Hazrat Yousuf Saheb & Sharif Saheb Hyderabad r.a

sufi hydr

Hazrat  Yousuf  Saheb and Sharif Saheb  were great Sufi  saints of their  time. They had  finished their personalities for  the sake of Allah. They  had spent their whole  lives  as  per  the  commandments and  prohibitions of Allah and for the  preaching and propagation  work of Islam in the foreign lands. Their name are as follows.

1.Hazrat Sharif uddin.

2.Hazrat Yousuf uddin.

   And afterwards they got title as Shah  and Uddin and these titles have become  part of their names and which become famous and well known in Hyderabad and in the world. And Hazrat Yousuf Saheb is older than Hazrat Sharif Uddin Saheb.

Genealogy.

  Both  their link and lineage  are connected with Allah’s last prophet. Both of them belongs to Sadat (descendant of the holy prophet through his daughter Hazrat Fatima) family members and  the proof in this matter is shown in the genealogy records.

 

1.Hazrat Khaja Moin Uddin Chisti.

2.Khaja Qutub Uddin Bakhtiayar Kaki.

3.Khaja Farid Uddin Gung Shaker.

4.Khaja Nizam Uddin Auliya.

5.Khaja Naser Uddin Chirag Dehlavi.

6.Khaja Kamal Uddin Qudsara.

7.Khaja Siraj Uddin Qudsara.

8.Khaja Alim Uddin Qudara.

9.Khaja Sheikh Mahmood alias Shaikh Juman Qudsara.10.Khaja Jamal Uddiin alias Shaik Juman.

11.Khaja Shaik Hasan Mohammed.

12.Khaja Sheikh Mohammed.

13.Sheikh Yahiah al-Madani.

14.Khaja Kali Mullah Shah Jahanabdi.

15.Syed Shah Yousuf Uddin (Syed Shah Sharif Uddin).

    Hazrat Yousuf Saheb was born in Egypt and spent som part of his life there and Sharif  Saheb was born in the village of Kanan in Palestine  which is the home land of Prophet Yousuf (peace be upon him) and others Israeli prophets and this place  was once a great center of Islamic preaching and propagation work. Regarding their birth ,education and early life details are not available  in the history records. Due to their preaching and propagation work of Islam both of them were became popular and famous among the general people there. Due to their hard endeavors and work they brought back the persons who were away from the right path of Allah.  Hazrat Yousuf  Saheb and Sharif Saheb  first met in Makkah and become close friends  and like true brothers and for this reason in Hyderabad and throughout  India and in some  other countries everybody think  them as  the real brothers . At that time Hazrat Kaleem Ullah who was  a great Sufi saints and Sufi  Master  from Delhi  was also present  in Makkah to perform the hajj. These two  great  personalities  (Yousuf  Saheb and Sharif Saheb) were also in Makkah for the  visit of holy  Makkah and they were looking for some area for the preaching and propagation work of Islam  and  in this way  they were searching some country to go and  to commence their activities  and to bring the persons on the  right path towards Allah.

 

Bait (pledging spiritual allegiance).

   So upon meeting with Hazrat Sheikh Kalim Ullah they could able to  find their final place of destination in India and both of them become disciples of sheikh and did bait with sheikh and they also got saintly dress from him and become successors of above great Shaikh of India at that time. Sheikh was very kind to them so he was awarded them caliphs of Chistiaya and Nizamia Sufi Orders.

 Brotherhood.

   Both of them were not real brothers and but they were only disciples of one sheikh. But there was too much love and affection in between them so they seems two different bodies but actually due to  their cooperation and understanding they both were seen as one. As both were true friends and followed one master and proceed to one destination and spent all their life in togetherness and also died in one place upon hard task of endeavours for the preaching and propagation of Islam. So for this reason the people of past have  watched their unity, love and affection and also till day of judgement all generation will come to know their life of unity, love and affection.

For this purpose  Shaikh Kalim Ullah enlighten their souls  due to his spiritual powers so they should decide and proceed towards India for the propagation and preaching  work of  Islam there .After the hajj Sheikh Kalim Ullah come back to India and died  there and he was buried in the cemetery of Kaki and Sulaiman in Delhi. Due to blessings of  Sheikh Kalim Ullah the people of Delhi were much benefitted there. He was not only a great Sufi Master but  he was also a great author of many famous Islamic  books and  his famous book of “Exegesis of Quran” (Tafsir al Quran ) in Arabic is recognized as a great book in Arabic language.

