ask from Allah in the best of ways because Allah does not accept a du`a from a heart which is heedless. Likewise a du`a from a sound heart is more likely to be accepted than a du`a from a tongue which is fluent.

Al-Sayyida `A’isha (RadiAllahu Anha) asked the Messenger of Allah (Allah bless him and grant him peace) what she should ask for if she knew that it was Laylat al-Qadr.

He replied: “O Allah, truly You are all-Pardoning, You love to pardon so pardon us.”[4]

He also said (Allah bless him and grant him peace): “Do four things in abundance: two things with which you please your Lord, and two things which you cannot do without. As for the two things with which you please your Lord: your testifying that there is nothing worthy of worship other than Allah and your seeking His forgiveness. As for the two things which you cannot do without: your asking Allah for Paradise and seeking refuge in Him from the Fire.”[5]

So say these things in abundance, for they are the best things for which you can use your tongue. Say them in your homes, in the streets, in the mosques not just at Iftar or after Tarawih.

[On the basis of these two hadiths the scholars and people of Tarim repeat the following du`a throughout the month of Ramadan:

Ashadu alla ilaha illallah, nastaghfirullah, nas’aluk’l-jannata wa na`audhu bika min an-nar

“I testify that there is nothing worthy of worship other than Allah and we seek the forgiveness of Allah. We ask You for Paradise and take refuge in You from the Fire.” (3 times)

Allahumma innaka `afuwun tuhibbu-l’`afwa f`afwa `anna

“O Allah, truly You are all-Pardoning, You love to pardon so pardon us” (3 times). On the third time say “O Most Generous” (Ya Karim).]

Allah give us the biggest portion of all goodness. Make Ramadan a cause of rectification and the removal of tribulations.

[1] Jalsat al-Ithnayn, Dar al-Mustafa the night of 25th Sha`ban 1432/25th July 2011
[2] Narrated by al-Bayhaqi
[3] Narrated by al-Bukhari and Muslim
[4] Narrated by Ahmad, Ibn Majah and Tirmidhi with a sahih chain of transmission
[5] Narrated by Ibn Khuzayma