खुदा तेरे दिल की रहनुमाईकरेगा लिया

हदीस

रावीयान ए हदीस, अम्र बिन अली, यहया बिन सईद, अल्-अ मश, अम्र बिन मुर्राह, अबुल बख़्तरी।

हज़रत अली अलैहिस्सलाम ने फरमाया कि मुझे, रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम ने यमन की तरफ़ भेजा और मैं उस वक्त जवान था, चुनाँचे मैंने आपकी खिदमत में अर्ज़ किया, “या रसूलुल्लाह सल्लललाहु अलैहे व आलिही व सल्लम! आप मुझे, एक कौम की तरफ़ फैसला करने के लिए भेज रहे हैं और मैं ना-तजुर्बेकार जवान हूँ।

” रसूलुल्लाह ने इरशाद फरमाया, “अल्लाह तबारक व त’आला, तुम्हारे दिल की रहनुमाई करेगा और तुम्हारी जुबान को सकाहत अता फरमाएगा।

हज़रत अली अलैहिस्सलाम फरमाते हैं की मुझे, दो आदमियों के दरमियान फैसला करते वक्त कभी शक नहीं गुज़रा।

.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s