   Due  to  the advice  of Sheikh Kalim Ullah of Delhi   Hazrat Yousuf brothers decided to proceed India for the  propagation and preaching work  of Islam  and they  have landed in India  in  the reign of Mughal  Emperor  Aurangzaib  Alamgir of Delhi .

 

Arrival in India.

  Immediately upon reaching India they had proceed towards Hyderabad and settled down there. Like other  great Sufi Masters  they did not liked to live in the shrine housing for the  worship  and propagation and preaching  work of Islam but they preferred to get their livelihood by adopting some work and so they  got   appointment in the Mughal Army of Emperor Aurangzaib Alamgir  as an army men. At that time it was compulsory for the army   personnel   to possess the horses for the requirement of the job and also it was must for the army men for the wars and military expeditions .

   In the army of  Emperor Aurangzaib Alamgir there  were no problems and difficulties and in it there was complete peace and order was available  and there were also Islamic rules and regulations were in full practice in the army . Both of them not felt any modesty  for their military job of army men in the Mughal Army  as in the army job the  facilities which are  the  requirement of  asceticism and piety were  also available there. Their presence in Deccan (South India) was a great sign of right path towards  Haq (truth) and  enabling  general persons to follow the religion of Islam so that they can  proceed towards the right path of Allah . Both of them were attached in the service of army wing of Emperor Aurangzeb Alamgir’s   son Prince Bhadur Shah.

  During wars and expeditions  both of them  ( Hazrat Yousuf brothers) were used to spent  most of their time in the worship and meditations of Allah and both of them were fond of reading holy book Quran after every prayer. It was noted that holy book‘s reading was always their most interested and important work and as well as their aim of their lives. For this reason they will commence the Holy book‘s   reading in the nights and which will be usually ended in the morning time.

  During one night the army wing of Prince Bahadur Shah was encountered with heavy storm and winds. So for this reason the military men were facing many problems and hardships. The royal tents were damaged  and scattered  due to heavy storm and winds.  There were no lights  available in the army camp and so for this reason army men were encountered  many difficulties and problems. But the tent of both of them (Hazrat yousuf brothers) was safe and secured and even the lamp was functioning there normally and there was no effect of heavy storm and winds inside the tent of Hazrat Yousufian brothers .But outside of  their tent there were many damages and disturbances of the storm and winds in the military camp area of Emperor Aurangzaib Alamgir were found. But inside the tent there was peace and normal life was there and both of them were busy in the reading  of the  holy book  Quran. Their lamp ‘s flame was normal as the  heavy storm and winds could not stop their lamp’s light.

  When the army men and  Prince  Bhadur Shah observed their tent‘s  position  and were surprised upon watching  their great miracle during the heavy storm and winds.

Mystic Forces of Golconda Fort.

  The impregnable fort of Golconda withstood repeated and prolonged blockades accompanied with ferocious assaults by the Mughal army. When it was finally taken, the fort fell to intrigue and treachery, or as some believe, the end came about due to spiritual intervention. The renowned defensive mechanisms of Golconda though were never breached.Golconda Fort was besieged in early 1687 by the Imperial army. The renowned fort, which had traditionally served as the last refuge for the Golconda monarch and nobility, proved to be a challenge for even a seasoned campaigner like Aurangzeb Alamgir.

    The Mughal army was at the receiving end for almost eight months over which all their attempts at storming the fort were repelled by the gallant garrison. The ingenious counter measures executed by the defenders often reversed the tables on the assailants causing heavy casualties. In frustration, the emperor ordered the construction of an encircling barricade to prevent ingress of supplies and reinforcements. For the conquest of Golconda fort it is well known  historical fact  which is  available  in the books of history  that the  endeavors and spiritual powers  of  Hazrat  Yousian brothers were   mainly responsible for it and if they were not tried in this matter then Emperor Aurangzeb  Alamgir could not able to conquer the  great fort of Golconda.Emperor Aurangzeb Alamgir  adopted the occupation of the copyist to earn  the livelihood by writing the holy Quran and selling it  in the market. He was  used to write some portion of it on the daily basis.The aim  and purpose of life of Emperor Aurangazbi Alamgir and  Hazrat Yousufian  brothers   was to love  and respect the holy Quran so they were  always used to read it day and night on the regular basis. Once Emperor Aurgangzeb  Alamgir was observed that  his two army men were always used to read  the holy Quran on regular  basis so he decided to ask them for their help for the conquest of Golconda fort. So he has requested them as follows and asked them for their kind help in this matter.“Despite of my great army power there is no success for the conquest of Golconda fort and I think there is something or some power which is causing obstacles for my power and  for my military struggle.”

