Ya Ali

*अली कि मदह मे बस साहिब ए किरदार बोलेगा*
*हैं जिसकी नस्ल पाकिज़ा वही हर बार बोलेगा*
*ज़ुबां कट जाये सर तन से जुदा हो जाये कुछ भी हो*
*अली वाला तो हर दम हैदर ए कर्रार बोलेगा*
*निस्बत मिली हैं पीर की सदका अली का हैं*
*सब से अलग तारीख में* *रुतबा अली का हैं*
*शेरे खुदा के वास्ते सूरज* *भी पलट गया*
*अल्लाह भी नाज़ उठाये* *वो सज़दा अली का*
*हैं*
*खैबर का काँप जाना हैं अपनी जगह मगर*
*जो बातिल को हिला दें वो नारा अली*
*का*
*नारा_ए_हैदरी*
*या_अली

 

 
 *तेरे ख़ून में शामिल बुग्ज़े अली*
*मेरी रूह में शामिल अली अली*

*तेरे दिल पर कुफ़्र का पहरा है*
*मेरी धड़कन बोले अली अली*

*तू दर दर ठोकर खाता रहा*
*मेरा एक ही दर है अली अली*

*तेरा शजरा तुझको पता नही*
*मेरा हसब वा नस्ब है अली अली*

*तू नामें अली से जल कर मरे*
*मेरे विर्द में शामिल अली अली*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s