   Upon Emperor Aurangzaib Alamgir‘s   many requests they have written some lines on the small potsherd  and asked him to give it to one cobbler who is sitting near the main gate of Golconda fort and who will help him in this matter. So Emperor Aurangzaib Aalmgir immediately rushed to that place on his horse back and gave him the small potsherd . The cobbler read the message on the potsherd and upon reading  the message the cobbler have wrote some lines on the back side of it and instructed him  to give  back to  Hazrat Yousufain  brothers. So Emperor Aurangzaib Alamgir came back from there and presented the potsherd to them and upon reading the message they have informed Emperor Aurangzaib Alamgir that their endeavors could not be successful in this matter as there is some spiritual power is obstacle in this  matter. So for this reason Emperor Aurangzaib Alamgir  requested them to try again in this matter so that their endeavors would become successful.

   When the second time the cobbler read the message on the potsherd and left the place while taking all his belonging and he told him that “ Now the security and victory of the Golconda fort lies in the hands Emperor Aurangzaib Alamgir.”

  Actually the cobbler was  not  the real cobbler but he was the Qutub (highest cadre in spiritual pivot) of his time and he was guarding  the fort of Golconda and  he knows well the spiritual status  and mystic powers of  Hazrat Yousufian brothers so he could  not disobeyed their orders  and  for this reason he left the place of Golconda fort and went away to some unknown place while transferring the  responsibility of security of the Golconda fort towards Allah and after this event he could not seen again there.

Golconda fort Hyderabad.

  Next morning when  Emperor Aurangzaib  Alamgir  was ready to commence  the reading of the holy book of Quran and he heard the sounds of drums and kettle drums  and asked the reason of it  with his servant and the servant replied him that Prince Moazam  collected the keys of Golconda fort from  Abul Hasan Tana Shah and the fort of Golconda was already conquered.In this  matter  there is one well known historical fact which is available in the books of history that  King Abdullah Qutub Shah of Golconda fort  had two son in laws  and their details are as follows.

 

1.Prince Moazam Bhadur Shah son of Aurangzaib Alamgir.

2.King Abul Hasan Tana Shah of Golconda kingdom.

 

  There was an agreement between King Abdullah Qutub Shah of Golconda  Fort and  the  Emperor Aurangzaib Alamgir of Mughal dyanasty of Delhi  that the next ruler of Golconda will be Prince Moazam Bhadur Shah as King Abdullah Qutub Shah of Golconda had no sons and but had only daughters . But the king Abdullah Qutub Shah of Golconda Fort  could not fulfilled  his agreement which he   already signed and accepted .So far the breach of the above agreement the Emperor Aurangzaib Alamgir had conquered the fort of Golconda  and punished king Tana Shah of Golconda kingdom in this matter.

  The Emperor Aurangzaib Alamgir was a pious and kind  hearted ruler of the  Mughal Dynasty who used to watch the worldly  matters from the angle of religion. So for this reason  Aurangzaib Alamgir conquered the Golconda Fort and  his  conquest of Golconda Fort was not for his  military  and  material gains but it was his great endeavor to punish the false person and to set the wrong thing in the right order.

  In this  matter  there is one well known historical fact which is available in the books of history that for the conquest of Golconda Fort  all the credits goes to the spiritual endeavors of Hazrat Yoursufian brothers.

 

They left their jobs in alamgir’s military.

   After the conquest of Golconda kingdom there were many problems and difficulties were there. In that period many changes were effected and also many wars were fought in which many persons were died and there was much bloodshed was there. Both of them have seen such critical time and great changes so for this reason they both left their jobs and settled down in the area where their tombs are situated and this area is outside of Golconda fort and in that area  both were began their lives in trust of Allah.

And they engaged themselves there in mystical exercise and content and aim of their life was worship of Allah. So they both were always busy day and night in the worship of Allah. When the army men and people of Golconda have seen their pious status so they all have accepted their piousness and miracles and for this reason people from various walks of life, irrespective of caste and creed, assemble  in several hundred thousand devotees from near and far, irrespective of religion and beliefs, gather  there to seek blessings.

Piety and status.

Due to their high level of piousness and piety so for this reason they did not demanded anything from others and also not accepted any presents and grants from any person. Due to effects of  piousness and piety of their masters even their horses   did not used to  look and did not used to eat grass of other persons. Also  these horses not used to graze in the land of other persons.

Great friendship.

 

Please note the following details that both of them performed hajj together in Makkah and both of them arrived in India together  and become disciple of one master in Delhi. Also they entered in the army of Alamgir and came to Hyderbad together. Both of them did great endeavours and hard tasks for the preaching and propagation of Islam in foreign land and both of them died on the same day and also their funeral prayers was organized together and at last both of them were buried in the same tomb.

 

Death.

 Both of holy persons were died on 6th Zil Hajj on 1121 A.H. and as per history record there are no disciples and caliphs were not found.

 Mausoleum.

 As per reference in the book ‘Anwar Alaqyar’ that tomb  and small  reservoir was constructed by Sad Ullah Bahadur who was  the manager of Arcot.

 The time will come when Allah ‘s every servant will finish his life mission and return back to another world. So  Hazrat Yousufian brothers also completed their mission of guidance and instructions to  human beings towards the right path of Allah in the  most successful manner  and left this world.

 

First Hazart  Yousuf Saheb left this world  and before his death  he was not well due to  his  sickness for some days due to fever . At the time of Hazrat Yousuf Saheb‘s death his friend  and brother Hazrat Sharif Saheb was not available there. When he come back there and he come to know that his friend and brother  already left the world. So he  was shocked and wore shroud  and was entered the room and slept on the ground and died.Their mausoleum is always full of visitors for the benefits of their great blessings there. Also their mausoleum  in Hyderabad which is famous since long time for the fulfillment of desires and wishes of the persons who visit their mausoleum  there.

 Upon end of  the Mughal Empire  the Asif Jahi rulers of Hyderabad  kingdom also had their  great devotion and respect for this great mausoleum of  Hazrat Yousuf Saheb and  Hazrat Sharif Sahib.The graves of following famous personalities are also available around the mausoleum and the details are as follows.

 1.Amir Minai.

2.Dagah Dehelvi and his wife.

 The name of the custodian of the shrine is as  follows.

 Hazrat Faisal Ali Shah.

 The Urs (death anniversary).

The Urs  (death anniversary ) ceremony is being performed by the trustee of the shrine every year in  the best possible manner for the comfort and  best service of the visitors of the shrine.

Every  year on the 5th and 6th of  Zil Hajj  the Urs ceremony is celebrated and on 5th Zil Hajj the sandal ceremony and 6th Zil Hajj the lights are illuminated on the mausoleum. On 7th Zil Hajj the recitation of Quran will be  organized. 

On this occasion people from various walks of life, irrespective of caste and creed, assemble to celebrate the Urs (death anniversary) which takes place on the above dates of Muslim calendar at the famous mausoleum of Syed Yousuf Saheb and  Syed Sharif Saheb every year. Several hundred thousand devotees from near and far, irrespective of religion and beliefs, gather  there to seek blessings.

During the Urs (death anniversary) time the visitors in large number will visit the shrine for the fulfillment of their desires and wishes for the sake of  Shaikh’s name. In this way the above ceremony will be arranged on grand scale and the visitors will visit the mausoleum from near and far away places in large numbers.

गोलकुंडा किला के रहस्यवादी बल.
गोलकुंडा के अभेद्य किले को दोहराया और झेल क्रूर हमले से मुगल सेना के साथ साथ लंबे समय तक blockades. जब यह अंत में ले जाया गया, किले साज़िश और विश्वासघात के लिए गिर गया, या के रूप में कुछ का मानना ​​है, अंत के बारे में आध्यात्मिक हस्तक्षेप की वजह से आया था. हालांकि प्रसिद्ध गोलकुंडा के रक्षात्मक तंत्र का उल्लंघन कभी नहीं गया.
गोलकुंडा किला जल्दी 1687 में शाही सेना द्वारा घेर लिया गया था. प्रसिद्ध किले, जो परंपरागत रूप से गोलकोंडा सम्राट और बड़प्पन के लिए पिछले शरण के रूप में सेवा की थी, भी औरंगजेब की तरह एक अनुभवी प्रचारक के लिए एक चुनौती साबित हुई. मुगल सेना के लिए प्राप्त करने के अंत में लगभग आठ महीने जो अधिक किले तूफान में उनके सभी प्रयास बहादुर चौकी के द्वारा repelled गया था. सरल काउंटर रक्षकों द्वारा निष्पादित उपायों अक्सर भारी क्षति के कारण हमलावरों पर टेबल उलट. हताशा में, सम्राट एक encircling आड़ का निर्माण करने के लिए आपूर्ति और reinforcements के प्रवेश को रोकने का आदेश दिया.
  Hadrat यूसुफ साहिब और शरीफ साहिब अपने समय के महान सूफी संतों थे. वे अल्लाह के लिए अपने व्यक्तित्व को समाप्त हो गया था. वे के रूप में आज्ञाओं और अल्लाह की रोक के प्रति और इस्लाम के विदेशी भूमि में उपदेश और प्रचार कार्य के लिए अपने पूरे जीवन बिताया.
  
Hadrat यूसुफ साहब मिस्र में पैदा हुआ था और अपने जीवन के कुछ भाग खर्च और शरीफ साहिब फ़िलिस्तीन में कानन जो पैगंबर (शांति उस पर हो) यूसुफ और दूसरों इसराइली भविष्यद्वक्ताओं के घर भूमि है और इस जगह को एक बार गया था के गांव में पैदा हुआ था इस्लामी उपदेश और प्रचार के काम का एक बड़ा केंद्र है. उनके उपदेश और इस्लाम के प्रचार कार्य के कारण उन दोनों के लोकप्रिय और प्रसिद्ध सामान्य वहाँ लोगों के बीच बने थे. उनके कठिन प्रयासों के कारण काम करते हैं और वे वापस लाया व्यक्ति जो अल्लाह की सही पथ से दूर थे.
  
  Hadrat यूसुफ साहिब और शरीफ साहिब पहले मक्का में मुलाकात की और करीबी दोस्त बन जाते हैं और सच भाइयों की तरह हैं और हैदराबाद में भारत भर में इस कारण के लिए और कुछ अन्य देशों में सब लोग उन्हें वास्तविक भाइयों के रूप में लगता है. उस समय Hadrat कलीम उल्लाह भी था जो दिल्ली से एक महान सूफी संतों और सूफी मास्टर मक्का में हज प्रदर्शन. इन दो महान हस्तियों (यूसुफ साहिब और शरीफ साहिब) भी पवित्र मक्का की यात्रा के लिए मक्का में थे और वे क्षेत्र इस्लाम के प्रचार और प्रसार के काम के लिए कुछ के लिए देख रहे थे और इस तरह वे कुछ करने के लिए जाने के लिए जगह खोज रहे थे और शुरू उनकी गतिविधियों अल्लाह की ओर सही रास्ते पर लोगों को लाने के लिए. तो शेख कलीम उल्लाह वे भारत में गंतव्य की अंतिम जगह ढूँढने में सक्षम सकता है के साथ बैठक पर.
  इस प्रयोजन के लिए शेख कलीम उल्लाह उसकी आध्यात्मिक शक्तियों की वजह से उनकी आत्मा को समझाने इतना है कि वे तय करते हैं और प्रचार और इस्लाम के प्रचार के काम के लिए भारत की ओर आगे बढ़ना चाहिए.
  हज शेख कलीम उल्लाह के बाद भारत वापस आया और वहाँ मर गया और वह खुरमा और दिल्ली में सुलेमान के कब्रिस्तान में दफनाया गया था. शेख कलीम उल्लाह के आशीर्वाद के कारण दिल्ली के लोगों को ज्यादा लाभान्वित वहाँ गया. वह न केवल एक महान सूफी मास्टर थे, लेकिन वह भी कई प्रसिद्ध इस्लामी किताबें और (Tafsir अल कुरान) अरबी में कुरान की व्याख्या की अपनी प्रसिद्ध पुस्तक अरबी भाषा में एक महान पुस्तक के रूप में मान्यता प्राप्त है की एक महान लेखक थे.
  कारण दिल्ली Hadrat यूसुफ भाइयों के शेख कलीम उल्लाह की सलाह के लिए प्रचार और इस्लाम के प्रचार कार्य के लिए भारत को आगे बढ़ना का फैसला किया है और वे भारत में दिल्ली के मुगल सम्राट Aurangzaib आलमगीर के शासनकाल में उतरा है.

भारत में उनके आगमन.

भारत पहुंचने पर तुरंत वे हैदराबाद की दिशा में आगे बढ़ना था और वहाँ नीचे बसे. अन्य महान सूफी परास्नातक की तरह वे पूजा करते हैं और प्रचार के लिए मंदिर आवास में और इस्लाम का काम उपदेश जीना पसंद नहीं था, लेकिन वे कुछ काम अपनाकर अपनी आजीविका प्राप्त करने के लिए पसंद करते हैं और इसलिए वे सम्राट Aurangzaib आलमगीर का मुगल सेना में नियुक्ति मिल गया है. उस समय सेना कर्मियों के काम की आवश्यकता के लिए घोड़े के पास के लिए अनिवार्य था और यह भी था युद्ध और सैन्य अभियानों के लिए सेना के पुरुषों के लिए करना चाहिए.
  
 सम्राट Aurangzaib आलमगीर की सेना में कोई समस्याओं और कठिनाइयों थे और यह में पूरी शांति और व्यवस्था उपलब्ध था और वहाँ भी थे इस्लामी नियमों और विनियमों सेना में पूर्ण अभ्यास में थे. उन दोनों ने महसूस नहीं उनके मुगल सेना में के रूप में सेना के काम में सेना के पुरुषों की सैन्य नौकरी के लिए किसी भी शील सुविधाओं जो तप और धर्मपरायणता की आवश्यकता है भी उपलब्ध थे वहाँ. डेक्कन में उनके वर्तमान हक (सत्य) की दिशा में एक सही पथ के महान संकेत था और सामान्य व्यक्ति इस्लाम के धर्म का पालन करने के लिए इतना है कि वे अल्लाह के सही रास्ते की दिशा में आगे बढ़ सकते हैं सक्षम है. उन दोनों के सम्राट औरंगजेब आलमगीर पुत्र राजकुमार Bhadur शाह की सेना विंग की सेवा में संलग्न थे.
 युद्ध और अभियानों के दौरान उन दोनों (Hadrat यूसुफ भाइयों) और अल्लाह की पूजा ध्यान में अपने समय के सबसे खर्च में इस्तेमाल किया गया और उन दोनों के हर प्रार्थना के बाद पवित्र पुस्तक कुरान को पढ़ने के शौकीन थे. यह नोट किया गया था कि पवित्र पुस्तक पढ़ने हमेशा अपने सबसे रुचि रखते हैं और महत्वपूर्ण काम था और के रूप में अपने जीवन के अपने उद्देश्य के रूप में अच्छी तरह से. इस कारण वे रातों में पवित्र किताब पढ़ शुरू और जो आमतौर पर सुबह के समय में समाप्त हो जाएगा.
  
  एक रात के दौरान राजकुमार बहादुर शाह की सेना विंग भारी तूफान और हवाओं के साथ आई थी. तो इस कारण के लिए सैन्य पुरुषों की कई समस्याओं और कठिनाइयों का सामना कर रहे थे. शाही टेंट क्षतिग्रस्त हो गया और भारी तूफान और हवाओं के कारण बिखरे हुए. कोई सेना शिविर में उपलब्ध इस कारण सेना के पुरुषों के कई कठिनाइयों और समस्याओं का सामना करना पड़ा था और रोशनी तो थे. लेकिन उन दोनों के तम्बू (Hadrat यूसुफ भाइयों) सुरक्षित और सुरक्षित है और दीपक भी वहाँ सामान्य रूप से कार्य किया गया था और वहाँ भारी तूफान और Hadrat Yousufian भाइयों के तम्बू के अंदर हवाओं का कोई प्रभाव नहीं था लेकिन उनके डेरे के बाहर वहाँ कई थे. और सम्राट Aurangzaib आलमगीर की सैन्य शिविर के क्षेत्र में तूफान हवाओं के नुकसान और गड़बड़ी पाए गए. लेकिन तम्बू के अंदर वहाँ शांति और सामान्य जीवन था वहाँ गया था और उन दोनों के पवित्र ग्रंथ कुरान की पढ़ने में व्यस्त थे. उनके दीपक की लौ सामान्य था के रूप में भारी तूफान हवाओं और उनके दीपक प्रकाश को रोक नहीं सका.
  जब सेना के पुरुषों और राजकुमार Bhadur शाह अपने तम्बू का स्थान मनाया गया और भारी तूफान और हवाओं के दौरान उनके महान चमत्कार देख पर हैरान.

Goldonda किला हैदराबाद
 
  गोलकोंडा किले की विजय के लिए यह ऐतिहासिक तथ्य है जो इतिहास की पुस्तकों में उपलब्ध है और कि Hadrat Yousian भाइयों के प्रयासों आध्यात्मिक शक्तियों के लिए यह मुख्य रूप से जिम्मेदार थे और अगर वे इस मामले में करने की कोशिश नहीं की तो सम्राट औरंगजेब आलमगीर सकता गया है जाना जाता है गोलकुंडा के किले को जीत के लिए सक्षम नहीं है.
  
  सम्राट औरंगजेब आलमगीर प्रतिलिपिकार पवित्र कुरान लिखने और यह बाजार में बेचने के द्वारा आजीविका कमाने के व्यवसाय को अपनाया. वह दैनिक आधार पर इसे का कुछ भाग लिखने के लिए इस्तेमाल किया गया था.
  उद्देश्य और सम्राट Aurangazbi आलमगीर और Hadrat के Yousufian भाइयों के जीवन के उद्देश्य के लिए प्यार और पवित्र कुरान का सम्मान तो वे हमेशा के लिए यह दिन और रात को पढ़ने के आधार पर नियमित रूप से इस्तेमाल किया गया था.
  एक बार सम्राट Aurgangzeb आलमगीर देखा गया है कि अपने दो सेना के पुरुषों को हमेशा के लिए नियमित आधार पर पवित्र कुरान को पढ़ने के लिए इस्तेमाल किया गया तो वह उन्हें गोलकोंडा किले की विजय के लिए उनकी मदद के लिए पूछने का फैसला किया. तो उन्होंने अनुरोध के रूप में उन्हें इस प्रकार है और उन्हें इस मामले में अपने तरह की मदद के लिए कहा.
“मेरे महान सेना की शक्ति के बावजूद सफलता गोलकोंडा किले की विजय के लिए नहीं है और मुझे लगता है कि वहाँ कुछ या कुछ शक्ति है जो मेरे सत्ता के लिए और अपने सैन्य संघर्ष के लिए बाधा पैदा कर रहा है.”
  सम्राट Aurangzaib आलमगीर कई अनुरोधों पर वे छोटे ठीकरा पर कुछ लाइनों में लिखा है और उससे पूछा कि यह एक मोची जो गोलकोंडा किले के मुख्य गेट के पास बैठा है और जो उसे इस मामले में मदद करेगा दे. तो सम्राट Aurangzaib Aalmgir तुरंत उसके घोड़े की पीठ पर उस जगह पहुंचे और उसे छोटे ठीकरा दिया. मोची ठीकरा पर संदेश पढ़ा और संदेश पढ़ने पर मोची के पीछे की ओर पर कुछ लाइनें लिखा है और उसे निर्देश दिए वापस को हजरत Yousufain भाइयों दे. तो सम्राट Aurangzaib आलमगीर वहाँ से वापस आ गया और उन्हें ठीकरा प्रस्तुत और संदेश पढ़ने पर वे सम्राट Aurangzaib आलमगीर ने सूचित किया है कि इस मामले में उनके प्रयासों को सफल नहीं हो सकता है के रूप में वहाँ कुछ आध्यात्मिक शक्ति है इस मामले में बाधा सकता है. तो इस कारण के लिए सम्राट Aurangzaib आलमगीर उन्हें अनुरोध किया कि इस मामले में पुन: प्रयास करें इतना है कि उनके प्रयासों को सफल बन जाएगा.
  जब दूसरी बार मोची ठीकरा पर संदेश पढ़ा है और जगह छोड़ दिया है जबकि उसके सभी संबंधित ले और वह उसे बताया कि “अब और गोलकोंडा किले की सुरक्षा जीत सम्राट Aurangzaib Almagir हाथ में है.”
  
  मोची वास्तव में असली मोची, लेकिन नहीं था कि वह अपने समय के कुतुब (आध्यात्मिक धुरी में उच्चतम संवर्ग) था और वह गोलकुंडा के किले की रखवाली कर रहा था और वह अच्छी तरह से आध्यात्मिक स्थिति और हज़रत Yousufian भाइयों के रहस्यवादी शक्तियों जानता तो वह नहीं का पालन नहीं कर सकता अपने आदेश और इस कारण के लिए वह गोलकुंडा किले की जगह को छोड़ दिया और किसी अज्ञात स्थान पर चले गए, जबकि अल्लाह की ओर गोलकोंडा किले की सुरक्षा की जिम्मेदारी के हस्तांतरण और इस घटना के बाद वह फिर से वहाँ नहीं देखा जा सकता है.

गोलकुंडा किला हैदराबाद

अगली सुबह जब सम्राट Aurangzaib आलमगीर कुरान की पवित्र पुस्तक के पढ़ने के शुरू के लिए तैयार था और वह ड्रम और केतली ड्रम की आवाज़ सुनी और उसके नौकर और नौकर के साथ इसे का कारण पूछा उसे कहा कि राजकुमार Moazam गोलकुंडा की कुंजी एकत्र अबुल हसन Tana शा और गोलकोंडा के किले से किला पहले से ही विजय प्राप्त की थी.
  इस मामले में एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक तथ्य है जो इतिहास की पुस्तकों में उपलब्ध है कि राजा गोलकुंडा किला अब्दुल्ला कुतुब शाह कानूनों में दो पुत्र था और उनके विवरण इस प्रकार हैं.
1.Prince Aurangzaib आलमगीर Moazam Bhadur शाह बेटा.
2. अबुल हसन Tana शाह.

  गोलकोंडा किले के राजा अब्दुल्ला कुतुब शाह और दिल्ली की सम्राट मुग़ल dyanasty के Aurangzaib आलमगीर के बीच एक समझौता था कि गोलकुंडा के अगले शासक प्रिंस Moazam Bhadur शाह के रूप में गोलकुंडा के राजा अब्दुल्ला कुतुब शाह कोई पुत्रा था, लेकिन केवल बेटियां हुई. लेकिन गोलकोंडा किले के राजा अब्दुल्ला कुतुब शाह को उनकी सहमति है जो वह पहले से ही हस्ताक्षर किए और स्वीकार किए जाते हैं पूरा नहीं हो सकता है. अब तक ऊपर समझौता सम्राट के Aurangzaib आलमगीर का उल्लंघन गोलकोंडा के किले पर विजय प्राप्त की और उसे इस मामले में सज़ा.
  सम्राट Aurangzaib आलमगीर एक पवित्र और मुग़ल राजवंश, जो धर्म के कोण से सांसारिक मामलों देखने के लिए इस्तेमाल की तरह दिल शासक था. तो इस कारण के लिए Aurangzaib आलमगीर गोलकुंडा किला पर विजय प्राप्त की और गोलकुंडा किला के विजय अभियान को अपने सैन्य और भौतिक लाभ के लिए नहीं था लेकिन यह उसके महान झूठा व्यक्ति को दंडित करने और गलत बात को सही क्रम में सेट करने का प्रयास था.
इस मामले में एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक तथ्य है जो इतिहास की पुस्तकों कि गोलकोंडा किले की विजय के लिए सब क्रेडिट का हजरत Yoursufian भाइयों आध्यात्मिक प्रयासों को जाता है में उपलब्ध है.
  
 समय आ जाएगा जब अल्लाह हर नौकर अपने जीवन का मिशन खत्म और दूसरी दुनिया में वापस लौटने. तो हज़रत Yousufian भाइयों भी सबसे सफल तरीके से अल्लाह के सही रास्ते की ओर मनुष्य के लिए मार्गदर्शन और निर्देश के अपने मिशन को पूरा किया और इस दुनिया को छोड़ दिया है.
  प्रथम Hazart यूसुफ साहेब इस दुनिया को छोड़ दिया और उन्होंने अपनी मृत्यु से पहले बुखार के कारण कुछ दिनों के लिए अच्छी तरह से उसकी बीमारी के कारण नहीं था. हजरत यूसुफ साहेब की मृत्यु के समय उनके दोस्त और भाई हजरत शरीफ साहेब वहाँ उपलब्ध नहीं था. जब वह वापस आया और वह पता है कि उसके दोस्त और भाई पहले से ही दुनिया छोड़ आते हैं. तो वह चौंक गया था और कफन पहना था और कमरे में प्रवेश किया और जमीन पर सोया और मर गया.
 
  उनकी समाधि हमेशा उनके महान आशीर्वाद वहाँ के लाभ के लिए आगंतुकों से भरा है. इसके अलावा हैदराबाद में उनके समाधि जो इच्छाओं और एक व्यक्ति जो उनके समाधि वहाँ की यात्रा की इच्छा की पूर्ति के लिए लंबे समय के बाद से प्रसिद्ध है.

  मुगल साम्राज्य के अंत पर आसिफ Jahi हैदराबाद राज्य के शासकों को भी उनके महान भक्ति और हज़रत यूसुफ साहेब और हजरत शरीफ साहिब के इस महान समाधि के लिए सम्मान था.
मशहूर हस्तियों के बाद की कब्र भी समाधि के आसपास उपलब्ध हैं और विवरण इस प्रकार हैं.
1.Amir Minai
2.Dagah Dehelvi और उसकी पत्नी.

 मंदिर के संरक्षक के नाम निम्नानुसार है.

हज़रत फैसल अली शाह.

उर्स समारोह (पुण्यतिथि) मंदिर की ट्रस्टी द्वारा किया जा रहा है हर साल प्रदर्शन मंदिर के आगंतुकों के आराम और सबसे अच्छी सेवा के लिए सबसे अच्छा संभव तरीके में.

Advertisements